Search

7th May | Current Affairs | MB Books


1. डेनमार्क ने विदेशी निवेश की छंटनी के लिए कानून बनाया

डेनमार्क ने विदेशी निवेश की स्क्रीनिंग की अनुमति देने के लिए एक कानून पारित किया है ताकि वे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए कोई खतरा पैदा न करें।

नया कानून क्यों? : नया कानून चीन की हुआवे (Huawei) और देश में 5G नेटवर्क के निर्माण के इसके उद्देश्यों के खिलाफ देश की रक्षा के लिए बनाया गया है। हालांकि, इस कानून में चीन का जिक्र नहीं है।

कानून के बारे में : इस कानून के तहत, विदेशी निवेशकों का आकलन विदेशी सरकारों और सशस्त्र बलों से उनके संभावित लिंक पर किया जाएगा। आपराधिक गतिविधियों के संबंध के लिए भी उनका मूल्यांकन किया जाएगा।

यह कानून ग्रीनलैंड (Greenland) और फरो आइलैंड्स (Faroe Islands) पर लागू नहीं है। वे डेनमार्क के राज्य के अधीन संप्रभु क्षेत्र हैं।

हुआवे राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा क्यों है? : दुनिया के कई देश हुआवे (Huawei) के खिलाफ अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा के लिए नए कानून और अन्य महत्वपूर्ण उपाय कर रहे हैं। इसमें अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश भी शामिल हैं। यूके ने 2027 तक यूके से हुआवे की तकनीक को हटाने का आदेश दिया है। भारत और जर्मनी ने भी हुआवे के खिलाफ चिंता जताई है।

हुवेई गेटवे, नेटवर्क स्विच और ब्रिज जैसे किट बनाती है। वे कोर इंफ्रास्ट्रक्चर डिवाइस हैं जो इंटरनेट को ट्रेस करने वाली हर चीज को छूते हैं। वे प्रणाली के समुचित कार्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसका मतलब है कि सरकारों को अपने डेटा की सुरक्षा में अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए।

हुआवे की स्थापना 1987 में रेन झेंगफेई (Ren Zhengfei) ने चीन में की थी। वह पीपल्स लिबरेशन आर्मी (People’s Liberation Army) में पूर्व इंजीनियर थे। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party of China) और सेना के साथ भी उनके मजबूत संबंध हैं। इसे सुरक्षा चिंता का मुख्य कारण माना जा रहा है। देशों को डर है कि चीनी सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लगाने के लिए हुआवे का इस्तेमाल कर सकती है।


2. भारत, यूके ने द्विपक्षीय व्यापार साझेदारी के लिए 10 साल के रोडमैप का अनावरण किया

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी (Shri Narendra Modi) और उनके ब्रिटिश समकक्ष बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) ने एक वर्चुअल शिखर सम्मलेन का आयोजन किया।

शिखर सम्मलेन के दौरान, दोनों नेताओं ने एक व्यापक रणनीतिक साझेदारी के लिए भारत-यूके द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के लिए एक महत्वाकांक्षी 10-वर्षीय रोड मैप का अनावरण किया। यूके के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने £ 1 बिलियन के नए भारत-यूके व्यापार निवेश की घोषणा की।

ये समझौते प्रवासन और गतिशीलता, डिजिटल और प्रौद्योगिकी, दूरसंचार, ऊर्जा और दवाओं, आतंकवाद विरोधी क्षेत्रों में थे, इसके अलावा नवीकरण और शक्ति पर एक नई साझेदारी के माध्यम से जलवायु परिवर्तन से निपटने में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए सहमत हुए।

उन्होंने एन्हांस्ड ट्रेड पार्टनरशिप भी लॉन्च की, जिसमें एक व्यापक मुक्त व्यापार समझौते (FTA) के लिए बातचीत शामिल थी, जिसमें शुरुआती लाभ देने के लिए एक अंतरिम व्यापार समझौते पर विचार किया गया था।

दोनों देशों ने 2030 तक द्विपक्षीय व्यापार को दोगुना करने का एक महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है।


3. Border Roads Organisation (BRO) ने 7 मई को स्थापना दिवस मनाया

सीमा सड़क संगठन (BRO) का गठन 7 मई 1960 को किया गया था, जिसका उद्देश्य भारत की सीमाओं को सुरक्षित करना और भारत के उत्तर और उत्तर पूर्वी राज्यों के दूरदराज के क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे का विकास करना है।

BRO (Border Roads Organisation) :

• यह रक्षा मंत्रालय के तहत एक प्रमुख सड़क निर्माण एजेंसी है। • इसकी प्राथमिक भूमिका भारत के सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़क संपर्क प्रदान करना है। यह भारत के समग्र सामरिक और रणनीतिक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए सीमाओं के साथ-साथ बुनियादी ढांचे का निर्माण भी करता है। • सड़क निर्माण के अलावा यह मुख्य रूप से भारतीय सेना की सामरिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उत्तरी और पश्चिमी सीमाओं के साथ रखरखाव कार्यों को भी अंजाम देता है। यह 53,000 किलोमीटर से अधिक सड़कों के लिए जिम्मेदार है। • इसके काम में फॉर्मेशन कटिंग, सरफेसिंग, पुल का निर्माण और रिसर्फेसिंग शामिल हैं। • यह अफगानिस्तान, भूटान, म्यांमार, श्रीलंका और नेपाल जैसे मित्र देशों में सड़क निर्माण करके पड़ोसी क्षेत्रों में भारत के रणनीतिक उद्देश्यों में योगदान देता है। • आपदा प्रबंधन: इसने 2004 में तमिलनाडु में सुनामी, 2005 में कश्मीर भूकंप, 2010 में लद्दाख में बाढ़ आदि के बाद पुनर्निर्माण कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।


4. ओडिशा ने गोपबंधु सम्बदिका स्वास्थ्य बीमा योजना की घोषणा की

ओडिशा सरकार ने पत्रकारों के लिए गोपबंधु सम्बदिका स्वास्थ्य बीमा योजना (Gopabandhu Sambadika Swasthya Bima Yojana) की घोषणा की है। ओडिशा ने पत्रकारों को सीमावर्ती कोविड योद्धा घोषित किया है। ​यह राज्य के 6500 से अधिक पत्रकारों को बेनेट करेगा।

गोपबंधु सम्बदिका स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत, प्रत्येक पत्रकार को 2 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा कवर प्रदान किया जाएगा। योजना के तहत, ड्यूटी करते समय COVID -19 से मरने वाले पत्रकारों के परिवारों को 15 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।


5. पुर्तगाल में खुला दुनिया का सबसे लंबा पैदल यात्री पुल

यूनेस्को की ओरोका वर्ल्ड जियोपार्क की एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, दुनिया का सबसे लंबा पैदल यात्री सस्पेंशन ब्रिज "अरोका (Arouca)" पुर्तगाल में खोला गया था।

अरोका ब्रिज अपने स्पैन में आधा किलोमीटर (लगभग 1,700-फुट) की पैदल दूरी पर है, जिसके साथ केबल से निलंबित एक मेटल वॉकवे भी है। लगभग 175 मीटर (574 फीट) नीचे, एक झरने से पाइवा नदी (Paiva River) बहती है।

पुल वी-आकार के कंक्रीट टावरों के बीच फंसे स्टील केबल्स पर लटका हुआ है और पाइवा नदी के किनारों को जोड़ता है। रिकॉर्ड तोड़ने वाले इस पुल को बनाने में कई साल लगे और इसे पुर्तगाली स्टूडियो इटकॉन्स ने डिजाइन किया था। इसका निर्माण कॉन्डरिल द्वारा किया गया था और इसकी लागत लगभग 2.8 मिलियन डॉलर (2.3 मिलियन यूरो) थी।


6. S&P ने FY22 के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि का अनुमान 9.8% तक संशोधित किया

अमेरिका बेस्ड रेटिंग एजेंसी S&P ने हाल ही में 2021-22 के लिए भारत की विकास दर का अनुमान 9.8% तक घटा दिया है। मार्च 2021 में, इस एजेंसी ने भारत के लिए 11% जीडीपी वृद्धि का अनुमान लगाया था। इस एजेंसी के अनुसार, दूसरी लहर रिकवरी को पटरी से उतार सकती है।

हाल ही में आरबीआई द्वारा आर्थिक सुधार की दिशा में कदम उठाए :

  • आरबीआई ने बैंकों को 4% की रेपो दर पर 50,000 करोड़ रुपये उधार लेने की स्वतंत्रता प्रदान की है। इन ऋणों को COVID ऋण के रूप में वर्गीकृत किया जाना है। इन ऋणों का क्रेडिट जोखिम बैंकों द्वारा वहन किया जायेगा।

  • स्मॉल फाइनेंस बैंकों को रेपो रेट पर 10,000 करोड़ रुपये उधार लेने का विकल्प दिया गया है। यह मुख्य रूप से अनौपचारिक क्षेत्र की मदद करने के लिए किया गया है जिसमें दैनिक वेतन मजदूर और विक्रेता शामिल होते हैं।

  • आरबीआई ने छोटे व्यवसायों और स्वरोजगार वाले व्यक्तियों की मदद के लिए रिज़ॉल्यूशन फ्रेमवर्क (Resolution Framework 2.0) पेश किया है। इस ढांचे के तहत, जो लोग पहले पुनर्गठन (restructuring) का लाभ नहीं उठा पाए, वे अब पात्र हैं।

  • हाल ही में, G-SAP 1.0 के दूसरे दौर की घोषणा की गई है।

दूसरी लहर के प्रभाव : देश का मध्यम वर्ग पहले से ही लॉक-डाउन के कारण नौकरी जाने और वेतन कटौती से प्रभावित था। दूसरी लहर इन नुकसानों को और गहरा कर सकती है।

प्रमुख शहरों में रेस्तरां और आतिथ्य व्यवसाय बुरी तरह प्रभावित हुआ है। यात्रा और पर्यटन भारत में सबसे बड़े रोज़गार देने वाले उद्योग हैं। देश की जीडीपी में इनका योगदान 9% है। रिकवरी चरण के दौरान दूसरी लहर के कारण लॉकडाउन प्रतिबंध और यात्रा प्रतिबंध दिवालियापन को और बढ़ा सकते हैं।


7. RBI ने हेल्थकेयर के लिए 50,000 करोड़ रुपये की टर्म लिक्विडिटी सुविधा की घोषणा की

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने उपचार के लिए धन की आवश्यकता वाले रोगियों के अलावा, वैक्सीन निर्माताओं, चिकित्सा उपकरण आपूर्तिकर्ताओं, अस्पतालों और संबंधित क्षेत्रों जैसी संस्थाओं को 50,000 करोड़ रुपये का ऋण देने के लिए कोविड -19 हेल्थकेयर पैकेज की घोषणा की है।

भारत में कोविड -19 की दूसरी लहर के कारण आर्थिक तनाव के बीच आपातकालीन स्वास्थ्य सुरक्षा तक पहुंच के लिए 50,000 करोड़ रुपये की नई ऑन-टैप विशेष तरलता सुविधा बैंकों को रेपो दर पर उपलब्ध कराई जाएगी।

बैंक इस सुविधा के तहत 31 मार्च, 2022 तक ऋण दे सकते हैं। यह कोविड ऋण 3 वर्ष तक के कार्यकाल के लिए प्रदान किया जाएगा और पुनर्भुगतान या परिपक्वता तक प्राथमिकता क्षेत्र के ऋण के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।


8. SpaceX ने अपने स्टारशिप रॉकेट को सफलतापूर्वक लैंड कराया

एलोन मस्क (Elon Musk) के स्पेसएक्स (SpaceX) ने हाल ही में SN15 लॉन्च किया। इससे पहले रॉकेट लॉन्च करने के लिए किए गए शुरुआती प्रयास मध्य हवा में विस्फोटों में समाप्त हो गए थे।

स्पेसएक्स रॉकेट में विस्फोट क्यों हो रहे हैं? : पिछले दिनों स्पेसएक्स रॉकेट विस्फोटों की कई स्थितियां सामने आई हैं। यह मुख्य रूप से स्पेसएक्स द्वारा उपयोग किए जाने वाले मीथेन-आधारित प्रणोदक के कारण है।

स्टारशिप रॉकेट्स के पहले दो प्रोटोटाइप जो दिसंबर, 2020 और फरवरी, 2021 में लॉन्च किए गए थे, सही तरीके से लैंड करने में विफल रहे और उनमे विस्फोट हो गया।

स्पेसएक्स का SN8 रॉकेट जो दिसंबर, 2020 में लॉन्च किया गया था, इंजन रॉकेट को धीमा करने में विफल रहा। SN9 जो फरवरी 2021 में लांच किया गया था, अपने कोण और गति को सही करने में विफल रहा और लैंडिंग पर उसमे विस्फोट हो गया।

नवीनतम परीक्षण : नवीनतम परीक्षण जिसने SN15 को लॉन्च किया, उसने पहले की सभी बाधाओं को पार कर लिया। यह SN श्रृंखला में स्पेसएक्स की पहली परीक्षण उड़ान है जिसमे विस्फोट नहीं हुआ। SN श्रृंखला के पिछले प्रोटोटाइप ने कई उद्देश्यों को प्राप्त किया। हालांकि, लैंडिंग के बाद वे सभी फट गए।

SN 15 ने दस किलोमीटर तक उड़ान भरी और फिर नीचे उतरा।

स्पेसएक्स स्टारशिप सिस्टम : यह पूरी तरह से रीयूज़ेबल, दो-चरण का हैवी -लिफ्ट लांच व्हीकल है। यह SpaceX द्वारा विकसित किया गया है। इससिस्टम में सुपर हैवी नामक एक बूस्टर चरण शामिल है। इस व्हीकल के दूसरे चरण को स्टारशिप कहा जाता है। इस व्हीकल के दूसरे चरण को लंबी अवधि के कार्गो के रूप में डिजाइन किया गया था। इस प्रणाली में एक यात्री ढोने वाला अंतरिक्ष यान भी शामिल है। यह दूसरे चरण के साथ-साथ अंतरिक्ष में लंबी अवधि के कक्षीय अंतरिक्ष यान के रूप में काम करेगा। इस प्रणाली के लिए इंजन का विकास 2012 में शुरू हुआ था जबकि स्टारशिप विकास 2016 में शुरू हुआ था।

स्पेस एक्सप्लोरेशन टेक्नोलॉजीज कार्पोरेशन (SpaceX) : यह एक अमेरिकी एयरोस्पेस निर्माता और अंतरिक्ष परिवहन सेवा कंपनी है। इसका मुख्यालय कैलिफोर्निया के हॉथोर्न में है। इसकी स्थापना वर्ष 2002 में एलोन मस्क ने की थी। स्पेसएक्स दुनिया की पहली निजी कंपनी थी जिसने रॉकेट को पृथ्वी पर वापस लैंड करवाया। आमतौर पर उपग्रहों को उनकी कक्षा में स्थापित करने के बाद रॉकेट जल जाते हैं या अंतरिक्ष में फेंक दिए जाते हैं। स्पेसएक्स अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन तक कार्गो पहुंचाने में सक्रिय रूप से शामिल है।


9. आरएम सुंदरम बने भारतीय चावल अनुसंधान संस्थान के निदेशक

रमन मीनाक्षी सुंदरम (Raman Meenakshi Sundaram) को भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (Indian Council of Agricultural Research) की एक शाखा, भारतीय चावल अनुसंधान संस्थान (Indian Institute of Rice Research-IIRR) के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है। इस उन्नति से पहले, वह संस्थान के फसल सुधार अनुभाग में प्रधान वैज्ञानिक (जैव प्रौद्योगिकी) के रूप में काम कर रहे थे।

वह चावल जैव प्रौद्योगिकी, आणविक प्रजनन, और जीनोमिक्स के क्षेत्र में काम करने वाले वैश्विक ख्याति के वैज्ञानिक हैं और उनके पास राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए 160 से अधिक शोध पत्र हैं और कई पुस्तकें, पुस्तक अध्याय और लोकप्रिय लेख प्रकाशित किए हैं।


10. AINRC नेता एन रंगास्वामी ने पुडुचेरी के मुख्यमंत्री के तौर पर ली शपथ

एआईएनआरसी नेता एन रंगास्वामी ने 07 मई 2021 को पुडुचेरी के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। उपराज्यपाल तमिलिसाई सौंदराराजन ने रंगास्वामी को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। वे चौथी बार मुख्यमंत्री बने हैं। उन्होंने ईश्वर को साक्षी मानकर तमिल भाषा में पद की शपथ ली।

वह 1990 में NHPC लिमिटेड के एक वरिष्ठ कार्मिक अधिकारी (SPO) के रूप में कंपनी में शामिल हुए थे। उनके पास मानव संसाधन प्रबंधन के क्षेत्र में 35 से अधिक वर्षों का विविध अनुभव है।``

ा पार्टी शामिल हैं। बता दें कि एन रंगास्वामी लंबे समय से राजनीति से जुड़े हुए हैं और उन्होंने पहला विधानसभा चुनाव साल 1990 में लड़ा था।


11. विजय गोयल संभालेंगे THDCIL के सीएमडी का पदभार

THDC इंडिया लिमिटेड ने घोषणा की है कि विजय गोयल (Vijay Goel) अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक के रूप में पदभार ग्रहण करेंगे।

उनकी नियुक्ति 1 मई, 2021 से लागू होगी।

वह 1990 में NHPC लिमिटेड के एक वरिष्ठ कार्मिक अधिकारी (SPO) के रूप में कंपनी में शामिल हुए थे। उनके पास मानव संसाधन प्रबंधन के क्षेत्र में 35 से अधिक वर्षों का विविध अनुभव है।


12. डीएमके चीफ एमके स्टालिन ने तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली

डीएमके चीफ एमके स्टालिन ने 07 मई 2021 को तमिलनाडु के अगले मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। उन्हें चेन्नई में राजभवन में गवर्नर बनवारीलाल पुरोहित ने पद की शपथ दिलवाई। उनके साथ साथ उनके कैबिनेट में आने वाले 33 मंत्रियों को भी शपथ दिलाई गई है। पार्टी नेता दुरई मुरुगन ने जल संसाधन मंत्री के तौर पर शपथ ली है।

डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन को 04 मई को विधायक दल का नेता चुन लिया गया था। राजभवन द्वारा 05 मई 2021 को दी गई जानकारी के अनुसार विधायक दल का नेता चुने जाने का पत्र सौंपने के बाद राज्यपाल ने उन्हें यह जिम्मेदारी दी।

तमिलनाडु के गृहमंत्री के तौर पर शपथ : एमके स्टालिन को सीएम के अलावा तमिलनाडु के गृहमंत्री के तौर पर भी शपथ दिलाई गई है। इसके अलावा उनके पास प्रशासनिक और पुलिस सेवाओं, विशेष योजनाओं, और दिव्यांगजनों की कल्याण योजनाओं का पोर्टफोलियो भी रहेगा।


13. महात्मा गांधी के पूर्व निजी सचिव, वी कल्याणम का निधन

महात्मा गांधी के पूर्व निजी सचिव वी कल्याणम (V Kalyanam) का निधन हो गया है। वह 1943 से 1948 तक गांधी के निजी सचिव थे, जब महात्मा की हत्या कर दी गई थी।

कल्याणम, गांधीजी द्वारा लिखे गए पत्रों, एक चेक जिस पर उनके हस्ताक्षर है और उनसे जुड़े अन्य साहित्य को संरक्षित कर रहे थे। वह बंगाली, गुजराती, हिंदी, तमिल और अंग्रेजी में कुशल थे। वे महात्मा गांधी के कट्टर अनुयायी थे, और 1960 के दशक में राजाजी के साथ भी जुड़े थे।










  • Source of Internet


10 views0 comments