Search

12th December | Current Affairs | MB Books


1. 12 दिसम्बर : अंतर्राष्ट्रीय सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज दिवस

प्रतिवर्ष 12 दिसम्बर को अंतर्राष्ट्रीय सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज दिवस मनाया जाता है, इस दिवस को मुख्य रूप से विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा मनाया जाता है।

अंतर्राष्ट्रीय सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज दिवस

इस दिवस का उद्देश्य सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज की आवश्यकता तथा मज़बूत स्वास्थ्य प्रणाली की उपलब्धता पर बल देना है। संयुक्त राष्ट्र ने 12 दिसम्बर, 2017 को प्रस्ताव 72/138 के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज दिवस की स्थापना की थी।

इस दिवस के द्वारा उन लाखों लोगों के लिए आवाज़ उठायी जाती है, जिनके पास अभी तक स्वास्थ्य सुरक्षा कवरेज नहीं है। सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों में भी शामिल है।

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत)

भारत सरकार ने सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करने के लिए आयुष्मान भारत योजना शुरू की है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना एक सरकारी स्वास्थ्य योजना है, इसके तहत एक परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवर प्रदान किया जायेगा। इसका लाभ किसी सरकारी व कुछ एक निजी अस्पतालों में लिया जा सकता है।

इस योजना के लिए 60% योगदान केंद्र द्वारा दिया जायेगा, जबकि शेष राशी राज्यों द्वारा दी जाएगी। इस योजना के सुचारू रूप से क्रियान्वयन के लिए नीति आयोग भी साथ में कार्य करेगा।

इस योजना का लाभ लेने के लिए परिवार के सदस्यों की संख्या व आयु पर कोई सीमा नहीं है। इसके तहत अस्पताल में भर्ती होने से पहले व बाद के खर्च को भी शामिल किया जायेगा। इस योजना में हॉस्पिटलाईजेशन के दो दिन पहले की दवा, डायग्नोसिस और बेड चार्जेज शामिल हैं। इसके अलावा हॉस्पिटलाईजेशन की अवधि तथा उसके बाद के 15 दिन के खर्च को इसमें कवर किया जायेगा। हॉस्पिटलाईजेशन के लिए रोगी को परिवहन व्यय भी दिया जायेगा।


2. ADB ने शुरू की विकासशील सदस्य देशों के लिए ‘एशिया पैसिफिक वैक्सीन एक्सेस फैसिलिटी’

एशियन डेवलपमेंट बैंक ने अपने विकासशील सदस्य देशों के लिए एशिया पैसिफिक वैक्सीन एक्सेस फैसिलिटी (APVAX) का शुभारंभ किया है। बैंक की यह 09 बिलियन डॉलर की वैक्सीन पहल अपने विकासशील सदस्य देशों को तीव्र और न्यायसंगत समर्थन की पेशकश करेगी ताकि वे सुरक्षित और प्रभावी कोरोना वायरस टीके की डिलीवरी और खरीद कर सकें।

ADB के अध्यक्ष मात्सुगु असकवा के अनुसार, अब क्योंकि, विकासशील सदस्य देश टीकाकरण कार्यक्रमों की तैयारी शुरू कर रहे हैं, उन्हें वैक्सीन की खरीद के साथ-साथ उपयुक्त योजनाओं और टीकाकरण प्रक्रिया को समान रूप से, सुरक्षित रूप से और कुशलता से प्रबंधित करने संबंधी ज्ञान के लिए वित्तपोषण की आवश्यकता होती है।

APVAX विकासशील सदस्य देशों में टीकाकरण प्रक्रिया में कैसे मदद करेगा?

