Search

7th January | Current Affairs | MB Books


1. भारत और जापान के बीच “निर्दिष्ट कुशल श्रमिक” (Specified Skilled Worker) समझौता ज्ञापन को कैबिनेट ने मंजूरी दी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने हाल ही में भारत और जापान के बीच “निर्दिष्ट कुशल श्रमिक” (Specified Skilled Worker) समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी।

समझौते की मुख्य विशेषताएं

इस समझौते के तहत, भारत कुशल श्रमिकों को जापान भेजेगा।

यह समझौता ज्ञापन कुशल श्रमिकों को स्वीकार करने के लिए भारत और जापान के बीच सहयोग के लिए एक संस्थागत ढांचा स्थापित करेगा।इसके लिए एकमात्र शर्त यह है कि श्रमिकों को आवश्यक कौशल परीक्षण और जापानी भाषा के परीक्षण को क्वालीफाई करना होगा।

इस समझौता ज्ञापन के अनुसार, योग्य भारतीय श्रमिक जापान में 14 निर्दिष्ट क्षेत्रों में काम कर सकते हैं।इस समझौते के अनुसार भारतीय श्रमिकों को “निर्दिष्ट कुशल श्रमिक” (Specified Skilled Worker) के निवास का नया दर्जा प्रदान किया जायेगा।

इस समझौता ज्ञापन को लागू करने के लिए एक संयुक्त कार्य समूह का गठन किया जायेगा।

यह भारत से जापान तक श्रमिकों और कुशल पेशेवरों की गतिशीलता को बढ़ावा देगा।

समझौते में शामिल 14 सेक्टर

इस समझौते में शामिल 14 सेक्टर हैं : औद्योगिक मशीनरी, बिल्डिंग क्लीनिंग, नर्सिंग केयर, मैटेरियल प्रोसेसिंग इंडस्ट्री, इलेक्ट्रॉनिक इंफॉर्मेशन इंडस्ट्री, इंडस्ट्रियल मशीनरी मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री, शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री, एविएशन, ऑटोमोबाइल मेंटेनेंस, लॉजिंग, एविएशन, फिशरीज, एग्रीकल्चर, खाद्य और पेय पदार्थ विनिर्माण उद्योग, खाद्य सेवा उद्योग, निर्माण।

भारत-जापान की प्रमुख परियोजनाएँ

2015 में, भारत जापान की हाई-स्पीड बुलेट ट्रेन शिंकानसेन प्रणाली शुरू करने पर सहमत हुआ ।

भारत और जापान ने ‘एक्ट ईस्ट फोरम’ का गठन किया था जिसका उद्देश्य उत्तर पूर्व भारत और जापान में सहयोग का विस्तार करना है।


2. पीएम मोदी ने किया कोच्चि-मंगलुरु प्राकृतिक गैस पाइपलाइन का उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 3,000 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 450 किलोमीटर लंबी कोच्चि-मंगलुरु प्राकृतिक गैस पाइपलाइन का उद्घाटन किया है।

यह कार्यक्रम वन नेशन वन गैस ग्रिड के निर्माण की दिशा की ओर एक महत्वपूर्ण कदम है।

प्राकृतिक गैस पाइपलाइन नेटवर्क को आगामी 5-6 वर्षों में दोगुना किया जाएगा और मौजूदा सीएनजी स्टेशनों की संख्या 1,500 को बढ़ाकर 10,000 किया जाएगा।

यह पाइपलाइन केरल के कोच्चि से एर्नाकुलम, त्रिशूर, पलक्कड़, मलप्पुरम, कोझीकोड, कन्नूर और कासरगोड जिलों से कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले के मंगलुरु तक प्राकृतिक गैस ले जाएगी।

इसे गेल (इंडिया) लिमिटेड द्वारा बिछाया गया है। यह कोच्चि स्थित एलएनजी रेगैसिफिकेशन टर्मिनल से प्राकृतिक गैस ले जाएगा। पाइपलाइन पर्यावरण के अनुकूल पीएनजी की आपूर्ति करेगी।

पाइपलाइन ग्रिड से क्लीन ऊर्जा पहुंच में सुधार के साथ-साथ शहर की गैस परियोजनाओं के विकास में भी मदद मिलेगी।


3. भारत सरकार ने जारी की ड्राफ्ट आर्कटिक नीति

भारत सरकार ने हाल ही में ड्राफ्ट आर्कटिक नीति जारी की।

नीति का मुख्य उद्देश्य

नीति यह सुनिश्चित करती है कि आर्कटिक संसाधनों का पता लगाया जाए और उनका उपयोग किया जाए। इस नीति के तहत, भारत यह सुनिश्चित करेगा कि यह आर्कटिक परिषद के नियमों और विनियमों का पालन करता है। भारत 2013 में आर्कटिक परिषद का पर्यवेक्षक बना था और एक पर्यवेक्षक के रूप में इसकी सदस्यता 2018 में अगले पांच वर्षों के लिए नवीनीकृत की गई।

आर्कटिक नीति के पांच मुख्य स्तंभ

आर्कटिक नीति के मुख्य पांच स्तंभ इस प्रकार हैं:

  • विज्ञान और अनुसंधान

  • आर्थिक और मानव विकास

  • परिवहन और कनेक्टिविटी

  • राष्ट्रीय क्षमता निर्माण

  • शासन और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत संचालित होने वाला नेशनल सेंटर फॉर पोलर एंड ओशन रिसर्च आर्कटिक पॉलिसी को लागू करने में नोडल एजेंसी के रूप में काम करेगा।

आर्कटिक नीति भारत और आर्कटिक क्षेत्र को कैसे जोड़ती है?

इस नीति में आर्कटिक निवासियों, विशेष रूप से स्वदेशी समुदायों को हिमालयी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों से जोड़ने की परिकल्पना की गई है। इस नीति का उद्देश्य ऐसे अवसरों का निर्माण करना है जहां भारतीय उद्यम अंतर्राष्ट्रीय वाणिज्य व्यवसायों का हिस्सा बन सकें और पारंपरिक स्वदेशी ज्ञान को बढ़ावा दे सकें।

भारत और आर्कटिक अनुसंधान

भारत ने पेरिस में स्वालबार्ड संधि (Svalbard Treaty) पर हस्ताक्षर किए थे। इससंधि ने सैन्यीकरण नहीं करने की प्रतिबद्धता के साथ आर्कटिक क्षेत्र में मुक्त पहुंच की अनुमति प्रदान की है।

भारत ने 2007 में आर्कटिक के लिए अपना पहला वैज्ञानिक अभियान लांच किया था।

2008 में, भारत ने नॉर्वे के स्वालबार्ड में हिमाद्री नामक एक बेस स्थापित किया था।

2014 में, भारत ने IndArc को तैनात किया।यह Kong sfjorden में एक मल्टीसेन्सरी ऑब्जर्वेटरी है।

2016 में, भारत ने Ny Alesund, Svalbard में Gruvebadet Atmponsheric Laboratry की स्थापना की थी।


4. मध्य प्रदेश सरकार ने शुरू की 'लॉन्च पैड योजना ’

मध्य प्रदेश सरकार ने बाल देखभाल संस्थानों से बाहर निकलने वाले और 18 वर्ष की आयु पूरी करने वाले लड़के और लड़कियों के लिए 'लॉन्च पैड योजना' की शुरूआत की है।

इस योजना को राज्य के महिला और बाल विकास विभाग द्वारा इन युवाओं को एक मंच प्रदान करने के उद्देश्य से शुरू किया गया है, जिसके माध्यम से वे अपनी शिक्षा और प्रशिक्षण जारी रखकर आत्मनिर्भर बन सकेंगे।

जिला प्रशासन इन युवाओं को कॉफी शॉप खोलने, स्टेशनरी, फोटोकॉपी, कंप्यूटर टाइपिंग और डीटीपी वर्क शुरू करने के लिए जगह उपलब्ध कराएगा।

इसे राज्य के सभी 52 जिलों को इंदौर, सागर, ग्वालियर, जबलपुर और भोपाल में मुख्यालय के साथ 5 समूहों में विभाजित किया गया है।

प्रत्येक लॉन्च पैड की स्थापना के लिए महिला और बाल विकास विभाग द्वारा 6 लाख रुपये की राशि प्रदान की जाएगी।

ये लॉन्च पैड गैर-सरकारी संगठनों (NGO) के माध्यम से संचालित किए जाएंगे।


5. 162 मेडिकल ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट्स की स्थापना के लिए PM CARES फंड से 201.58 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया

पीएम केयर्स फंड (Prime Minister’s Citizen Assistance and Relief in Emergency Situations) ट्रस्ट ने देश में सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए अतिरिक्त 162 समर्पित Pressure Swing Adsorption (PSA) Medical Oxygen Generation Plants की स्थापना के लिए 201.58 करोड़ रुपये आवंटित किये हैं। इस परियोजना में आपूर्ति और प्लांट की कमीशनिंग के लिए 137.33 करोड़ रुपये और केंद्रीय चिकित्सा आपूर्ति स्टोर के प्रबंधन शुल्क और व्यापक वार्षिक रखरखाव के लिए लगभग 64.25 करोड़ रुपये का व्यय शामिल हैं।

मुख्य बिंदु

इसके लिए खरीद केंद्रीय चिकित्सा आपूर्ति स्टोर द्वारा की जाएगी जो स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय का एक स्वायत्त निकाय है। कुल 154.19 मीट्रिक टन क्षमता वाले 162 प्लांट 32 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में स्थापित किये जायेंगे। जिन सरकारी अस्पतालों में ये प्लांट स्थापित किए जाने हैं, उनकी पहचान संबंधित राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के परामर्श से की गई है। इन प्लांट्स की पहले 3 साल की वारंटी होती है। अगले 7 वर्षों के लिए, परियोजना में एक व्यापक वार्षिक रखरखाव अनुबंध शामिल है।

नियमित संचालन और रखरखाव का कार्य अस्पतालों या राज्यों द्वारा किया जायेगा। व्यापक वार्षिक रखरखाव अनुबंध अवधि के बाद, पूरे संचालन और रखरखाव का व्यय अस्पतालों या राज्यों द्वारा किया जाएगा।

यह मैकेनिज्म सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रणाली को और मजबूत करेगा और लागत प्रभावी तरीके से चिकित्सा ऑक्सीजन की उपलब्धता को सुनिश्चित करेगा। ऑक्सीजन की पर्याप्त और निर्बाध आपूर्ति कोविड​​-19 के मध्यम और गंभीर मामलों के प्रबंधन के लिए आवश्यक है। इससे न केवल राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के कुल ऑक्सीजन उपलब्धता पूल में वृद्धि होगी, बल्कि इन सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में रोगियों को समय पर ऑक्सीजन सहायता प्रदान करने में भी आसानी होगी।


6. लेफ्टिनेंट जनरल शांतनु दयाल बने नए डिप्टी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ

लेफ्टिनेंट जनरल शांतनु दयाल को नया डिप्टी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ (DCOAS) चुना गया है। लेफ्टिनेंट जनरल दयाल तेजपुर स्थित 4 कोर के कमांडर हैं।

वह लेफ्टिनेंट जनरल एसएस हसबनी की जगह लेंगे, जो 31 दिसंबर को सेवानिवृत हुए है।

भारतीय सेना ने हाल ही में सेना मुख्यालय और कोर कमांडरों, प्रशासनिक और प्रशिक्षण संस्थानों सहित विभिन्न अन्य पदों पर बड़े फेरबदल किए है।

अन्य महत्वपूर्ण फेरबदल रक्षा मंत्रालय के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के साथ नव-निर्मित डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स (डीएमए) में किया गया है, लेफ्टिनेंट जनरल तरनजीत सिंह, रक्षा मंत्रालय के तहत डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री अफेयर्स (DMA) में अतिरिक्त सचिव के रूप में शामिल होने वाले पहले सेना अधिकारी हैं।


7. SEBI ने स्टॉक एक्सचेंजों की स्थापना के लिए नियमों में ढील दी

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने नए बाजार अवसंरचना संस्थानों या बिचौलियों (MII) के प्रवेश के लिए एक नया उदारीकृत ढांचा बनाने का प्रस्ताव दिया है।

मुख्य बिंदु

सेबी ने डिपॉजिटरी या स्टॉक एक्सचेंज स्थापित करने के लिए नए प्रवेशकर्ताओं की सुविधा के लिए शासन और स्वामित्व मानदंडों की समीक्षा करने के लिए एक चर्चा पत्र पेश किया है। प्रस्ताव के अनुसार, MII (Market Infrastructure Institutions or Intermediaries) स्थापित करने के इच्छुक निवासी प्रमोटर 100% शेयर अपने पास रख सकते हैं। एफएटीएफ (फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स) के एक विदेशी प्रमोटर सदस्य MII में 49% शेयर अपने पास रख सकते हैं। एफएटीएफ सदस्य क्षेत्राधिकार के अलावा अन्य विदेशी संस्थाएं या व्यक्ति MII में 10% तक हिस्सेदारी हासिल कर सकते हैं। प्रमोटर के अलावा कोई भी व्यक्ति 25% से कम हिस्सेदारी का अधिग्रहण या अधिग्रहण कर सकता है।

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI)

सेबी 1988 में स्थापित भारत में प्रतिभूति बाजार के लिए सांविधिक नियामक है। इसे सेबी अधिनियम, 1992 के माध्यम से सांविधिक शक्तियां दी गई थीं। इसका मुख्य कार्य प्रतिभूतियों में निवेशकों के हितों की रक्षा करना, प्रतिभूति बाजार के विकास को बढ़ावा देना और प्रतिभूति बाजार को विनियमित करना है। इसका मुख्यालय मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है।


8. टाटा पावर ने MSME के लिए आसान और किफायती वित्तपोषण योजना शुरू करने के लिए सिडबी के साथ की साझेदारी

देश की सबसे बड़ी एकीकृत बिजली कंपनी टाटा पावर ने रूफटॉप (छत) सोलर सेगमेंट में एमएसएमई ग्राहकों के लिए आसान और सस्ती वित्तपोषण योजना की शुरू करने के लिए सिडबी (लघु उद्योग विकास बैंक ऑफ इंडिया) के साथ साझेदारी करने की घोषणा की।

यह योजना MSMEs को उनके व्यवसायों के लिए सतत ऊर्जा अपनाने और हरियाली को बढ़ावा देने में सशक्त बनाएगी।

देश में एमएसएमई क्षेत्र में सौर को अपनाने में आसान और किफायती वित्तपोषण सुविधा न होना मुख्य बाधाओं में से एक रही है।

इस समस्या को दूर करने के लिए, टाटा पावर और SIDBI ने MSME ग्राहकों के लिए एक अद्वितीय सौर वित्तपोषण समाधान तैयार करने के लिए हाथ मिलाया है, जो उन्हें 10% से कम ब्याज दर पर बिना किसी गारंटी के सोलर रूफटॉप में बदलने में मदद कर रहा है।

यह एक त्वरित अनुमोदन और संवितरण प्रक्रिया (7 दिनों के भीतर 4 दिनों में संवितरण के साथ) के जरिए पूरा होगा ।

यह वित्तपोषण योजना केवल टाटा पावर के MSME ग्राहकों के ऑफ-ग्रिड और ऑन-ग्रिड कनेक्शन दोनों के लिए है।


9. लद्दाख की भूमि, संस्कृति और भाषा के संरक्षण के लिए समिति का गठन किया गया

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लद्दाख की संस्कृति, भाषा, भूमि की सुरक्षा के लिए एक समिति का गठन किया है। इस समिति का गठन लद्दाख के 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल द्वारा केंद्रीय गृह मंत्री से मुलाकात के बाद किया गया है, जिसमें लद्दाख की संस्कृति, भाषा और जनसांख्यिकी के खतरे के बारे में चिंता व्यक्त की थी। गौरतलब है कि जब से लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश के रूप में अस्तित्व में आया है, तब से लद्दाख के स्थानीय लोगों ने संस्कृति, भाषा और जनसांख्यिकी के संरक्षण के बारे में चिंता ज़ाहिर की है।

मुख्य बिंदु

गृह मंत्रालय द्वारा गठित समिति का नेतृत्व गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी करेंगे। इस समिति में केंद्र सरकार, लद्दाख, लद्दाख प्रशासन और लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद के निर्वाचित प्रतिनिधि शामिल होंगे। यह समिति लद्दाख की संस्कृति, भाषा, भूमि के संरक्षण के साथ-साथ संविधान की छठी अनुसूची में इस क्षेत्र की मांगों को देखने के लिए एक समाधान खोजने की दिशा में काम करेगी। यह समिति लद्दाख के विकास में नागरिकों की भागीदारी सुनिश्चित करेगी। 2019 में, अनुसूचित जनजाति आयोग ने भी संविधान की छठी अनुसूची में लद्दाख को शामिल करने की सिफारिश की थी।

संविधान की 6वीं अनुसूची

संविधान की 6वीं अनुसूची में मेघालय, असम, मिजोरम और त्रिपुरा में आदिवासी क्षेत्रों के प्रशासन के प्रावधान शामिल हैं। इसमें जनजातीय लोगों के अधिकारों की सुरक्षा के लिए स्वायत्त जिला परिषद (एडीसी) के गठन का प्रावधान है।


10. जापान 2023 तक लॉन्च करेगा लकड़ी से बना पहला उपग्रह

जापान की सुमितोमो फॉरेस्ट्री कंपनी और क्योटो यूनिवर्सिटी ने अंतरिक्ष में कचरे की समस्या से निपटने के लिए 2023 तक दुनिया का पहला लकड़ी से बना अंतरिक्ष उपग्रह लॉन्च करने की घोषणा की है।

वर्तमान में, यह प्रक्रिया अपने शुरुआती चरण में है क्योंकि अंतरिक्ष मिशन के लिए एक उपयुक्त साधन खोजने के लिए अनुसंधान टीम द्वारा कई लकड़ी सामग्री का परीक्षण किया जा रहा है। साथ ही टीम तापमान में बदलाव और धूप के प्रति बेहद प्रतिरोधी लकड़ी की सामग्रियों को विकसित करने की दिशा में भी काम कर रही है।

यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA) सांख्यिकीय मॉडल के अनुसार, अंतरिक्ष में मानव द्वारा की गई गतिविधियों के कारण अवशेषों के 130 मिलियन से अधिक टुकड़े हैं - जो हमारे ग्रह के चारों ओर एक मिलीमीटर से छोटे है।

यह अवशेष अथवा मलबे के टुकड़े 22,300 मील प्रति घंटे से अधिक की गति से यात्रा कर सकता है, जो अन्य उपग्रहों को क्षति पहुंचा सकते है।


11. जम्मू-कश्मीर के उप-राज्यपाल ने 28,400 करोड़ रुपये के औद्योगिक विकास पैकेज की घोषणा की

जम्मू और कश्मीर में लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा ने आज 28,400 करोड़ रुपये के औद्योगिक विकास पैकेज के लिए भारत सरकार की मंजूरी की घोषणा की।

मुख्य बिंदु

जम्मू में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जम्मू-कश्मीर के औद्योगिक क्षेत्र के लिए औद्योगिक विकास पैकेज-2021 को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा कि इस पैकेज का उद्देश्य मौजूदा औद्योगिक क्षेत्र को बढ़ावा देना, नई इकाइयां स्थापित करना, 4.5 लाख नौकरियां पैदा करना और कम से कम 20,000 करोड़ रुपये का निवेश करना है। यह पैकेज 17 साल तक यानी 2037 तक लागू रहेगा।

महत्व

यह औद्योगिक पैकेज है जम्मू-कश्मीर में औद्योगिक क्षेत्र को बढ़ावा देगा, रोजगार पैदा करेगा और बाहर के निवेश के लिए भी मार्ग प्रशस्त करेगा। यह पैकेज उद्यमियों के लिए एक बड़ी राहत के रूप में काम करेगा और विनिर्माण इकाइयों के साथ-साथ सेवा क्षेत्र को भी कवर करेगा, जिसमें पर्यटन और आईटी क्षेत्र शामिल हैं।

इस दौरान एलजी ने कहा कि उनके नेतृत्व वाला प्रशासन जम्मू-कश्मीर में बिजली के बुनियादी ढांचे को सुव्यवस्थित करने के लिए एक लंबी और छोटी अवधि की रणनीति पर काम कर रहा था। जम्मू-कश्मीर ने सड़क संपर्क के मोर्चे पर पहला स्थान हासिल किया है और निकट भविष्य में हर गांव को बेहतर सड़क के माध्यम से जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा, 2023 में, जम्मू-कश्मीर के लोग पहली बार मेट्रो में यात्रा कर सकेंगे।


12. विश्व कप विजेता हॉकी खिलाड़ी माइकल किंडो का निधन

ओलंपिक कांस्य और विश्व कप विजेता हॉकी खिलाड़ी माइकल किंडो का निधन।

उन्होंने 1971,1973 और 1975 में 3 पुरुष हॉकी विश्व कप खेले, जहाँ भारत ने कांस्य, रजत और स्वर्ण पदक जीते थे।

वे 1972 के ओलंपिक खेलों में भी खेले थे जहां भारत ने कांस्य पदक हासिल किया। किंडो को 1972 में अर्जुन पुरस्कार मिला था।


13. सुप्रीम कोर्ट ने सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को दी मंजूरी, जानें विस्तार से

सुप्रीम कोर्ट ने 05 जनवरी 2021 को सेंट्रल विस्टा प्रॉजेक्ट को मंजूरी दे दी है। ये फैसला सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने 2:1 की बहुमत से दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सरकार नए संसद समेत अन्य निर्माण कर सकती है। पर्यावरण मंजूरी और अन्य अनुमतियों में कोई खामी नहीं है।

सुप्रीम कोर्ट ने सेंट्रल विस्टा प्रॉजेक्ट को मंजूरी दे दी है। जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस संजीव खन्ना की बेंच ने 2:1 के बहुमत से यह फैसला सुनाते हुए कहा कि पीठ सरकार को इस योजना के लिए मंजूरी दे रही है। कोर्ट ने पिछली सुनवाई में निर्माण और तोड़फोड़ पर रोक लगाते हुए सिर्फ नए संसद भवन के शिलान्यास की अनुमति दी थी।

शिलान्यास करने पर कोई आपत्ति नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले 07 दिसंबर को याचिकाओं पर सुनवाई की थी और संसद भवन के शिलान्यास को मंजूरी दे दी थी। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 दिसंबर को नए संसद भवन की इमारत का शिलान्यास किया था। कोर्ट ने कहा था कि उसे शिलान्यास करने पर कोई आपत्ति नहीं है। हालांकि कोर्ट ने इसके साथ ही कहा था कि अंतिम फैसला आने तक कोई निर्माण, तोड़फोड़ या पेड़ काटने का काम नहीं होगा।

नई संसद कैसी दिखेगी

नई संसद इमारत 65,400 स्क्वायर मीटर में बनाई जाएगी और भव्य कलाकृति से युक्त होगी। इमारत एक तिकोना ढांचा होगा और इसकी ऊंचाई पुरानी इमारत जितनी ही होगी। इसमें एक बड़ा संविधान हॉल, सांसदों के लिए एक लाउन्ज, एक लाइब्रेरी, कई कमेटियों के कमरे, डाइनिंग एरिया जैसे कई कम्पार्टमेंट होंगे। इस भवन में उच्‍च गुणवत्‍ता वाली आवाज, ऑडिया विजुअल फैसिलिटी, बैठने के लिए आरामदायक इंतेज़ाम होगा।

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट क्या है?

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत नए संसद परिसर का निर्माण किया जाना है। इसमें 876 सीट वाली लोकसभा, 400 सीट वाली राज्यसभा और 1224 सीट वाला सेंट्रल हॉल बनाया जाएगा। इससे संसद की संयुक्त बैठक के दौरान सदस्यों को अलग से कुर्सी लगा कर बैठाने की ज़रूरत खत्म हो जाएगी।

सेंट्रल विस्टा में एक दूसरे से जुड़ी 10 इमारतों में 51 मंत्रालय बनाए जाएंगे। अभी यह मंत्रालय एक-दूसरे से दूर 47 इमारतों से चल रहे हैं। मंत्रालयों को नजदीकी मेट्रो स्टेशन से जोड़ने के लिए भूमिगत मार्ग भी बनाया जाएगा। राष्ट्रपति भवन के नज़दीक प्रधानमंत्री और उपराष्ट्रपति के लिए नया निवास भी बनाया जाएगा। अभी दोनों के निवास स्थान राष्ट्रपति भवन से दूर हैं।

  • Source of Internet

6 views0 comments

Recent Posts

See All