Search

6th March | Current Affairs | MB Books


1. भारत ने नेपाल में नए स्कूल भवन का निर्माण करने के लिए 44.17 मिलियन रुपये का अनुदान दिया

भारत ने नेपाल-भारत मैत्री विकास साझेदारी (Nepal-Bharat Maitri Development Partnership) के तहत नेपाल के रूपन्देही जिले में एक नया स्कूल भवन बनाने के लिए नेपाल को 44.17 मिलियन नेपाली रुपए का अनुदान दिया है।

मुख्य बिंदु : नेपाल में भारतीय दूतावास ने एक बयान में कहा, इस निर्माण परियोजना के लिए दोनों देशों के बीच कल एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए थे। भारतीय दूतावास ने कहा कि 2003 से, हाई इम्पैक्ट कम्युनिटी डेवलपमेंट प्रोजेक्ट्स प्रोग्राम के तहत, भारत ने नेपाल के सभी सात प्रांतों में स्वास्थ्य, शिक्षा, पेयजल, कनेक्टिविटी, स्वच्छता और अन्य सार्वजनिक उपयोगिताओं के निर्माण के क्षेत्रों में 446 परियोजनाएं पूरी की हैं।

दूतावास ने यह भी बताया कि भारत नेपाल के आठ जिलों में 5,800 मिलियन नेपाली रुपए के पुनर्निर्माण अनुदान के तहत 2015 के भूकंप के दौरान क्षतिग्रस्त हुए 71 शैक्षणिक संस्थानों का भी पुनर्निर्माण कर रहा है। दूतावास ने यह भी कहा कि करीबी पड़ोसी के रूप में, भारत और नेपाल मित्रता और सहयोग के अनूठे संबंधों को साझा करते हैं।


2. ऑस्ट्रेलिया में बनेगा दुनिया का पहला प्लैटिपस अभयारण्य

ऑस्ट्रेलियाई संरक्षणवादियों ने प्लैटिपस (Platypus) के प्रजनन और पुनर्वास को बढ़ावा देने के उद्देश्य से दुनिया के पहले अभयारण्य का निर्माण करने की अपनी योजनाओं की घोषणा की है। गौरतलब हैं कि जलवायु परिवर्तन के कारण बत्तखमुँह स्तनपायी (duck-billed mammal) विलुप्त होने की कगार पर हैं।

टारोंगा कंजर्वेशन सोसाइटी (Taronga Conservation Society) ऑस्ट्रेलिया और न्यू साउथ वेल्स राज्य सरकार ने वर्ष 2022 तक सिडनी से 391 किमी दूर एक चिड़ियाघर में अर्ध-जलीय जीवों के लिए विशेषज्ञ सुविधा, ज्यादातर तालाब, और मांद बनाने की योजना की घोषणा की है।


3. फूड वेस्ट इंडेक्स रिपोर्ट 2021

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने “फूड वेस्ट इंडेक्स रिपोर्ट, 2021” प्रकाशित किया। UNEP की इस रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया भर में 2019 में अनुमानित 931 मिलियन टन भोजन बर्बाद हुआ।

मुख्य बिंदु : साझेदार संगठन WRAP के सहयोग से UNEP द्वारा यह सूचकांक रिपोर्ट प्रकाशित की गई थी। इस बर्बादी में घरों का योगदान 61%, खाद्य सेवाओं का 26%, जबकि खुदरा क्षेत्र का 13% योगदान है। ओस रिपोर्ट में कुल वैश्विक खाद्य उत्पादन का 17 प्रतिशत बर्बाद होने पर भी प्रकाश डाला गया है। इसके अलावा, उपलब्ध कुल भोजन का 11 प्रतिशत घरों में बर्बाद होता है।

भारत में भोजन की बर्बादी : भारत में घरेलू भोजन बर्बादी प्रति वर्ष 50 किलोग्राम प्रति व्यक्ति है जो प्रति वर्ष 68,760,163 टन के बराबर है। दूसरी ओर, अमेरिका में घरेलू खाद्य अपशिष्ट प्रति वर्ष 59 किलोग्राम है जो प्रति वर्ष 19,359,951 टन के बराबर है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि, चीन में घरेलू भोजन बर्बादी 64 किलोग्राम प्रति व्यक्ति प्रति वर्ष है जो एक वर्ष में 91,646,213 टन के बराबर है।


4. 'रक्षा उपकरणों' की बिक्री के लिए भारत-फिलीपींस का समझौता

भारत ने फिलीपींस के साथ “रक्षा सामग्री और उपकरणों की खरीद” के लिए “क्रियान्वयन व्यवस्था (implementing arrangement)” नामक एक प्रमुख समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं, जिसके अनुसार देश भारत से ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल (BrahMos Cruise Missile) खरीदेगा।

फिलीपीन के रक्षा सचिव डेल्फिन लॉरेंजाना (Delfin Lorenzana), जो मनीला में समझौता हस्ताक्षर समारोह में उपस्थित थे।

ब्रह्मोस मिसाइल एक भारत-रूसी संयुक्त उद्यम "ब्रह्मोस एयरोस्पेस (BrahMos Aerospace)" द्वारा निर्मित है और इसे पनडुब्बियों, जहाजों, विमानों या भूमि प्लेटफार्मों से लॉन्च किया जा सकता है।

यह दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है।

वर्तमान में, मिसाइल का उपयोग केवल भारत द्वारा किया जाता है, हालांकि, फिलीपींस, वियतनाम, दक्षिण अफ्रीका, मिस्र, ओमान, चिली और ब्रुनेई सहित कई देशों ने मिसाइल की खरीद में रुचि व्यक्त की है


5. भारत और स्वीडन के प्रधानमंत्री ने द्विपक्षीय मुद्दों पर वर्चुअल शिखर सम्मेलन का आयोजन किया

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 मार्च, 2021 को अपने स्वीडिश समकक्ष स्टीफन लोफवेन के साथ आभासी शिखर सम्मेलन में हिस्सा ललिया।

मुख्य बिंदु : दोनों प्रधानमंत्री वैश्विक और क्षेत्रीय मुद्दों पर अपने विचारों का आदान-प्रदान किया। उन्होंने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों पर भी चर्चा की।

भारत-स्वीडन संबंध : भारत-स्वीडन संबंध 1949 में शुरू हुए, जब दोनों देशों ने औपचारिक रूप से अपने राजनयिक संबंध स्थापित किए थे। स्वीडन ने वर्ष 1947 में यूनाइटेड किंगडम से भारत की स्वतंत्रता को भी मान्यता दी थी। भारत ने स्टॉकहोम में अपना दूतावास स्थापित किया है और स्वीडन ने नई दिल्ली में अपना दूतावास बनाया है। स्वीडन ने कोलकाता, चेन्नई और मुंबई में अपने मानद वाणिज्य दूतावास भी स्थापित किए हैं।

पृष्ठभूमि : स्वीडन और भारत के बीच संबंध 8वीं शताब्दी और वाइकिंग्स के युग से हैं। वर्ष 1954 में, एक छोटी कांस्य बुद्ध प्रतिमा की खोज की गई थी जो अब स्वीडिश इतिहास संग्रहालय में प्रदर्शित की गई है। यह मूर्ति वर्तमान कश्मीर में बनाई गयी थी।

वर्तमान संबंध : वर्तमान में, लगभग 10,000 भारतीय नागरिक स्वीडन में रह रहे हैं और काम कर रहे हैं। यह समूह मुख्य रूप से व्यापार या अन्य व्यावसायिक क्षेत्रों में कार्यरत है। दोनों देश स्वतंत्रता, लोकतंत्र, बहुलवाद और नियमों-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के साझा मूल्यों के आधार पर मैत्रीपूर्ण संबंध साझा करते हैं। वर्तमान में 250 से अधिक स्वीडिश कंपनियां भारत में स्वास्थ्य, जीवन विज्ञान, ऑटो उद्योग, स्वच्छ प्रौद्योगिकी, रक्षा, भारी मशीनरी आदि क्षेत्रों में काम कर रही हैं, जबकि स्वीडन में 75 भारतीय कंपनियां काम कर रही हैं।


6. 11वीं QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021 जारी

QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग (QS World University Rankings) का 11वां संस्करण 04 मार्च, 2021 को जारी किया गया था। QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021 दुनिया भर के शीर्ष 1,000 विश्वविद्यालयों को रैंक करती है, जिसमें 80 अलग-अलग स्थान शामिल हैं। सूची में 47 नए प्रवेश हैं।

मैसाचुसेट्स प्रौद्योगिकी संस्थान (Massachusetts Institute of Technology-MIT), संयुक्त राज्य अमेरिका ने लगातार नौवें वर्ष के लिए सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय के रूप में अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा है।

स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय (Stanford University), संयुक्त राज्य अमेरिका और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय (University of Cambridge), यूनाइटेड किंगडम QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2021 में विश्व स्तर पर दूसरा और तीसरा सबसे अच्छा विश्वविद्यालय हैं।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बॉम्बे सर्वश्रेष्ठ संस्थान के रूप में उभरा है। इसे 172 पदों पर रखा गया है। भारत का कोई भी संस्थान शीर्ष 100 में नहीं है।


7. वैक्सीन मैत्री पहल के तहत भारत ने वैक्सीन की 461.66 लाख डोज़ की आपूर्ति की

वैक्सीन मैत्री पहल के तहत भारत की कुल वैक्सीन आपूर्ति 461.66 लाख खुराक तक पहुंच गई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, इसमें से 71.5 लाख खुराक अनुदान के माध्यम से और 288.4 लाख खुराक व्यावसायिक रूप से वितरित की गई हैं।

मुख्य बिंदु : कुल मिलाकर, भारत ने 47 देशों और संयुक्त राष्ट्र के स्वास्थ्यकर्मियों को भी टीके वितरित किए हैं। उन्होंने कहा कि वैक्सीन मैत्री पहल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की घोषणा द्वारा निर्देशित किया गया है कि भारत की डिलीवरी और उत्पादन क्षमता का उपयोग मानव जाति के लाभ के लिए किया जाएगा।

अनुराग श्रीवास्तव ने यह भी कहा कि वंदे भारत मिशन का चरण 10 वर्तमान में चालू है। इस चरण के तहत, 28 देशों से 1350 से अधिक अंतरराष्ट्रीय उड़ानें संचालित होने वाली हैं। इससे अनुमानित 2 लाख 60 हजार लोगों को सुविधा मिलेगी। इनमें से लगभग 920 उड़ानें जीसीसी देशों से, लगभग 150 अमेरिका और कनाडा से, लगभग 120 यूके और यूरोप से, लगभग 100 दक्षिण पूर्व एशिया से और लगभग 50 भारत के पड़ोस से हैं।

वैक्सीन मैत्री पहल :

  • वैक्सीन मैत्री पहल 20 जनवरी 2021 को लांच की गई थी।

  • इस पहल के तहत, भारत अपने पड़ोसी देशों को मेड-इन-इंडिया कोविड-19 टीके की आपूर्ति कर रहा है।नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी के अन्य प्रमुख साझेदारों को भी वैक्सीन दी जाएगी।

  • भूटान और मालदीव टीके प्राप्त करने वाले पहले देश थे।

  • इसके बाद बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार और सेशेल्स को टीके दिए गये।

  • विनियामक अनुमोदन के बाद श्रीलंका को वैक्सीन की खुराक मिल रही है।

  • अफगानिस्तान और मॉरीशस को भी आवश्यक नियामक मंजूरी देने के बाद टीके मिलेंगे।

  • अब तक, भारत ने भूटान को 1,50,000 खुराक, मालदीव को 100,000 खुराक, बांग्लादेश को 2 मिलियन खुराक, नेपाल को 1 मिलियन खुराक, म्यांमार को 5 मिलियन खुराक, सेशेल्स को 50,000 खुराक और मॉरीशस को 100,000 खुराक प्रदान की है।

भारत की वैक्सीन कूटनीति :

  • अनुदान सहायता के रूप में टीकों का वितरण भारत की ‘नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी नीति’ और SAGAR सिद्धांत के अनुरूप है।

  • वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए 2020 में, भारत ने श्रीलंका में 400 मिलियन डॉलर की मुद्रा विनिमय सुविधा का विस्तार किया था। भारत ने 26 टन आवश्यक जीवन रक्षक दवाओं और उपकरणों की सहायता भी प्रदान की।

  • भारत ने महामारी के दौरान सक्रिय रूप से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन, रेमेडिसविर, पेरासिटामोल टैबलेट, डायग्नोस्टिक किट, मास्क, दस्ताने, वेंटिलेटर और कई देशों को अन्य चिकित्सा आपूर्ति की।

  • भारत ने अपने पड़ोसी देशों को प्रशिक्षण भी प्रदान किया है ताकि क्लिनिकल परीक्षण (PACT) कार्यक्रम के लिए भागीदारी के तहत अपनी नैदानिक ​​क्षमताओं को बढ़ाया जा सके।

8. नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक (MPI) 2020 में इंदौर और NDMC शीर्ष पर

आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय (Ministry of Housing & Urban Affairs) ने नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक (Municipal Performance Index-MPI) 2020 की अंतिम रैंकिंग जारी की है। रैंकिंग ने नगरपालिकाओं को उनकी आबादी के आधार पर दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया है, जो हैं: मिलियन-प्लस (million-plus) श्रेणी और मिलियन से कम (less than million) श्रेणियां।

नगरपालिका प्रदर्शन सूचकांक, नगरपालिकाओं को बेहतर नियोजन और प्रबंधन में मदद करेगा, शहर प्रशासन में अंतराल को भरने और अपने नागरिकों के लिए शहरों के रहने की जगह में सुधार करेगा।

मिलियन-प्लस (million-plus) जनसंख्या श्रेणी

इस सूची में इंदौर सबसे ऊपर है, इसके बाद सूरत और भोपाल हैं।

मिलियन से कम (less than million) श्रेणी

नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (NDMC) लीडर के रूप में उभरी, उसके बाद तिरुपति और गांधीनगर हैं।


9. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 584.55 अरब डॉलर पर पहुंचा

26 फरवरी, 2021 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 689 मिलियन डॉलर की वृद्धि के साथ 584.55 अरब डॉलर पर पहुँच गया है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत पांचवें स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है।

विदेशी मुद्रा भंडार : इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

26 फरवरी, 2021 को विदेशी मुद्रा भंडार :

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $542.615 बिलियन गोल्ड रिजर्व: $35.421 बिलियन आईएमएफ के साथ एसडीआर: $ 1.517 बिलियन आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $ 5.001 बिलियन


10. WAN-IFRA ने द हिंदू ग्रुप को ‘चैंपियन पब्लिशर ऑफ द ईयर’ 2020 का नाम दिया

द हिंदू ग्रुप ने WAN IFRA (वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ न्यूज पब्लिशर्स-World Association of News Publishers) के साउथ एशियन डिजिटल मीडिया अवार्ड्स में दो स्वर्ण और दो सिल्वर जीते, जिसका नाम ‘चैंपियन पब्लिशर ऑफ द ईयर (Champion Publisher of the Year)’ रखा गया, जो कि अंक तालिका में सबसे अधिक है।

पुरस्कारों को डिजिटल मीडिया में समाचार प्रकाशकों द्वारा किए गए उत्कृष्ट कार्यों की पहचान के लिए प्रस्तुत किया जाता है। विजेताओं को 3 मार्च, 2021 को आयोजित डिजिटल मीडिया इंडिया 2021 सम्मेलन में वर्चुअली सम्मानित किया गया।


11. मंगल पर नासा के रोवर ने पहली बार 21 फुट की दूरी तय की

केप कैनावेरल (अमेरिका)। हाल में मंगल की सतह पर उतरे नासा के रोवर ने इस सप्ताह लाल ग्रह पर अपने पहले प्रायोगिक मुहिम में 21 फुट की दूरी तय की। मंगल ग्रह पर जीवन की संभावना तलाशने की मुहिम के तहत पर्सेवियरेंस रोवर ग्रह की सतह पर उतरने के 2 सप्ताह बाद अपने स्थान से कुछ दूर चला।

रोवर शुक्रवार को आगे और पीछे चला। यह प्रक्रिया करीब 33 मिनट बेहद सुगमता से चली। कैलिफोर्निया के पासाडेना में नासा के जेट प्रणोदक प्रयोगशाला ने एक संवाददाता सम्म्मेलन में इस घटना की तस्वीरें साझा कीं। इंजीनियर अनास जराफियान ने कहा कि रोवर के चलने और उसके पहियों के निशान देखकर मैं बहुत खुश हूं।

उन्होंने कहा कि अभियान में यह बहुत बड़ी उपलब्धि है। जितनी जल्दी पर्सेवियरेंस पर सिस्टम का नियंत्रण पूरा होगा, रोवर एक प्राचीन नदी के डेल्टा के लिए आगे बढ़ेगा और धरती पर लौटने से पहले वहां से चट्टानें एकत्र करेगा।


12. DRDO ने सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट का परीक्षण किया

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने 5 मार्च, 2021 को सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट (SFDR) तकनीक का सफल परीक्षण किया। यह परीक्षण ओडिशा के चांदीपुर में एकीकृत परीक्षण रेंज से किया गया। बूस्टर मोटर का उपयोग करके उड़ान परीक्षण के दौरान वायु प्रक्षेपण परिदृश्य को सिमुलेट किया गया था। उसके बाद, नोजल-लेस बूस्टर ने रैमजेट के संचालन के लिए आवश्यक मैक संख्या में मोटर को एक्सेलरेट किया।

मुख्य बिंदु : इस परीक्षण के दौरान, यह देखा गया कि, सभी सब-सिस्टम जैसे बूस्टर मोटर और नोजल-लेस मोटर ने DRDO की अपेक्षा के अनुसार प्रदर्शन किया। इसके अलावा, उड़ान परीक्षण में ठोस ईंधन आधारित डक्टेड रैमजेट प्रौद्योगिकी सहित कई नई तकनीकों का परीक्षण किया गया। सॉलिड फ्यूल आधारित डक्टेड रैमजेट तकनीक का सफल परीक्षण ने अब डीआरडीओ को कई तकनीकी लाभ प्रदान किये हैं। यह अब DRDO को लंबी दूरी की हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल विकसित करने में सक्षम करेगा।

सॉलिड फ्यूल डक्टेड रैमजेट (SFDR) : यह रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित एक मिसाइल प्रणोदन प्रणाली है। DRDO ने महत्वपूर्ण तकनीकों को विकसित करने के उद्देश्य से इस परियोजना का विकास किया, जो भविष्य में भारत की लंबी दूरी की हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइलों की प्रणोदन प्रणाली में आवश्यक हैं। यह एक मिसाइल प्रणोदन प्रणाली है जिसमें थ्रस्ट मॉड्यूलेटेड डक्टेड रॉकेट के साथ-साथ स्मोक नोजल-लेस मिसाइल बूस्टर शामिल है। इस सिस्टम का थ्रस्ट मॉड्यूलेशन एक गर्म गैस प्रवाह नियंत्रक के माध्यम से प्राप्त किया जाता है।


13. खेलो इंडिया विंटर नेशनल गेम्स में जम्मू-कश्मीर शीर्ष स्थान पर रहा

केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर ने खेले इंडिया विंटर नेशनल गेम्स (Khelo India Winter National Games) के दूसरे संस्करण में पदक तालिका में शीर्ष स्थान प्राप्त किया है। जम्मू और कश्मीर ने 11 स्वर्ण, 18 रजत और 5 कांस्य पदक जीते।

उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के गुलमर्ग के प्रसिद्ध स्की रिसोर्ट में 26 फरवरी से शुरू होने वाले पांच दिवसीय मेगा खेल कार्यक्रम का समापन हो गया है। इस कार्यक्रम का ई-उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था।

खेलो इंडिया विंटर गेम्स का दूसरा संस्करण जम्मू और कश्मीर को शीतकालीन खेलों का केंद्र बनाने की दिशा में एक बड़ा कदम है।

इस आयोजन में 27 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 1,000 से अधिक एथलीटों ने हिस्सा लिया।

इस कार्यक्रम का आयोजन जम्मू और कश्मीर के J&K खेल परिषद और शीतकालीन खेल संघ के सहयोग से केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्रालय द्वारा किया गया था।


14. मध्य प्रदेश पर्यटन ने नाइट सफारी की शुरुआत की

मध्य प्रदेश ने 4 मार्च 2021 तीन राष्ट्रीय उद्यानों में रात्रि सफारी शुरू की है। राज्य द्वारा यह कदम पर्यटन के लिए एक प्रमुख बढ़ावा है।

मुख्य बिंदु : तीन राष्ट्रीय उद्यानों में नाईट सफारी शुरू करने के साथ, वन्यजीव उत्साही अब रात में जानवरों का अनुभव कर सकते हैं। इन तीन पार्कों में बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान, कान्हा राष्ट्रीय उद्यान और पेंच राष्ट्रीय उद्यान शामिल हैं। आमतौर पर, सफारी दिन के दौरान आयोजित की जाती है क्योंकि पर्यटक दिन के उजाले में सुरक्षित महसूस करते हैं। लेकिन दिन की सफारी के कारण, पर्यटक अपने प्राकृतिक आवास में निशाचर जानवरों को नहीं देख पाते। सफारी के तहत राज्य द्वारा मार्ग तय किए जाएंगे। वे यह सुनिश्चित करेंगे कि न तो जानवरों और न ही पर्यटकों को नुकसान पहुंचे। नाइट सफारी को वन्यजीव सफारी आरक्षण पोर्टल पर बुक किया जा सकता है। यह पोर्टल राज्य के वन विभाग द्वारा संचालित है।

बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान : यह मध्य प्रदेश के उमरिया जिले में स्थित एक राष्ट्रीय उद्यान है। इस पार्क का क्षेत्रफल 105 वर्ग किलोमीटर है। इस पार्क को वर्ष 1968 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। इसे 1993 में टाइगर रिजर्व के रूप में नामित किया गया था। वर्तमान में कोर एरिया 716 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। बांधवगढ़ में बाघों की आबादी का घनत्व 8 बाघ प्रति वर्ग किलोमीटर है, जो कि सबसे अधिक जनसंख्या घनत्व है। पार्क को तेंदुओं और हिरणों की प्रजनन आबादी के लिए भी जाना जाता है। राज्य ने शाम 6:30 और रात 9:30 बजे का समय निर्धारित किया है। इस सफारी का संचालन बफर जोन में किया जाएगा। नाइट सफारी के तहत, पर्यटक हिरणों को देख सकते हैं।

पेंच नेशनल पार्क : यह राष्ट्रीय उद्यान वर्ष 1975 में मध्य प्रदेश में स्थापित किया गया था। इसका क्षेत्रफल 257.26 वर्ग किलोमीटर है। इस पार्क का नाम पेंच नदी के नाम पर रखा गया है। इस पार्क को वर्ष 1965 में एक अभयारण्य, 1975 में एक राष्ट्रीय उद्यान और 1992 में बाघ अभयारण्य के रूप में नामित किया गया था। इस पार्क में रात्रि सफारी 5.30 से 8.30 बजे के बीच होगी। इस दौरान पर्यटक सियार, जंगली सूअर जैसे जानवर देख सकते हैं।

कान्हा राष्ट्रीय उद्यान : इस पार्क में 7:30 बजे से 10:30 बजे के बीच सफारी की जाएगी। यह पार्क बारासिंघा का घर है, जहां पर्यटक रात की सफारी के दौरान उन्हें कर सकते हैं। इसपार्क को कान्हा-किसली राष्ट्रीय उद्यान के रूप में भी जाना जाता है। यह मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है।





  • Source of Internet

5 views0 comments

Recent Posts

See All