Search

6th July |Current Affairs|MB Books



1. Coronavirus Updates: एक दिन में कोविड-19 के 24,248 नए मामले, कुल मामले सात लाख के पास पहुंचे

Coronavirus Updates: देश में कोविड-19 के 24,248 नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले सोमवार को सात लाख के पास पहुंच गए। वहीं 425 और संक्रमित लोगों की मौत के बाद देश में इससे मरने वालों की संख्या 19,693 हो गई। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार आज लगातार चौथा दिन है जब देश में कोरोना संक्रमण के 20,000 से अधिक मामले सामने आए हैं। वैश्विक महामारी से सबसे अधिक प्रभावित देशों की सूची में भारत रविवार को रूस को पीछे छोड़ तीसरे स्थान पर पहुंच गया। इस सूची में अमेरिका पहले और ब्राजील दूसरे स्थान पर है। मंत्रालय द्वारा सोमवार सुबह अद्यतन आंकड़ों के अनुसार कोविड-19 के एक दिन में 24,248 नए मामले सामने आने के बाद भारत में संक्रमण के मामले बढ़कर 6,97,413 हो गए. आंकड़ों के अनुसार देश में अभी तक कोविड-19 के 4,24,432 मरीज ठीक हो चुके हैं और एक मरीज देश ये बाहर चला गया है। वहीं देश में 2,53,287 लोगों का इलाज जारी है। मंत्रालय ने कहा, ‘अभी मरीजों के ठीक होने की दर 60.85 प्रतिशत है।' कुल पुष्ट मामलों में भारत में संक्रमित पाए गए विदेशी नागरिक भी शामिल है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार पांच जुलाई तक कुल 99,69,66 लोगों की कोविड-19 की जांच की गई है, जिनमें से 1,80,596 लोगों की जांच रविवार को ही की गई।

India Coronavirus (Covid-19) Updates

पाकिस्तान में संक्रमण के मामले 2,31,000 से पार न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक पाकिस्तान में सोमवार को पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 3,344 मामले सामने आए जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 2,31,000 के पार चली गई। वहीं इस अवधि में 50 लोगों की मौत हो गई जिससे मृतकों की कुल संख्या 4,762 हो गई।

ठाणे में संक्रमितों की संख्या 42,420 हुई

महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 1,878 नए मामले सामने आने के बाद कुल संक्रमितों की संख्या 42,420 हो गई। अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि जिले में कुल मामलों में से 25 फीसदी मामले ठाणे शहर से है।

कोविड-19 जांचों की संख्या एक करोड़ के पार भारत में सोमवार तक कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि के लिए एक करोड़ से अधिक नमूनों की जांच हो चुकी है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में कोविड-19 के 24,248 नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले सोमवार को सात लाख के पास पहुंच गए।

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से तीन और मौत न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण से सोमवार को तीन और लोगों की मौत हो गयी जिसके साथ ही राज्य में संक्रमण से मरने वालों की कुल संख्या 459 हो गई है। दूसरी ओर राज्य में अब तक के सबसे अधिक 99 नये मामले सामने आने से राज्य में इस घातक वायरस से संक्रमितों की कुल संख्या 20263 हो गयी जिनमें से 3836 रोगी उपचाराधीन हैं।

भारत कोरोना के आंकड़ों में दुनिया मे तीसरे स्थान पर

रूस को आंकड़ों में पीछे छोड़ते हुए भारत पहुंचा तीसरे स्थान पर

अब तक कुल पॉजिटिव मामले-6,97,413

अब तक ठीक हुए : 4,24,433

अब तक हुई मौत-19,693

24 घन्टे में 24,248 नए मामले

24 घंटों में 425 लोगों की मौत

रिकवरी रेट-60.85%

मुजफ्फरनगर में कोविड-19 से 33 और लोग संक्रमित न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में कोविड-19 से 33 और लोग संक्रमित पाये गये हैं। जिले में संक्रमण का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 77 पहुंच गई।

गोवा में एक दिन में रिकॉर्ड 111 लोगों को अस्पताल से छुट्टी न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक गोवा में कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त होने के बाद रविवार को रिकॉर्ड 111 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी गई। अधिकारी ने बताया कि रविवार को राज्य में कोविड-19 के 77 नए मामले सामने आए हैं और 72 वर्षीय एक व्यक्ति की संक्रमण से मौत हुई है।

झारखंड में कोविड-19 के 53 नए मामले सामने आये न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक झारखंड में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 53 नए मामले सामने आए जिससे राज्य में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 2,807 हो गए।


2. आज से नहीं खुलेगा ताजमहल, कोरोनावायरस फैलने का है डर, आगरा में लगातार बढ़ते जा रहे हैं मामले

उत्तर प्रदेश के आगरा में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए आज से ताजमहल नहीं खोलने का फैसला किया गया है। आगरा के डीएम प्रभु एन सिंह के मुताबिक शहर में कोरोनावायरस की मौजूदा स्थिति को देखते हुए ताज महल, आगरा का किला, अकबर का मकबरा और अन्य ऐतिहासिक स्थलों को अगले आदेश तक बंद रखा जाएगा, क्योंकि ये सब 'बफर जोन' में आते हैं। साथ ही डीएम ने बताया कि पिछले चार दिनों में कोरोनावायरस के 55 नए मामले आए हैं, और पूरे शहर में 71 कंटेनमेंट जोन हैं। उन्होंने साथ ही कहा कि अगर इन ऐतिहासिक स्थलों को खोला जाता है तो पर्यटक आएंगे, जिससे कोरोनावायरस फैलने का खतरा है।

बता दें, कोरोनावायरस संक्रमण के चलते बंद किए गए देश के सभी स्मारकों को 6 जुलाई से खोलने का फैसला किया गया था। केंद्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्रालय ने यह जानकारी दी थी। बताया गया था कि कि इन स्मारकों को सुरक्षा के सभी प्रबंधों के साथ खोला जाएगा। इस लिस्ट में वो स्मारक और इमारतें भी शामिल हैं जो पुरातत्व विभाग और संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत आते है। आपको बता दें कि 17 मार्च को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण यानि एएसआई ने 3400 से ज्यादा स्मारकों को बंद कर दिया था। लेकिन बाद में एएसआई के अधीन 820 धार्मिक स्थलों को खोल दिया गया था।

न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में कोरोना वायरस से 15 और लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई। इसके साथ ही जिले में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,282 हो गई है। वहीं, इस अवधि में 13 लोग संक्रमणमुक्त हुए। इसके साथ ही जिले में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बढ़कर 1,053 हो गई। कोविड-19 से जिले में 90 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। जिलाधिकारी पीएन सिंह के मुताबिक जिले में इस समय 139 मरीज उपचाराधीन हैं।


3. गलवान घाटी में कम से कम एक किलोमीटर पीछे हटी चीन की सेना : सूत्र

India-China Stand-off: लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच जारी तनाव के बीच दोनों देशों की सेनाओं के पीछे हटने की ख़बर है। सूत्रों ने सोमवार को कहा कि चीन ने अपने सैनिकों को गलवान नदी घाटी में कम से कम एक किलोमीटर पीछे किया है। चीनी सेना के 15 जून को एलएसी पर झड़प वाली जगह से पेट्रोल पॉइंट 14 से 1.5 से 2 किलोमीटर पीछे हटने की खबर है। भारतीय जवान भी पीछे आ गए और दोनों पक्षों के सैनिकों के बीच एक बफर ज़ोन बना दिया गया है।

सूत्रों के मुताबिक, चीनी सैनिकों ने गलवान नदी के मोड़ से हटना शुरू कर दिया है और इस इलाके से अस्थायी ढांचों और टेंट को हटा दिया गया है वर्तमान में, यह प्रक्रिया सिर्फ गलवान घाटी तक में सीमित हैसूत्रों ने कहा, "हमें यह देखना होगा कि क्या पीछे हटने और तनाव कम करने की यह एक स्थायी, वास्तविक प्रक्रिया है" सूत्रों के मुताबिक, दोनों ओर बने अस्थायी ढांचों को हटा दिया गया है इसका भौतिक रूप से सत्यापन भी किया गया है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अचानक लद्दाख के दौर पर जाने के तीन दिन बाद चीन सेना के पीछे हटने की खबर आ रही है लद्दाख में पीएम मोदी ने चीन का नाम लिए बिना कहा था कि "विस्तारवाद की उम्र खत्म हो गई है यह विकास की उम्र है इतिहास गवाह है कि विस्तारवादी ताकतें या तो हार गई हैं या वापस लौटने के लिए मजबूर हो गई हैं"

गलवान घाटी में सैन्य झड़प के बाद, भारत और चीन सेना के कमांडर स्तर पर तीसरे दौर की बैठक के पश्चात् दोनों सेनाओं के पीछे हटने की बात सामने आ रही हैगलवान घाटी में हुई सैन्य झड़प में भारत के 20 जवानों की जान गई थी जबकि चीन के 40 से ज्यादा सैनिकों के हताहत होने की खबर आई थी

दोनों देशों की सेनाओं के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तनाव को कम करने पर ध्यान केंद्रित किया गया था


4. CM केजरीवाल की COVID को मात दे चुके मरीज़ों से अपील- जरूर डोनेट कीजिए प्लाज्मा, मना मत करिएगा

कोरोनावायरस (Coronavirus) संकट के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि कोरोना मामलों की संख्या करीब एक लाख पहुंच गई है, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि ठीक होने वाले लोगों की संख्या करीब 72000 हो गई है। पिछले हफ्ते कोरोना की स्थिति में और अधिक सुधार हुआ है। जैसे जून के महीने में हम टेस्ट किया करते थे तो हर 100 में से 35 कोरोना मरीज़ निकलते थे, अब 100 में से 11 ही कोरोना मरीज़ निकलते हैं।