APVAX निम्नलिखित दो अवयवों/ तरीकों के उपयोग के साथ विकासशील एशिया की वैक्सीन तक पहुंच का समर्थन करने के लिए एक व्यापक ढांचा प्रदान करेगा:

रैपिड रिस्पांस अवयव: यह टीके की खरीद, महत्वपूर्ण वैक्सीन्स डायग्नोस्टिक्स और ADB के विकासशील सदस्य देशों को खरीदे गए स्थान से टीके के परिवहन के लिए समय पर सहायता प्रदान करेगा।

परियोजना निवेश अवयव: यह टीकों के प्रशासन और सफल वितरण के लिए प्रणालियों में निवेश का समर्थन करेगा। यह अवयव सामुदायिक आउटरीच, निर्माण क्षमता और निगरानी से जुड़े निवेशों का भी समर्थन करेगा। इसमें वितरण अवसंरचना, कोल्ड-चेन भंडारण और परिवहन, वाहन, और अन्य प्रत्यक्ष निवेश जैसे क्षेत्र शामिल हो सकते हैं।

सफल टीकाकरण कार्यक्रम क्यों महत्वपूर्ण हैं?

ये सफल टीकाकरण कार्यक्रम आसानी से वायरस संचरण की श्रृंखला को तोड़ सकते हैं, जीवन को बचा सकते हैं और लोगों को सुरक्षित रूप से यात्रा करने, काम करने और सामाजिक बनने की क्षमता में विश्वास बहाल करके अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस महामारी के नकारात्मक प्रभाव को कम कर सकते हैं।

ADB द्वारा टीकों का वित्तपोषण विश्व स्वास्थ्य संगठन, विश्व बैंक समूह, GAVI, COVID -19 वैक्सीन ग्लोबल एक्सेस फैसिलिटी - COVAX और द्विपक्षीय और बहुपक्षीय भागीदारों सहित अन्य विकास भागीदारों के साथ भी निकट समन्वय में होगा।

अपने विकासशील सदस्य देशों के लिए ADB का समर्थन

• ADB ने अप्रैल, 2020 में मौजूदा स्वास्थ्य संकट के प्रभावों को दूर करने के लिए अपने विकासशील सदस्य देशों का समर्थन करने के लिए 20 बिलियन डॉलर के पैकेज को मंजूरी दी थी। इसने त्वरित और अधिक लचीली सहायता देने के लिए कुछ प्रक्रियाओं को भी सुव्यवस्थित किया था। • बैंक ने अनुदान, ऋण, और तकनीकी सहायता में 14.9 बिलियन डॉलर का भुगतान भी किया है, जिसमें कोविड -19 महामारी प्रतिक्रिया विकल्प- CPRO के लिए बजट समर्थन में 9.9 बिलियन डॉलर और निजी क्षेत्र का समर्थन शामिल है। • नवंबर, 2020 में एशिया और प्रशांत क्षेत्र में टीकों के समान और कुशल वितरण को सक्षम करने के लिए प्रणालियों की स्थापना के लिए अतिरिक्त तकनीकी सहायता के तौर पर 20.3 मिलियन डॉलर की घोषणा की गई थी।

3. पीएम मोदी ने उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति मिर्जियोयेव के साथ वर्चुअल शिखर सम्मेलन में भाग लिया

11 दिसम्बर, 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शावकत मिर्ज़ियोएव के बीच एक वर्चुअल शिखर सम्मेलन आयोजित किया गया। इस शिखर सम्मेलन के दौरान दोनों नेताओं ने आतंकवाद की कड़ी निंदा की। इसके अलावा दोनों देशों के नेताओं ने COVID-19 काल के बाद भारत-उज्बेकिस्तान संबंधों को मज़बूत करने समेत कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की।

मुख्य बिंदु

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत में अधोसंरचना, आईटी, शिक्षा, स्वास्थ्य इत्यादि के क्षेत्र में अपार क्षमता है जो कि उज्बेकिस्तान के लिए बेहद उपयोगी साबित हो सकती है। प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि भारत उज्बेकिस्तान के साथ विकास के लिए भागीदारी को और आगे बढ़ाने का इच्छुक है। शावकत मिर्ज़ियोएव ने COVID-19 महामारी के दौरान भारत की सहायता के लिए भारत का आभार प्रकट किया।

2015 और 2016 में प्रधानमंत्री मोदी की उज्बेकिस्तान की यात्रा और 2018 और 2019 में राष्ट्रपति मिर्ज़ियोएव की भारत ने रणनीतिक साझेदारी को एक नया गतिशीलता प्रदान की है। पिछले कुछ समय में दोनों देशों के बीच कई उच्चस्तरीय वार्ताएं हुई हैं, जिसके परिणामस्वरूप दोनों देशों के सम्बन्ध प्रगाढ़ हुए हैं।

भारत-उज्बेकिस्तान व्यापार सम्बन्ध

भारत उज्बेकिस्तान को फार्मास्यूटिकल उत्पाद, मैकेनिकल उपकरण, वाहन, ऑप्टिकल उपकरण इत्यादि का निर्यात करता है।

भारत मध्य एशियाई देशों से फल व सब्जी उत्पाद, उर्वरक, लुब्रिकेंट्स इत्यादि का आयात करता है।

उज्बेकिस्तान के अंदिजन क्षेत्र में उज्बेक-भारत मुक्त फार्मास्यूटिकल जोन का निर्माण किया जा रहा है। यह किर्गिजस्तान के साथ लगता है। इसका उद्देश्य फार्मास्यूटिकल क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करना है।


4. कैबिनेट ने आत्‍मनिर्भर भारत रोजगार योजना को दी मंजूरी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कोविड महामारी रिकवरी फेज में औपचारिक क्षेत्र में रोजगार को बढ़ावा देने और नए रोजगार अवसरों को प्रोत्‍साहित करने के लिए आत्‍मनिर्भर भारत रोजगार योजना (ABRY) को अपनी मंजूरी दे दी है। साथ ही ABRY, आत्‍मनिर्भर भारत पैकेज 3.0 के तहत रोजगार के नए अवसरों के सृजन को प्रोत्साहित करेगा।

मंत्रिमंडल ने मौजूदा वित्तीय वर्ष के लिए 1,584 करोड़ रुपये की धनराशि और पूरी योजना अवधि 2020-2023 के लिए 22,810 करोड़ रुपये के व्‍यय को मंजूरी दी है।

यह योजना 1 अक्टूबर, 2020 और उसके बाद या 30 जून, 2021 तक लगे नए कर्मचारियों के संबंध में दो साल के लिए सब्सिडी प्रदान करेगी।

सरकार दो साल के लिए 1,000 कर्मचारियों को रोजगार देने वाले प्रतिष्ठानों में नए कर्मचारियों के संबंध में 12 प्रतिशत कर्मचारियों के योगदान और 12 प्रतिशत नियोक्ताओं के योगदान यानी ईपीएफ के लिए 24 प्रतिशत मजदूरी का भुगतान करेगी।

सरकार 1000 कर्मचारी वाले रोजगार प्रदाता संगठनों में दो वर्ष की अवधि के लिए 12 प्रतिशत कर्मचारी योगदान और 12 प्रतिशत नियोक्‍ता योगदान (दोनों) वेतन भत्तों का 24 प्रतिशत ईपीएफ में योगदान देगी।

यह ईपीएफ अंशदान के केवल कर्मचारियों के हिस्से का भुगतान करेगा यानी जिन रोजगार प्रदाता संगठनों में 1000 से अधिक कर्मचारी हैं वहां सरकार नए कर्मचारियों के संदर्भ में दो वर्ष की अवधि के लिए ईपीएफ में केवल 12 प्रतिशत कर्मचारी योगदान देगी।


5. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 4.525 बिलियन डॉलर की बढ़ोत्तरी के साथ 579.346 अरब डॉलर पर पहुंचा

4 दिसम्बर, 2020 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 4.525 बिलियन डॉलर कीबढ़ोत्तरी के साथ 579.346 अरब डॉलर तक पहुँच गया है, यह भारत के विदेशी मुद्रा भंडार का उच्चतम स्तर है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत 5वें स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है। पिछले कुछ समय से भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में काफी वृद्धि हुई है।

विदेशी मुद्रा भंडार

इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।


6. तेलंगाना में किया गया राष्ट्रीय दिव्यांग सशक्तीकरण केंद्र का उद्घाटन

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने तेलंगाना में हैदराबाद के हाकिमपेट स्थित CRPF ग्रुप सेंटर में राष्ट्रीय दिव्यांग सशक्तीकरण केंद्र (National Centre for Divyang Empowerment) का उद्घाटन किया है।

NCDE केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) के दिव्यांग योद्धाओं को फिर से कौशल और पुनर्वास के लिए अपनी तरह का पहला प्रतिष्ठान है, जिन्हें ड्यूटी के दौरान जीवन-भर विकलांग बना देने वाली चोट का सामना करना पड़ा।

कंप्यूटर कौशल और विभिन्न खेल कौशल जैसे कई बाजार संचालित विशेषज्ञता का दिव्यांग योद्धाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा ताकि उन्हें सशक्त बनाया जा सके और उन्हें बल और देश की सेवा करने में सक्षम बनाया जा सके।

दिव्यांग योद्धाओं के कल्याण के लिए हर संभव सहायता और सहयोग बढ़ाया जाएगा।


7. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव को संबोधित किया

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव को संबोधित किया। इस महोत्सव का आयोजन चेन्नई में किया गया, प्रधानमंत्री मोदी ने वर्चुअली इस सम्मेलन में हिस्सा लिया। इस सम्मेलन में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई. पलानिस्वामी ने भी भाग लिया।

मुख्य बिंदु

प्रधानमंत्री मोदी ने चेन्नई में वनविल कल्चर सेंटर द्वारा आयोजित अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव को वीडियो-कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संबोधित किया, इस दौरान उन्होंने कहा कि अब तक 15 करोड़ महिलाओं को MUDRA ऋण दिया गया है और वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हो गई हैं। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण महाकवि सुब्रमण्य भारती का एक महत्वपूर्ण दृष्टिकोण है, प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि महिलाएं अब सशस्त्र बलों में स्थायी कमीशन के अधिकारियों के रूप में शामिल हो रही हैं। इस समारोह में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रसिद्ध लेखक सीनी विश्वनाथन को इस वर्ष के भारती पुरस्कार से सम्मानित किया।

राष्ट्रीय कवि, महाकवि सुब्रमण्य भारती के सम्मान में अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है, इस वर्ष उनकी 138वीं जयंती आज मनाई जा रही है।

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना को 2015 में लांच किया गया था इसका उद्देश्य नॉन-कॉर्पोरेट, नॉन-फार्म सूक्ष्म/लघु उद्योगों को 10 लाख रुपये का ऋण प्रदान करना है। यह ऋण वाणिज्यिक बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, लघु वित्त बैंक, कोआपरेटिव बैंक, MFI तथा NBFC द्वारा प्रदान किया जाते हैं। इस योजना के तहत तीन प्रकार के ऋण प्रदान किये जाते हैं

  • शिशु : 50,000 रुपये तक

  • किशोर : 50,000 से 5 लाख रुपये के बीच

  • तरुण : 5 लाख से 10 लाख रुपये के बीच


8. रोमानिया के पीएम लुडोविक ओरबान ने अपने पद से दिया इस्तीफा

रोमानिया के प्रधान मंत्री लुडोविक ओरबान (Ludovic Orban) ने 2020 के संसदीय चुनाव में अपनी सत्तारूढ़ नेशनल लिबरल पार्टी (पीएनएल) की हार के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया हैं।

इसके बाद, रोमानिया के राष्ट्रपति क्लॉस इओहनीस ने रक्षा मंत्री निकोले-इयोनेल सिउका (Nicolae-Ionel Ciuca) को देश का अंतरिम प्रधानमंत्री नियुक्त किया।


9. देहरादून में शुरू हुआ सतत पर्वत विकास शिखर सम्मेलन का 9वां संस्करण

हाल ही में देहरादून में सस्टेनेबल माउंटेन डेवलपमेंट समिट (SMDS) का नौवां संस्करण शुरू हो गया है। इस वर्ष इस सम्मेलन की थीम “Emerging Pathways for Building a Resilient Post COVID-19 Mountain Economy, Adaptation, Innovation and Acceleration” है। इस सम्मेलन के अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस के साथ मनाया जा रहा है।

मुख्य बिंदु

इस शिखर सम्मेलन COVID-19 के बाद के परिदृश्य और जलवायु परिवर्तन के संदर्भ में एक लचीली और सतत पर्वत अर्थव्यवस्था पर फोकस किया जायेगा। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड के. संगमा समारोह में शामिल हुए। इस सम्मेलन में हिमालयी क्षेत्रों के विकास और समस्याओं पर मुख्य रूप से चर्चा की जाएगी।

अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस

प्रतिवर्ष 11 दिसम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिवस की स्थापना संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 2003 में प्रस्ताव पारित करके की थी। इसका उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को पर्वत के संरक्षण के लिए प्रेरित करना तथा पर्वतों के महत्व को रेखांकित करने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करना है। इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय पर्वत दिवस की थीम “Mountain biodiversity” है। इस दिवस के लिए संयुक्त राष्ट्र खाद्य व कृषि संगठन द्वारा समन्वय किया जाता है। इस दिवस पर पर्वतों के महत्व को दर्शाने के लिए विभिन्न किस्म के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं।


10. कैरोलिना अरुजो ने जीता वर्ष 2020 का रामानुजन प्राइज फॉर यंग मैथेमेटिशियन

वर्ष 2020 का युवा गणितज्ञ रामानुजन पुरस्कार (2020 Ramanujan Prize for Young Mathematicians) ब्राजील के रियो डी जनेरियोके इंस्टीट्यूट फॉर प्योर एंड एप्लाइड मैथमेटिक्स (IMPA) की मैथेमेटिशियन डॉ. कैरोलिना अरुजो (Carolina Araujo) को प्रदान किया गया है।

उनका कार्य क्षेत्र बीरेशनल ज्यामिति (birational geometry) पर केंद्रित है, जिसका उद्देश्य एलजेब्रा प्रकारों की संरचना को वर्गीकृत करना और उनका वर्णन करना है।

भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा वित्तपोषित यह पुरस्कार ICTP (International Centre for Theoretical Physics) और अंतर्राष्ट्रीय गणितीय संघ (International Mathematical Union) के सहयोग से विकासशील देशों में बीजीय ज्यामिति के क्षेत्र में काम करने वाले किसी एक शोधार्थी को दिया जाता है।


11. बजरंग पुनिया और एलावेनिल वलारिवन ने जीता स्पोर्ट्सपर्सन ऑफ द ईयर पुरस्कार

भारतीय एथलीटों, बजरंग पुनिया (फ्रीस्टाइल-कुश्ती) और एलावेनिल वलारिवन (निशानेबाजी) को वर्चुली आयोजित 10 वीं ग्लोबल स्पोर्ट्स समिट के दौरान फिक्की इंडिया स्पोर्ट्स अवार्ड्स 2020 के शीर्ष पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

वर्ष 2019-20 सीज़न में शानदार प्रदर्शन करने वाले दोनों एथलीटों ने अपनी-अपनी श्रेणियों में स्पोर्ट्सपर्सन ऑफ द ईयर का पुरस्कार जीता।


5 views0 comments

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved