Search

3rd September | Current Affairs | MB Books


1. WHO ने की गंभीर COVID-19 मरीजों को Steroid देने की सिफारिश, ट्रायल में कामयाब रहे 2 स्टेरॉयड

दुनियाभर के अध्ययनों ने पुष्टि की है कि स्टेरॉयड (steroids) कोविड-19 महामारी में जान बचा सकते हैं, जिसके चलते विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नए सिरे से सिफारिश की कि डॉक्टरों को गंभीर रूप से बीमार रोगियों को स्टेरॉयड देना चाहिए। जून में, अधिकांश एनएचएस अस्पतालों में रिकवरी ट्रायल चला और ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के नेतृत्व में पाया गया कि कोविड-19 से बीमार आठ लोगों में से एक को वेंटिलेटर की जरूरत है, जिसे डेक्सामेथासोन (Dexamethasone) नामक स्टेरॉयड द्वारा बचाया जा सकता है।

द गार्जियन (The Guardian) में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, अब, उस परीक्षण के संयुक्त परिणामों और छह अन्य लोगों ने उन निष्कर्षों की पुष्टि की है और स्थापित किया है कि कम से कम एक समान रूप से सस्ते और व्यापक रूप से उपलब्ध स्टेरॉयड हाइड्रोकार्टिसोन (Hydrocortisone) भी जीवन बचाता है

अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन के जर्नल में प्रकाशित, सात परीक्षणों के कुल 1,703 रोगियों को कवर करने वाले परिणामों के एक मेटा-विश्लेषण के अनुसार, इन गंभीर रूप से बीमार रोगियों में मृत्यु का खतरा 20% तक कम हो जाता है पत्रिका में तीन परीक्षणों को भी अलग से प्रकाशित किया गया है

जोनाथन स्टर्न, ब्रिस्टल विश्वविद्यालय में मेडिकल और महामारी विज्ञान के एक प्रोफेसर और मेटा-विश्लेषण के प्रमुख लेखक ने कहा, "स्टेरॉयड एक सस्ती और आसानी से उपलब्ध दवा है, और हमारे विश्लेषण ने पुष्टि की है कि वे कोविद -19 से सबसे अधिक प्रभावित लोगों के बीच मौतों को कम करने में प्रभावी हैं"

"परिणाम परीक्षण के अनुरूप थे और उम्र या लिंग की परवाह किए बिना लाभ दिखाते थे" पूल किए गए परिणाम रिकवरी परीक्षण निष्कर्षों के महत्व को दर्शाते हैं क्योंकि वे ब्राजील और फ्रांस सहित कई देशों के रोगियों के विविध समूह से हैं उन्होंने कहा, "हमें इन सभी परीक्षणों से एक सुसंगत संदेश मिला है और हाइड्रोकार्टिसोन का प्रभाव डेक्सामेथासोन के प्रभाव के अनुरूप है"

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में मेडिसिन और महामारी विज्ञान के प्रोफेसर मार्टिन लैंडरे और रिकवरी परीक्षण के उप मुख्य जांचकर्ता ने कहा डॉक्टरों द्वारा स्टेरॉयड का इस्तेमाल करने का समय वह क्षण था जब वे एक मरीज के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर तक पहुंचते हैं, जिसे सांस लेने में मदद की जरूरत होती है वो भी वेंटिलेटर पर जाने का इंतजार किए बिना

उन्होंने बताया कि इन दवाओं का पहले से ही व्यापक रूप से उपयोग किया जा रहा है मई में, कोविड अस्पताल के लगभग 7-8% रोगियों को डेक्सामेथासोन दिया जा रहा था, और जून के अंत तक यह लगभग 55% था

लैंडरे ने कहा, “यह एक दवा नहीं है जो कुछ दिनों के लिए अस्पताल में रहने के लिए $ 3,000 खर्च कराती है यह तीव्र, निवारक दवा के कई अन्य क्षेत्रों में इसकी लागत के आस-पास कहीं भी कोई नहीं है तो यह कोरोना से लड़ाई में एक व्यापक रूप से उपलब्ध और उपयोगी हथियार है मेरा मतलब है, डेक्सामेथासोन के साथ लोगों का इलाज करना, जीवन को बचाने के लिए 60 क्विड (60 पाउंड) देना या लेना है

2. मुस्तफा अदीब बने लेबनान के नए प्रधानमंत्री

जर्मनी में लेबनान के राजदूत मुस्तफा अदीब (Mustapha Adib) को संकटग्रस्त लेबनान का नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया है।

अदीब, जो 2013 से बेरूत के बर्लिन दूत रहे हैं, पूर्व प्रधानमंत्री नजीब मिकाती की अध्यक्षता वाली एक छोटी सुन्नी पार्टी से हैं।

लेबनान में हुए विस्फोट के कुछ दिनों बाद ही प्रधान मंत्री हसन दीब की सरकार ने अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को सौंप दिया था।

राष्ट्रपति मिशेल एउन ने जर्मनी में लेबनान के राजदूत अदीब से 128 सदस्यीय संसद में 90 वोट हासिल करने के बाद एक नई सरकार बनाने के लिए कहा था।


3. GII 2020: ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स में भारत ने लगाई 4 पायदान की छलांग, 48वें स्थान पर बनाई जगह

ग्लोबल इनोशन इंडेक्स (GII) 2020 में भारत 4 पायदान ऊपर चढ़कर 48वें स्थान पर पहुंच गया है। इस सूचकांक में पिछले साल भारत का स्थान 52वां था। भारत अब शीर्ष 50 उन्नतिशील देशों में शामिल है। विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (WIPO) हर साल ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स रैंकिंग जारी करता है। इस वर्ष, स्विट्जरलैंड, स्वीडन, यू.एस., यू.के. और नीदरलैंड वार्षिक रैंकिंग में शीर्ष स्थान पर है। संगठन के अनुसार, भारत, चीन, फिलीपींस, और वियतनाम वर्षों में अपनी जीआईआई नवाचार रैंकिंग में सबसे महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्था रहे हैं। यह चारों देश अब शीर्ष 50 में हैं।

पिछले पांच वर्षों में भारत की प्रगति अभूतपूर्व रही है। 2015 में, भारत सूची में 81 वें स्थान पर था 2016 में, यह 15 स्थानों की छलांग लगाकर 66 वें स्थान पर पहुंच गया 2017 में, यह 6 स्थानों पर फिर से 60वें स्थान पर पहुंच गया 2018 में, भारत 57 वें स्थान पर उतरने के लिए तीन और रैंक पर चढ़ गयापिछले साल इस सूची में 52 वें स्थान पर 5 स्थान की छलांग लगाईइस साल, देश आखिरकार शीर्ष 50 में पहुंच गया और 48 वें स्थान पर सूचीबद्ध है

WIPO ने अपने ग्लोबल इनोवेशन इंडेक्स (GII) 2020 में उल्लेख किया है कि COVID-19 महामारी गंभीर रूप से दुनियाभर के नवप्रवर्तन में लंबे समय से वृद्धि का दबाव बना रही है, जो संभवत: स्वास्थ्य क्षेत्र में, विशेष रूप से कहीं और प्रवीणता को उत्प्रेरित करते हुए कुछ नवीन गतिविधियों में बाधा उत्पन्न करती है स्विट्जरलैंड, स्वीडन, यूएस, यूके और नीदरलैंड एक दूसरे एशियाई अर्थव्यवस्था के साथ नवाचार रैंकिंग का नेतृत्व करते हैं, कोरिया गणराज्य - पहली बार शीर्ष 10 में शामिल हो रहा है (सिंगापुर नंबर 8 पर है) शीर्ष 10 में उच्च आय वाले देशों का दबदबा है

जीआईआई में शीर्ष प्रदर्शन करने वाली अर्थव्यवस्थाएं अभी भी विशेष रूप से उच्च-आय वर्ग से हैं, चीन (14 वें) के साथ जीआईआई शीर्ष 30 में एकमात्र मध्य-आय अर्थव्यवस्था शेष है मलेशिया (33 वां) इस प्रकार है. बता दें कि भारत (48 वां) और फिलीपींस (50 वां) इस साल पहली बार शीर्ष 50 में शामिल हुए2014 में फिलीपींस ने अपना सर्वश्रेष्ठ रैंक हासिल किया, यह 100 वें स्थान पर रहा निम्न मध्यम आय वर्ग के प्रमुख, वियतनाम वियतनाम लगातार दूसरे वर्ष में 2014 में 71 वें स्थान पर है इंडोनेशिया (85 वां) इस समूह के शीर्ष 10 में शामिल होता हैतंजानिया निम्न-आय वर्ग (88 वां) में सबसे ऊपर है

4. बांग्लादेश में प्रणब मुखर्जी की याद में एक दिवसीय राजकीय शोक

बांग्लादेश में बुधवार को भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के सम्मान में राजकीय शोक रखा गया। इस दौरान 1971 के मुक्ति संग्राम और द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने में मुखर्जी के ''उत्कृष्ट और अविस्मरणीय'' योगदान को याद किया गया। बांग्लादेश में बुधवार को सभी सरकारी, अर्ध-सरकारी, स्वायत्त तथा निजी संस्थानों और विदेश में बांग्लादेश के मिशनों में राष्ट्रध्वज को शोक स्वरूप आधा झुका हुआ रखा गया।

मुखर्जी (84) का 21 दिन तक विभिन्न बीमारियों से जूझने के बाद सोमवार को नयी दिल्ली में निधन हो गया था। मंगलवार को पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया था। बांग्लादेश सरकार ने देश के ''सच्चे मित्र'' मुखर्जी के निधन पर मंगलवार के एक दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा की थी। सरकार ने एक बयान में विभिन्न धर्मों के धार्मिक स्थलों पर मुखर्जी के लिये विशेष प्रार्थनाएं आयोजित करने का आग्रह किया है।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने अपने भारतीय समकक्ष नरेन्द्र मोदी को भेजे गए पत्र में कहा कि मुखर्जी को एक प्रसिद्ध विद्वान और भारत के राजनेता तथा दक्षिण एशिया के अति सम्मानित नेता के रूप में हमेशा याद किया जाता रहेगा। उन्होंने कहा कि भारत के लोगों के कल्याण के लिए ''भारत रत्न'' मुखर्जी के अथक परिश्रम से न केवल भारत बल्कि क्षेत्र के दूसरे देशों के भावी पीढ़ी के नेताओं को प्रेरणा मिलेगी। हसीना ने द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने में मुखर्जी के योगदान को याद करते हुए उन्हें एक ''सच्चा मित्र'' बताया और कहा कि ''बांग्लादेश के लोग उन्हें बहुत प्रेम करते थे और सम्मान देते थे।'' हसीना ने कहा कि 1975 में जब उनके पिता तथा बांग्लादेश के संस्थापक बंग बंधु शेख मुजीबुर रहमान की हत्या के बाद उनके परिवार के अधिकांश सदस्यों को भारत में शरण लेनी पड़ी, तो मुखर्जी ने हमेशा उनकी मदद की।

5. ICICI प्रूडेंशियल लाइफ ने गूगल असिस्टेंट पर लॉन्च किया वॉइस चैटबोट "LiGo"

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड ने गूगल असिस्टेंट पर एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) -संचालित वॉइस चैटबोट, "LiGo" लॉन्च किया है।

इससे कंपनी के पॉलिसीधारक को आसान वॉयस कमांड द्वारा अपने प्रश्नों का उत्तर ले सकेंगे। यह ग्राहकों के लिए उपयोग में आसान और सुविधाजनक सर्विस टच-पॉइंट प्रदान करता है।

6. अवीक सरकार बने प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया के नए अध्यक्ष

एमेरिटस संपादक और आनंद बाज़ार ग्रुप ऑफ़ पब्लिकेशन्स के उपाध्यक्ष अवीक सरकार को प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (PTI) का नया अध्यक्ष चुना गया है।

वह पंजाब केसरी अखबारों समूह के मुख्य संपादक विजय कुमार चोपड़ा की जगह लेंगे।

अवीक सरकार भारतीय पेंगुइन बुक्स, पेंगुइन इंडिया के संस्थापक प्रबंध निदेशक, बिजनेस स्टैंडर्ड के संस्थापक संपादक और एबीपी ग्रुप द्वारा 2003 में स्टार न्यूज के अधिग्रहण में महत्वपूर्ण भूमिका रही थी।

7. हेमंत खत्री बने हिंदुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड के नए CMD

कमोडोर हेमंत खत्री (सेवानिवृत्त) ने आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में स्थित भारत सरकार-स्वामित्व वाले रक्षा शिपबिल्डर हिंदुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड (HSL) के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक के रूप में पदभार ग्रहण किया है।

वह रियर एडमिरल एल वी शरत बाबू (सेवानिवृत्त) का स्थान लेंगे।

इससे पहले, हेमंत खत्री HSL में रणनीतिक परियोजनाओं के निदेशक के रूप में सेवा दे रहे थे।

8. केंद्र सरकार ने PUBG समेत 118 चीनी ऐप्स पर लगाया बैन

केंद्र सरकार ने हाल ही में एक और बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने पबजी (PUBG) समेत 118 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। भारत और चीन के बीच जारी तनाव (India-China tension) के बीच सरकार ने तीसरी बार चीनी मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाया है। केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए इन पर बैन लगाया है।

सरकार द्वारा इस बार जिन चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाया गया है उनमें पबजी के अतिरिक्त लिविक, वीचैट वर्क और वीचैट रीडिंग, ऐपलॉक, कैरम फ्रेंड्स जैसे मोबाइल ऐप शामिल हैं। चीन के साथ तनाव के बीच इन ऐप पर बैन लगना चीन के लिए एक और झटका है। प्रतिबंध की बात करें तो भारत सरकार सीमा विवाद के बीच अबतक कुल 224 चीनी ऐप्स पर बैन लगा चुकी है।

राष्ट्रीय सुरक्षा के वजह से लगा बैन

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने धारा 69ए के तहत इन मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाने का फैसला किया है। मंत्रालय ने कई शिकायतें मिलने के बाद बैन लगाने का यह फैसला लिया है। सरकार की तरफ से 02 सितम्बर 2020 को जारी बयान में कहा गया है कि ये ऐप राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा थे। केंद्र सरकार के अनुसार ये ऐप भारत की संप्रभुता, रक्षा और राज्यों की सुरक्षा व पब्लिक ऑर्डर के खिलाफ गतिविधियों में शामिल थे।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने क्या कहा?