केजरीवाल ने कहा कि रोजाना 20,000 से 24000 टेस्ट हो रहे हैं। सभी अस्पतालों में मिलाकर करीब 5100 मरीज हैं यानी करीब 10,000 बेड खाली हैं। इस समय दिल्ली में टेस्टिंग की कोई समस्या नहीं है। एप्प के ऊपर आप देख सकते हैं कि कहां कितने बेड खाली हैं। घरों में 25,000 मरीजों में 15000 मरीजों का इलाज चल रहा है। जून में 1 दिन दिल्ली में करीब 125 मौत हुई थी लेकिन अब करीब 60 मौत हो रही हैं।

उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते देश में पहला प्लाज्मा बैंक शुरू हुआ। प्लाज़्मा से मॉडरेट लोगों की स्थिति सुधरती है, मौत कम करने में मदद मिलती है। प्लाज्मा के लिए पिछले दिनों जो अफरा-तफरी मची थी वह अब कम हो गई है। गुरुवार को प्लाज्मा बैंक शुरू हुआ था लेकिन प्लाज्मा की डिमांड ज्यादा है और सप्लाई बहुत कम है। अगर प्लाज्मा डोनेट करने वालों की संख्या नहीं बढ़ी तो स्टॉक में जो प्लाज्मा रखा है वह सब खत्म हो जाएगा। हाथ जोड़कर गुजारिश है कि ज्यादा से ज्यादा लोग आगे आकर प्लाज्मा डोनेट करें। घबराने की कोई जरूरत नहीं है ना ही आपको कमजोरी आएगी ना ही कोई दर्द होगा।

5. भीमा कोरेगांव केस: NIA को राहत, SC ने गौतम नवलखा की अंतरिम जमानत को लेकर दिल्‍ली हाईकोर्ट में सुनवाई रद्द की

बहुचर्चित भीमा कोरेगांव मामले (Bhima Koregaon case )में राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने गौतम नवलखा की अंतरिम जमानत को लेकर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में सुनवाई रद्द की। SC ने कहा कि दिल्ली हाईकोर्ट को भीमा कोरेगांव मामले में सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा (Gautam Navlakha) की अंतरिम जमानत याचिका पर विचार नहीं करना चाहिए था क्योंकि यह मामला बॉम्बे HC के अधिकार क्षेत्र में आता है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट की इस मामले में NIA पर टिप्पणियों को भी हटा दिया है।

मामले में NIA की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश होते हुए सॉलिसिटर जनरल (SG) तुषार मेहता ने कहा कि नवलखा के लिए "हाउस कस्टडी" के लिए एक "अभूतपूर्व" आदेश दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा पारित किया गया था। घर में हिरासत में रहते हुए उन्हें सुरक्षा दी गई थी। आत्मसमर्पण के समय, दिल्ली लॉकडाउन में थी फिर उन्होंने दिल्ली HC का रुख किया। हमने कोर्ट से कुछ नहीं छिपाया। मुंबई एनआईए अदालत में अन्य सभी अभियुक्तों पर मुकदमा चलाया जा रहा है। यही कारण है कि उन्हें भी वहां ले जाया गया। सॉलिसिटर जनरल (SG) ने कहा, जब उन्होंने (नवलखा ने) दिल्ली HC में याचिका दी तो हमने पहले ही HC को सूचित कर दिया कि अन्य सभी आरोपी मुंबई में हैं। हम उन्हें एक न्यायिक आदेश के बाद ले गए जो कि मुंबई की विशेष अदालत द्वारा प्रोडक्शन वारंट था। उच्च न्यायालय दिल्ली में अधिकार क्षेत्र में नहीं है और पूरी तरह से अनुचित है।

दूसरी ओर, नवलखा के लिए वरिष्‍ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि 'राई का पहाड़' बना दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट NIA की याचिका पर सुनवाई कर रहा है। पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने NIA को याचिका की प्रति गौतम नवलखा के वकील को देने को कहा था। 2 जून को सुप्रीम कोर्ट ने एक्टिविस्ट गौतम नवलखा मामले में नोटिस जारी कर जवाब मांगा था और दिल्ली हाईकोर्ट में चल रही सुनवाई पर रोक लगा दी थी। NIA ने दिल्ली हाईकोर्ट के 27 मई के आदेश के खिलाफ अपील दायर की है जिसमें जिसने दिल्ली और मुंबई में NIA स्पेशल कोर्ट के सामने चल रही कार्यवाही का रिकॉर्ड मांगा है जिसके आधार पर गौतम नवलखा को दिल्ली से मुंबई ट्रांसफर कर दिया गया था। NIA ने इसे चुनौती देते हुए कहा कि मामले की सुनवाई के लिए दिल्ली HC के पास अधिकार क्षेत्र नहीं है। 31 दिसंबर, 2017 को पुणे में एक आयोजन 'एल्गर परिषद' आयोजित किया गया था, जिसमें 1 जनवरी, 2018 को कथित रूप से जातिगत हिंसा हुई थी। इस मामले में कई प्रमुख एक्टिविस्ट को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है।


