Search

25th & 26th July | Current Affairs | MB Books


1. अमेरिका ने अफगान प्रवासियों के लिए $100 मिलियन के आपातकालीन फण्ड को मंज़ूरी दी

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाईडेन ने शरणार्थी जरूरतों को पूरा करने के लिए एक आपातकालीन फण्ड से 100 मिलियन अमरीकी डालर के लिए मंज़ूरी दी है, जो अफगानिस्तान में भू-राजनीतिक स्थिति से उपजी है, जिसमें विशेष आव्रजन अफगान वीजा आवेदक भी शामिल हैं।

मुख्य बिंदु :

  • विभिन्न जरूरतों को पूरा करने के लिए सरकारी एजेंसियों की सूची से सेवाओं और सेवाओं में $200 मिलियन की रिलीज को भी मंजूरी दी गई है।

  • अमरीका उन हज़ारों विशेष अप्रवासन वीज़ा (SIV) अफगान आवेदकों को भी निकालने की तैयारी कर रहा है, जिन पर तालिबान विद्रोहियों द्वारा प्रतिशोध का खतरा है क्योंकि वे अमरीका के लिए काम करते थे।

  • लगभग 2,500 अफगानों को विभिन्न बैचों में फोर्ट ली लाया जा सकता है जहां उन्हें तैनात किया जाएगा और उनकी आवेदन प्रक्रिया की प्रतीक्षा की जाएगी।प्रक्रिया पूरी होने के बाद उन्हें अमेरिका का वीजा दिया जाएगा।

विशेष अप्रवासी वीजा के लिए कौन पात्र हैं? : अफ़गान, जो अमेरिकी सरकार के लिए अनुवादकों या विभिन्न अन्य विभागों में काम करते थे, विशेष अप्रवासी वीज़ा (special immigrant visas) के लिए पात्र हैं। अमेरिका की प्रतिनिधि सभा ने एक कानून पारित किया है जो देश द्वारा दिए गए SIV की संख्या में 8,000 की वृद्धि करेगा।


2. यूके में ‘नोरोवायरस’ (Norovirus) संक्रमण के मामले दर्ज किये गये

यूनाइटेड किंगडम में नोरोवायरस (norovirus) के मामले दर्ज किये गये हैं। पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (PHE) ने हाल ही में नोरोवायरस को लेकर चेतावनी जारी की थी। मई महीने के अंत से, इंग्लैंड ने देश में नोरोवायरस के 154 मामले दर्ज किए हैं।

नोरोवायरस : रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (CDC) के अनुसार, नोरोवायरस बहुत संक्रामक है जो दस्त और उल्टी का कारण बनता है।

नोरोवायरस कैसे फैलता है? : एक व्यक्ति संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से इस वायरस से संक्रमित हो सकता है। यह वायरस दूषित पानी और भोजन के सेवन से और दूषित सतहों को अपने हाथों से छूने और फिर उन्हें बिना धोए मुंह में डालने से भी संक्रमण हो सकता है।

नोरोवायरस के लक्षण : नोरोवायरस के लक्षण उल्टी, दस्त, पेट दर्द और मतली हैं। यह वायरस आंतों या पेट में सूजन पैदा कर सकता है और इसे एक्यूट गैस्ट्रोएंटेराइटिस (acute gastroenteritis) कहा जाता है। इस वायरस के अन्य लक्षण सिरदर्द, बुखार और शरीर में दर्द हैं। लोग आमतौर पर 12 से 48 घंटों के भीतर लक्षण विकसित करते हैं और वे 1 से 3 दिनों तक रह सकते हैं।

नोरोवायरस प्रसार को कैसे रोका जा सकता है? : हाथ की स्वच्छता का अभ्यास करके, यानी खाना बनाने, खाने या संभालने से पहले हाथ धोना आदि। हाथों को साफ रखने के लिए एल्कोहल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करना चाहिए।

इलाज : इस वायरस की कोई विशेष दवा नहीं है। विशेषज्ञों ने दस्त और उल्टी से खोए हुए तरल पदार्थों को बदलने के लिए बहुत सारे तरल पदार्थ पीने का सुझाव दिया है ताकि निर्जलीकरण (dehydration) को रोका जा सके।


3. दुनिया का पहला स्वच्छ परमाणु रिएक्टर एक्टिवेट करेगा चीन

चीनी सरकार के एक वैज्ञानिक ने एक प्रायोगिक परमाणु रिएक्टर की योजना का खुलासा किया है जिसे ठंडा करने के लिए पानी की आवश्यकता नहीं होती है। यह रिएक्टर यूरेनियम के बजाय तरल थोरियम पर चलेगा और पारंपरिक रिएक्टरों की तुलना में अधिक सुरक्षित होने की उम्मीद है। पिघला हुआ नमक, जब हवा के संपर्क में आता है, तो ठंडा हो जाता है और जल्दी से जम जाता है और इस प्रकार थोरियम को इन्सुलेट करता है, जिससे किसी भी संभावित रिसाव में पारंपरिक रिएक्टरों से लीक की तुलना में इससे पर्यावरण में बहुत कम विकिरण फैल सकता है।

मुख्य बिदु :

  • उम्मीद की जा रही है कि यह प्रोटोटाइप रिएक्टर अगस्त में पूरा हो जाएगा और पहला परीक्षण सितंबर में शुरू होगा।

  • यह परीक्षण पहले ऐसे वाणिज्यिक रिएक्टर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेगा जो वर्ष 2030 तक निर्माण के लिए निर्धारित है। चूंकि इस प्रकार के रिएक्टर के लिए पानी की आवश्यकता नहीं होती है, यह रेगिस्तानी क्षेत्रों में काम करने में सक्षम होगा।

  • वुवेई (Wuwei) के रेगिस्तानी शहर को पहले रिएक्टर के स्थान के रूप में चुना गया है, और चीनी सरकार पश्चिमी चीन के मैदानी इलाकों और रेगिस्तान में ऐसे और रिएक्टर बनाने की योजना बना रही है।

  • शंघाई इंस्टीट्यूट ऑफ एप्लाइड फिजिक्स की एक टीम ने इस प्रोटोटाइप को विकसित किया है।

थोरियम : थोरियम एक रेडियोधर्मी धातु है। यह यूरेनियम की तुलना में अधिक प्रचुर मात्रा में और काफी सस्ता है, और इसका उपयोग आसानी से परमाणु हथियार बनाने के लिए नहीं किया जा सकता है।


4. 26 जुलाई : कारगिल विजय दिवस

1999 में पाकिस्तानी सैनिकों की घुसपैठ के खिलाफ ऑपरेशन विजय में भारतीय सशस्त्र बलों की जीत को याद करने के लिए हर साल 26 जुलाई को पूरे भारत में कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है।

कारगिल विजय दिवस : कारगिल विजय दिवस मनाने का उद्देश्य राष्ट्रव्यापी अभियानों के माध्यम से विशेष रूप से युवाओं में राष्ट्रवाद और देशभक्ति की भावना जगाना और बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि देना है।

समारोह : विजय दिवस को सशस्त्र बलों के उन बहादुर सैनिकों के प्रति सम्मान और कृतज्ञता दिखाने के लिए मनाया जाता है, जिन्होंने पाकिस्तानी सेना द्वारा घुसपैठ और कब्ज़ा किए गए सभी पोस्ट पर फिर से नियंत्रण करने में अपना जीवन लगा दिया था।

ऑपरेशन विजय : यह भारत और पाकिस्तान के बीच एक सशस्त्र संघर्ष था जो लद्दाख के कारगिल जिले और नियंत्रण रेखा (LoC) के साथ अन्य स्थानों पर हुआ था।

यह 60 दिनों से अधिक (मई और जुलाई 1999 के बीच) के लिए लड़ा गया था और अंत में भारत ने अपने सभी क्षेत्रों पर फिर से नियंत्रण हासिल कर लिया। 60 दिनों के लंबे संघर्ष में, टाइगर हिल की जीत महत्वपूर्ण उपलब्धियों में से एक थी।


5. आईआईटी गुवाहाटी में हुई आपदा प्रबंधन एवं शोध केंद्र की स्थापना

प्राकृतिक आपदाओं की दृष्टि से पूर्वोत्तर भारत विशेष रूप से संवेदनशील माना जाता है। हर साल असम के कई इलाके बाढ़ की चपेट में आते हैं तो वहीं इस क्षेत्र के कई अन्य राज्य भूकंप-संवेदनशील जोन में स्थित हैं। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), गुवाहाटी में एक आपदा प्रबंधन एवं शोध केंद्र (सेंटर फॉर डिजास्टर मैनेजमेंट एंड रिसर्च, सीडीएमआर) की स्थापना हुई है जिसका उद्घाटन असम के मुख्यमंत्री डा. हिमंता विस्वा सरमा ने किया। इस केंद्र से भारत के पूर्वोत्तर में अक्सर दस्तक देने वाली प्राकृतिक आपदाओं को लेकर बेहतर तैयारी और प्रबंधन में सहायता मिलेगी। आईआईटी गुवाहाटी के वर्ष 2020 में हुए दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संस्थान से ऐसे केंद्र को स्थापित करने की दिशा में पहल करने के लिए कहा था, जो पूर्वोत्तर भारत को विभिन्न प्रकार की प्राकृतिक और मानव निर्मित औद्योगिक आपदाओं के प्रभावी प्रबंधन में सहायक सिद्ध हो सके। इस नए केंद्र का उद्घाटन प्रतिष्ठित 'इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस ऑन रीसेंट एडवांसेज इन जियोटेक्निकल इंजीनियरिंग एंड सॉइल डायनामिक्स (आईसीआरएजीईईई)'के दौरान हुआ। प्रति चार वर्ष में आयोजित होने वाला यह सम्मेलन गत 12 से 15 जुलाई के बीच संपन्न हुआ। इस कॉन्फ्रेंस में भू-खतरा जोखिम और इससे जुड़े मुद्दों पर काम करने वाले विश्वविद्यालयों एवं पेशेवरों के बीच सहयोग बढ़ाने एवं आपदा से निपटने के लिए कारगर अवसंरचना के निर्माण पर विशेष जोर दिया गया। उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए असम के मुख्यमंत्री हिमंता विस्वा सरमा ने कहा, 'सेंटर फॉर डिजास्टर मैनेजमेंट एंड रिसर्च असम और समूचे पूर्वोत्तर क्षेत्र को समर्पित है। इस पहल पर केंद्र के संस्थापक प्रमुख प्रो. सुदीप मित्रा और आईआईटी गुवाहाटी के निदेशक टीजी सीताराम को बधाई संदेश देते हुए डॉ. सरमा ने कहा, 'आपदा से जुड़े मुद्दों पर विश्वविद्यालयों का नेटवर्क तैयार करना प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के आपदा जोखिम घटाने संबंधी दस-सूत्रीय एजेंडे के महत्वपूर्ण लक्ष्यों में से एक है।' स्थापना समारोह में मुख्यमंत्री डॉ. हिमंता विस्वा सरमा के अलावा सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीबीआरआई) के पूर्व निदेशक प्रो. आरके भंडारी, आईआईटी गुवाहाटी के निदेशक टीजी सीताराम, आईआईटी संकाय के सदस्य, शोधार्थी और विश्व भर से जुड़े तमाम विशेषज्ञों की उपस्थिति रही।


6. भारत बना रहा है पावर आइलैंडिंग सिस्टम

देश के बिजली ग्रिड पर संभावित हमलों से महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे की रक्षा के लिए देश के कई शहरों में पावर आइलैंडिंग सिस्टम बनाने की योजना बनाई जा रही है।

मुख्य बिंदु :

  • बेंगलुरू और जामनगर, जिसमें भारत की दो सबसे बड़ी तेल रिफाइनरियां हैं, उन शहरों में शामिल किये गये हैं जिनका मूल्यांकन एक आइलैंडिंग सिस्टम के लिए किया जा रहा है।

  • मौजूदा सिस्टम वाले मुंबई और नई दिल्ली जैसे शहरों में सुधार किया जा रहा है।

  • वर्ष 2020 में मुंबई में एक बड़ी बिजली आउटेज हुई थी, जिससे शहर ठप हो गया और इसने शहरों के पावर ग्रिड पर साइबर हमले की अटकलों को प्रेरित किया।

  • 2019 में, भारत में परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने बताया कि इसके एक पीढ़ी के संयंत्र में कंप्यूटर सिस्टम पर मैलवेयर द्वारा हमला किया गया था।

  • दुनिया भर में बिजली ग्रिडों को लगातार डिजिटल किया जा रहा है जिससे वे ऐसे संभावित हमलों के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं। इसलिए, भारत सरकार देश के प्रमुख शहरों में पावर आइलैंड सिस्टम बनाने की योजना बना रही है।

आइलैंडिंग सिस्टम क्या है? : आइलैंडिंग सिस्टम में उत्पादन क्षमता होती है और यह एक आउटेज के दौरान मुख्य ग्रिड से ऑटोमेटिकली अलग हो सकता है। नई प्रणालियों को स्थापित करने के लिए, प्रांतों को भंडारण और उत्पादन क्षमता स्थापित करने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने की आवश्यकता है।

इंडिया स्मार्ट ग्रिड फोरम के अध्यक्ष रेजी पिल्लई (Reji Pillai) ने औद्योगिक और वाणिज्यिक परिसरों, हवाई अड्डों, शॉपिंग मॉल, अस्पतालों, रक्षा इकाइयों और रेलवे स्टेशनों जैसे छोटे क्षेत्रों को अलग करने के लिए स्मार्ट माइक्रो ग्रिड की सिफारिश की है। यह सिस्टम मुख्य नेटवर्क से जुड़ा होगा और एक आउटेज के दौरान अपने आप ही रूप से अलग हो जाएगा। माइक्रो ग्रिड रूफटॉप सौर ऊर्जा और बैटरी के मिश्रण पर चलेंगे।


7. बांग्लादेश लॉन्च करेगा फेसबुक का विकल्प ‘जोगाजोग’

बांग्लादेश ‘जोगाजोग’ (Jogajog) नाम से अपना खुद का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लॉन्च करने जा रहा है जो विश्व स्तर पर लोकप्रिय फेसबुक का विकल्प होगा और ‘अलापोन’ व्हाट्सएप का विकल्प होगा।

मुख्य बिंदु :

  • बांग्लादेश के राज्य सूचना और संचार प्रौद्योगिकी के मंत्री जुनैद अहमद पालाक ने 24 जुलाई को यह घोषणा की।

  • Jogajog एप्प के माध्यम से देश के उद्यमी डेटा, सूचना और संचार के लिए ऑनलाइन मार्केटप्लेस और समूहों के अपने संस्करण बना सकेंगे।

  • मंत्री ने कहा कि देश की 2018 की डिजिटल ई-कॉमर्स नीति का लक्ष्य वर्ष 2021 तक सूचना और संचार प्रौद्योगिकी क्षेत्र में 20 लाख से अधिक नौकरियां पैदा करना है।

  • उम्मीद की जा रही है कि बीपीओ, ई-कॉमर्स, सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर सेक्टर साल 2021 तक 20 लाख से ज्यादा नौकरियां पैदा करने के देश के लक्ष्य को हासिल करने में सक्षम होंगे।

  • सूचना और संचार प्रौद्योगिकी में सुधार से न केवल देश के रोजगार क्षेत्र में सुधार होगा बल्कि वर्ष 2025 तक निर्यात राजस्व के रूप में 5 बिलियन अमरीकी डालर की कमाई भी संभव होगी।

8. फिलीपींस ने आनुवंशिक रूप से संशोधित ‘गोल्डन राइस’ को मंजूरी दी

“गोल्डन राइस” (Golden Rice) जिसे आनुवंशिक रूप से संशोधित (genetically modified) किया गया है, को फिलीपींस द्वारा व्यावसायिक उत्पादन के लिए मंजूरी दे दी गई है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना ​​है कि यह निर्णय दुनिया के विकासशील क्षेत्रों में बच्चों की जान बचाएगा और बचपन के अंधेपन (childhood blindness) का मुकाबला करेगा।

मुख्य बिंदु :

  • सरकार ने एक जैव सुरक्षा परमिटन (bio safety permit) जारी किया जो इस चावल के लिए मार्ग प्रशस्त करता है जो बीटा-कैरोटीन से समृद्ध है जो विटामिन ए-अग्रदूत है और इस चावल को अधिक पौष्टिक बनाता है।

  • अंतर्राष्ट्रीय चावल अनुसंधान संस्थान (IRRI) ने कृषि विभाग-फिलीपीन चावल अनुसंधान संस्थान के साथ मिलकर “गोल्डन राइस” विकसित करने के लिए दो दशक बिताए हैं।

  • यह आनुवंशिक रूप से संशोधित चावल का पहला प्रकार है जिसे दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र में व्यावसायिक उपयोग के लिए अनुमोदित किया गया है।

“गोल्डन राइस” उपभोग के लिए कब उपलब्ध होगा? : अंतिम नियामक बाधाओं को पार करने के बावजूद चावल की यह किस्म अभी भी लोगों के भोजन के कटोरे में दिखाई देने से दूर है। वर्ष 2022 में चयनित प्रांतों में फिलिपिनो किसानों को सीमित मात्रा में गोल्डन राइस बीज वितरित किए जाएंगे।

साधारण और “गोल्डन राइस” में अंतर? : साधारण चावल पौधे में बीटा-कैरोटीन पैदा करता है, लेकिन यह दाने में नहीं पाया जाता है जबकि गोल्डन राइस दाने में ही बीटा-कैरोटीन का उत्पादन करेगा। किसान सामान्य चावल की किस्मों की तरह ही “गोल्डन राइस” उगा सकेंगे।

विटामिन ए का महत्व : विटामिन ए विकास और सामान्य वृद्धि, दृष्टि और प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) के समुचित कार्य के लिए महत्वपूर्ण है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों से पता चलता है कि विटामिन ए की कमी से हर साल बचपन में अंधेपन के 5,00,000 मामले सामने आते हैं, जिनमें से आधे की 12 महीने के भीतर अपनी दृष्टि खोने के बाद मृत्यु हो जाती है। IRRI के अनुसार, फिलीपींस में पांच साल से कम उम्र के फिलिपिनो बच्चों में से लगभग 17% में विटामिन ए की कमी है।


9. RBI लाएगी डिजिटल करेंसी, चरणबद्ध तरीके से होगा क्रियान्वयन

भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई डिजिटल करेंसी लांच करने की योजना पर काम कर रही है। आरबीआई के डिप्टी गवर्नर टी. रविशंकर ने गुरुवार को इस आशय की जानकारी देते हुए कहा कि आरबीआई अपनी खुद की डिजिटल करेंसी चरणबद्ध तरीके से क्रियान्वित करने की रणनीति पर काम कर रहा है और इसे पायलट आधार पर थोक और खुदरा क्षेत्रों में पेश करने की प्रक्रिया में है।

उन्होंने आगे बताते हुए कहा कि केंद्रीय बैंक डिजिटल करेंसी को लेकर काफी गंभीर है और दुनिया के कई केंद्रीय बैंक इस संदर्भ में काम कर रहे हैं। शंकर ने कहा कि सीबीडीसी के तहत उपभोक्ताओं को उन कुछ डिजिटल मुद्राओं में देखी गई 'अस्थिरता के भयावह स्तर' से बचाने की आवश्यकता है जिन्हें कोई सरकारी गारंटी प्राप्त नहीं है। उन्होंने कहा कि विभिन्न देशों के केंद्रीय बैंक सीबीडीसी की संभावना तलाशने में लगे हैं और कुछ देश इस प्रकार की धारणा पेश की है।

वित्त मंत्रालय द्वारा गठित एक उच्चस्तरीय अंतरमंत्रालयीन समिति ने नीति और कानूनी ढांचे का परीक्षण कर देश में सीबीडीसी को डिजिटल मुद्रा के रूप में पेश करने की सिफारिश की है। रविशंकर ने कहा कि इसके लिए कानूनी बदलाव की जरूरत होगी, क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम के तहत मौजूदा प्रावधान करेंसी को भौतिक रूप से ध्यान में रखते हुए बनाए गए हैं। उन्होंने डिजिटल करेंसी से जुड़े कुछ जोखिमों का भी जिक्र किया, जैसे दबाव की स्थिति में बैंक से पैसे को अचानक से निकाल लेना। लेकिन उन्होंने कहा कि जोखिम जुड़े हैं लेकिन संभावित लाभों को देखते हुए उनका सावधानीपूर्वक मूल्यांकन करने की आवश्यकता है।


10. इसरो का मर्चेंडाइज़र प्रोग्राम 8 कंपनियों के साथ शुरू हुआ

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का मर्चेंडाइज़र प्रोग्राम, जिसे अंतरिक्ष-थीम के अनुसार अनुकूलित किया जाएगा, कई कंपनियों के साथ साझेदारी में शुरू हुआ है। इस कार्यक्रम के शुरू होने के बाद, इच्छुक सभी लोग इसरो के मर्चेंडाइज़ उत्पादों जैसे टी-शर्ट, स्केल मॉडल, अंतरिक्ष-थीम वाले शैक्षिक खेल, मग, विज्ञान के खिलौने आदि खरीद सकेंगे।

मुख्य बिंदु :

  • इस कार्यक्रम के लांच के बाद, इच्छुक व्यक्ति इसरो के मर्चेंडाइज़ उत्पादों को खरीदने में सक्षम होंगे जो विभिन्न अंतरिक्ष मिशनों और कार्यों के संगठनों से जुड़े हैं।

  • टी-शर्ट, स्केल मॉडल, स्पेस-थीम वाले शैक्षिक खेल, मग, विज्ञान के खिलौने आदि उत्पाद उपलब्ध कराए जाएंगे।

यह फैसला क्यों लिया जा रहा है? : इसरो का मानना ​​है कि इससे अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बच्चों, छात्रों और देश की जनता के बीच जागरूकता पैदा हो सकती है और यह संगठन की उपलब्धियों को भी बढ़ा सकता है।

इस कार्यक्रम के लिए कितनी कंपनियों ने पंजीकरण कराया है? : इसरो के उत्पादों के निर्माण के लिए अब तक 8 कंपनियों ने इसरो के साथ पंजीकरण कराया है। इनमें 1947IND (बेंगलुरु), इंडिक इंस्पिरेशन्स (पुणे) और अंकुर हॉबी सेंटर (अहमदाबाद) शामिल हैं। इस तरह के अनुकूलित उत्पादों के निर्माण के संबंध में कई कंपनियों द्वारा उनसे संपर्क करने के बाद इसरो ने इस पहल को आगे बढ़ाया।

यह कार्यक्रम कैसे कार्य करेगा? : इस कार्यक्रम के तहत, इसरो सामान्य व्यवस्था के चित्र, थीम, चित्र या ऐसे किसी अन्य डिज़ाइन को साझा करेगा जो इन पंजीकृत कंपनियों को माल लॉन्च करने में मदद करेगा। इसरो के कैटलॉग को समय-समय पर अपडेट किया जाएगा, और यह इन कंपनियों को उपलब्ध कराया जाएगा।

इन सामानों की कीमतें उचित होंगी क्योंकि इसरो कोई ब्रांड वैल्यू नहीं वसूल रहा है।


11. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 612.73 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा

16 जुलाई, 2021 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 835 मिलियन डॉलर की वृद्धि के साथ 612.73 अरब डॉलर के उच्चतम स्तर पर पहुँच गया है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत चौथे स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है।

विदेशी मुद्रा भंडार : इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

16 जुलाई, 2021 को विदेशी मुद्रा भंडार :

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $568.748 बिलियन गोल्ड रिजर्व: $37.333 बिलियन आईएमएफ के साथ एसडीआर: $1.548 बिलियन आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $5.1 बिलियन


12. केंद्र सरकार ने 5 चिकित्सा उपकरणों के लिए अधिकतम व्यापार मार्जिन की सीमा निश्चित की

केंद्र सरकार ने डिजिटल थर्मामीटर और पल्स आक्सीमीटर सहित पांच और अधिक महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरणों पर व्यापार मार्जिन की सीमा तय कर दी है, दरअसल इन उपकरणों का उपयोग COVID-19 के इलाज में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया जा रहा है।

मुख्य बिंदु :

  • 13 जुलाई को, National Pharmaceuticals Pricing Authority (NPPA) ने 5 चिकित्सा उपकरणों के व्यापार मार्जिन पर अधिकतम सीमा लगाने के लिए नियम लागू किया था।वे उपकरण हैं : ग्लूकोमीटर, ऑक्सीमीटर, नेबुलाइजर, बीपी मॉनिटर और डिजिटल थर्मामीटर। मार्जिन को 70% तक सीमित कर दिया गया है।

  • सभी श्रेणियों में प्रत्येक घरेलू आयात और निर्यात ब्रांड ने MRP में गिरावट की सूचना दी है।

  • आयातकों ने कहा कि पल्स ऑक्सीमीटर, नेब्युलाइजर्स और ब्लड प्रेशर मॉनिटरिंग मशीनों ने उच्चतम दर में कमी देखी गयी है।

यह फैसला क्यों लिया गया? : यह निर्णय इस महामारी की स्थिति के दौरान चिकित्सा उपकरणों को सस्ता बनाने के प्राथमिक उद्देश्य के साथ लिया गया था और इसलिए, इन चिकित्सा उपकरणों पर व्यापार मार्जिन को NPPA द्वारा नियंत्रित किया गया है। जनहित में असाधारण परिस्थितियों में, DPCO, 2013 का पैरा 19, NPPA को उन दवाओं की कीमतों को नियंत्रित करने की शक्ति देता है जो NLEM (National List of Essential Medicines – आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची) के तहत नहीं हैं। इससे पहले जून के महीने में, सरकार द्वारा ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर पर व्यापार मार्जिन 70% पर सीमित कर दिया गया था।


13. कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री येदियुरप्पा का इस्तीफा

पिछली दिनों से लगातार चल रहीं इस्तीफों की अटकलों के बीच अन्तत: कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने सोमवार को मुख्‍यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। राजभवन जाकर उन्होंने अपने इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया है।

उल्लेखनीय है कि येदियुरप्पा ने आज यानी सोमवार को मुख्‍यमंत्री के रूप में 2 साल पूरे किए हैं। इस्तीफे के बाद येदि ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमित शाह को धन्यवाद कहा।

अपनी सत्ता के दो साल पूरे होने पर आयोजित समारोह में भावुक हुए येदियुरप्पा ने कहा कि मैं नाराज नहीं हूं, खुश हूं। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा कि मैं हमेशा अग्निपरीक्षा से गुजरा हूं।

भले ही येदियुरप्पा ने कहा है कि वे नाराज नहीं है, लेकिन यदि वे पार्टी से असंतुष्ट हुए तो आने वाले विधानसभा चुनाव में पार्टी को बड़ा झटका लग सकता है। क्योंकि पिछली बार भी पार्टी येदियुरप्पा के बिना भाजपा नुकसान उठा चुकी है। येदि का लिंगायत समुदाय में काफी वर्चस्व है। समुदाय के संत-महंतों के बीच भी उनकी काफी पकड़ है। ये हैं दावेदार : कर्नाटक के नए सीएम के लिए सबसे ऊपर केन्द्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी का नाम चल रहा है। इसके अलावा मुरुगेश निरानी, डिप्टी सीएम अश्वत नारायण, संगठन महासचिव बीएल संतोष संगठन महासचिव, डिप्टी सीएम लक्ष्मण सवदी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री वासनगौड़ा यतनाल आदि के नाम भी मुख्‍यमंत्री पद के लिए चल रहे हैं। इस मामले धर्मेन्द्र प्रधान और अरुण सिंह को केन्द्रीय मंत्री बनाया जा सकता है। इस बीच, गृहमंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्‍डा ने भी कर्नाटक को लेकर बैठक की। बैठक में अन्य नेता भी मौजूद थे।


14. तेलंगाना का रुद्रेश्वर मंदिर बना भारत का 39वां विश्व धरोहर स्थल

रुद्रेश्वर मंदिर (Rudreswara Temple) जो तेलंगाना राज्य के मुलुगु जिले के पालमपेट में स्थित है, को यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया है। 25 जुलाई, 2021 को यूनेस्को की विश्व धरोहर समिति के 44वें सत्र में यह निर्णय लिया गया। रुद्रेश्वर मंदिर (इसे रामप्पा मंदिर भी कहा जाता) को भारत सरकार द्वारा यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल टैग, 2019 के लिए प्रस्तावित किया गया था।

रुद्रेश्वर मंदिर :

  • 1213 ई. में काकतीय साम्राज्य के शासन काल में रुद्रेश्वर मंदिर का निर्माण कराया गया था।

  • इस मंदिर का निर्माण काकतीय राजा गणपति देव के सेनापति रेचारला रुद्र ने करवाया था।