Search

6th April | Current Affairs | MB Books


1. ला पेरोज़ (La Pérouse) नौसैनिक अभ्यास शुरू हुआ

बंगाल की खाड़ी में नौसैनिक ड्रिल ‘ला पेरोज’ (La Perouse) अभ्यास शुरू हो गया है। इस अभ्यास में अन्य क्वाड देश ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका भी भाग ले रहे हैं। यह अभ्यास 5 अप्रैल से 7. के बीच आयोजित किया जा रहा है।

मुख्य बिंदु : भारतीय नौसेना जहाज आईएनएस सतपुड़ा (INS Satpura) और आईएनएस किल्टन (INS Kiltan) के साथ P8I लॉन्ग रेंज मैरीटाइम पैट्रोल एयरक्राफ्ट पहली बार इस अभ्यास में हिस्सा ले रहा है। भारतीय नौसेना के जहाज और विमान फ़्रांसिसी नौसेना, रॉयल ऑस्ट्रेलियन नेवी, जापान मेरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स (JMSDF) और अमेरिकी नौसेना (USN) के जहाजों के साथ इस अभ्यास में शामिल होंगे। इस अभ्यास में फ्रांस की ओर से टोननेर (Tonnerre) और फ्रिगेट सर्कुफ (Surcouf) हिस्सा लेंगे। अमेरिका की नौसेना की ओर से इस अभ्यास में उभयचर परिवहन डॉक जहाज समरसेट (Somerset) हिस्सा लेगा। ऑस्ट्रेलिया की ओर से इसमें Her Majesty’s Australian Ships (HMAS) Anzac हिस्सा लेगा। जबकि जापान मैरिटाइम सेल्फ डिफेंस शिप (JMSDF) डिस्ट्रॉयर Akkono इसमें जापान का प्रतिनिधित्व करेगा।

महत्व : यह अभ्यास मैत्रीपूर्ण नौसेनाओं के बीच उच्च स्तर के तालमेल, समन्वय और अंतर-संचालन को प्रदर्शित करेगा। इस अभ्यास में भारतीय नौसेना की हिस्सेदारी मैत्रीपूर्ण नौसेनाओं के साथ साझा मूल्यों को दर्शाती है। यह अभ्यास समुद्र की स्वतंत्रता और एक खुले, समावेशी हिन्द-प्रशांत क्षेत्र और एक नियम-आधारित अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था के प्रति प्रतिबद्धता सुनिश्चित करता है।


2. तेलंगाना में स्थापित होगा भारत का सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर पॉवर प्लांट

भारत में सबसे बड़ा फ्लोटिंग सोलर पॉवर प्लांट तेलंगाना के रामागुंडम (Ramagundam) में स्थापित किया जाने वाला है। मई 2021 में इसके खुलने की उम्मीद है। इस परियोजना की लागत 423 करोड़ रुपये आंकी गई है। पावर प्लांट में 4.5 लाख फोटोवोल्टिक पैनल (photovoltaic panels) होंगे।

सौर ऊर्जा संयंत्र रामागुंडम थर्मल पॉवर प्लांट जलाशय (Ramagundam Thermal Power Plant reservoir) में स्थापित किया जा रहा है।

इस सौर ऊर्जा संयंत्र को जलाशय के 450 एकड़ में स्थापित किया जाना है।

यह परियोजना NTPC (नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन) द्वारा कमीशन की गई है।

NTPC का लक्ष्य इस सौर ऊर्जा संयंत्र के माध्यम से अपने कार्बन फुटप्रिंट को कम करना और अपनी क्षमता के 30% तक हरित ऊर्जा उत्पादन को बढ़ाना है।

सौर ऊर्जा संयंत्र की क्षमता 100 मेगावाट है।


3. TRIFED ने ‘संकल्प से सिद्धि’ पहल लॉन्च की

जनजातीय मामलों के मंत्रालय के तहत संचालित ट्राइबल कोऑपरेटिव मार्केटिंग डेवलपमेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (TRIFED) ने हाल ही में “संकल्प से सिद्धि” लॉन्च किया।

संकल्प से सिद्धि (SANKALP SE SIDDHI) :

  • यह 100 दिन का अभियान है।इस अभियान का मुख्य उद्देश्य आदिवासी गांवों में स्थित वन धन विकास केंद्रों को सक्रिय करना है।

  • इसका लक्ष्य 100 दिनों में भारत के 1,500 गांवों को कवर करना है।

  • इस अभियान को रोल आउट करने के लिए लगभग 150 टीमों का गठन किया गया है। ये टीम उन्हें TRIFOOOD और SFURTI इकाइयों के रूप में क्लस्टर करने के लिए स्थानों की पहचान करेगी।

  • SFURTI का अर्थ Scheme for Fund for the Regeneration of Traditional Industries है।

  • TRIFOOD खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय और TRIFED की एक संयुक्त पहल है। यह अगस्त 2020 में शुरू की गयी थी।

योजना क्या है?

1,500 गांवों में सक्रिय होने के बाद वन धन विकास केंद्र 200 करोड़ रुपये के बिक्री लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में काम करेंगे।

वन धन विकास केंद्र (Van Dhan Vikas Kendras) : वन धन विकास केंद्रों की स्थापना वन धन योजना (Van Dhan Yojana) के तहत की गई थी।भारत सरकार इन वन धन विकास केंद्रों में जनजातीय आबादी के लिए क्षमता निर्माण प्रशिक्षण और कौशल उन्नयन सुविधाएं प्रदान करती है।

15 आदिवासी स्व-सहायता समूहों द्वारा एक वन धन विकास केंद्र का निर्माण किया जाता है।

पहला वन धन विकास केंद्र बीजापुर जिले, छत्तीसगढ़ में स्थापित किया गया था।

आदिवासी मुद्दे : जनजातीय मामलों के मंत्रालय के अनुसार, भारत में जनजातीय आबादी के सामने निम्नलिखित समस्याएं हैं:

  • भारत में आदिवासी आबादी में सबसे अधिक संख्या में एनीमिक महिलाएं हैं।

  • शिशु मृत्यु दर और बाल मृत्यु दर आदिवासी आबादी में सबसे अधिक हैं।

  • 2015 तक, आदिवासी क्षेत्रों में 1,267 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और 309 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों की कमी थी।

  • विकासात्मक परियोजनाओं के कारण 85 लाख आदिवासी लोगों का पुनर्वास किया जाना था। हालाँकि, अभी तक केवल 21 लाख आदिवासी सदस्यों का पुनर्वास किया गया है।

4. सभी को मुफ्त स्वास्थ्य बीमा प्रदान करने वाला पहला राज्य बना राजस्थान

राजस्थान (Rajasthan), राज्य सरकार द्वारा राज्य के सभी नागरिकों को मुफ्त स्वास्थ्य बीमा सुविधा प्रदान करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है।

इस योजना की घोषणा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 2021-22 के राज्य के बजट में की थी। राज्य ने अपनी कैशलेस 'मेडिक्लेम’ योजना चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना (Chiranjeevi Health Insurance Scheme) के लिए पंजीकरण शुरू कर दिया है।

प्रत्येक परिवार को 5 लाख तक का वार्षिक स्वास्थ्य बीमा मिलेगा।

चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के लिए 1 अप्रैल से पंजीकरण शुरू हो गए हैं, जबकि यह योजना 1 मई को लागू होने के बाद निवासियों को लाभान्वित करना शुरू करेगी।

इस स्वास्थ्य बीमा कवर में, 1576 पैकेज और विभिन्न रोगों के उपचार की प्रक्रियाओं को शामिल किया गया है।

अस्पताल में भर्ती होने से पहले ओपीडी, जांच, दवाओं और डिस्चार्ज होने के 15 दिन बाद संबंधित पैकेज से संबंधित इलाज का खर्च भी मुफ्त इलाज में शामिल होगा।


5. UPI पर बिलियन ट्रैन्सैक्शन पार करने वाली पहली कंपनी बनी फ़ोनपे

बेंगलुरु स्थित डिजिटल भुगतान और वित्तीय सेवा कंपनी, फ़ोनपे (PhonePe) यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) इन्फ्रास्ट्रक्चर पर एक बिलियन लेनदेन को पार करने वाली पहली कंपनी बन गई है।

कंपनी ने मार्च 2021 में यह उपलब्धि हासिल की, जब इसके प्लेटफॉर्म पर लगभग 1.3 बिलियन का लेन-देन हुआ, जिसमें वॉलेट, कार्ड के साथ-साथ यूपीआई भुगतान उपकरण भी शामिल है।

फ़ोनपे (PhonePe), जिसने पहली बार पिछले साल दिसंबर में UPI पर बाजार का नेतृत्व हासिल किया था, ने बढ़ते व्यापारी भुगतानों के कारण इसके लेनदेन की संख्या में लगातार वृद्धि देखी है। फोनपे द्वारा संसाधित कुल मिलाकर UPI लेनदेन दिसंबर 2020 में 902.03 मिलियन से बढ़कर फरवरी 2021 में 975.53 मिलियन हो गया।


6. भारत ने पेट्रोल के साथ इथेनॉल मिश्रण में नया रिकॉर्ड बनाया

इथेनॉल आपूर्ति वर्ष 2020-21 के पहले चार महीनों में 7.2% से अधिक पहुंच गयी है। यह पहली बार है जब भारत इस स्तर पर पहुंचा है। भारत 2022 तक 10% सम्मिश्रण के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में अग्रसर है।

वर्तमान परिदृश्य : यदि तेल विपणन कंपनियां अपने द्वारा अनुबंधित इथेनॉल को उठाती हैं, तो नवंबर 2021 तक, भारत औसतन 8% तक पहुंच जाएगा।अब तक, भारत में पेट्रोल के साथ सबसे अच्छा इथेनॉल मिश्रण 2% था।

कर्नाटक, गुजरात, गोवा, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, दिल्ली, दमन और दीव, हिमाचल प्रदेश जैसे राज्यों में 5% से 10% इथेनॉल को पेट्रोल के साथ मिश्रित किया जा रहा है।ये राज्य और केंद्र शासित प्रदेश 2022 के लक्ष्य को प्राप्त करने के बहुत करीब हैं।

समस्या : इथेनॉल नीति के अनुसार, चीनी कंपनियों को अनुबंधित इथेनॉल को निकटतम तेल विपणन कंपनी (ओएमसी) डिपो को वितरित करना चाहिए। ओएमसी को परिवहन शुल्क का भुगतान करना पड़ेगा। यहां, समस्या यह है कि चीनी कंपनियों को पूर्ण परिवहन प्रतिपूर्ति नहीं मिल रही है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि ईंधन की कीमत में मौजूदा वृद्धि से पहले अक्टूबर 2020 में परिवहन के लिए आधार दर तय की गई थी।


7. NPCI ने भारत बिल भुगतान व्यवसाय को अपनी नई सहायक कंपनी NBBL में किया ट्रान्सफर

भारतीय राष्ट्रिय भुगतान निगम (National Payments Corporation of India-NPCI) ने अपने सभी भारत बिल भुगतान प्रणाली (BBPS) लेनदेन व्यवसाय को NPCI की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी, NPCI भारत बिलपे लिमिटेड (NBBL) में स्थानांतरित कर दिया है।

भारत बिल भुगतान परिचालन इकाइयों (BBPOU), अर्थात् बैंकों और भुगतान एग्रीगेटर्स पर सभी लाइसेंस प्राप्त बिल प्रोसेसर को 1 अप्रैल 2021 से NBBL के तहत अपने बिलिंग लेनदेन का लेखा-जोखा शुरू करने का निर्देश दिया गया है।

बिल भुगतान व्यवसाय के लिए एक अलग सहायक कंपनी स्थापित करने के निर्णय का उद्देश्य नए बिलरों के संचालन और ऑनबोर्डिंग में स्वायत्तता बढ़ाकर अंतःप्रचालनीय बिल प्लेटफॉर्म का विकास करना है। BBPS बिल संग्रह और अनुरोध समाधानों को स्वचालित करने के लिए बैंकों, फिनटेक कंपनियों और बिल व्यापारी द्वारा उपयोग के लिए 2013 में स्थापित एक अंतःप्रचालनीय बिल भुगतान मंच है।


8. जस्टिस एन.वी. रमण (Justice N.V. Ramana) होंगे भारत के 48वें मुख्य न्यायाधीश

भारत के राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने एस.ए. बोबडे द्वारा की गई सिफारिश को स्वीकार करते हुए न्यायमूर्ति एन.वी. रमण को भारत के 48वें मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया है। जस्टिस रमण का कार्यकाल 26 अगस्त, 2022 तक होगा। 17 फरवरी, 2014 को सुप्रीम कोर्ट में पदोन्नति से पहले, जस्टिस रमण दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश थे।

न्यायमूर्ति एन.वी. रमण (Justice N.V. Ramana – Nuthalapati Venkata Ramana) :

न्यायमूर्ति एन.वी. रमण (नूतलपति वेंकटरमण) वर्तमान में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायधीश हैं। वे 8 साल से सर्वोच्च न्यायालय में कार्य कर रहे हैं। वे 24 अप्रैल, 2021 को भारत के मुख्य न्यायधीश का पद संभालेंगे।

एन.वी. रमण का जन्म आंध्र प्रदेश में 27 अगस्त, 1957 को हुआ था। छात्र के रूप में उन्होंने 1975 में आपातकाल के दौरान नागरिक स्वतंत्रता के लिए संघर्ष किया। उन्होंने अधिवक्ता के रूप में 10 फरवरी, 1983 को एनरोल किया था। वे 27 जून, 2000 को आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के स्थाई न्यायधीश बने थे। 2 सितम्बर, 2013 को उन्हें दिल्ली उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायधीश नियुक्त किया गया था। 17 फरवरी, 2014 को वे सर्वोच्च न्यायालय के न्यायधीश बने थे।


9. डिजिट इंश्योरेंस ने विराट कोहली को बनाया ब्रांड एंबेसडर

डिजिट इंश्योरेंस ने क्रिकेटर विराट कोहली (Virat Kohli) को अपना ब्रांड एंबेसडर बनाया है। कोहली ने पूर्व में डिजिट इंश्योरेंस में निवेश भी किया है। डिजिट इंश्योरेंस, एक सामान्य बीमा कंपनी है, जो $1.9B के मूल्यांकन के साथ 2021 का पहला यूनिकॉर्न बन गया है।

इस एसोसिएशन के साथ, कंपनी का लक्ष्य क्रिकेटर के माध्यम से 'बीमा को सरल बनाने (making insurance simple)' के संदेश को ले जाने का है। ब्रांड के लिए चेहरा बनने से पहले डिजिट भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम के कप्तान द्वारा कंपनी में निवेश करने में सक्षम रहा।


10. आंध्र प्रदेश के राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन ने प्राप्त किया कलिंग रत्न सम्मान

ओडिशा में जन्मे आंध्र प्रदेश के राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन (Biswabhusan Harichandan) ने 2021 के लिए कलिंग रत्न सम्मान (Kalinga Ratna Samman) प्राप्त किया। उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने सरला भवन में सरला साहित्य संसद के 40 वें वार्षिक दिवस के अवसर पर कटक में प्रतिष्ठित पुरस्कार के साथ विश्वभूषण को सम्मानित किया।

कलिंग रत्न सम्मान में देवी सरस्वती की एक चांदी की मूर्ति, एक तांबे की पट्टिका और एक शॉल शामिल है।


11. समाजवादी पार्टी के संस्थापक सदस्य भगवती सिंह का निधन

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संस्थापक सदस्य और यूपी के पूर्व मंत्री भगवती सिंह (Bhagwati Singh) का निधन हो गया है। वह 89 वर्ष के थे।

सिंह का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा क्योंकि उन्होंने किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी को अपना शरीर दान करने का संकल्प लिया था।


12. जापानी नोबेल पुरस्कार विजेता इसामु अकासाकी का निधन

भौतिकी में 2014 के नोबेल पुरस्कार के सह-विजेता रहे, जापानी भौतिक विज्ञानी इसामु अकासाकी (Isamu Akasaki) का निधन हो गया हैं। विश्वविद्यालय में प्रोफेसर, अकासाकी को उस आविष्कार के लिए सम्मानित किया गया था, जिसने उज्ज्वल और ऊर्जा-बचत वाले सफेद प्रकाश स्रोतों में योगदान दिया है, जिसे व्यापक रूप से LED लैंप के रूप में जाना जाता है।

उन्हें 1997 में जापानी सरकार ने पर्पल रिबन के साथ मेडल के साथ सम्मानित किया था, यह सम्मान उन लोगों को दिया जाता है, जिन्होंने अकादमिक और कलात्मक विकास में योगदान दिया है।

2014 में, मीजो विश्वविद्यालय के प्रोफेसर, अकासाकी ने नागोया विश्वविद्यालय के एक प्रोफेसर, भौतिक विज्ञानी हिरोशी अमानो (Hiroshi Amano) और जापान में जन्मे अमेरिकी शूजी नाकामुरा (Shuji Nakamura), जो कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, सांता बारबरा में एक प्रोफेसर है, के साथ भौतिकी में नोबेल पुरस्कार साझा किया था। उन्होंने अमानो के साथ गैलियम नाइट्राइड क्रिस्टल का उत्पादन करने के लिए काम किया और 1989 में दुनिया की पहली ब्लू LED बनाने में सफल रहे।


13. मियामी ओपन : पोलैंड के ह्यूबर्ट हर्कज (Hubert Hurkacz) ने खिताब जीता

पोलैंड के ह्यूबर्ट हर्कज ने मियामी ओपन खिताब जीता है। उन्होंने जैनिक सिनर (Jannik Sinner) के खिलाफ खेलते हुए यह खिताब जीता।ह्यूबर्ट पोलैंड के पहले मास्टर्स 1000 चैंपियन बन गए हैं।

ह्यूबर्ट हर्कज (Hubert Hurkacz) :

  • 2018 में, ह्यूबर्ट ने मिलान में आयोजित नेक्स्ट जनरल एटीपी फाइनल के लिए क्वालिफाई किया था।

  • 2019 में, उन्होंने विंस्टन-सलेम में अपना पहला एटीपी खिताब जीता था।

  • 2020 के फ्रेंच ओपन में, उन्हें नंबर 29 पर रखा गया था।

  • वह 2021 ग्रेट ओशन रोड ओपन में क्वार्टर फाइनल तक पहुंचे।यह मेलबोर्न, ऑस्ट्रेलिया में आयोजित किया गया था।

मियामी ओपन (Miami Open) : मियामी ओपन को मियामी मास्टर्स भी कहा जाता है। यह टूर्नामेंट मियामी, फ्लोरिडा में हार्ड रॉक स्टेडियम में आयोजित किया जाता है। यह टूर्नामेंट 1987 से आयोजित किया जा रहा है।

एटीपी मास्टर्स (ATP Masters) : यह नौ टेनिस टूर्नामेंटों की एक श्रृंखला है जिसमें शीर्ष रैंक वाले खिलाड़ी शामिल हैं। नोवाक जोकोविच के पास इस श्रृंखला में अधिकांश खिताब जीतने का रिकॉर्ड है। वह कैरियर गोल्डन मास्टर्स पूरा करने वाले एकमात्र टेनिस खिलाड़ी हैं।


14. जम्मू-कश्मीर में किया गया ट्यूलिप फेस्टिवल का उद्घाटन

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) ने कश्मीर घाटी में श्रीनगर में ट्यूलिप फेस्टिवल का उद्घाटन किया। ज़बरवन पर्वत (Zabarwan Mountains) की तलहटी में 64 से अधिक किस्मों के 15 लाख से अधिक फूल पूरी तरह खिल चुके हैं।

श्रीनगर में विश्व प्रसिद्ध डल झील के किनारे ज़बरवान पहाड़ियों की तलहटी में एशिया के सबसे बड़े ट्यूलिप गार्डन में पांच दिवसीय ट्यूलिप महोत्सव का अय्प्जन किया गया है।

ट्यूलिप गार्डन 25 मार्च को पर्यटकों और आम जनता के लिए खोला गया था।

पिछले साल COVID-19 की अभूतपूर्व स्थिति के कारण ट्यूलिप फेस्टिवल का आयोजन नहीं हो सका।

हालांकि, इस बार अधिक से अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए बड़े पैमाने पर ट्यूलिप फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है।

3 से 7 अप्रैल तक होने वाले ट्यूलिप फेस्टिवल में एक पेंटिंग प्रतियोगिता के अलावा कश्मीरी लोक संगीत का प्रदर्शन किया जाएगा।


15. विश्व का सबसे ऊँचा रेलवे पुल : चिनाब ब्रिज में आर्क क्लोजर का काम पूरा हुआ

भारतीय रेलवे ने हाल ही में दुनिया के सबसे ऊंचे रेलवे पुल, चिनाब पुल (Chenab Bridge) के आर्क क्लोजर को पूरा किया है। यह पुल उधमपुर-श्रीनगर-बारामूला रेल लिंक परियोजना (Udhampur-Srinagar-Baramulla Rail Link Project) का एक हिस्सा है।

आर्क क्लोजर (Arch Closure) :

  • आर्क क्लोजर पुल के सबसे कठिन हिस्सों में से एक था।

  • आर्क में स्टील के बक्से होते हैं।आर्क की स्थिरता में सुधार करने के लिए, कंक्रीट को बक्से में भरना पड़ता है।

  • इस आर्क का कुल वजन 10,619 मीट्रिक टन है।

  • “टेकला” सॉफ्टवेयर का उपयोग आर्क के संरचनात्मक विवरण के लिए किया गया था।

  • आर्क में प्रयुक्त स्टील -40 डिग्री सेल्सियस का सामना कर सकता है।

  • आर्क का स्पैन 467 मीटर और मेहराब की लंबाई 480 मीटर है।

मुख्य बिंदु : यह पुल चिनाब नदी के ऊपर बनाया जा रहा है। इस नदी का 467 मीटर का केंद्रीय फैलाव है। यह नदी के तल से 359 मीटर की ऊंचाई पर बनाया जा रहा है। यह पुल दिल्ली के कुतुब मीनार से भी अधिक ऊंचा है, जिसकी ऊंचाई 72 मीटर है। और यह पेरिस के एफिल टॉवर से भी ऊँचा है जिसकी ऊंचाई 324 मीटर है।

नदी के ऊपर पुल के मेहराब को केबल कार का उपयोग करके निर्माण की नई विधि द्वारा बनाया जा रहा है। दो केबल कारें जो 20 एमटी और 37 एमटी की क्षमता वाली हैं, विशेष रूप से निर्मित उच्च टावरों से जुड़ी होती हैं जिन्हें पाइलन्स कहा जाता है। इस पुल के निर्माण में 3,27,051 मीट्रिक टन संरचनात्मक स्टील का उपयोग किया जाएगा।





  • Source of Internet

6 views0 comments