6. पीएम ने दी श्यामा प्रसाद मुखर्जी की जयंती पर श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को भारतीय जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी और कहा कि देश की एकता को मजबूती प्रदान करने के लिए उन्होंने साहसिक प्रयास किए।

मोदी ने ट्वीट कर कहा कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी को उनकी जयंती पर मैं नमन करता हूं। वे एक सच्चे देशभक्त थे जिन्होंने देश के विकास में अतुलनीय योगदान दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि मुखर्जी ने देश की एकता को मजबूत करने के लिए साहसिक प्रयास किए।

उन्होंने कहा कि उनके विचारों और आदर्शों से देश के लाखों लोगों को प्रेरणा मिलती है। जनसंघ के संस्थापक अध्यक्ष रहे मुखर्जी का जन्म आज ही के दिन वर्ष 1901 में कलकत्ता (अब कोलकाता) में हुआ था। जनसंघ का बाद में जनता पार्टी में विलय हो गया और फिर पार्टी के बिखराव के बाद 1980 में भारतीय जनता पार्टी का गठन हुआ।

हाल ही जम्मू एवं कश्मीर से हटाए गए अनुच्छेद 370 के वे मुखर विरोधी थे। मुखर्जी चाहते थे कि कश्मीर पूरी तरह से भारत का हिस्सा बने और वहां अन्य राज्यों की तरह समान कानून लागू हो।


7. सरकार ने प्रतिबंधित संगठन SJF से जुड़ी 40 वेबसाइट्‍स पर लगाया बैन

प्रतिबंधित संगठन सिख्स फॉर जस्टिस (एसएफजे) से जुड़ी 40 वेबसाइट पर अलगाववादी गतिविधियों का समर्थन करने के लिए सरकार द्वारा रोक लगा दी गई है। यह जानकारी गृह मंत्रालय ने रविवार को दी। अमेरिका स्थित सिख्स फॉर जस्टिस (एसएफजे) एक खालिस्तान समर्थक समूह है।

गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि गैर कानूनी गतिविधि (निरोधक) अधिनियम (यूएपीए), 1967 के तहत सिख्स फॉर जस्टिस (एसएफजे) एक गैरकानूनी संगठन है। उसने अपने उद्देश्य के लिए समर्थकों के पंजीकरण करने के वास्ते एक अभियान शुरू किया था। गृह मंत्रालय की सिफारिश पर इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) ने सूचना प्रौद्योगिकी कानून, 2000 के सेक्शन 69ए के तहत एसएफजे की 40 वेबसाइट पर रोक लगाने के आदेश जारी किए।

इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) भारत में साइबर स्पेस की निगरानी करने के लिए नोडल एजेंसी है। पिछले वर्ष गृह मंत्रालय ने एसएफजे को कथित राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के लिए प्रतिबंधित कर दिया था। एसएफजे ने अपने अलगाववादी एजेंडे के तहत सिख जनमत संग्रह पर जोर दिया था।

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि यह संगठन खालिस्तान के उद्देश्य का खुले तौर पर समर्थन करता है और ऐसा करके भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को चुनौती देता है।


8. COVID-19: कोवेक्सिन और जाइकोव-डी ने जगाई उम्मीद, वैज्ञानिक ने बताया महामारी के 'अंत की शुरुआत'

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के एक वैज्ञानिक ने एक लेख में लिखा है कि कोविड-19 के लिए भारतीय टीकों कोवेक्सिन और जाइकोव-डी के मनुष्य पर परीक्षण के लिहाज से भारत के दवा महानियंत्रक की ओर से मंजूरी मिलना कोरोनावायरस महामारी के 'अंत की शुरुआत' है।

पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) और मंत्रालय के तहत आने वाली संस्था विज्ञान प्रसार की वेबसाइटों पर लेख प्रकाशित किया गया है। पीआईबी की वेबसाइट पर प्रकाशित लेख में कोई समयसीमा नहीं बताई गई है, वहीं विज्ञान प्रसार के पोर्टल पर कहा गया है कि टीके के लिए लाइसेंस जारी होने में 15 से 18 महीने लग सकते हैं।

विज्ञान प्रसार में वैज्ञानिक टीवी वेंकटेश्वरन ने लेख में कहा कि भारत बायोटेक द्वारा कोवेक्सिन तथा जाइडस कैडिला द्वारा जाइकोव-डी की घोषणा अंधेरे में रोशनी की एक किरण की तरह है। आलेख में लिखा गया है कि अब भारत के औषधि महानियंत्रक और केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन की ओर से टीकों के मनुष्य पर परीक्षण की मंजूरी मिलने से अंत की शुरुआत हो गई है।

पिछले कुछ सालों में भारत टीकों के उत्पादन में दुनियाभर में बड़ा केंद्र बनकर उभरा है और यूनिसेफ को टीकों की आपूर्ति में 60 प्रतिशत आपूर्ति भारतीय निर्माताओं की ओर से की जाती है। लेख के अनुसार नोवेल कोरोनावायरस का टीका दुनियाभर में कहीं भी बन सकता है, लेकिन बिना भारतीय निर्माताओं की सहभागिता के आवश्यक मात्रा का उत्पादन व्यवहार्य नहीं रहने वाला।

इसमें लिखा गया है कि वैश्विक स्तर पर 140 से अधिक टीकों का अनेक स्तर पर विकास चल रहा है। लेख के मुताबिक दो भारतीय टीकों कोवेक्सिन और जाइकोव-डी के साथ दुनियाभर में 140 में से 11 टीके मनुष्य पर परीक्षण के स्तर में पहुंच गए हैं।


9. चीन नेपाल के बीच सीमा खोली गई, व्यापार हुआ शुरू

नेपाल ने सोमवार को 6 महीने बाद चीन के साथ अपने सबसे महत्वपूर्ण सीमा व्यापार मार्ग को फिर से खोल दिया। कोरोनावायरस महामारी के कारण इसे बंद कर दिया गया था। नेपाली अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी है।

चीन और नेपाल के बीच सीमा पार व्यापार के लिए 2 प्रमुख मार्ग हैं। इनमें से एक है रासुवागाढी-केरुंग सीमा पार केंद्र। दूसरा सीमापार व्यापार मार्ग तातोपाणि-झांगमू है जिसे 2 महीने बंद रखने के बाद मार्च अंत में खोल दिया गया था। अधिकारी ने कहा कि फिलहाल दोनों देशों के बीच केवल एक तरफ से माल परिवहन की शुरुआत की गई है। तिब्बत के केरुंग में जो माल अटका हुआ था, वह सोमवार को खोले गए सीमा बिंदु से अब नेपाल में पहुंचने लगा है।

उन्होंने कहा कि रासुवागाढी सीमा बिंदु को अभी केवल एकतरफा माल के लिए खोला गया है। चीन से नेपाल में माल पहुंचाने के लिए ही इसे खोला गया है। इस सीमापार रास्ते से कोई मानवीय आवागमन नहीं होगा। अधिकारी ने कहा कि दोतरफा परिवहन सुविधा और लोगों का आवागमन कुछ समय बाद शुरू किया जाएगा।

अधिकारी ने कहा कि इस रास्ते से 120 टन माल रोजाना चीन से नेपाल पहुंचेगा। इस रास्ते से चीन को फल, तैयार माल, इलेक्ट्रॉनिक सामान, दूरसंचार और जल विद्युत परियोजनाओं के लिए उपकरण नेपाल में भेजे जाएंगे। यह सीमापार रास्ता कोविड-19 के कारण जनवरी में ही बंद कर दिया गया था।

नेपाल में कोरोनावायरस से संक्रमितों का आंकड़ा रविवार को 293 नए मामले सामने आने के साथ ही बढ़कर 15,784 तक पहुंच गया। नेपाल में कोविड-19 से अब तक 32 लोगों की मौत हो चुकी है। खतरनाक कोरोनावायरस बीमारी की शुरुआत चीन के बुहान शहर से दिसंबर 2019 में हुई थी। चीन में इस बीमारी से संक्रमित लोगों का आंकड़ा 83,553 तक पहुंचा जबकि 4,634 लोगों की इससे मौत हुई।


10. नेपाल निम्न-मध्य आय वाला देश बना, जबकि श्रीलंका फिसलकर निम्न-मध्यम अर्थव्यवस्था श्रेणी में चला गया

2020-21 के विश्व बैंक के देश वर्गीकरण के अनुसार आय के स्तर के आधार पर, नेपाल की अर्थव्यवस्था निम्न-मध्य आय अर्थव्यवस्था बन गई है जबकि श्रीलंका की अर्थव्यवस्था फिसलकर निम्न-मध्य आय अर्थव्यवस्था श्रेणी में चली गई है।

हर साल, विश्व बैंक देशों को चार आय समूहों में वर्गीकृत करता है- (i) निम्न (ii) निम्न-मध्य (iii) ऊपरी-मध्य (iv) उच्च आय। दुनिया भर में देशों की अर्थव्यवस्था के इस वर्गीकरण को 1 जुलाई को अपडेट किया जाता है।

विश्व बैंक द्वारा एटलस पद्धति का उपयोग करके किसी देश का वर्गीकरण किया जाता है। विश्व बैंक एक अर्थव्यवस्था के आकार का अनुमान लगाने के लिए 1993 से एटलस विधि का उपयोग कर रहा है। एटलस पद्धति के तहत, किसी देश की सकल राष्ट्रीय आय (जीएनआई) को वर्तमान अमेरिकी डॉलर में परिवर्तित किया जाता है।

2020 के वर्गीकरण के अनुसार, भारत निम्न-मध्य आय वाला देश बना हुआ है।

नेपाल

2 साल पहले पर 22 मई 2018 को नेपाल सरकार ने घोषणा की थी कि आगामी 10 वर्षों के भीतर एक निम्न-मध्यम आय वाले देशों बनने के लिए प्रयास किया जाएगा। नेपाल ने अपनी योजना से के पहले यह लक्ष्य हासिल किया।

निम्न-माध्यम आय वाला देश बनने के लिए, विश्व बैंक ने जीएनआई को प्रति व्यक्ति 1036 अमरीकी डालर से 4045 अमरीकी डालर के बीच निर्धारित किया है। नेपाल ने 2019 में जीएनआई को 1090 डॉलर के रूप में पार कर लिया था।

श्री लंका

एक उच्च-मध्य आय वाला देश बनने के लिए, प्रति व्यक्ति जीएनआई 4046 से 12,535 अमरीकी डालर के बीच होना चाहिए। श्रीलंका ऊपरी-मध्य आय वाले देश से निम्न-मध्यम आया वाला देश बन गया है।

11. प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत एप्प इनोवेशन चैलेंज को लांच किया

डिजिटल टेक्नोलॉजी का उपयोग कर एक आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत एप्प इनोवेशन चैलेंज को लांच किया। नीति आयोग के अटल इनोवेशन मिशन के साथ साझेदारी में, एप्प इनोवेशन चैलेंज इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की एक पहल है।

एप्प इनोवेशन चैलेंज का उद्देश्य

इसका उद्देश्य उन जीवंत तकनीक और स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र का पता लगाना है, जो भारत के पास है और जिनके पास विश्व स्तरीय अनुप्रयोग बनने की क्षमता है।

इनोवेशन चैलेंज आगे किसी व्यक्ति या संस्था द्वारा किए गए अभिनव प्रयासों को गति और मेंटरशिप प्रदान करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा।

एप्प इनोवेशन चैलेंज

एप्प इनोवेशन चैलेंज दो ट्रैक में आयोजित किया जाएगा:

ट्रैक 1: मौजूदा एप्लीकेशन जिसमें विश्व स्तरीय एप्प बनने की क्षमता है, की पहचान 8 विभिन्न श्रेणियों (ई-लर्निंग, हेल्थ एंड वेलनेस, न्यूज, सोशल नेटवर्किंग, ऑफिस प्रोडक्टिविटी एंड वर्क फ्रॉम होम, एंटरटेनमेंट और बिजनेस) में की जाएगी। 8 श्रेणियों में से प्रत्येक में कई उप-श्रेणियाँ होंगी। लीडर बोर्ड में शामिल होने वाले एप्लीकेशन को नकद पुरस्कार और इंसेंटिव प्रदान किया जाएगा। ट्रैक -1 एक महीने में पूरा होने की संभावना है। ट्रैक 1 के तहत भाग लेने के लिए, व्यक्तियों और संस्थाओं को उनकी प्रविष्टियों ऑनलाइन 4 जुलाई से 18 जुलाई के बीच MyGov पोर्टल पर जाकर सबमिट की जा सकती हैं।

ट्रैक 2: यह ट्रैक 1 के पूरा होने के बाद शुरू होगा। ट्रैक 2 लंबे समय तक चलेगा। इस ट्रैक के तहत व्यक्तियों, स्टार्ट-अप्स, संस्थाओं से नए एप्लिकेशन आधारित नवाचार, विचार आदि भाग लेंगे। ट्रैक 2 के बारे में विवरण मंत्रालय द्वारा बाद में जारी किया जाएगा।

12. AIR ने शुरू किया अपना पहला संस्कृत समाचार कार्यक्रम ‘संस्कृत साप्ताहिकी’

4 जुलाई, 2020 से ऑल इंडिया रेडियो (एआईआर) एफएम न्यूज चैनल 20 मिनट अवधि के लिए संस्कृत भाषा में पहली बार समाचार कार्यक्रम का प्रसारण किया जाएगा। ऑल इंडिया रेडियो ने इस समाचार कार्यक्रम को ‘संस्कृत साप्ताहिकी’ नाम दिया है।

प्रत्येक शनिवार को संस्कृत साप्ताहिकी का प्रसारण किया जाएगा। रविवार को पुनः प्रसारण उपलब्ध होगा। इस समाचार कार्यक्रम में निम्नलिखित घटक होंगे:

सूक्ति : यह शुरुआती खंड होगा। यह श्लोक के रूप में होगा, इस खंड में संस्कृत साहित्य के एक उद्धरण को श्लोक के रूप में समझाया जाएगा।

प्रसंग: भारतीय महाकाव्यों, इतिहास या भारत की कला और संस्कृति क्षेत्र से एक कहानी

साप्ताहिकी: सप्ताह के शीर्ष समाचार

संस्कृत दर्शन: संस्कृत की दुनिया से समाचार

ज्ञान विज्ञान: एक प्रमुख संस्कृत भाषा के साक्षर के साथ साक्षात्कार

एक भारत- श्रेष्ठ भारत: संस्कृत के पाँच सामान्य शब्दों का हिंदी अनुवाद

अनाविक्षिकी: यह समापन खंड होगा जिसमें भारत की संस्कृति और परंपरा पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा, सप्ताह की प्रमुख ऐतिहासिक घटनाओं को कवर किया जाएगा

‘वार्तावली’ ने प्रसारण के 5 वर्ष पूरे

4 जुलाई, 2020 को डीडी न्यूज की संस्कृत समाचार पत्रिका ‘वार्तावली’ के निरंतर प्रसारण के 5 साल पूरे हो गये। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सफल 5 साल पूरे होने पर डीडी न्यूज़ को बधाई दी।

13. 1 जुलाई तक ECLGS के तहत बैंकों ने 1.10 लाख करोड़ रुपये से अधिक के ऋण स्वीकृत किये

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना (ECLGS) की घोषणा आत्मनिर्भर भारत पैकेज के एक हिस्से के रूप में सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) के समर्थन के लिए की थी।

1 जुलाई, 2020 तक सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और देश भर में निजी बैंकों ने ECLGS के तहत 1.10 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा ऋण मंजूर किये है। इस 1.10 लाख करोड़ रुपये में से 52,000 करोड़ रुपये 1 जुलाई, 2020 तक वितरित किये जा चुके हैं।

जिन 52000 करोड़ रुपये का वितरण किया गया है, उनमें से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने 33,000 करोड़ रुपये का वितरण किया है। इस 33,000 करोड़ रुपये को पूरे देश में लगभग 12,59,000 MSMEs के लिए वितरित किया गया था। लगभग 1,45,000 MSME को निजी बैंकों द्वारा शेष 19,000 करोड़ रुपये का वितरण किया गया था।

इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी योजना (ECLGS) क्या है?

देशव्यापी लॉकडाउन के बाद, यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण था कि देश भर में एमएसएमई और अन्य व्यवसायों की तरलता संबंधी चिंताओं को सरकार द्वारा दूर किया जाए। ECLGS ने MSMEs को अपने व्यवसायों को फिर से शुरू करने के लिए आवश्यक क्रेडिट प्रदान किया है।

ECLGS के तहत, बैंकों को प्रोत्साहन दिया गया ताकि देश भर में MSME और व्यवसायों को 3 लाख करोड़ रुपये तक का ऋण प्रदान किया जा सके। नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कंपनी (NCGTC) ECLGS के तहत बैंकों द्वारा स्वीकृत ऋण के लिए 100 प्रतिशत गारंटी प्रदान करेगी।


14. विश्व की सबसे बड़ी COVID-19 उपचार सुविधा का नई दिल्ली में उद्घाटन किया गया

10,000 बिस्तर युक्त सरदार पटेल COVID केयर सेंटर और अस्पताल (SPCCCH) का उद्घाटन नई दिल्ली में 5 जुलाई 2020 को किया गया। SPCCCH विश्व की सबसे बड़ी COVID -19 उपचार और देखभाल की सुविधा है। इसका उद्घाटन दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने किया।

सरदार पटेल कोविड देखभाल केंद्र और अस्पताल (SPCCCH)

  • 10,000 बेड की सुविधा के लिए बुनियादी ढांचा 10 दिनों के रिकॉर्ड समय में बनाया गया था। केंद्रीय गृह मंत्रालय के समर्थन के साथ, बुनियादी ढांचा दक्षिण दिल्ली जिला प्रशासन द्वारा बनाया गया था।

  • SPCCCH आध्यात्मिक संगठन ‘राधा स्वामी सत्संग ब्यास’ के परिसर में बनाया गया है। SPCCCH दक्षिण दिल्ली के छतरपुर क्षेत्र में स्थित है। SPCCCH एक वातानुकूलित सुविधा है जिसे 18,000 टन एयर-कंडीशनर द्वारा ठंडा किया जाएगा।

  • SPCCCH में 200 एनक्लोजर हैं। इन एनक्लोजर को आगे तीन खंडों में विभाजित किया गया है: मरीजों के इलाज और देखभाल के लिए सबसे बड़ा खंड, नर्सों, डॉक्टरों और अन्य स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए दूसरा खंड, जबकि एक खंड कमांड अनुभाग के रूप में होगा। SPCCCH में मरीजों के लिए कुल 116 सेक्शन होंगे। प्रत्येक सेक्शन में मरीजों के लिए 88 बेड होंगे। SPCCCH में लगभग 600 शौचालय हैं, जिनमें से 70 पोर्टेबल हैं।

  • SPCCCH में COVID-19 पॉजिटिव रोगियों को उपचार दो खंडों में प्रदान किया जाएगा। पहले सेगमेंट में 10,000 बेड में से 1000 बेड में ऑक्सीजन की सुविधा होगी। इस 1000 बेड के सेगमेंट में सिम्प्टोमैटिक रोगी और अन्य रोगियों को, जिन्हें ऑक्सीजन समर्थन की आवश्यकता होती है, उन्हें देखभाल और उपचार प्रदान किया जाएगा। यह खंड समर्पित COVID हेल्थ केयर (DCHC) के रूप में जाना जाएगा। दूसरा खंड हल्के और स्पर्शोन्मुख COVID-19 रोगियों के लिए होगा।

  • इस केंद्र के संचालन के लिए भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) को नोडल एजेंसी के रूप में चुना गया है।

  • SPCCCH में मरीजों के प्रवेश और निर्वहन के लिए, राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (NIC) ने एक स्मार्टफोन-आधारित एप्लिकेशन बनाया है, जिसका उपयोग प्राधिकरण द्वारा किया जाएगा।

  • यह सुविधा मरीजों के लिए मनोरंजन का एक केंद्र भी उपलब्ध कराएगी जिसमें किताबें, स्किपिंग रोप, बोर्ड गेम्स आदि होंगे।

15. मध्य प्रदेश पर्यटन बोर्ड ने लांच किया ‘इंतज़ार आप का’ सोशल मीडिया अभियान

राज्य में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए, मध्य प्रदेश पर्यटन बोर्ड ने एक सोशल मीडिया अभियान शुरू किया है। इस अभियान का नाम ‘इंतज़ार आप का’ है। मध्य प्रदेश में पर्यटन स्थलों की विशेषताओं का वर्णन तस्वीरों और वीडियो के माध्यम से किया जाएगा।

मुख्य बिंदु

इस अभियान के माध्यम से, पर्यटन बोर्ड का लक्ष्य है कि पर्यटकों को टूर पैकेज की पेशकश करके पर्यटन क्षेत्र में विश्वास को स्थापित करना। यह पैकेज विशेष रूप से COVID-19 संक्रमण से बचाव के लिए सुरक्षित यात्रा, प्रवास और भ्रमण को ध्यान में रखकर बनाये गये हैं।

मध्य प्रदेश 2015 से 2017 तक लगातार तीन वर्षों के लिए सर्वश्रेष्ठ पर्यटन राज्य राष्ट्रीय पुरस्कार का विजेता है। राज्य में धार्मिक (उज्जैन, सांची स्तूप, कुंडलपुर, आदि) से लेकर पुरातात्विक और प्राकृतिक (कान्हा, बांधवगढ़, पचमढ़ी, आदि) पर्यटन स्थल हैं। मध्य प्रदेश में पर्यटन क्षेत्र ने राज्य में हजारों लोगों को रोजगार का अवसर प्रदान किया है।

हाल ही में, मध्य प्रदेश के पर्यटन विकास निगम ने भी नोवेल कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव के लिए आवश्यक सभी सुरक्षा मानकों का पालन करते हुए राज्य के 3 शहरों में खाद्य होम डिलीवरी सेवाओं की शुरुआत की है।


16. प्रधानमंत्री मोदी 10 जुलाई को एशिया के सबसे बड़े सोलर प्लांट का उद्घाटन करेंगे

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 जुलाई, 2020 को 750 मेगावाट के रीवा अल्ट्रा मेगा सौर संयंत्र का उद्घाटन करेंगे। अब तक, 750 मेगावाट का रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर पावर प्रोजेक्ट भारत में और एशिया में सबसे बड़ी सिंगल-साइट सौर ऊर्जा परियोजना है।

रीवा अल्ट्रा मेगा सौर ऊर्जा परियोजना

रीवा अल्ट्रा मेगा सौर ऊर्जा परियोजना मध्य प्रदेश के रीवा जिले के गुरु तहसील में स्थित है। यह 1,590 एकड़ भूमि में फैली हुआ है। इस पावर प्रोजेक्ट के सफल कार्यान्वयन के लिए, सोलर एनर्जी कारपोरेशन ऑफ इंडिया (SECI) और मध्य प्रदेश उर्जा विकास निगम लिमिटेड (MPUVNL) के बीच एक संयुक्त उद्यम कंपनी की स्थापना की गई थी। संयुक्त उद्यम कंपनी का नाम रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड (RUMSL) है।

सौर ऊर्जा परियोजना की पूरी लागत लगभग 4000 करोड़ रुपये है। अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम (IFC) इस सौर ऊर्जा परियोजना के लिए लेनदेन सलाहकार है। 31 जनवरी, 2018 को विश्व बैंक समूह ने परियोजना के आंतरिक बुनियादी सुविधाओं के लिए 30 मिलियन डॉलर के ऋण को मंजूरी दी है।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन 750 मेगावाट के रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर पावर प्रोजेक्ट का एक संस्थागत ग्राहक है। रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर प्लांट द्वारा उत्पादित बिजली का 24 प्रतिशत हिसा दिल्ली मेट्रो को आपूर्ति की जाएगी।

0 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved