Search

2nd February | Current Affairs | MB Books


1. आसियान-इंडिया हैकाथॉन शुरू हुई

केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने आसियान-इंडिया हैकाथॉन को संबोधित किया। हाल ही में 1 फरवरी, 2021 को इस हैकाथॉन का उद्घाटन किया गया।

मुख्य बिंदु : श्री पोखरियाल ने कहा कि, भारत और आसियान के संबंधों को और मजबूत करने के लिए आसियान-इंडिया हैकाथॉन का उद्घाटन किया गया है।

वर्ष 2019 में भारत-सिंगापुर हैकाथॉन के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने आसियान इंडिया हैकाथॉन का ज़िक्र किया था।

रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने इस बात पर प्रकाश डाला कि आसियान इंडिया हैकाथॉन भारत और आसियान देशों की समान चुनौतियों को हल करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करेगा।

देशों की समान चुनौतियों को “नीली अर्थव्यवस्था” और “शिक्षा” जैसे दो विषयों के अंतर्गत वर्गीकृत किया गया है।

यह हैकाथॉन शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में अपने सहयोग के माध्यम से आसियान और भारत दोनों के आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को आगे बढ़ाने का अवसर प्रदान करती है।

यह हैकाथॉन हमारी सभ्यता के छह मौलिक गुणों अर्थात् संवाद, सम्मान, शांति, सहयोग, समृद्धि और नवाचार को लागू करने में मदद करेगी।

भारत-आसियान संबंध : भारत-आसियान संबंधों की पृष्ठभूमि और नींव साझा मान्यताओं, धर्मों और संस्कृति में निहित है। भारत इस क्षेत्र का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक और जनसांख्यिकीय देश है। भारत ने COVID-19 टीके प्रदान करके आसियान देशों को अपना समर्थन बढ़ाया है। भारत और आसियान मजबूत शैक्षणिक और अनुसंधान संबंधों को भी साझा करते हैं। विभिन्न भारतीय विश्वविद्यालय जैसे IIT दिल्ली और तेजपुर विश्वविद्यालय में ASEAN साझेदार देशों के छात्र पढ़ते हैं। भारत ने आसियान नागरिकों के लिए 1000 आसियान पीएचडी फैलोशिप भी शुरू की है।

आसियान-इंडिया हैकाथॉन : शिक्षा मंत्रालय द्वारा आसियान-इंडिया हैकाथॉन पहल शुरू की गई है। वर्ष 2021 में, इस हैकाथॉन का आयोजन 1 फरवरी से 3 फरवरी, 2021 तक ऑनलाइन किया जा रहा है। यह हैकाथॉन सभी 10 आसियान देशों और भारत के लिए शिक्षा, विज्ञान और विज्ञान के क्षेत्र में सहयोग करके अपने आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने के लिए नए अवसर प्रदान करेगा।


2. विश्व आर्द्रभूमि दिवस : 2 फरवरी

2 फरवरी को विश्व आर्द्रभूमि दिवस (World Wetland Day) मनाया जाता है। इसका उद्देश्य ग्लोबल वार्मिंग का सामना करने में आर्द्रभूमि जैसे दलदल तथा मंग्रोव के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाना है।

आर्द्रभूमि का महत्व : विश्व की 90% आपदाएं जल से सम्बंधित होती हैं तथा यह तटीय क्षेत्रों में रहने वाले 60% लोगों को बाढ़ अथवा सूनामी से प्रभावित करती है।

आर्द्रभूमि एक प्राकृतिक व कुशल कार्बन सिंक के रूप में कार्य करता है। उदाहरण के लिए दलदलीय काई भूमि के केवल 3% हिस्से पर फैली हुई है, परन्तु यह विश्व भर सभी वनों के मुकाबले दोगुनी मात्र में कार्बन को अवशोषित करने की क्षमता रखती है।

आर्द्रभूमि जलवायु सम्बन्धी आपदाओं के विरुद्ध बफर के रूप में कार्य करती हैं, इससे जलवायु परिवर्तन के आकस्मिक प्रभावों से बचा जा सकता है।

