Search

8 June 2020 Hindi Current Affairs


8 जून: विश्व महासागर दिवस

8 जून, 2009 से  प्रत्येक वर्ष विश्व महासागर दिवस मनाया जा रहा है, जिसका उदेश्य महासागरों के महत्त्व और इनकी वजह से आने वाली चुनौतियों के बारे में लोगों के बीच जागरूकता पैदा करना है और साथ ही महासागरों से जुड़े विशेष पहलुओं जेसे जैव-विविधता, खाद्य सुरक्षा, पारिस्थितिक संतुलन, जल संसाधनों का बेहिसाब उपयोग आदि को भी जन समुदायों के बीच उजागर करना है.

मुख्य बिन्दु

वर्ष 1992 में रियो डी जनेरियो में हुए ‘पृथ्वी ग्रह’ नामक सम्मेलन में इस दिवस को मनाने का प्रस्ताव रखा गया था और दिसंबर, 2008 में संयुक्त राष्ट्र संघ महासभा द्वारा इस दिवस को मनाये जाने की आधिकारिक घोषणा के बाद भारत में 8 जून 2009 से यह दिवस प्रत्येक वर्ष मनाया जाने लगा. ‘विश्व महासागर दिवस’ पर हर साल वैश्विक स्तर पर कई कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते है, जिनसें महासागरों के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी मिलती है. भोजन के लिए कच्ची सामग्रियों और दवाओं के निर्माण में समुद्रों की विशेष भूमिका है. महासागरों में आने वाले अपशिष्ट पदार्थों जैसे मुख्य रूप से प्लास्टिक प्रदूषण के कारण महासागर धीरे-धीरे गंदे होते जा रहे हैं. जिस कारण समुद्र में रहने वाले जीवों के स्वास्थ्य पर भी गलत असर पड़ता है, समुद्री जीव  अपशिष्ट पदार्थों को गलती से अपना भोजन समझकर उनका भक्षण कर लेते है, और इसके परिणाम स्वरूप उन्हें इससे होने वाली भयानक बीमारियों का सामना करना पड़ जाता है.


छत्तीसगढ़ का स्पंदन अभियान

छत्तीसगढ़ सरकार ने हाल ही में पुलिस कर्मियों से सम्बंधित आत्महत्या और भ्रातृघात की घटनाओं को कम करने के लिए ‘स्पंदन’ अभियान शुरू किया है। जिला मुख्यालय में मनोचिकित्सकों या मनोवैज्ञानिकों द्वारा अवसादग्रस्त अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए परामर्श और चिकित्सा उपचार के बारे में दिशानिर्देशों का सख्ती से पालन करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए थे। योग कक्षाओं की भी व्यवस्था की जाएगी। पिछले दो वर्षों में छत्तीसगढ़ में 50 से अधिक पुलिस कर्मियों ने आत्महत्या की है।


पर्यावरण प्रदर्शन सूचकांक : भारत को 168वां रैंक प्राप्त हुआ

येल विश्वविद्यालय ने हाल ही में द्विवार्षिक पर्यावरण प्रदर्शन सूचकांक जारी किया। भारत ने 180 देशों में से 168वीं रैंक हासिल की । 2018 में, भारत ने 100 में से 27.6 स्कोर किया और 177 वीं रैंक हासिल की थी।

मुख्य बिंदु

रैंकिंग बनाने के लिए लगभग 32 संकेतकों पर विचार किया गया है। साथ ही, सूचकांक ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पर्यावरणीय प्रदर्शन पर 10 साल का अवलोकन दिया है।

रिपोर्ट की मुख्य बातें

इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत को अपने स्थिरता प्रयासों को दोगुना करने की आवश्यकता है। साथ ही, भारत को वायु और जल की गुणवत्ता, जलवायु परिवर्तन और जैव विविधता के लिए अत्यंत प्राथमिकता के साथ स्थिरता के मुद्दों पर व्यापक रूप से ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है।  अफगानिस्तान को छोड़कर सभी दक्षिण एशियाई देश भारत से आगे है।  साथ ही, सतत विकास लक्ष्यों के मामले में भारत की रैंक भी कम है।

जलवायु परिवर्तन

भारत जलवायु परिवर्तन के मामले में 106वें स्थान पर और दक्षिण एशियाई क्षेत्र में दूसरे स्थान पर है। जलवायु परिवर्तन में एक देश के प्रदर्शन का मूल्यांकन प्रति व्यक्ति ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन, ग्रीन हाउस गैस तीव्रता विकास दर, कार्बन डाइऑक्साइड में वृद्धि दर, उत्सर्जन वृद्धि दर, 4 ग्रीनहाउस गैसों की वृद्धि दर पर मूल्यांकन किया गया है।


भारत सरकार ने जया जेटली टास्क फ़ोर्स का गठन किया

केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्रालय की नवीनतम अधिसूचना के अनुसार, महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य और पोषण से संबंधित मामलों की जांच के लिए दस सदस्यीय टास्क फोर्स का गठन किया गया है। जया जेटली को टास्क फोर्स का अध्यक्ष नामित किया गया है, जिसमें विभिन्न संबंधित विभागों के सचिवों को पदेन सदस्य के रूप में शामिल किया गया है।

मुख्य बिंदु

यह टास्क फ़ोर्स शिशु मृत्यु दर, कुल प्रजनन दर, मातृ मृत्यु दर, बाल लिंग अनुपात दर, जन्म के समय लिंग अनुपात और स्वास्थ्य और पोषण से संबंधित अन्य मुद्दों पर भी काम करेगा। यह टीम महिलाओं की उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के उपायों का भी सुझाव देगी।

टास्क फोर्स मौजूदा कानूनों में उपयुक्त संशोधन का सुझाव भी देगी और अपनी सिफारिशों के लिए नए कानून भी सुझाएगा।

केंद्रीय बजट

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वर्ष 2020-21 की अपनी बजट प्रस्तुति के दौरान टास्क फोर्स के गठन की घोषणा की थी।


इसरो ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने हाल ही में नैनीताल के आर्यभट्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ ऑब्जर्वेशन साइंस (ARIES) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

मुख्य बिंदु

इसरो और ARIES ने अंतरिक्ष स्थिति जागरूकता और खगोल भौतिकी के क्षेत्र में सहयोग पर समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। अंतरिक्ष स्थिति जागरूकता में अंतरिक्ष पिंड ट्रैकिंग, अंतरिक्ष कक्षा विश्लेषण और अंतरिक्ष मौसम अध्ययन शामिल हैं। इस समझौते का मुख्य उद्देश्य भारतीय अंतरिक्ष परिसंपत्तियों को अंतरिक्ष मलबे के खतरों से बचाना है।

इसरो ने टेक्सास और ऑस्टिन विश्वविद्यालय के साथ पहले भी इसी तरह के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।


भारत का पहला ऑनलाइन अपशिष्ट एक्सचेंज लॉन्च किया गया

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने पहला ऑनलाइन कचरा विनिमय कार्यक्रम शुरू किया। यह कार्यक्रम जहरीले कचरे के सुरक्षित निपटान और जहरीले कचरे के पुनर्चक्रण और पुन: उपयोग को बढ़ावा देने के लिए शुरू किया गया है।

मुख्य बिंदु

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर ऑनलाइन कचरा विनिमय कार्यक्रम शुरू किया गया। यह प्लेटफॉर्म ट्रैकिंग, ऑडिट, कचरे की जांच करना और कचरे के उचित उपयोग को प्रोत्साहित करेगा। यह प्लेटफॉर्म 6R के सिद्धांतों जैसे कि री-यूज़, रीसायकल, रिड्यूस, रिडिजाइन, रीफर्बिश और रीमेनूफेक्चर का पालन करेगा।

इस कार्यक्रम के शुभारंभ के दौरान, यह घोषणा की गई कि आंध्र प्रदेश पर्यावरण सुधार अधिनियम, 2020 जल्द ही अधिनियमित किया जाएगा।


गैरसैण को उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया गया

8 जून, 2020 को उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने गैरसैण को नई ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित करने के लिए मंज़ूरी दी। गैरसैण को भरारीसैण भी कहा जाता है।

मुख्य बिंदु

गैरसैण में एक ई-विधान सभा होगी। विश्व पर्यावरण दिवस पर यह घोषणा की गई थी। राज्य की विधान सभा शीतकालीन राजधानी देहरादून में स्थित है। उत्तराखंड के कार्यकर्ता चाहते थे कि गैरसैण उत्तराखंड राज्य की राजधानी बनें।  कार्यकर्त्ताओं ने गैरसैण को राजधानी बनाने का सुझाव दिया क्योंकि यह कुमाऊँ और गढ़वाल क्षेत्रों की सीमा पर पड़ रहा था। यह शहर चमोली जिले में स्थित है और देहरादून से 250 किमी दूर है। यह गढ़वाल मंडल की प्रशासनिक सीमा के अंतर्गत आता है। कुमाऊं की सीमा गैरसैण से 15 किमी की दूरी पर शुरू होती है।



1 view0 comments