Search

9th & 10th May | Current Affairs | MB Books


1. विजय दिवस (Victory Day) : 9 मई

दूसरे विश्व युद्ध में जर्मनों के आत्मसमर्पण को चिह्नित करने के लिए रूस में विजय दिवस मनाया जाता है।

मास्को विजय दिवस परेड (Moscow Victory Day Parade) : 9 मई, 2021 को, रूस ने द्वितीय विश्व युद्ध में जीत की 76वीं वर्षगांठ के रूप में चिह्नित किया। मॉस्को के रेड स्क्वायर पर एक सैन्य परेड आयोजित की गई थी। यह परेड 1995 से हर साल 9 मई को आयोजित की जाती है। इस परेड को “मॉस्को विक्ट्री डे परेड” कहा जाता है।

1991 में सोवियत संघ के पतन के बाद ही विजय दिवस परेड एक वार्षिक कार्यक्रम बन गया।

रेड स्क्वायर 1990 से यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है।

1945 में, सोवियत सशस्त्र बलों ने नाजी सेना को हराने के बाद रेड स्क्वायर में एक सैन्य परेड आयोजित की। यह रेड स्क्वायर में आयोजित सबसे लंबी और सबसे बड़ी सैन्य परेड थी। इस परेड में 40,000 से अधिक सैनिकों और 1,850 सैन्य वाहनों ने भाग लिया था।

यह परेड 24 जून, 1945 में आयोजित की गयी थी। जर्मन कमांडरों के आत्मसमर्पण के एक महीने बाद यह आयोजित की गयी थी। जर्मनों ने 9 मई, 1945 को आत्मसमर्पण किया था।

जर्मन आत्मसमर्पण दस्तावेज : जर्मन आत्मसमर्पण दस्तावेज (German Instrument of Surrender) पर 7 मई, 1945 को जर्मन के चीफ ऑफ स्टाफ अल्फ्रेड जोडी (Alfred Jodi) ने हस्ताक्षर किये थे। 9 मई, 1945 को बर्लिन के बाहरी इलाके में एक अन्य आत्मसमर्पण दस्तावेज पर हस्ताक्षर किये गये थे। आत्मसमर्पण के दोनों दस्तावेजों के अनुसार जर्मन सेना के सक्रिय संचालन पर रोक लगाई गयी थी।


2. हिमाचल प्रदेश ने शुरू किया हार्वेस्ट रेनवाटर के लिए 'फॉरेस्ट पॉन्ड्स' का निर्माण

हिमाचल प्रदेश सरकार ने पर्वत धारा योजना के तहत, 20 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ जल स्रोतों का कायाकल्प करने और वन विभाग के माध्यम से एक्वीफरों को रिचार्ज करने की पहल की शुरुआत की है। अभी बिलासपुर, हमीरपुर, जोगिंद्रनगर, नाचन, पार्वती, नूरपुर, राजगढ़, नालागढ़, ठियोग और डलहौजी में 10 वन प्रभागों में काम शुरू किया गया था।

योजना के तहत, मौजूदा तालाबों की सफाई और रखरखाव किया जाएगा। साथ ही, मिट्टी के कटाव को नियंत्रित करने के लिए नए तालाबों, समोच्च खाइयों, बांधों, चेकडैम और रिटेनिंग वॉल का निर्माण किया गया है।

योजना का उद्देश्य अधिकतम अवधि के लिए पानी को बरकरार रखते हुए जल स्तर को बढ़ाना है।

इसके आलावा फल देने वाले पौधों को लगाकर हरित आवरण में सुधार के प्रयास भी किए जा रहे हैं।


3. 9 मई: महाराणा प्रताप सिंह की जयंती

महाराणा प्रताप सिंह (Maharana Pratap Singh) मेवाड़ (वर्तमान राजस्थान) के 13वें राजा थे। वे भारत के सबसे यशस्वी राजाओं में से एक माने जाते हैं। उनका जन्म 9 मई, 1540 को हुआ था। आज उनकी जयंती मनाई जा रही है।

राणा और मुगल : अकबर मेवाड़ के माध्यम से गुजरात के लिए एक सुरक्षित मार्ग स्थापित करना चाहता था। इसलिए, उसने महाराणा प्रताप सिंह को अन्य राजपूतों की तरह एक जागीरदार बनाने के लिए कई दूत भेजे। राणा ने मना कर दिया। इसलिए हल्दीघाटी का युद्ध लड़ा गया।

हल्दीघाटी का युद्ध (Battle of Haldighati) : हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा को उनकी बहादुरी के लिए जाना जाता है। यह लड़ाई 18 जून, 1576 को महाराणा और अकबर की सेनाओं के बीच लड़ी गई थी। राणा ने मुगल सेना के 2 लाख सैनिकों के खिलाफ 22,000 सैनिकों के साथ लड़ाई लड़ी। मुगलों का नेतृत्व मान सिंह ने किया था। इस युद्ध में राणा की सेना परास्त हो गईं।

पुनर्विजय : उन्होंने 1582 में 6 साल बाद मुगलों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और जीत हासिल की। ​​मुगलों को भयानक हार का सामना करना पड़ा और इसके बाद अकबर ने मेवाड़ के खिलाफ अपने सैन्य अभियानों को रोक दिया।

इसके अलावा, जब अकबर उत्तर पश्चिमी मोर्चे पर ध्यान केंद्रित कर रहा था, तब राणा ने उदयपुर, गोगुन्दा और कुंभलगढ़ को अपने नियंत्रण में कर लिया।


4. RBI ने लक्ष्मी विलास बैंक को RBI अधिनियम की दूसरी अनुसूची से किया बाहर

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने पिछले साल DBS बैंक इंडिया लिमिटेड (DBIL) के साथ विलय के बाद आरबीआई अधिनियम की दूसरी अनुसूची से लक्ष्मी विलास बैंक (एलवीबी) को बाहर कर दिया था।

भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम की दूसरी अनुसूची में उल्लिखित बैंक को 'अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक (Scheduled Commercial Bank)' के रूप में जाना जाता है।

पिछले साल नवंबर में सरकार ने डीबीएस बैंक इंडिया के साथ संकटग्रस्त लक्ष्मी विलास बैंक के विलय को मंजूरी दी थी। RBI ने LVB के बोर्ड को भी रद्द कर दिया और 30 दिनों के लिए बैंक के प्रशासक के रूप में केनरा बैंक के पूर्व गैर-कार्यकारी अध्यक्ष टी एन मनोहरन को नियुक्त किया था।

LVB, यस बैंक के बाद दूसरा निजी क्षेत्र का बैंक है जो इस वर्ष के दौरान किसी न किसी संकट के कारण बाहर हो गया है।

मार्च में, वित्तीय संकट से झुझ रहे यस बैंक को मोरेटोरियम अवधि के तहत रखा गया था। सरकार ने यस बैंक को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से 7,250 करोड़ रुपये का निवेश करके बैंक में 45 प्रतिशत हिस्सेदारी लेने के लिए कहकर बचाया था।


5. दुनियाभर में Reliance Retail बनी दूसरी सबसे तेजी से बढ़ती कंपनी

अरबपति उद्योगपति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस रिटेल लिमिटेड को 2021 में दुनिया की दूसरी सबसे तेजी से बढ़ती खुदरा विक्रेता कंपनी का दर्जा प्राप्त हुआ है। दुनिया की खुदरा विक्रेता कंपनियों की डेलायट की रिपोर्ट में यह कहा गया है। इसके मुताबिक, रिलायंस रिटेल इस मामले में पिछले साल शीर्ष पर थी, लेकिन अब दूसरे नंबर पर आ गई है। डेलायट की रिपोर्ट के मुताबिक, ग्लोबल पावर्स ऑफ रिटेलिंग की सूची में उसका नंबर 53वां रहा है। इससे पहले कंपनी 56वें नंबर पर थी, इस प्रकार उसने इस सूची में भी अपनी स्थिति में सुधार किया है। खुदरा विक्रेताओं की इस सूची में अमेरिका की वॉलमार्ट इंक सबसे शीर्ष पर रही है। कंपनी ने दुनिया के शीर्ष खुदरा विक्रेता के तौर पर अपनी स्थिति को बरकरार रखा है। वहीं अमेजन डॉट काम इंक ने भी अपनी स्थिति में सुधार लाते हुए दूसरा स्थान हासिल किया है। अमेरिका का कोस्टको व्होलसेल कॉर्पोरेशन एक पायदान नीचे खिसककर तीसरे पर और उसके बाद जर्मनी की स्वार्ज ग्रुप का चौथा स्थान रहा है। खुदरा विक्रेता कंपनियों में शीर्ष 10 कंपनियों में स्थान पाने वालों में एक ब्रिटेन की और सात अमेरिका की कंपनियां शामिल हैं। शीर्ष 10 में स्थान पाने वालों में क्रोगर कंपनी (पांचवां स्थान) वालग्रींस बूट्स एलायंस इंक (छठा स्थान), सीवीएस हेल्थ कॉर्पोरेशन (नौवां स्थान), जर्मनी की अल्दी इंकॉफ जीएमबीएच एंड कंपनी ओएचीजी को आठवां स्थान मिला है। इसके बाद ब्रिटेन की टेस्को पीएलसी 10वें स्थान पर रही है। ताकतवर वैश्विक खुदरा विक्रेता कंपनियों की 250 कंपनियों की सूची में स्थान पाने वाली रिलायंस रिटेल एकमात्र भारतीय कंपनी है। ग्लोबल पावर्स ऑफ रिटेलिंग और वर्ल्डस् फास्टेस्ट रिटेलर्स में लगातार चौथी बार रिलायंस का नाम आया है। डेलायट की रिपोर्ट में कहा गया है, रिलायंस रिटेल, तेजी से बढ़ने वाली 50 कंपनियों में पिछले साल सबसे शीर्ष पर थी लेकिन इस साल यह दूसरे नंबर पर रही। कंपनी ने साल दर साल 41.8 प्रतिशत की वृद्धि हासिल की है। कंपनी ने 2019- 20 की समाप्ति पर उपभोक्ता इलेक्ट्रानिक्स, फैशन एवं जीवनशैली और किराना खुदरा श्रृंखला स्टोर में 13.1 प्रतिशत वृद्धि हासिल की। इसे मिलाकर भारत के 7000 से अधिक कस्बों और शहरों में उसके कुल मिलाकर 11,784 स्टोर हो गए। इसके अलावा कंपनी के लिए ई-वाणिज्य के तहत बिजनेस से ग्राहक (बी2सी) और बिजनेस से बिजनेस (बी2बी) में डिजिटल वाणिज्य के जरिए दूसरी बड़ी वृद्धि होगी। कंपनी व्हट्सएप के जरिए जियोमर्ट प्लेटफार्म पर डिजिटल वाणिज्य व्यवसाय को बढ़ाने के लिए व्हट्सएप के साथ भागीदारी कर रही है। कंपनी ने 2020 में फ्यूचर समूह के खुदरा, थोक और लॉजिस्टिक्स इकाइयों को भी 3.4 अरब डॉलर में अधिग्रहण करने की घोषणा की। इन्हें पूरी तरह से मंजूरी मिल जाने के बाद रिलायंस रिटेल के स्टोरों का दायरा करीब दुगुना हो जाएगा। रिलायंस रिटेल ने 2020 में दो ई-वाणिज्य अधिग्रहण भी किए। उसने विटालिक हेल्थ और उसके ऑनलाइन फार्मेसी प्लेटफार्म नेटमेड्स का अधिग्रहण किया। इसके अलावा घर की सजावट का काम करने वाली ऑनलाइन कंपनी अर्बनलेडर में नवंबर में 96 प्रतिशत हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया।


6. Co-WIN ने 4-अंकीय सुरक्षा कोड पेश किया

स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाल ही में घोषणा की कि Co-WIN सॉफ़्टवेयर में एक नई सुरक्षा सुविधा जोड़ी जा रही है। Co-WIN का अर्थ COVID-19 Vaccine Intelligence Network है।

नया सुरक्षा फीचर क्या है? :

  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाल ही में Co-WIN सॉफ्टवेयर में चार अंकों का सुरक्षा कोड जोड़ा है।

  • जब कोई व्यक्ति Co-WIN मंच पर टीकाकरण स्लॉट बुक करता है, तो उसे चार अंकों का सुरक्षा कोड मिलेगा।

  • उसके बाद, टीकाकरण केंद्र पर यह कोड पेश करना होगा।

  • डिजिटल सर्टिफिकेट पर भी इस कोड का उल्लेख होगा।

  • नई सुरक्षा सुविधा केवल उन लोगों के लिए है जिन्होंने टीकाकरण के लिए ऑनलाइन बुकिंग की है।

पृष्ठभूमि : स्वास्थ्य मंत्रालय ने हाल ही में सहमति व्यक्त की है कि टीकाकरण स्लॉट बुक करने वाले लोगों को “Vaccinated” के रूप में चिह्नित करने में डेटा प्रविष्टि त्रुटि हुई है। कई यूजर्स ने शिकायत की कि उन्हें Co-WIN में की गयी अपॉइंटमेंट चूकने पर भी उन्हें टीकाकरण की खुराक प्राप्त करने की सूचना मिली।

Co-WIN क्या है? :

  • Co-WIN मंच देश के COVID-19 टीकाकरण को संभालता है।इसमें लाभार्थियों का पंजीकरण करना, उन्हें टेक्स्ट मेसेज भेजना, टीकाकरण केंद्रों का आवंटन करना और कोल्ड स्टोरेज में शीशियों की लाइव निगरानी भी शामिल है।

  • इस मंच का उपयोग पहले पल्स पोलियो कार्यक्रम (Pulse Polio Programme) के संचालन के लिए किया गया था।

  • यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के स्वामित्व में है।इसके अलावा, यह राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (National Informatics Centre) द्वारा समर्थित है।

  • Co-WIN एप्लीकेशन टीकाकरण पहल की निगरानी और ट्रैकिंग में मदद करता है।

  • यह एप्प वास्तविक समय के आधार पर सूचीबद्ध लाभार्थियों को ट्रैक करने में भी मदद करता है।

7. प्रहलाद सिंह पटेल ने इटली में आयोजित G20 पर्यटन मंत्रियों की बैठक में लिया हिस्सा

केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), प्रहलाद सिंह पटेल ने 4 मई 2021 को इटली में आयोजित G20 पर्यटन मंत्रियों की बैठक में भाग लिया।

इस संवाद का उद्देश्य पर्यटन व्यवसाय, नौकरियों की रक्षा करने और नीतिगत दिशानिर्देशों को पूरा करने के लिए यात्रा और पर्यटन की स्थायी और लचीला रिकवरी का समर्थन करने के लिए पहल करना था।

उन्होंने पर्यटन में स्थिरता को अपनाने के लिए नीति क्षेत्र "हरित परिवर्तन" में एक और योगदान के रूप में UNWTO द्वारा प्रस्तुत हरी यात्रा और पर्यटन अर्थव्यवस्था में परिवर्तन के लिए सिद्धांतों के लिए भारत के प्रयासों से भी अवगत कराया।


8. भारत बना सबसे तेज़ी से 17 करोड़ लोगों को कोरोना का टीका लगाने वाला देश

भारत में अब तक 17 करोड़ से अधिक लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। गौरतलब है कि भारत ने मात्र 114 दिनों के भीतर 17 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर दिया है।

अमेरिका ने 115 दिनों में 17 करोड़ लोगों का टीकाकरण किया था, जबकि चीन ने 119 दिनों कि अवधि में 17 करोड़ लोगों का टीकाकरण किया था।

कोविड-19 टीकाकरण का पहला चरण : कोविड-19 टीकाकरण अभियान का पहला चरण 16 जनवरी, 2021 को शुरू किया गया था। यह अभियान पूरे देश में 3006 टीकाकरण केंद्रों पर शुरू किया गया था। पहले चरण में केवल स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन श्रमिकों का टीकाकरण शुरू किया गया था। चरण 1 के तहत, लगभग 1,26,71,163 लोगों को अब तक टीका की पहली खुराक दी गयी है। उनमें से, लगभग 14 लाख लोगों ने दूसरी खुराक भी प्राप्त की है। टीकाकरण अभियान में 50 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को भी शामिल किया गया है।

दूसरा चरण : कोविड-19 टीकाकरण के दूसरे चरण के तहत, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को टीका लगाया जा रहा है।

इसके अलावा, दिशानिर्देशों के अनुसार, 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और रोगों से पीड़ित लोगो का टीकाकरण भी किया जा रहा है। लाभार्थी देश भर में 10,000 सरकारी और लगभग 20,000 निजी टीकाकरण केंद्रों पर अपना टीकाकरण करवा सकते हैं।

COVAXIN : COVAXIN भारत बायोटेक द्वारा निर्मित एक सरकारी समर्थित टीका है। इसकी प्रभावकारिता दर 81% है। COVAXIN वैक्सीन के चरण तीन परीक्षणों में 27,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया है। COVAXIN दो खुराक में दिया जाता है। खुराक के बीच का समय अंतराल चार सप्ताह है। COVAXIN को मृत COVID-19 वायरस से तैयार किया गया था।

COVISHIELD : COVISHIELD वैक्सीन एस्ट्राज़ेनेका द्वारा निर्मित है। स्थानीय रूप से, COVISHIELD सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा निर्मित किया जा रहा है। यह चिम्पांजी के एडेनोवायरस नामक एक सामान्य कोल्ड वायरस के कमजोर संस्करण से तैयार किया गया था। COVID-19 वायरस की तरह दिखने के लिए वायरस को संशोधित किया गया है। यह दो खुराक में लगाया जाता है।


9. हिमंत बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) बने असम के 15वें मुख्यमंत्री

हिमंत बिस्वा सरमा ने 10 मई 2021 को असम के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले। उन्होंने सर्बानंद सोनोवाल (Sarbananda Sonowal) की जगह ली है।

राज्य के मुख्यमंत्री (Chief Minister of the State) : मुख्यमंत्री की नियुक्ति राज्यपाल द्वारा की जाती है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि केवल विधान सभा के सदस्य या संसद सदस्य ही लोगों द्वारा चुने जाते हैं । मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री क्रमशः राज्यपाल और राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किए जाते हैं।

चुनाव के बाद, सदन में बहुमत हासिल करने वाली पार्टी अपने नेता का चुनाव करती है। नेता का नाम तब राज्यपाल को सूचित किया जाता है। राज्यsपाल मुख्यमंत्री की नियुक्ति करता है और फिर मुख्यमंत्री को अपने मंत्रिपरिषद की नियुक्ति करने के लिए कहता है। राज्य में किसी भी दल को बहुमत नहीं मिलने पर राज्यपाल एकल सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए कह सकता है।

राज्य विधानसभा उसके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास करके उसे सत्ता से हटा सकती है। इसके अलावा, अगर राज्यपाल बहुमत समर्थन खोने पर उन्हें बर्खास्त कर सकता है।

जो व्यक्ति विधान सभा या विधान परिषद का सदस्य नहीं है, उसे भी मुख्यमंत्री के रूप में भी नियुक्त किया जा सकता है। हालाँकि, उसे अपने कार्यकाल के 6 महीने के भीतर चुनाव जीत कर सीट हासिल करनी होगी।


10. पद्मश्री से सम्मानित प्रसिद्ध संगीतकार वनराज भाटिया का निधन

भारत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत के सबसे प्रसिद्ध संगीतकार वनराज भाटिया का लंबी बीमारी के बाद निधन।

वे विज्ञापन फिल्मों, फीचर फिल्मों, मुख्यधारा की फिल्मों, टेलीविजन शो, डॉक्यूमेंट्री आदि के लिए संगीत तैयार करते थे।

भाटिया ने टेलीविजन फिल्म तमस (1988) के लिए सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, रचनात्मक और प्रायोगिक संगीत के लिए संगीत अकादमी पुरस्कार (1989) और भारत का चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान, पद्मश्री (2012) जीता था।


11. जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार शीश नारायण सिंह का COVID-19 के कारण निधन

जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार शीश नारायण सिंह का COVID-19 के इलाज के दौरान निधन। वह 70 वर्ष के थे।

एक स्तंभकार, राजनीतिक विश्लेषक और विदेश नीति के विशेषज्ञ थे, शीश नारायण सिंह का करियर दो दशकों से अधिक का था।


12. WHO ने चीनी वैक्सीन सिनोफार्म (Sinopharm) को मंज़ूरी दी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाल ही में सिनोफार्म वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दे दी। हाल ही में, WHO ने AstraZeneca, Pfizer, BioNTech, Johnson & Johnson द्वारा विकसित COVID-19 टीकों को मंजूरी दी। एक दूसरी चीनी वैक्सीन सिनोवैक (Sinovac) है।

सिनोफार्म वैक्सीन (Sinopharm Vaccine) : चीन द्वारा सिनोफार्मा टीका विकसित किया गया था। यह पहली बार है जब डब्ल्यूएचओ ने चीनी वैक्सीन को मंजूरी दी है। इससे यह भी संकेत मिलता है कि सिनोफार्मा वैक्सीन को COVAX कार्यक्रम में शामिल करने की अनुमति दी जा सकती है।

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, सिनोफार्म वैक्सीन की प्रभावकारिता 79% है।

सिनोफार्म काम कैसे करता है? : सिनोफार्म वैक्सीन COVAXIN की तरह ही एक निष्क्रिय टीका है। निष्क्रिय टीके गर्मी, विकिरण या रसायनों का उपयोग करके रोग पैदा करने वाले वायरस (COVID-19) को नष्ट करके बनाये जाते हैं। इन टीकों को बनाने में अधिक समय लगता है। साथ ही, उन्हें दो से तीन खुराक की आवश्यकता होती है।

अन्य टीके जो इस दृष्टिकोण का उपयोग करते हैं वे पोलियो वैक्सीन और फ्लू हैं।

दुनिया में कई टीकों में से केवल सिनोवैक, सिनोफार्म और कॉवैक्सिन निष्क्रिय वायरस का उपयोग करते हैं। अन्य टीके जैसे कि मॉडर्ना, एस्ट्राजेनेका (COVISHILED), स्पुतनिक, फाइजर, जॉनसन एंड जॉनसन एक वायरल वेक्टर का उपयोग करते हैं।

वर्तमान परिदृश्य : हालांकि चीनी वैक्सीन को अभी डब्ल्यूएचओ की स्वीकृति मिल रही है, लेकिन यह पहले से ही कई देशों में इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके अलावा, अन्य चीनी वैक्सीन जिसे सिनोवैक कहा जाता है, को डब्ल्यूएचओ की मंजूरी मिलनी बाकी है। पाकिस्तान और मिस्र जैसे देश सिनोवैक का इस्तेमाल करने की योजना बना रहे हैं। एक मिलियन सिनोवैक टीकों को हाल ही में पाकिस्तान पहुंचाया गया था। मिस्र ने जून 2021 में 60 मिलियन सिनोवैक खुराक का उत्पादन करने पर सहमति व्यक्त की है।

ब्राजील, बहरीन जैसे देशों ने चीनी टीकों की प्रभावकारिता पर चिंता जताई थी।


13. लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवार्ड्स, 2021 के विजेताओं की सूची

लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवार्ड्स, 2021 (Laureus World Sports Awards 2021) को सेविले (Seville) में आयोजित किया गया था। यह पुरस्कार उन व्यक्तियों और टीमों को सम्मानित करने के लिए प्रस्तुत किए जाते हैं जिन्होंने पूरे वर्ष खेल में उपलब्धियां हासिल की हैं। इसे 1999 में लॉरियस स्पोर्ट फॉर गुड फाउंडेशन द्वारा स्थापित किया गया था। यह मित्सुबिशी, मर्सिडीज बेंज द्वारा समर्थित है। पहला लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवार्ड वर्ष 2000 में प्रस्तुत किया गया था।

लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवार्ड्स (Laureus World Sports Awards) :

  • 2020 तक, यह पुरस्कार आठ श्रेणियों में दिया जाता है। स्विस टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर ने यह पुरस्कार सबसे ज्यादा बार जीता है। उन्होंने 6 “स्पोर्ट्समैन ऑफ द ईयर” का पुरस्कार जीता है।

  • विजेताओं को लॉरियस की प्रतिमा भेंट की जाती है। यह कार्टियर (Cartier) द्वारा बनाया गया है। कार्टियर फ्रांसीसी लक्जरी सामान निर्माता है। यह कंपनी घड़ियाँ, गहने बनाती है। इसकी स्थापना 1847 में हुई थी।

  • 2020 में, सचिन तेंदुलकर नेलॉरेस स्पोर्टिंग मोमेंट 2000-2020 के लिए लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवार्ड जीता था।

लॉरियस वर्ल्ड स्पोर्ट्स अवार्ड्स 2021 : 2021 में, निम्नलिखित लॉरियस विश्व खेल पुरस्कार प्रस्तुत किए गए

  • नाओमी ओसाका (टेनिस, जापान) ने स्पोर्ट्सवुमेन ऑफ द ईयर जीता

  • राफेल नडाल (टेनिस, स्पेन) ने स्पोर्ट्समैन ऑफ द ईयर जीता

  • बिली जीन किंग (टेनिस, यूएसए) ने लाइफटाइम अचीवमेंट जीता

  • एफसी बायर्न (फुटबॉल, जर्मनी) ने टीम ऑफ द ईयर का पुरस्कार जीता

  • पैट्रिक महोम्स (अमेरिकी फुटबॉल, अमेरिका) ने ब्रेकथ्रू ऑफ द ईयर का पुरस्कार जीता

  • मैक्स पैरट (स्नोबोर्डिंग, कनाडा) ने वर्ल्ड कमबैक ऑफ द ईयर का पुरस्कार जीता

  • किकफ़ेयर द्वारा किकफ़ॉयर (फुटबॉल, जर्मन) ने स्पोर्ट फॉर गुड के लिए पुरस्कार जीता

  • मो सालाह (फुटबॉल, लिवरपूल और मिस्र) ने स्पोर्टिंग इंस्पिरेशन अवार्ड जीता

  • लुईस हैमिल्टन (फॉर्मूला वन, मर्सिडीज और यूके) ने एथलीट एडवोकेट ऑफ द ईयर जीता







  • Source of Internet