पृष्ठभूमि : विश्व आर्द्रभूमि दिवस का उद्देश्य आर्द्रभूमि के संरक्षण की ओर ध्यान केन्द्रित करना है जो मानव गतिविधि से प्रभावित हो सकता है। आर्द्रभूमि की नष्ट होने की दर लगभग 1% है जो की वनों के नष्ट होने की दर से काफी अधिक है। 2 फरवरी, 1971 को ईरान के शहर रामसर में रामसर कन्वेंशन पर हस्ताक्षर किये गये थे, इसका उद्देश्य आर्द्रभूमि के संरक्षण के लिए कार्य करना है।


3. नोबेल पुरस्कार विजेता पॉल क्रुटजन का निधन

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित रसायनज्ञ पॉल जे. क्रूटजन (Paul J. Crutzen) का निधन। उन्होंने 1995 में मारियो जे. मोलिना और एफ. शेरवुड रोलैंड के साथ संयुक्त रूप से रसायन विज्ञान में वायुमंडलीय रसायन विज्ञान में उनके काम के लिए, विशेष रूप से ओजोन के गठन और अपघटन से संबंधित शोध के लिए नोबेल पुरस्कार जीता था।

वह ओजोन परत और जलवायु परिवर्तन पर अपने काम के लिए और ‘Anthropocene’ शब्द को लोकप्रिय बनाने के लिए एक प्रस्तावित नए युग का वर्णन करने के लिए जाना जाता था जब मानव कार्यों का पृथ्वी पर काफी प्रभाव पड़ता है।


4. भारतीय-अमेरिकी भव्य लाल नासा का कार्यकारी प्रमुख नियुक्त

भारतीय-अमेरिकी भव्य लाल (Bhavya Lal) को सोमवार को नासा द्वारा अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी (NASA) की कार्यकारी प्रमुख नियुक्त किया गया। लाल अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) द्वारा नासा में बदलाव संबंधी समीक्षा दल की सदस्य हैं और बाइडेन प्रशासन के अंतर्गत एजेंसी में परिवर्तन संबंधी कार्यों को देख रही हैं। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने एक बयान में कहा कि लाल के पास अभियांत्रिकी एवं अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का व्यापक अनुभव है। लाल अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी एवं नीति समुदाय की सक्रिय सदस्य भी हैं।

भव्य डिफेंस एनालिसिस साइंस एंड टेक्नोलॉजी पॉलिसी इंस्टीट्यूट (STPI) में बतौर रिसर्च स्टाफ 2005 से 2020 तक जुड़ी रही हैं। STPI से जुड़ने से पहले लाल एक साइंस एंड टेक्नोलोजी पॉलिसी रिसर्च एंड कंसल्टिंग फर्म C-STPS LLC की प्रेसिडेंट थीं। इससे पहले वे Center for Science and Technology Policy Studies at Abt Associates के साथ बतौर डायरेक्टर जुड़ी हुई थीं। यह कैम्ब्रिज में स्थित एक ग्लोबल पॉलिसी रिसर्च कंस्लटेंसी है।

भव्य लाल के पास न्यूक्लियर इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री हैं. इसके साथ ही उनके पास टेक्नोलॉजी और पॉलिसी में भी साइंस की मास्टर डिग्री भी है। इसके अलावा उन्होंने पब्लिक पॉलिसी और पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में डॉक्टरेट भी किया है।

बता दें, भव्य उन भारतवंशियों में भी शामिल थीं, जिन्हें अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपनी ‘एजेंसी रिव्यू टीम' (आर्ट)में शामिल किया था। यह टीम प्रमुख संघीय एजेंसियों की मौजूदा प्रशासन में कार्यप्रणाली की समीक्षा करेगी ताकि सत्ता का हस्तांतरण सुचारु रूप से सुनिश्चित करने के लिए बनाई गई थी।


5. संयुक्त राष्ट्र ने देशों से सीरिया के 27,000 बच्चों का प्रत्यावर्तन करने के लिए कहा

संयुक्त राष्ट्र ने राष्ट्रों से उन 27,000 बच्चों को वापस लेने का आग्रह किया है जो पूर्वोत्तर सीरिया में एक शिविर में फंसे हुए हैं। इनमें से ज्यादातर बच्चे इस्लामिक स्टेट के चरमपंथियों के बेटे और बेटियां हैं, जो कभी इराक और सीरिया के बड़े-बड़े इलाक़ों को नियंत्रित करते थे।

मुख्य बिंदु :

  • अल होल शिविर में इन बच्चों की स्थिति बहुत भयानक है और यह दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों में से एक है।

  • ये 27,000 बच्चे फंसे हुए हैं और शिविर के भीतर कट्टरता का खतरा है।

  • अल होल देश में शरणार्थियों और विस्थापित सीरियाई लोगों के लिए सबसे बड़ा शिविर है।

  • संयुक्त राष्ट्र के मानवीय अधिकारियों के अनुसार, यहाँ वर्तमान में लगभग 62,000 लोग रह रहे हैं।

  • इस शिविर में 60 देशों के बच्चे हैं।

  • रूस और कजाकिस्तान जैसे कई देशों ने संयुक्त रूप से लगभग 1,000 बच्चों और उनके परिवार के सदस्यों को प्रत्यावर्तित किया है।

सीरियाई गृहयुद्ध : यह सीरिया में चल रहा गृह युद्ध है। यह सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद की अगुवाई में विभिन्न घरेलू और विदेशी ताकतों और बैथिस्ट सीरियन अरब रिपब्लिक के बीच लड़ा जा रहा है। यह 2011 के अरब स्प्रिंग विरोध प्रदर्शनों के हिस्से के रूप में मार्च 2011 में शुरू हुआ था। इस अशांति के पीछे का कारण सीरिया सरकार के साथ असंतोष था।

सीरिया : सीरिया एक पश्चिम-एशियाई देश है। इसके उत्तर में तुर्की, दक्षिण में जॉर्डन, पश्चिम में भूमध्य सागर, पूर्व में इराक, दक्षिण पश्चिम में लेबनान और दक्षिण पश्चिम में इज़राइल की सीमाएँ हैं।


6. BCCI सचिव जय शाह बने एसीसी के अध्यक्ष

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के पदस्थ सचिव जय शाह को एशियाई क्रिकेट परिषद (ACC) के नए अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया है। वह पद पर नियुक्त किए जाने वाले अब तक के सबसे कम आयु के व्यक्ति हैं।

वह बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) के अध्यक्ष नजमुल हुसैन की जगह लेंगे, जो ACC के पूर्व अध्यक्ष थे।

ACC एशिया का क्षेत्रीय प्रशासनिक निकाय है और इसमें वर्तमान में 24 सदस्य संघ हैं। एशिया कप टूर्नामेंट के आयोजन के लिए ACC उत्तरदायी है।

COVID-19 महामारी के कारण एशिया कप के 2020 संस्करण को इस साल जून में स्थगित कर दिया गया था। वास्तव में पाकिस्तान को टूर्नामेंट की मेजबानी करनी थी लेकिन अब टूर्नामेंट या तो श्रीलंका या बांग्लादेश में आयोजित होने की उम्मीद है।


7. बांग्लादेश : रोहिंग्याओं के तीसरे बैच को बाशान चार द्वीप में स्थानांतरित किया गया

हाल ही में 1,778 से अधिक रोहिंग्याओं को तीसरे बैच को कॉक्स बाजार में शिविरों से बाशान चार द्वीप पर स्थानांतरित कर दिया गया है। यह म्यांमार के शरणार्थी समुदाय के लिए रहने का एक बेहतर स्थान प्रदान करने के लिए किया जा रहा है। कॉक्स बाजार में कुछ मिलियन रोहिंग्या लोग हैं। यह बांग्लादेश के दक्षिण पूर्वी तट का एक बंदरगाह शहर है।

बाशान चार द्वीप में समस्याएँ : बाशान चार द्वीप बंगाल की खाड़ी में स्थित है। यह बांग्लादेश तट से 37 मील की दूरी पर है। इसका निर्माण हाल ही में 2006 में हिमालयन गाद द्वारा किया गया था। पर्यावरणविदों के अनुसार, बाशान चार द्वीप बाढ़, कटाव, उच्च ज्वार और चक्रवात से ग्रस्त है।

हालांकि, बांग्लादेश सरकार का दावा है कि द्वीप में घरों का निर्माण करते समय इन मुद्दों को ध्यान में रखा गया है। शरणार्थियों को उच्च ज्वार की लहरों से बचाने के लिए जमीन से चार फीट ऊपर घर बनाए गए हैं।

पृष्ठभूमि : 2017 में एक सैन्य कार्यवाही के बाद लगभग 1 मिलियन रोहिंग्या म्यांमार के राखीन राज्य से भाग गए थे। चूंकि कॉक्स बाजार में काफी भीड़-भाड़ है, इसलिए रोहिंग्याओं को बाशान चार द्वीप में स्थानांतरित किया जा रहा है।

भारत में रोहिंग्या : भारत में 40,000 से अधिक रोहिंग्या हैं। चूंकि भारत शरणार्थियों पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन का हस्ताक्षरकर्ता नहीं है, इसलिए शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र के उच्चायुक्त द्वारा रोहिंग्याओं को प्रदान की गई शरणार्थी की स्थिति भारत के लिए अप्रासंगिक है। वर्तमान में भारत रोहिंग्या की पहचान कर बांग्लादेश वापस भेज रहा है।

भारत आसियान के साथ संकट को हल करने के लिए तैयार है। भारत म्यांमार के साथ हितों के टकराव के लिए तैयार नहीं है, क्योंकि यह देश भारत की लुक ईस्ट पालिसी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।


8. 2020-21 के लिए राजकोषीय घाटे के जीडीपी के 9.5% पर रहने का अनुमान लगाया गया

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2021-22 के भाषण के दौरान कहा कि अगले वित्तीय वर्ष में राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

मुख्य बिंदु :

  • वित्त मंत्री के अनुसार, 2020-21 में राजकोषीय घाटे के 5% तक बढ़ने का अनुमान है।

  • यह इस वित्तीय वर्ष के दौरान COVID -19 के प्रकोप पर होने वाले व्यय में वृद्धि होगी।

  • राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन ने आर्थिक गतिविधियों पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है और इसके परिणामस्वरूप अर्थव्यवस्था का अनुमानित संकुचन 7% है।

  • वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए, सरकार ने पहले 5% के राजकोषीय घाटे का अनुमान लगाया था।

  • वित्त मंत्री ने लोकसभा में बजट 2021-22 प्रस्तुत करते हुए कहा, सरकार का वर्ष 2025-26 तक राजकोषीय घाटे को जीडीपी के 5% से नीचे लाने का लक्ष्य है।

  • वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार चालू वित्त वर्ष के बचे हुए 2 महीनों के दौरान 80,000 करोड़ रुपये उधार लेने की योजना बना रही है।

राजकोषीय घाटा क्या है? (What is a fiscal deficit?) : राजकोषीय घाटा सरकारी व्यय और राजस्व के बीच का अंतर है। जब सरकार का व्यय एक वर्ष में अपने राजस्व से अधिक हो जाता है, तो स्थिति राजकोषीय घाटा है। इसकी गणना जीडीपी के प्रतिशत के रूप में की जाती है।


9. रामा मोहन राव अमारा बने SBI कार्ड के MD और CEO SBI कार्ड्स और पेमेंट सर्विसेज लिमिटेड (SBI कार्ड) ने रामा मोहन राव अमारा को दो साल की अवधि के लिए अपना प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया है। क्रेडिट कार्ड कंपनी SBI में 29 साल से अधिक के सफल कैरियर के साथ राव एक अनुभवी बैंकर हैं। SBI कार्ड में कार्यभार संभालने से पहले, वह SBI भोपाल सर्कल के मुख्य महाप्रबंधक थे।

इस हफ्ते की शुरुआत में, अश्विनी कुमार तिवारी ने भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के प्रबंध निदेशक के रूप में अपनी नियुक्ति के कारण SBI कार्ड के एमडी और सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया था।


10. 15वें वित्त आयोग की अंतिम रिपोर्ट प्रस्तुत की गयी

भारत के 15वें वित्त आयोग ने अपनी अंतिम रिपोर्ट को पांच साल की अवधि के लिए प्रस्तुत किया है। यह रिपोर्ट भारत की नगरपालिकाओं के वित्तीय प्रशासन को बदलने के उद्देश्य से प्रस्तुत की गई है।

पृष्ठभूमि :

  • वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए अंतरिम रिपोर्ट बजट 2020-21 के साथ संसद में पेश की गई थी।

  • वित्तीय वर्ष 2021-22 से वित्तीय वर्ष 2025-26 के लिए अंतिम रिपोर्ट बजट 2021-22 के साथ-साथ पेश की गई थी।

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु :

15वें वित्त आयोग ने अंतरिम रिपोर्ट में भारत की नगरपालिकाओं के वित्तीय शासन के लिए सीमा बढ़ा दी है।

इस अंतिम रिपोर्ट में चार विशिष्ट एजेंडों पर फोकस किया गया है :

15वें वित्त आयोग ने नगरपालिकाओं के लिए समग्र परिव्यय बढ़ाने की कोशिश की है। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए इसने 29,000 करोड़ रुपये निर्धारित किए हैं। इसने स्थानीय निकायों के कुल अनुदानों में नगरपालिकाओं की हिस्सेदारी को 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 40 प्रतिशत करने का संकेत भी दिया है।

भारत में किसी भी नगरपालिका के लिए वित्त आयोग के अनुदान प्राप्त करने के लिए दो प्रवेश शर्तें निर्धारित की गई हैं : लेखा परीक्षित वार्षिक खातों का प्रकाशन और मंजिल दरों की अधिसूचना।

15वें वित्त आयोग ने एक मिलियन से अधिक जनसँख्या वाले शहरी समूहों और अन्य शहरों के बीच अंतर करने के दृष्टिकोण को अपनाया है।

यह नगरपालिका खातों के लिए एक सामान्य डिजिटल प्लेटफॉर्म, नगरपालिका वित्त का समेकित दृष्टिकोण और राज्य स्तर पर सेक्टोरल परिव्यय के अलावा स्रोत पर व्यक्तिगत लेनदेन के डिजिटल फुटप्रिंट की भी सिफारिश करता है।

अंतरिम रिपोर्ट के ये चार पहलू इस बात को उजागर करते हैं कि 15वें वित्त आयोग का उद्देश्य नगर निगम के वित्त सुधार लाना है। हालाँकि, इन सुधारों को लाने की नींव भी तेरहवें और चौदहवें वित्त आयोग द्वारा रखी गई थी।


11. वित्त मंत्री ने किया नई वाहन कबाड़ नीति का एलान

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साल 2021-22 का आम बजट पेश किया। इसमें वित्त मंत्री ने पुराने और प्रदूषण फैला रहे वाहनों को हटाने के लिए बहुप्रतीक्षित स्वैच्छिक वाहन कबाड़ नीति (व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी) का घोषणा किया। इसके तहत 15 साल पुराने कमर्शियल व्हीकल को स्क्रैप किया जाएगा यानी उन्हें सड़कों पर चलाने की अनुमति नहीं होगी।

प्राइवेट व्हीकल की अवधि भी 20 साल तय की गई है। यानी ऐसे वाहनों को भी 20 साल के बाद स्क्रैप कर सकेंगे। सीतारमण ने लोकसभा में बजट पेश करते हुए कहा कि प्राइवेट वाहनों को 20 साल होने पर और कमर्शियल वाहनों को 15 साल होने पर फिटनेस जांच करानी होगी।

उन्होंने कहा कि यह नीति देश की आयात लागत को कम करने के साथ ही पर्यावरण के अनुकूल और ईंधन की कम खपत करने वाले वाहनों को बढ़ावा देगी। बढ़ते वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने की दिशा में सरकार ने यह कदम उठाया है।

क्या होगा फायदा?

व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी से पुरानी कारों को स्क्रैप किया जाएगा। इससे प्रदूषण कंट्रोल होगा. तेल आयात बिल भी घटेगा। ऑटोमेटेड फिटनेस सेंटर बनाए जाएंगे। इसका उद्देश्य पुरानी कारों को सड़़कों से हटाना है। 15 साल से पुरानी गाड़ियों की बहुत कम रीसेल वैल्यू है और वे बहुत प्रदूषण फैलाती हैं।

एक अप्रैल 2022 से इसे लागू किया जाएगा

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने पिछले सप्ताह कहा था कि सरकारी विभागों और सार्वजनिक सेक्टर के पास मौजूद 15 साल से पुराने वाहनों को कबाड़ करने की नीति जल्दी ही जारी की जाएगी और एक अप्रैल 2022 से इसे लागू किया जाएगा।

इस योजना का उद्देश्य

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 15 साल पुराने सरकारी वाहन को अप्रैल 2022 से कबाड़ में भेजने की नीति को मंज़ूरी दे दी है। सरकार ने 2030 तक देश को पूरी तरह से ई-मोबिलिटी पर शिफ्ट करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखा है। इसका मकसद देश के कच्चा तेल आयात बिल को कम करना है।

प्रोत्साहन राशि

केंद्र सरकार पिछले कुछ दिनों से वाहन कबाड़ नीति पर काम कर रही थी। कुछ दिनों पहले ही सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने नई वाहन कबाड़ नीति को मंजूरी दी है। साथ ही पुराने वाहनों को कबाड़ में देने के बदले नए वाहन खरीदने के लिए सरकार प्रोत्साहन राशि भी देगी।


12. इंडिया जस्टिस रिपोर्ट 2020 में जस्टिस डिलीवरी में महाराष्ट्र शीर्ष पर

इंडिया जस्टिस रिपोर्ट के दूसरा संस्करण, भारत में लोगों को न्याय प्रदान करने पर राज्यों की एकमात्र रैंकिंग, की घोषणा की।

टाटा ट्रस्ट्स की एक पहल, इंडिया जस्टिस रिपोर्ट के दूसरे संस्करण में महाराष्ट्र, 18 बड़े और मध्यम आकार के राज्यों (प्रत्येक एक करोड़ से अधिक की आबादी के साथ) में एक बार फिर शीर्ष पर है, जिस के बाद तमिलनाडु, तेलंगाना, पंजाब, और केरल हैं।

चौदह महीनों के शोध के माध्यम से इंडिया जस्टिस रिपोर्ट 2020 ने राज्यों द्वारा सभी को प्रभावकारी ढंग से न्याय सेवाएँ देने के अपने-अपने ढाँचों में की गयी प्रगति की समीक्षा की है। यह मार्च 2020 से पहले मौजूद नवीनतम आंकड़ों और स्थितियों का ध्यान रखता है। इसमें न्याय के चार स्तंभों - पुलिस, न्यायपालिका, कारागार और कानूनी सहायता पर आधिकारिक सरकारी स्रोतों के अलावा आंकड़ों को पेश किया गया है।


13. 87 साल के इतिहास में पहली बार नहीं होगा रणजी ट्रॉफी का आयोजन

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने एक बड़ा फैसला करते हुए इस साल रणजी ट्रॉफी नहीं कराने का फैसला किया है। 87 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा होगा जब फर्स्ट क्लास घरेलू टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी का आयोजन नहीं हो सकेगा।

बीसीसीआई ने सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट के बाद विजय हजारे ट्रॉफी को कराने का फैसला किया है। बीसीसीआई ने फैसला लिया है कि इस बार रणजी ट्रॉफी का आयोजन करना संभव नहीं है। बोर्ड सचिव जय शाह ने प्रदेश ईकाइयों को लिखे पत्र में यह जानकारी दी।

वसीम जाफर ने क्या कहा था?

बता दें कि कुछ समय पहले भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और घरेलू दिग्गज वसीम जाफर ने कहा था कि कोविड-19 (COVID-19) महामारी के मद्देनजर विजय हजारे, दलीप और देवधर ट्रॉफी को इस सत्र में रद्द कर दिया जाना चाहिए और इसके बजाय उस समय का उपयोग रणजी ट्रॉफी का आयोजन किया जाना चाहिए। लेकिन अब बीसीसीआई ने फैसला किया है कि इस सत्र में विजय हजारे ट्रॉफी को ही कराया जाएगा।

यह फैसला क्यों लिया गया?

विजय हजारे ट्रॉफी के अलावा बीसीसीआई महिला सीनियर वनडे ट्रॉफी और अंडर-19 क्रिकेट में वीनू मांकड़ वनडे ट्रॉफी का आयोजन भी कराएगा। बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने राज्य संघों को भेजे अपने पत्र में लिखा है कि यह फैसला राज्य संघों से मिले फीडबैक और कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए यह फैसला किया है।

रणजी ट्रॉफी: एक नजर में

रणजी ट्रॉफी भारत की एक घरेलू क्रिकेट प्रतियोगिता है। रणजी ट्रॉफी में एक घरेलू प्रथम श्रेणी क्रिकेट चैम्पियनशिप क्षेत्रीय क्रिकेट संघों का प्रतिनिधित्व टीमों के बीच भारत में खेला जाता है। प्रतियोगिता वर्तमान में, 37 टीमों के होते भारत और दिल्ली (जो एक केंद्र शासित प्रदेश है) में 28 राज्यों में से 21 के साथ कम से कम एक प्रतिनिधित्व कर रही है। प्रतियोगिता पहली बार 1934-35 में जगह लेने के साथ जुलाई 1934 में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की एक बैठक के बाद के रूप में भारत की क्रिकेट चैम्पियनशिप शुरू किया गया था। ट्रॉफी पटियाला के महाराजा भूपिंदर सिंह द्वारा दान किया गया था।


14. Oxford Hindi Word of the Year 2020 : ‘आत्मनिर्भरता’ बना 2020 का हिंदी शब्द, 'आत्मनिर्भर भारत' मॉटो का जोर

‘ऑक्सफोर्ड लैंग्विजेज' ने ‘आत्मनिर्भरता' को 2020 का हिंदी भाषा का शब्द घोषित किया गया है। यह शब्द भाषा विशेषज्ञों कृतिका अग्रवाल, पूनम निगम सहाय और इमोगन फॉक्सेल के एक सलाहकार पैनल की ओर से चुना गया है। ‘ऑक्सफोर्ड हिंदी शब्द' से यहां मतलब ऐसे शब्द से है, जो पिछले साल के लोकाचार, मनोदशा या स्थिति को दिखाए और जो सांस्कृतिक महत्व के एक शब्द के रूप में लंबे समय तक बने रहने की क्षमता रखता हो।

‘ऑक्सफोर्ड लैंग्विज' ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब कोविड-19 से निपटने के लिए पैकेज की घोषणा की थी, तो उन्होंने वैश्विक महामारी से निपटने के लिए देश को एक अर्थव्यवस्था के रूप में, एक समाज के रूप में और व्यक्तिगत तौर पर आत्मनिर्भर बनाने पर जोर दिया था।

उसने कहा कि इसके बाद ही ‘आत्मनिर्भर भारत' शब्द का इस्तेमाल भारत के सार्वजनिक शब्दकोष में एक वाक्यांश और अवधारणा के रूप में काफी बढ़ गया। इसका एक बड़ा उदाहरण भारत का देश में कोविड-19 के टीका का निर्माण करना भी है। गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर आत्मनिर्भर भारत अभियान को रेखांकित करते हुए एक झांकी भी निकाली गई थी।

‘ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस इंडिया' के प्रबंध निदेशक शिवरामकृष्णन वेंकटेश्वरन ने कहा कि ‘आत्मनिर्भर भारत' को कई क्षेत्रों के लोगों के बीच पहचान मिली क्योंकि इसे कोविड-19 से प्रभावित अर्थव्यवस्था से निपटने के एक हथियार के तौर पर भी देखा गया। बता दें इससे पहले 2017 में ‘आधार', 2018 में ‘नारी शक्ति' और 2019 में ‘संविधान' को ऑक्सफोर्ड ने हिंदी भाषा का शब्द चुना था।

Source of Internet


9 views0 comments

Recent Posts

See All