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा कि उसे विभिन्न स्रोतों से मिली शिकायतों में एंड्रॉयड और आईओएस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कुछ मोबाइल ऐप के दुरुपयोग की रिपोर्ट शामिल हैं। इनमें कहा गया है कि ये ऐप उपयोगकर्ताओं का डाटा चुराकर भारत के बाहर मौजूद सर्वर को अनधिकृत तरीके से भेजते हैं। भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति शत्रुता रखने वाले तत्वों की ओर से इन आंकड़ों को इकट्ठा करना, इनकी जांच-पड़ताल और प्रोफाइलिंग भारत की संप्रभुता और अखंडता के लिए खतरा है। मंत्रालय ने कहा कि इसे रोकने के लिए आपातकालीन उपायों की जरूरत थी।

अब तक 224 चीनी मोबाइल ऐप्स पर लगा प्रतिबंध

इससे पहले टिकटॉक समेत चीन के कई ऐप पर प्रतिबंध लगाए जा चुके हैं। भारत ने जून के आखिर में टिकटॉक, हेलो समेत चीन के 59 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाया था। बाद में जुलाई के आखिर में 47 और चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाया गया। इस तरह अबतक चीन के 224 ऐप पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है।

9. सेना प्रमुख नरवणे 2 दिवसीय लद्दाख दौरे पर

सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने गुरुवार लद्दाख का दो दिवसीय दौरा शुरू किया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि पेगोंग झील के दक्षिणी तट के आस-पास यथास्थिति को बदलने के चीन के हालिया प्रयासों के मद्देनजर क्षेत्र में सुरक्षा स्थिति की व्यापक समीक्षा करने के मकसद से सेना प्रमुख का यह दौरा हो रहा है।

उन्होंने बताया कि क्षेत्र में सैनिकों की तैनाती का निरीक्षण कर रहे सेना के शीर्ष कमांडर जनरल नरवणे को उत्पन्न हुई स्थिति के साथ ही क्षेत्र में मुकाबले की भारत की तैयारी से अवगत कराएंगे।

एक सूत्र ने कहा, 'लद्दाख क्षेत्र में सामरिक तैयारियों की समीक्षा के लिए चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ लेह के दो दिवसीय दौरे पर हैं।'

पेगोंग झील इलाके में उस वक्त तनाव बढ़ गया था जब चीन ने झील के दक्षिणी तट में कुछ इलाकों पर कब्जा करने का असफल प्रयास किया जिसके बाद भारत ने संवेदनशील क्षेत्र में अतिरिक्त सैनिक एवं हथियार भेजे।

भारतीय सेना ने सोमवार को कहा कि चीनी सेना ने 29 और 30 अगस्त की दरम्यानी रात को पेगोंग झील के दक्षिणी तट पर एकतरफा तरीके से यथास्थिति बदलने की उकसाने वाली सैन्य गतिविधियां की लेकिन भारतीय सैनिकों ने उसके प्रयास को विफल कर दिया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने मंगलवार को कहा कि चीन की पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) फिर से एक दिन पहले उकसाने वाली कार्रवाई कर रही थी जब दोनों पक्ष के कमांडर स्थिति को सामान्य बनाने के लिए वार्ता कर रहे थे।

इन प्रयासों के बाद, भारतीय सेना ने पेगोंग झील के दक्षिणी किनारे पर कम से कम तीन रणनीतिक चोटियों पर अपनी उपस्थिति बढ़ा दी थी।

सूत्रों ने कहा कि एहतियात के तौर पर वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के भारतीय हिस्से में पेगोंग झील के उत्तरी तट पर सैनिकों की तैनाती में कुछ फेर-बदल भी किए गए हैं।

10. भारत ने बनाई फोरेंसिक एकाउंटिंग और जांच मानकों को जारी करने की योजना

भारत सरकार की फोरेंसिक एकाउंटिंग और जांच मानकों (FAIS) को जारी करने की योजना है क्योंकि इसका उद्देश्य जांच करने के लिए बुनियादी गुणवत्ता मानकों को निर्धारित करना है।

FAIS पर विचार करने के लिए दी इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया (ICAI) द्वारा एक समिति का गठन किया गया है, जिसे वर्ष 2020 के अंत तक गठित किए जाने की उम्मीद की जा रही है। एक आभासी सम्मेलन के दौरान चार्टर्ड एकाउंटेंट्स निकाय के अध्यक्ष अतुल कुमार गुप्ता ने बताया।

ICAI के अनुसार, फोरेंसिक एकाउंटिंग और जांच मानकों (FAIS) को लागू करने का निर्णय भारत को इन मानकों को जारी करने वाला दुनिया का पहला देश बना देगा।

FAIS का उद्देश्य क्या होगा?

ICAI द्वारा जारी किए गए एक बयान के अनुसार, FAIS के प्रस्तावित उद्देश्य, उन क्षेत्रों में कार्य संचालित करने के लिए बुनियादी गुणवत्ता बेंचमार्क सेट करते हुए, फोरेंसिक और जांच के दोनों क्षेत्रों में सर्वोत्तम प्रथाओं को संहिताबद्ध करना होगा।

FAIS की स्थापना क्यों महत्वपूर्ण है?

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 200 करोड़ रुपये से अधिक के लेनदेन के लिए फोरेंसिक ऑडिट अनिवार्य कर दिया है। जबकि कंपनियां या ऋणदाता संदिग्ध धोखाधड़ी के मामले में निजी तौर पर इस तरह की जांच के लिए बुलाते हैं या ऐसा ऑडिट करते हैं।

अतुल कुमार गुप्ता के अनुसार, उन सभी कंपनियों के लिए एक सीमा से ऊपर, फोरेंसिक उचित जांच होनी चाहिए जहां सार्वजनिक हित शामिल है।

इन मानकों को स्थापित करने का निर्णय फोरेंसिक रिपोर्टिंग और जांच के मानकीकरण की कमी के कारण किया गया था, जो ऐसी रिपोर्टों में काफी अंतर पैदा करता है।

अदालती कार्यवाही में साक्ष्य के तौर पर फोरेंसिक रिपोर्ट की गुणवत्ता और उनकी ग्राह्यता में सुधार के अलावा, इस कदम से बैंकों, नियामकों, कॉर्पोरेट संस्थाओं और प्रवर्तन एजेंसियों जैसेकि, आर्थिक अपराध विंग, गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) को भी लाभ होने की उम्मीद है।

फोरेंसिक एकाउंटिंग और जांच मानक का गठन

FAIS (फोरेंसिक एकाउंटिंग और जांच मानक) में 30 मानक शामिल होंगे जो आवश्यक कार्य/ प्रभाव क्षेत्र के सभी पहलुओं को कवर करते हैं।

ICAI अपने विचार-विमर्श के दौरान, विभिन्न हितधारकों से परामर्श करने की योजना बना रहा है जिसमें भारतीय रिज़र्व बैंक, कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय, भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक और भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड शामिल होंगे।

इन ड्राफ्ट मानकों को सार्वजनिक टिप्पणियों के लिए भी जारी किया जाएगा, जिसके बाद ICAI ये मानक जारी करेगा।

एक बार इन मानकों को जारी करने के बाद, ये मानक ऐसे सभी ICAI सदस्यों के लिए प्रत्याशित प्रभाव के साथ अनिवार्य होंगे जो फोरेंसिक और जांच गतिविधियों के क्षेत्र में काम कर रहे हैं और इन मानकों के अनुपालन में विफलता के कारण अनुशासनात्मक कार्रवाई होगी।

11. रक्षा मंत्रालय ने BEML, TPCL और L&T के साथ 2580 करोड़ रुपये के अनुबंध पर किए हस्ताक्षर

रक्षा मंत्रालय के अधिग्रहण विंग ने मैसर्स भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (BEML), मैसर्स टाटा पावर कंपनी लिमिटेड (TPCL) और मैसर्स लार्सन एंड टुब्रो (L&T) के साथ 2580 करोड़ रुपये के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं।

अनुबंध पर हस्ताक्षर भारतीय सेना के आर्टिलरी रेजिमेंट को छह पिनाका रेजिमेंट की आपूर्ति के लिए किए गए हैं और जिससे सशस्त्र बलों की संचालन तैयारियों को और अधिक बल मिलेगा।

इन छह पिनाका रेजीमेंट में ऑटोमेटेड गन ऐमिंग एंड पोजिशनिंग सिस्टम (AGAPS) के साथ 114 लॉन्चर और 45 कमांड पोस्ट हैं जिन्हें मैसर्स टीपीसीएल और मैसर्स एलएंडटी से खरीदा जायेगा तथा 330 वाहनों को मैसर्स बीईएमएल से खरीदा जाएगा, जिसे 2024 तक छह पिनाका रेजीमेंट में शामिल करने की योजना है।

साथ ही, यह रक्षा क्षेत्र में भारत सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ पहल को और बढ़ावा प्रोत्साहित करेगा।

12. जयपुर में देश का पहला क्षेत्रीय मतदान जागरुकता केन्द्र किया जाएगा स्थापित

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने अधिकारियों से कहा है कि वे कोरोना वायरस संक्रमण से उपजी चुनौतियों के अनुसार चुनावों की तैयारी करें। अरोड़ा ने यहां राज्य निर्वाचन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण महामारी को ध्यान में रखते हुए निर्वाचनों के संचालन के संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। उन्होंने इन दिशा निर्देशों की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए निर्देशित किया कि सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को इनसे अवगत कराया जाये एवं अभी से ही महामारी को ध्यान में रखते हुए सभी प्रकार की व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं।

अरोड़ा ने बताया कि मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम और इससे पहले जो भी कार्यवाही अभी तक परम्परागत तरीके से की जाती थी उसमें भी आमूल-चूल परिवर्तन किया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि आम नागरिकों को अधिक से अधिक ऑनलाइन आवेदन करने के लिए जागरूक किया जाए। इसी प्रकार से चुनाव मशीनरी को भी अधिकांश कार्य ऑनलाइन करने हेतु प्रशिक्षित किया जाए।

उन्होंने कहा कि इसी तरह 80 वर्ष और इससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों तथा विशेष योग्यजनों को भविष्य में पोस्टल बैलेट के माध्यम से वोट डालने की आयोग की सुविधा के बारे में बताया ताकि मतदान केन्द्र पर गये बिना मतदान किया जा सके।

उल्लेखनीय है कि जयपुर में भारत निर्वाचन आयोग का पहला क्षेत्रीय मतदान जागरूकता केन्द्र स्थापित किया जायेगा। इस बाबत राजस्थान सरकार ने इंदिरा गांधी नगर में 3385 वर्ग मीटर भूमि निःशुल्क आवंटित की है। इस केन्द्र के निर्माण का व्यय भारत निर्वाचन आयोग द्वारा किया जायेगा।

13. AFHQ CS कैडर के प्रभावी उपयोग की समीक्षा के लिए गठित की गई समिति

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सशस्त्र बल मुख्यालय सिविल सेवा (AFHQ CS) कैडर के प्रभावी उपयोग की समीक्षा करने के लिए लेफ्टिनेंट जनरल शेखतकर (सेवानिवृत्त) की अध्यक्षता में 3 सदस्यीय समिति के गठन को मंजूरी दी है।

समिति के दो अन्य सदस्य हैं AFHQ कैडर के सेवानिवृत्त अधिकारी आर. चंद्रशेखर और रक्षा मंत्रालय वित्त विंग के एएन दास होंगे

समिति रक्षा मंत्रालय को सिविल के साथ-साथ सेवा मुख्यालय में सैन्य प्रशासनिक नियुक्तियों का अनुकूलन करने में सक्षम बनाएगी।

14. मिशन कर्मयोगी भविष्य के लोक सेवक तैयार करेगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि नौकरशाही में व्यापक सुधार के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा राष्ट्रीय सिविल सेवा क्षमता निर्माण कार्यक्रम ‘मिशन कर्मयोगी' को मंजूरी प्रदान किए जाने से सरकार में मानव संसाधन प्रबंधन की पद्धतियों में मूलभूत सुधार आएगा।

उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा, ‘‘सिविल सर्विस क्षमता निर्माण के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम- ‘मिशन कर्मयोगी' सरकार में मानव संसाधन प्रबंधन कार्य प्रणाली में मौलिक सुधार करेगा। यह सरकारी कर्मचारियों की क्षमता बढ़ाने के लिए पैमाने और आधुनिक बुनियादी ढांचे का उपयोग करेगा।''

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज नौकरशाही में व्यापक सुधार के लिए ‘मिशन कर्मयोगी' को मंजूरी दे दी। इसका उद्देश्य ऐसे लोक सेवक तैयार करना है, जो अधिक रचनात्मक, चिंतनशील, नवाचारी, व्यावसायिक और प्रौद्योगिकी-सक्षम हों। प्रधानमंत्री ने कहा, “आईजीओटी प्लेटफ़ॉर्म कार्य-आधारित मानव संसाधन प्रबंधन और निरंतर ज्ञान के लिए परिवर्तन सक्षम करेगा.

मिशन कर्मयोगी का उद्देश्य पारदर्शिता और प्रौद्योगिकी के माध्यम से भविष्य के लिए सरकारी कर्मचारियों को अधिक सृजनात्‍मक, रचनात्मक और नवोन्‍मेषी बनाना है।” इस कार्यक्रम को लोक सेवकों के लिए क्षमता विकास के लिए आधारशिला रखने हेतु बनाया गया है ताकि वे भारतीय संस्कृति और संवेदनाओं से सराबोर रहें और विश्व भर की श्रेष्ठ पद्धतियों से सीखते हुए अपनी जड़ों से जुड़े रहें।

इस कार्यक्रम को एकीकृत सरकारी ऑनलाइन प्रशिक्षण-आईगॉट कर्मयोगी प्लेटफार्म की स्थापना करके कार्यान्वित किया जाएगा।

15. IIT-बॉम्बे के छात्रों ने लॉन्च की AI- आधारित स्कैनिंग ऐप "AIR Scanner"

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) बॉम्बे के छात्रों ने फ्री में यूज़ की जाने वाली एक मोबाइल स्कैनर एप्लीकेशन "AIR Scanner" विकसित की है।

एप्लिकेशन पीडीएफ फॉर्मेट में स्कैन किए गए दस्तावेज़ को सेव करके डिवाइस में सीधे स्टोर करता है।

एआई (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) आधारित रीडिंग असिस्टेंट और डॉक्यूमेंट स्कैनर ऐप रोहित कुमार चौधरी और कविन अग्रवाल द्वारा विकसित किया गया है।

16. Adani Green ने विश्व के सबसे बड़े सौर ऊर्जा उत्पादक का दर्जा हासिल किया

भारतीय अक्षय ऊर्जा कंपनी, अडानी ग्रीन को क्षमता के मामले में दुनिया की नंबर वन सौर ऊर्जा कंपनी के रूप में स्थान दिया गया है। 2.3 गीगावॉट क्षमता के साथ अडानी ग्रुप सोलर पावर में टॉप डेवलपर बन चुका है। वैश्विक सौर कंपनियों की नवीनतम रैंकिंग में अडानी ग्रुप को नम्‍बर वन वैश्विक सौर ऊर्जा उत्पादन संपत्ति के मालिक का दर्जा दिया गया है।

मेरकॉम कैपिटल द्वारा वैश्विक सौर कंपनियों की नवीनतम रैंकिंग में अडानी ग्रुप को शीर्ष वैश्विक सौर ऊर्जा उत्पादन कंपनी का दर्जा दिया गया है। मेरकॉम की स्टडी के अनुसार, अडानी ग्रीन का सौर ऊर्जा पोर्टफोलियो अब 12.32 गीगावॉट तक पहुंच चुका है, जो साल 2019 में अमेरिका में इन्सटॉल की गई कुल क्षमता से अधिक है।

10.1 गीगावॉट की निर्माणाधीन परियोजनाएं

कंपनी के पास 10.1 गीगावॉट की निर्माणाधीन परियोजनाएं हैं। इस लिहाज से भी कंपनी शिखर पर है। अडानी समूह के अध्यक्ष गौतम अडानी ने इस रैंकिंग के बारे में बताते हुए कहा कि इस रैंकिंग को प्राप्त करना एक पर्यावरण हितैषी उर्जा के भविष्य के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा तैयार करने की हमारी प्रतिबद्धता का सीधा परिणाम है।

परियोजना के महत्व

गौतम अडानी ने कहा कि उम्मीद करते हैं कि हमारा अक्षय ऊर्जा का प्लेकटफॉर्म हमारे मुख्य व्यवसाय के लिए नई संभावनाएं पैदा करेगा। उन्होंने कहा कि हमें भरोसा है कि यह बिजनेस नए आयामों को हासिल करेगा। कंपनी के चेयरमैन गौतम अडानी ने अनुमान जताया कि आने वाले एक दशक में कई बिजनेस मॉडल्स पर असर पड़ने वाला है क्योंकि नवीकरणीय ऊर्जा का चलन और तकनीक की पकड़ बेहतर होगी।

2025 तक 25 गीगावॉट का लक्ष्य

कंपनी ने कहा कि निर्माणाधीन और सक्रिय क्षमता के आधार पर, मेरकॉम कैपिटल ने अडानी ग्रीन को महज पांच साल की समयावधि में दुनिया की सबसे बड़ी सौर ऊर्जा कंपनी करार दिया है। कंपनी का लक्ष्य है साल 2025 तक 25 गीगावॉट की इन्सटॉल की गई क्षमता तक पहुंचा जाए।

कंपनी द्वारा पहली सौर परियोजना की स्थापना

कंपनी ने वर्ष 2015 में अपनी पहली सौर परियोजना की स्थापना की और साल 2017 में ही कंपनी ने दो सौर परियोजनाओं को पूरा कर दिया। कंपनी साल 2018 में लिस्ट हुई थी। मेरकॉम के घोषणा के बाद कंपनी के शेयर 10 प्रतिशत की तेजी के साथ 546 रुपये के भाव तक पहुंच गए।

अडानी ग्रुप: एक नजर में

अडानी ग्रुप दुनिया के सबसे अधिक एकीकृत सौर कंपनियों में से एक है। यह सोलर सेल और मॉड्यूल का निर्माण करता है, परियोजना विकास, निर्माण, वित्तीय संरचना आधारित उपक्रमों का संचालन करता है तथा स्वामित्व और अपने सुदृढ़ आंतरिक परिसंपत्ति प्रबंधन प्‍लेटफॉर्म के जरिये अपनी परिसंपत्तियों का परिचालन करता है।

17. ईशा और आकाश अंबानी Fortune ‘40 अंडर 40’ की लिस्ट में शामिल

अंबानी परिवार के सदस्य ईशा (Isha) और आकाश अंबानी (Akash Ambani) को फॉर्च्यून की ‘40 अंडर 40’ की लिस्ट(Fortune 40 Under 40 List) में शामिल किया गया है। फाइनेंस, टेक्नॉलोजी, हेल्थकेयर, पॉलिटिक्स और मीडिया एवं एंटरटेनमेंट की कैटेगरी में फॉर्च्यून ने लिस्ट जारी की है। प्रत्येक कैटेगरी में दुनिया की 40 हस्तियां शामिल किया गया है, जिनकी उम्र 40 से कम है। ईशा और आकाश अंबानी का नाम टेक्नॉलोजी कैटेगरी में शुमार है।

फॉर्च्यून लिखता है कि जुड़वां ईशा और आकाश ने जियो (Jio) को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। इन दोनों ने ही फेसबुक (Facebook) के साथ 9.99% हिस्सेदारी के लिए 5.7 बिलियन डॉलर मेगा डील को सफलतापूर्वक पूरा किया। गूगल, क्वालकॉम और इंटेल जैसी कंपनियों को रिलायंस (Reliance) के साथ जोड़ने और उनसे निवेश प्राप्त करने का काम भी इन्हीं की लीडरशिप में पूरा हुआ। आकाश ने 2014 में ब्राउन यूनिवर्सिटी से अर्थशास्त्र की डिग्री लेकर अपने फैमिली बिजनेस को ज्वाइन किया वहीं ईशा 1 साल बाद जियो को ज्वाइन किया। ईशा ने येल, स्टैनफोर्ड जैसे संस्थानों में पढ़ाई की है।

जियोमार्ट (Jiomart) को लॉन्च करने में आकाश और ईशा की भूमिका की भी फॉर्च्यून ने प्रशंसा की है। मई महीने में ही रिलायंस ने जियोमार्ट को लॉन्च किया था। आज जियोमार्ट पर हर रोज करीब 4 लाख ऑर्डर बुक हो रहे हैं। भारत में तेजी से बढ़ रहे ई-कॉमर्स मार्केट में रिलायंस अब दिग्गज अमेजन और फ्लिपकार्ट के लिए चुनौती पेश कर रहा है।

18. वर्ष 2023-24 तक कोल इंडिया 500 परियोजनाओं पर 1.22 लाख करोड़ रुपये का निवेश करेगा

कोल इंडिया लिमिटेड (CIL) ने देश में आधारभूत संरचना, कोयला निकासी, परियोजना विकास, स्वच्छ कोयला प्रौद्योगिकी और अन्वेषण से संबंधित लगभग 500 परियोजनाओं के विकास के लिए 1.22 लाख करोड़ रुपये रुपये से अधिक का निवेश करने का फैसला किया है।

इस निवेश का प्रमुख लक्ष्य भारत को कोयले के मामले में आत्मनिर्भर बनाने के साथ-साथ वर्ष 2023-2024 तक 1 बिलियन टन का उत्पादन लक्ष्य हासिल करना है।

कोयला खान मंत्री प्रह्लाद जोशी ने हितधारकों की बैठक को संबोधित करते हुए यह बताया कि, कंपनी के मामलों में सभी हितधारकों की भागीदारी इस परियोजना के जोखिमों को उजागर और कम करेगी।

मुख्य विशेषताएं

• राष्ट्रीय खनिक, कोल इंडिया लिमिटेड अगले 3 से 4 साल में 49 फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट्स के लिए दो चरणों में लगभग 14,200 करोड़ रुपये का निवेश करेगा।

• फर्स्ट माइल कनेक्टिविटी में पिटहेड्स से डिस्पैच पॉइंट तक कोयले का परिवहन किया जाएगा।

• सड़क के माध्यम से परिवहन की मौजूदा पद्धति को बदलने के लिए कोयले की कंप्यूटर एडेड लोडिंग तकनीक भी विकसित की गई है।

• CIL वर्ष 2023-24 तक कुल 1.22 लाख करोड़ रुपये की प्रस्तावित राशि में से खान अवसंरचना पर 25,117 करोड़ रुपये, कोयला निकासी पर 32,696 करोड़ रुपये और परियोजना के विकास पर 29461 करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना बना रहा है।

आत्मनिर्भरता और विकास का समर्थन करने के लिए अन्य योजनाएं

कोल इंडिया लिमिटेड ने ऐसी 15 ग्रीनफील्ड परियोजनाओं की भी पहचान की है, जो माइन डेवलपर एंड ऑपरेटर मॉडल (MDO) के तहत संचालित की जाएंगी, इस क्रम से कुल मिलाकर 34,600 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।

इस बैठक में कोल इंडिया ने हितधारकों की अधिक भागीदारी के लिए रियायत और छूट के उपायों की भी घोषणा की है। खनन निविदाओं के लिए अनुभव मानदंड को 65% से 50% तक कम किया गया है, जबकि टर्नकी अनुबंधों के लिए कार्य अनुभव मानदंड में 50% की छूट दी गई है।

16 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved