Search

8th June | Current Affairs | MB Books


1. 8 जून: विश्व महासागर दिवस (World Ocean Day) 2021

विश्व 8 जून, 2021 को ‘The Ocean: Life and Livelihoods’ की थीम के तहत विश्व महासागर दिवस (World Ocean Day) मनाया जा रहा है।

विश्व महासागर दिवस (World Ocean Day) : यह दिन प्रतिवर्ष 8 जून को मनाया जाता है। यह दिन दुनिया भर की सरकारों को लोगों को आर्थिक गतिविधियों और समुद्र पर मानवीय कार्यों के प्रभाव के बारे में सूचित करने का अवसर प्रदान करता है।

महत्व : महासागर लोगों के दैनिक जीवन में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। यह जीवमंडल (biosphere) का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि यह हमें पानी प्रदान करता है जो हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग है। हालाँकि, महासागर वर्षों से मानव निर्मित विनाश का खामियाजा भुगत रहे हैं। समुद्र में औद्योगिक कचरा और अवांछित कचरा उसके प्राकृतिक संसाधनों से खराब और अस्थिर कर रहा है। इस प्रकार, महासागरों को बचाना महत्वपूर्ण हो जाता है और विश्व महासागर दिवस इसके लिए प्रतिबद्ध है।

पृष्ठभूमि : विश्व महासागर दिवस पहली बार 1992 में रियो डी जनेरियो में पृथ्वी शिखर सम्मेलन (Earth Summit) के दौरान सुझाया गया था। इसके बाद, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 5 दिसंबर, 2008 को इस दिन को नामित करने का प्रस्ताव पारित किया।

अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन : अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन का गठन 1973 में तेल द्वारा जहाजों से होने वाले प्रदूषण के मुद्दों को संबोधित करने के लिए किया गया था।


2. मालदीव के अब्दुल्ला शाहिद संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष चुने गए

हाल ही में मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद (Abdulla Shahid) को संयुक्त राष्ट्र महासभा (UN General Assembly) के 76वें सत्र का अध्यक्ष चुना गया।

मुख्य बिंदु : 193 सदस्यीय महासभा में कुल 191 वोट में से उन्हें 143 वोट मिले। अब वे संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र की अध्यक्षता करेंगे जो सितंबर में शुरू होगा। इसके लिए उनका मुकाबला अफगानिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री डॉ. ज़लमई रसूल से हुआ था। संयुक्त राष्ट्र महासभा का अध्यक्ष हर साल एक गुप्त मतदान द्वारा चुना जाता है और इसके लिए महासभा के साधारण बहुमत के वोट की आवश्यकता होती है। नियमों के अनुसार, महासभा के 76वें सत्र के अध्यक्ष को एशिया-प्रशांत राज्यों के समूह से चुना जाना था। अब्दुल्ला शाहिद तुर्की के वोल्कन बोज़किर (Volkan Bozkir) का स्थान लेंगे।

संयुक्त राष्ट्र महासभा (UN General Assembly – UNGA) : यह संयुक्त राष्ट्र के 6 अंगों में से एक है, यह नीति निर्माण सम्बंधित कार्य करती है। इसका गठन 1945 में हुआ था। वर्तमान में इसके 193 सदस्य हैं। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र महासभा ही संयुक्त राष्ट्र के बजट को मंज़ूरी देती है।


3. भारत को संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) के लिए चुना गया

हाल ही में भारत को संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (United Nations Economic and Social Council – ECOSOC) के लिए 2022-24 की अवधि के लिए चुना गया है। ECOSOC संयुक्त राष्ट्र विकास प्रणाली के केंद्र में है और एक स्थायी दुनिया के लिए सामूहिक कार्रवाई को बढ़ावा देने के लिए लोगों और मुद्दों को एक साथ लाता है।

मुख्य बिंदु : भारत में एशिया-प्रशन श्रेणी से अफ़ग़ानिस्तान, कजाख्स्तान और ओमान के साथ चुना गया। जबकि अफ्रीका से आइवरी कोस्ट, एस्वातिनी, मॉरिशस, ट्यूनीशिया और तंज़ानिया को चुना गया। जबकि पूर्वी यूरोप से क्रोएशिया और चेक गणराज्य को चुना गया। लैटिन अमेरिका और कैरिबियन से बेलीज़, चिली और पेरू को चुना गया।

संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद : संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (United Nations Economic and Social Council – ECOSOC) संयुक्त राष्ट्र की एक एजेंसी है, इसका गठन 26 जून, 1945 को हुआ था। इसका मुख्यालय अमेरिका के न्यूयॉर्क में स्थित है। इसके 54 सदस्य देश हैं, जिन्हें तीन वर्षों के लिए महासभा द्वारा चुना जाता है। यह आर्थिक और सामाजिक मुद्दों पर चर्चा के लिए एक प्रमुख फोरम है, इसके अलावा यह नीति निर्माण के लिए भी अपनी राय देता है।


4. रूस औपचारिक रूप से ओपन स्काईज संधि (Open Skies Treaty) से अलग हुआ

अमेरिका के 2020 में समझौते से हटने के बाद, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने हाल ही में ओपन स्काई संधि से रूस की वापसी को औपचारिक रूप देने वाले कानून पर हस्ताक्षर किए।

मुख्य बिंदु : ओपन स्काईज संधि एक अंतर्राष्ट्रीय संधि है जो राष्ट्रों को पारदर्शिता बढ़ाने के लिए एक दूसरे के सैन्य बलों के बारे में जानकारी एकत्र करने की अनुमति देती है। रूस पर उल्लंघन करने का आरोप लगाने के बाद नवंबर 2020 में अमेरिका इस संधि से हट गया।

ओपन स्काइज संधि (Open Skies Treaty) : सोवियत संघ के विघटन के बाद 1992 में ओपन स्काइज संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे। यह पहली बार 1955 में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ड्वाइट आइजनहावर द्वारा शीत युद्ध के तनाव को कम करने के लिए प्रस्तावित की गयी थी। नाटो के सदस्यों और पूर्व वारसा संधि देशों के बीच इस संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे। 2002 में, 35 से अधिक देशों ने इस संधि पर हस्ताक्षर किए थे। इसमें अमेरिका और रूस भी शामिल थे। भारत, ओपन स्काइज संधि का हस्ताक्षरकर्ता नहीं है।

प्रमुख विशेषताऐं : ओपन स्काईज संधि का लक्ष्य अपने हस्ताक्षरकर्ताओं के बीच विश्वास पैदा करना है। इस संधि के अनुसार, एक सदस्य देश सहमति प्राप्त करने के बाद ही मेजबान राष्ट्र के किसी भी हिस्से की जासूसी कर सकता है। साथ ही, कोई सदस्य राज्य 72 घंटे से पहले नोटिस देने के बाद मेजबान राज्य की हवाई तस्वीरें ले सकता है।

रूस और अमेरिका : अमेरिका ने आरोप लगाया है कि रूस ओपन स्काइज संधि के अनुरूप नहीं है। दूसरी ओर, रूस के अनुसार, इस संधि से अमेरिका की वापसी ने इसके कार्यान्वयन में असंतुलन पैदा कर दिया है। यही रूस के पीछे हटने का कारण है।

अन्य संधियाँ : अमेरिका और रूस ने 2019 में इंटरमीडिएट रेंज न्यूक्लियर फोर्स ट्रीटी (INF) को छोड़ दिया था। INF के अनुसार, दोनों देशों ने परमाणु हथियारों की दौड़ को कम करने के लिए घातक मिसाइल सिस्टम को नष्ट करने पर सहमति व्यक्त की।


5. क्रिसिल (CRISIL) ने भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) का अनुमान 11% से घटाकर 9.5% किया

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल (CRISIL) ने वित्त वर्ष 2021-2022 के लिए भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के विकास के अनुमान को 11% से घटाकर 9.5% कर दिया है।

मुख्य बिंदु : इससे स्पष्ट होता है कि दूसरी कोविड -19 लहर ने निजी खपत और निवेश को प्रभावित किया है। इसने स्वतंत्रता के बाद से भारतीय अर्थव्यवस्था को सबसे गंभीर संकुचन में डाल दिया है।

रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्ष :

  • क्रिसिल के अनुसार दूसरी कोविड -19 लहर ने राज्यों को लॉकडाउन करने के लिए मजबूर किया, जिससे 2021 में उपभोक्ता और व्यावसायिक विश्वास फिर से प्रभावित हुआ है।

  • इस रिपोर्ट में तीसरी लहर और टीकाकरण के बारे में बताया गया है और इस पर प्रकाश डाला गया है; राज्य पूरी तरह से अनलॉक करने से हिचकिचाएंगे।यह बदले में अर्थव्यवस्था को प्रभावित करता है।

  • इसके अनुसार, कोविड -19 प्रतिबंध जारी रहेगा और अगस्त 2021 तक किसी न किसी रूप में गतिशीलता प्रभावित होगी।

  • इस रिपोर्ट ने आर्थिक सुधार में टीकाकरण के महत्व पर प्रकाश डाला है।

  • विकास पर अन्य रिपोर्ट्स

चिकित्सा वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया; भारत तीसरी कोविड-19 लहर की चपेट में आ सकता है, जिसमें विकास के लिए महत्वपूर्ण नकारात्मक जोखिम है। इसने सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर लगभग 8% रहने का अनुमान लगाया है। इसी तरह, भारतीय रिजर्व बैंक ने 2021-22 में सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान को 10.5% से घटाकर 9.5% कर दिया है।


6. विश्व बैंक ने भारत के MSME सेक्टर की मदद के लिए 500 मिलियन डालर के कार्यक्रम को मंजूरी दी

हाल ही में विश्व बैंक ने भारत के MSME सेक्टर को बढ़ावा देने में मदद के लिए 500 मिलियन डालर के कार्यक्रम को मंजूरी दी है। इस कार्यक्रम का लक्ष्य 5,50,000 MSME के प्रदर्शन में सुधार का है।

मुख्य बिंदु : गौरतलब है कि भारत में लगभग 58 मिलियन MSMEs में से 40 प्रतिशत से अधिक के पास वित्त के औपचारिक स्रोतों तक पहुंच नहीं है।चूंकि सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योग देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है, जो भारत के सकल घरेलू उत्पाद में 30% और निर्यात में 40% का योगदान देता है।

इससे पहले विश्व बैंक ने जुलाई, 2020 सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम के लिए 750 मिलियन की सहायता प्रदान की थी।

विश्व बैंक : विश्व बैंक का मुख्यालय वाशिंगटन डी. सी. में है। इसकी स्थापना जुलाई 1945 को हुई थी। विश्व बैंक ऋण देने वाली एक ऐसी संस्था है जिसका उद्देश्य विभिन्न देशों की अर्थ व्यवस्थाओं को एक व्यापक विश्व अर्थव्यवस्था में शामिल करना और विकासशील देशों में ग़रीबी उन्मूलन के प्रयास करना है। इसके कुल 189 सदस्य देश हैं। इसका आदर्श वाक्य “निर्धनता मुक्त विश्व के लिए कार्य करना” है।


7. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) ने 7 करोड़ पंजीकृत यूजर्स का आंकड़ा पार किया

हाल ही में BSE ने 7 करोड़ पंजीकृत यूजर्स का आंकड़ा पार किया। गौरतलब है कि 6 करोड़ से 7 करोड़ यूजर्स तक पहुँचने में BSE को मात्र 139 दिन लगे। जबकि BSE को 5 करोड़ से 6 करोड़ यूजर्स तक पहुँचने में 241 दिन लगे थे। इन नए यूजर्स में से 82 लाख लोग 20 से 40 साल के थे।

मुख्य बिंदु : पिछले वर्ष लॉकडाउन की घोषणा के बाद शेयर मार्केट में भारी गिरावट आई थी। जिसके बाद काफी सारे नए लोगों ने शेयर मार्केट में निवेश शुरू किया। जिसके चलते BSE के यूजर्स में भारी वृद्धि हुई।

BSE के 7 करोड़ यूजर्स में से 38% लोग 30-40 आयु वर्ग के हैं, जबकि 24% लोग 20-30 आयु वर्ग के हैं।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) : बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है, इसकी स्थापना 1875 में की गयी थी। इसका कार्यालय मुंबई की दलाल स्ट्रीट में स्थित है। ब्रिटिश सरकार ने 1927 में BSE को अस्थायी स्वीकृति प्रदान की थी। भारत सरकार ने 31 अगस्त, 1957 को BSE को स्थायी स्वीकृति प्रदान की थी। वर्तमान में मार्केट कैपिटलाइजेशन के अनुसार BSE विश्व का 10वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है, इसका मार्केट कैपिटलाइजेशन 1.7 खरब डॉलर है। BSE में 5000 से अधिक कंपनियों लिस्टेड हैं।


8. भारतीय नौसेना ने तीन स्वदेशी ALH MK-III हेलीकॉप्टर शामिल किए

7 जून, 2021 को भारतीय नौसेना ने तीन स्वदेशी Advanced Light Helicopters ALH MK-III शामिल किए। इन हेलीकॉप्टरों का उपयोग समुद्री टोही और तटीय सुरक्षा के लिए किया जाएगा।

मुख्य बिंदु : यह हेलीकॉप्टर सरकारी कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) द्वारा बनाए गए हैं। इन तीन हेलीकॉप्टरों को विशाखापत्तनम में भारतीय नौसेना स्टेशन (INS) डेगा, पूर्वी नौसेना कमान में शामिल किया गया।

ALH MK-III : यह भारत का एक स्वदेशी हेलीकॉप्टर है, इसका निर्माण सरकारी कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) द्वारा किया गया है। इस हेलीकॉप्टर में अत्याधुनिक सर्विलांस राडार और इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल उकरण लगे हुए हैं, जिससे यह दिन-रात लम्बी दूरी तक खोज व बचाव कार्य करने में सक्षम है। इसके अलावा इसमें एक भारी मशीन गन भी लगी हुई है।

हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) : HAL का मुख्यालय बैंगलोर में है, यह सरकारी स्वामित्व वाली एयरोस्पेस और रक्षा कंपनी है। इसकी स्थापना 23 दिसंबर, 1940 को हुई थी। यह दुनिया भर में सबसे पुराना और सबसे बड़ा एयरोस्पेस व रक्षा निर्माता है। इसने 1942 में रॉयल इंडियन एयर फ़ोर्स के लिए हार्लो PC-5, कर्टिस P-36 हॉक आदि के लाइसेंस प्राप्त उत्पादन के साथ विमान निर्माण शुरू किया था। भारत में HAL के 11 समर्पित अनुसंधान और विकास (आर एंड डी) केंद्र और 4 उत्पादन इकाइयों के तहत काम करने वाले 21 विनिर्माण विभाग हैं। इस कंपनी का प्रबंधन रक्षा मंत्रालय सरकार की सिफारिश पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त निदेशक मंडल द्वारा किया जाता है।


9. वेयान (Weyan) बना 100% वयस्क आबादी का टीकाकरण करने वाला भारत का पहला गांव

जम्मू और कश्मीर के बांदीपोरा जिले का एक सुदूर गाँव वेयान (Weyan), COVID-19 के खिलाफ अपनी सभी वयस्क आबादी का टीकाकरण करने वाला भारत का पहला गाँव बन गया है।

मुख्य बिंदु :

  • गांव में यह सफल टीकाकरण अभियान स्वास्थ्य कर्मियों का परिणाम था। बांदीपोरा जिले से 28 किलोमीटर दूर स्थित इस गांव की वयस्क आबादी 362 है। गांव में पैदल चलने के लिए 18 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है क्योंकि कोई मोटर योग्य सड़क नहीं है।

  • इस गांव को ‘जम्मू और कश्मीर मॉडल’ के तहत कवर किया गया था, जो पूरी आबादी का टीकाकरण करने के लिए 10 सूत्री रणनीति है।

  • इस मॉडल के तहत, पहली रणनीति बूथ-स्तरीय प्रबंधन है जिसमें पात्र जनसंख्या सूची तैयार करना शामिल है। इसके बाद “वैक्सीन ऑन व्हील्स” है जिसके तहत स्वास्थ्य अधिकारी दूर-दराज के क्षेत्रों में लोगों को टीकाकरण के लिए पहुंचते हैं।

चुनौतियां : सुदूर गाँव में टीकाकरण कठिन और चुनौतीपूर्ण था क्योंकि गाँव में खानाबदोश परिवार शामिल हैं जो अपने पशुओं को चराने के लिए ऊंचे स्थानों पर जाते हैं। गांव में इंटरनेट नहीं है। इस प्रकार, उनके लिए टीकाकरण प्राप्त करने के लिए Co-Win पोर्टल पर अप्वाइंटमेंट प्राप्त करना संभव नहीं था।

प्रारंभ में, वैक्सीन हिचकिचाहट थी। इसके बावजूद, जम्मू-कश्मीर ने 45+ आयु वर्ग में 70 प्रतिशत टीकाकरण हासिल किया है जो देश के औसत से लगभग दोगुना है।









  • Source of Internet

8 views0 comments