Search

31st October | Current Affairs | MB Books


1. विदेश सचिव ने फ्रांसीसी राजनयिक से मुलाकात की, सुरक्षा सहित विभिन्न मुद्दों पर हुई चर्चा

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने शुक्रवार को फ्रांस की अंतरराष्ट्रीय संबंध और रणनीति महानिदेशक (डीजीआरआईएस) एलिस गुइटन के साथ "महत्त्वपूर्ण बैठक" की जिसमें उन्होंने भारत-प्रशांत क्षेत्र एवं समुद्री सुरक्षा, रक्षा साझेदारी और क्षेत्रीय सुरक्षा सहयोग पर चर्चा की।

श्रृंगला अपने सप्ताह भर के तीन देशों के यूरोप दौरे के पहले चरण में फ्रांस में हैं। फ्रांस से वह जर्मनी और ब्रिटेन की यात्रा करेंगे। फ्रांस में स्थित भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया, ‘‘विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने डीजीआरआईएस की महानिदेशक एलिस गुइटन के साथ एक सार्थक बैठक की, जिसमें उन्होंने भारत-प्रशांत क्षेत्र और समुद्री सुरक्षा, रक्षा साझेदारी और क्षेत्रीय सुरक्षा सहयोग पर चर्चा की।''

बृहस्पतिवार को, श्रृंगला ने इंस्टीट्यूट फ्रैंच डेस रिलेशंस इंटरनेशनल में एक संबोधन दिया, जिसमें उन्होंने कहा कि तात्कालिक चुनौतियां भारत को व्यापक रणनीतिक लक्ष्यों से विचलित नहीं कर पाई हैं, विशेष रूप से भारत-प्रशांत क्षेत्र में जहां एक "खुली, समावेशी व्यवस्था" बनाने के लिए यह कई स्तरों पर उद्देश्यपूर्ण तरीके से आगे बढ़ रहा है। श्रृंगला ने शुक्रवार को यूरोप और विदेश मामलों के फ्रांसीसी मंत्रालय के महासचिव फ्रेंकोइस डेलाट्रे के साथ भी मुलाकात की। दूतावास ने ट्वीट किया, ‘‘विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला और महासचिव फ्रेंकोइस डेलाट्रे के बीच महत्त्वपूर्ण मुद्दों पर विस्तारपूर्वक चर्चा हुई। दोनों देशों के लिए एक प्रमुख सामरिक भागीदारी के लिए बढ़ती ताकत और प्रासंगिकता के साथ आगे की प्रगति के लिए एक मंच निर्धारित किया है।''

विदेश सचिव ने भारतीय दूतावास का भी दौरा किया, जहां उन्होंने अधिकारियों के साथ बातचीत की। श्रृंगला की फ्रांस यात्रा ऐसे समय में हुई है, जब देश में एक और आतंकी हमला हुआ है। आतंकवाद और कट्टरपंथ के खतरों के बारे में, श्रृंगला ने कहा कि कट्टरपंथी विचारधारा हिंसा और अलगाववाद को बढ़ावा देती है, जो अक्सर विदेशी प्रभाव द्वारा संचालित और समर्थित होती है।

उन्होंने कहा कि ऐसी ताकतें बहुलतावादी समाजों को अस्थिर करती हैं। उन्होंने कहा, "फ्रांस में हाल ही में हुई दो आतंकवादी घटनाएं भयानक है, जैसा कि कई बार हुए ऐसे हमले की साजिश का मूल हमारे पड़ोसी पाकिस्तान में था।" उन्होंने कहा, "पिछले तीन दशकों से, हमने अनुभव किया है कि बेलगाम कट्टरपंथी किस तरह से कहर बरपा सकते हैं और यह कैसे हिंसक ताकतों को भड़का सकता है। सभ्य दुनिया को इस पर एक साथ काम करने और दृढ़ता के साथ इससे निपटने की जरूरत है। यह हमारे समृद्ध लोकतांत्रिक मूल्य प्रणालियों के लिए खतरा है।''


2. जापान का 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन प्राप्त करने का लक्ष्य

जापानी प्रधान मंत्री, योशिहिदे सुगा ने कहा कि देश 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन प्राप्त करेगा।

प्रधान मंत्री ने कहा कि एक स्थायी अर्थव्यवस्था को अपनी विकास रणनीति का एक स्तंभ बनाने और एक हरित समाज प्राप्त करने में अधिकतम प्रयास करने का विचार हैं।

सुगा ने जलवायु परिवर्तन को एक बोझ के बजाय एक अवसर के रूप में मुकाबला करने के लिए जीवाश्म ईंधन से दूर स्थानांतरित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

जापान की वर्तमान ऊर्जा योजना के अनुसार, अपनी ऊर्जा आवश्यकताओं का 56 प्रतिशत जीवाश्म ईंधन से आता है।


3. 31 अक्टूबर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर शनिवार को उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि हमारी पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को उनकी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि!

इंदिरा गांधी भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री थीं। आज ही के दिन 31 अक्टूबर 1984 को उनकी हत्या कर दी गई थी। इंदिरा गांधी जनवरी 1966 से मार्च 1977 तक देश की प्रधानमंत्री रहीं। इसके बाद 1980 में दोबारा वे इस पद पर पहुंचीं। वे वर्ष 1959 से 1960 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की अध्यक्ष भी रहीं।


4. 31 अक्टूबर राष्ट्रीय एकता दिवस'

भारत में 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है, 31 अक्टूबर को महान स्वतंत्रता सेनानी तथा देश को एकजुट करने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म दिवस है। देश के एकीकरण में उनके योगदान के लिए 31 अक्टूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय एकता दिवस

राष्ट्रीय एकता दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2014 को की गयी थी, इसका उद्देश्य सरदार वल्लभ भाई पटेल को उनके योगदान के लिए उन्हें सम्मान देना है। स्वतंत्रता के बाद 550 से अधिक देशी रियासतों के एकीकरण में उनकी भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण थी। हैदराबाद को भारत में शामिल करने में उनकी भूमिका काफी अहम थी। उन्हें भारत का लौह पुरुष तथा भारत का बिस्मार्क भी कहा जाता है। राष्ट्रीय एकता दिवस पर “रन फॉर यूनिटी” नामक मैराथन का आयोजन भी किया जाता है।

सरदार वल्लभ भाई पटेल

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर, 1875 को हुआ था, वे भारत के पहले उप-प्रधानमंत्री तथा गृहमंत्री थे। वे एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। स्वतंत्रता के बाद देशी रियासतों के एकीकरण में उनकी भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण थी। हैदराबाद को भारत में शामिल करने में उनकी भूमिका काफी अहम थी। वे 15 अगस्त, 1947 से लेकर 15 दिसम्बर, 1950 तक देश के पहले गृह मंत्री तथा उप-प्रधानमंत्री रहे। उनकी मृत्यु 15 दिसम्बर, 1950 को हुई थी।


5. इंदौर में खेला जाएगा प्लास्टिक प्रीमियर लीग टूर्नामेंट

शहर को एकल उपयोग वाले प्लास्टिक से मुक्त करने के लिए इंदौर, मध्य प्रदेश में एक अनोखा प्लास्टिक प्रीमियर लीग (PPL) टूर्नामेंट खेला जा रहा है। इंदौर स्वच्छता के संबंध में अभिनव प्रयासों के लिए जाना जाता है। इंदौर को अब तक चार बार देश के सबसे स्वच्छ शहर के रूप में सम्मानित किया गया है।

प्लास्टिक प्रीमियर लीग प्रतियोगिता के लिए चार टीमों का गठन किया गया है।

इंदौर नगर निगम के 19 क्षेत्रों को इन चार टीमों में विभाजित किया गया है।

प्रतियोगिता के लिए, टीम के कप्तान रेडियो जॉकी नागरिकों को अपने रेडियो स्टेशन से अधिक से अधिक प्लास्टिक दान करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।

इन टीमों को नगरपालिका कार्यकर्ताओं और पांच वाहनों द्वारा प्लास्टिक इकट्ठा करने के लिए प्रदान किया गया है।

इस 45-दिवसीय प्रतियोगिता में सबसे अधिक एकल-उपयोग वाले प्लास्टिक को एकत्र करने वाली टीम को PPL ट्रॉफी से सम्मानित किया जाएगा।


6. भारतीय नौसेना ने बंगाल की खाड़ी में एंटी-शिप मिसाइल का परीक्षण किया

भारतीय नौसेना ने बंगाल की खाड़ी में INS कोरा से एंटी-शिप मिसाइल का परीक्षण किया। इस मिसाइल ने निर्धारित लक्ष्य को सफलतापूर्वक मार गिराया।

मुख्य विचार

आईएनएस कोरा को 1998 में कमीशन किया गया था। इसे भारतीय नौसेना द्वारा प्रोजेक्ट 25A ​​के तहत डिजाइन किया गया था। यह जहाज Kh-35 एंटी-शिप मिसाइलों से लैस है। कोरा-वर्ग के तीन युद्धपोत हैं। वे आईएनएस कुलिश, आईएनएस कर्च और आईएनएस करमुक हैं।

हालिया मिसाइल परीक्षण

हाल ही में भारतीय रक्षा बल भूमि, वायु और जल से मिसाइल परीक्षण कर रहे हैं। 23 अक्टूबर, 2020 को भारतीय नौसेना ने एक वीडियो जारी किया जिसमें आईएनएस प्रबल को मिसाइल लॉन्च करते दिखाया गया है।

एंटी-शिप मिसाइल क्या है?

यह एक गाइडेड मिसाइल है जिसका इस्तेमाल आमतौर पर जहाजों और बड़ी नावों के खिलाफ किया जाता है। यह पहली बार नाजी जर्मनी द्वारा विकसित की गयी थी।

भारत की एंटी-शिप मिसाइलें

भारत की एंटी-शिप मिसाइलें इस प्रकार हैं :

ब्रह्मोस हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल (इस मिसाइल का विकास किया जा रहा है)।2016 में भारत के मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण शासन का सदस्य बनने के बाद इसे रूस के साथ संयुक्त रूप से विकसित किया जा रहा है।

  • ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल

  • Kh-35

  • क्लब एंटी-शिप

  • पी -20

  • हार्पून

  • एक्सोसेट मिसाइल

  • सी ईगल मिसाइल

  • पी -20

  • एक्सोसेट मिसाइलें

ब्रह्मोस भारतीय नौसेना की प्राथमिक एंटी-शिप मिसाइल बन रही है। यह ऑपरेशन में दुनिया की सबसे तेज एंटी-शिप क्रूज मिसाइल है। यह रूसी क्रूज मिसाइल प्रौद्योगिकी के आधार पर विकसित की गयी थी।


7. राष्ट्रीय एकता दिवस पर देश को सी प्लेन की सौगात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सरदार पटेल की जयंती पर देश की पहली सी प्लेन सेवा की शुरुआत की। राष्ट्रीय एकता दिवस के मौके पर शुरू हो रही सी प्लेन सेवा अहमदाबाद रिवर फ्रंट से केवडिया तक चलेगी। जानिए इसकी खास बातें...

-सी प्लेन जमीन-पानी दोनों से उड़ान भर सकता है। सी प्लेन को पानी और जमीन पर उतारा जा सकता है। -महज 300 मीटर के रनवे से उड़ान भर सकता है सी प्लेन।

-31 अक्टूबर से 19 सीटर सी प्लेन हर रोज 4 उड़ान भरेगा। इसका किराया 1500 रुपए प्रति व्यक्ति है। यह मात्र 30 मिनट में अहमदाबाद से केवड़िया पहुंच जाएगा।

-सी प्लेन उड़ाने की जिम्मेदारी स्पाइस जेट एयरलाइन को दी गई है।

-स्पाइसजेट कंपनी ने ट्विन ओटर 300 सी प्लेन को किराए पर लिया है जिसमें एक बार में 12 यात्री उड़ान भर सकेंगे।

-गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान पीएम मोदी ने साबरमती रिवरफ्रंट से सी प्लेन में सफर किया था। इसके बाद से ही राज्य सरकार अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट से केवडिया स्थित स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के बीच सी प्लेन चलाने की योजना पर काम कर रही थी।

-यह समुद्र, तालाब और नदी में लैंड करने की क्षमता रखता है। जिससे छोटे शहरों में भी हवाई सेवा की शुरुआत संभव हो सकेगी।


8. भारतीय वायु सेना ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का परीक्षण किया

भारतीय वायु सेना ने एक सुखोई लड़ाकू विमान से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया। यह परीक्षण बंगाल की खाड़ी में किया गया था।

मुख्य बिंदु

बंगाल की खाड़ी में ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का परीक्षण किया गया। इस मिसाइल ने उच्च सटीकता के साथ एक डूबते हुए जहाज को निशाना बनाया। मिसाइल को एक ऐसे विमान से प्रक्षेपित किया गया था जो तंजावुर स्थित टाइगशर्क्स स्क्वाड्रन से संबंधित था। तंजावुर तमिलनाडु में स्थित है। मिसाइल को दागने से पहले विमान को मध्य हवा में ईंधन भरा गया था।

इस मिसाइल को Su-30 MKI विमान से लॉन्च किया गया था। यह घटना लद्दाख में भारत-चीन के बीच स्टैंड-ऑफ के दौरान हुई है। हाल ही में भारत लगातार मिसाइलों परीक्षण कर रहा है।

Rudram -1

रुद्रम-1 एक विकिरण-रोधी मिसाइल है और इसे 2022 में सेवा में शामिल किया जायेगा। भारत ने हाल ही में रुद्रम-1 का परीक्षण किया था। एंटी रेडिएशन मिसाइल दुश्मन के विकिरण स्रोत का पता लगाती है और उसे नष्ट करती है। दुनिया में बहुत कम विकिरण-रोधी मिसाइल हैं। विश्व की कुछ एक विकिरण-रोधी मिसाइलें हैं : DRDO की रुद्रम, ईरान की होरमोज़, ताइवान की TC-2A, रूस की Kh-58, यू.के. की ALARM, अमेरिका की AGM-88 HARM। ब्राजील में MAR-1 का विकास कार्य जारी है।

अभी तक केवल सतह से सतह और सतह से हवा में विकिरण रोधी मिसाइलें विकसित की जाती रही हैं। रूस में हवा से हवा में मार करने वाली एंटी-विकिरण मिसाइल का विकास किया जा रहा है।

अन्य हालिया मिसाइल परीक्षण

भारतीय रक्षा बल भूमि, वायु और जल से हाल ही में मिसाइलों का परीक्षण कर रहे है। 23 अक्टूबर, 2020 को भारतीय नौसेना ने एक वीडियो जारी किया जिसमें आईएनएस प्रबल को मिसाइल लॉन्च करते दिखाया गया है। इसी तरह के परीक्षण 30 अक्टूबर, 2020 को भारतीय नौसेना द्वारा किए गए थे। 30 अक्टूबर, 2020 को, भारतीय नौसेना ने बंगाल की खाड़ी में INS कोरा से एक एंटी-शिप मिसाइल दागी।

भारत के अन्य हाल ही में किए गए मिसाइल परीक्षण इस प्रकार हैं :

  • रुद्रम विकिरण-रोधी मिसाइल

  • शौर्य मिसाइल का नया संस्करण

  • LASER गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल

  • स्वदेशी बूस्टर के साथ ब्रह्मोस मिसाइल

  • पृथ्वी II मिसाइल

  • RUSTOM II का परीक्षण

  • TORPEDO स्मार्ट

  • ABHYAS की परीक्षण उड़ान

  • हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर व्हीकल का परीक्षण

  • ब्राह्मोस के नौसेना संस्करण का उड़ान परीक्षण

  • PRITHVI II का परीक्षण

  • निर्भय का असफल परीक्षण

  • SANT मिसाइल परीक्षण

  • नाग मिसाइल

9. यशवर्धन कुमार सिन्हा बने नए मुख्य सूचना आयुक्त

भारत सरकार ने नए मुख्य सूचना आयुक्त के रूप में पूर्व विदेश सेवा अधिकारी, यशवर्धन कुमार सिन्हा के नाम को मंजूरी दे दी है। वह पहले से भी सूचना आयुक्त थे और सबसे वरिष्ठ भी थे।

बिमल जुल्का के सेवानिवृत्त होने के बाद कई महीनों के लिए सीआईसी अध्यक्ष का पद खाली था।

एक मराठी पत्रकार, उदय माहुरकर को सूचना आयुक्त के पद के लिए चुना गया है।


10. भारतीय रेलवे ने “मेरी सहेली” पहल लांच की

रेलवे सुरक्षा बल ने हाल ही में “मेरी सहेली” पहल शुरू की है। यह पहल महिला यात्रियों की सुरक्षा पर केंद्रित है। यह सितंबर 2020 में दक्षिण पूर्वी रेलवे में एक पायलट परियोजना के रूप में शुरू की गयी थी।

मुख्य बिंदु

यह पहल ट्रेन से यात्रा करने वाली महिला यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करेगी। इस पहल के तहत, युवा आरपीएफ महिला कर्मियों का एक दल मूल स्टेशन पर महिला यात्रियों के साथ बातचीत करेगा। वे मुख्य रूप से उन महिलाओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे जो अकेले यात्रा कर रही हैं। बातचीत के दौरान महिला यात्रियों को यात्रा के दौरान बरतने वाली सावधानियों के बारे में बताया जाएगा। साथ ही, उन्हें 182 नंबर के बारे में सूचित किया जाएगा। वे समस्या की स्थिति में इस नंबर पर कॉल कर सकती हैं।

पहल की मुख्य विशेषताएं

बोर्डिंग स्टेशनों पर आरपीएफ की टीम यात्रा करने वाली महिलाओं की सीट संख्या एकत्र करेगी। इसके बाद टीम इन महिलाओं को मार्ग में स्टॉपेज के बारे में बताएगी। उनकी सीट के विवरणों को स्टॉपेज स्टेशन में तैनात आरपीएफ कर्मियों को भेजा जाएगा। वे संबंधित कोचों पर नजर रखेंगे, जिसमें महिलाएं यात्रा कर रही हैं।

ड्यूटी अवधि के दौरान, ऑनबोर्ड आरपीएफ एस्कॉर्ट चिन्हित किए गए कोच और बर्थ को कवर करेगा। साथ ही, गंतव्य पर तैनात आरपीएफ टीम महिला यात्रियों से फीडबैक प्राप्त करेगी। रेल मंत्रालय के अनुसार, उस पहल के तहत महिला यात्रियों से परेशानी की कॉल को वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा प्रबंधित किया जायेगा।

रेलवे सुरक्षा बल

रेलवे सुरक्षा बल को भारतीय रेलवे की यात्री संपत्तियों की सुरक्षा करने का काम सौंपा गया है। यह एकमात्र केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल है जिसके पास नियमित राज्य पुलिस बलों के समान शक्तियां हैं। इसके पास रेलवे अधिनियम, 1890 का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों की जाँच करने, उन्हें गिरफ्तार करने की शक्तियाँ हैं। इसके पास अतिक्रमण और अवैध निर्माण जैसे अवरोधों को हटाने की शक्तियाँ हैं।


11. पुरस्कृत लेखक और संपादक डैनियल मेनकर का निधन

पुरस्कार विजेता डैनियल मेनेकर का निधन हो गया है , वे फिक्शन और नॉनफिक्शन लेखक और द न्यूयॉर्कर और रैंडम हाउस के लंबे समय तक संपादक रहे, जिन्होंने एलिस मुनरो, सलमान रुश्दी, कोलम मैककैन और कई अन्य लोगों के साथ काम किया।

डैनियल मेनेकर कई पुस्तकों के लेखक थे, जिनमें संस्मरण माई मिस्टेक और कॉमिक मनोवैज्ञानिक उपन्यास द ट्रीटमेंट शामिल हैं, जिसे 2007 में क्रिस एगमैन और इयान होल्म अभिनीत फिल्म में रूपांतरित किया गया था। उन्हें ओ हेनरी पुरस्कार विजेता शीर्षक कहानी द ओल्ड लेफ्ट के लिए भी जाना जाता था।


12. पब्लिक अफेयर्स इंडेक्स : केरल, गोवा और चंडीगढ़ सबसे अच्छे शासित राज्य

पब्लिक अफेयर्स इंडेक्स, 2020 को गैर-लाभकारी संगठन पब्लिक अफेयर्स सेंटर द्वारा जारी किया गया। इस सूचकांक के अनुसार, केरल राज्य का सबसे अच्छा प्रशासित राज्य है। यह रिपोर्ट भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के पूर्व अध्यक्ष कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता वाली समिति द्वारा जारी की गई थी।

मुख्य बिंदु

इस रिपोर्ट के अनुसार, राज्यों को सतत विकास के संदर्भ में स्थान दिया गया था। विकास, समता और स्थिरता जैसे तीन स्तंभों के आधार पर राज्यों के शासन का विश्लेषण किया गया है।

रैंकिंग

केरल को सबसे शीर्ष रैंकिंग और उत्तर प्रदेश को सबसे नीचे रैंकिंग प्रदान की गयी है।

बड़े राज्य की श्रेणी में, केरल 1.388 के सूचकांक के साथ शीर्ष पर है, इसके बाद तमिलनाडु 0.91, आंध्र प्रदेश 0.5 और कर्नाटक 0.468 के साथ शीर्ष पर है। सबसे नीचे की रैंकिंग में में उत्तर प्रदेश, ओडिशा और बिहार हैं।

छोटे राज्य की श्रेणी में गोवा पहले स्थान पर रहा और उसके बाद मेघालय और हिमाचल प्रदेश हैं। इस श्रेणी में सबसे नीचे के राज्य मणिपुर, दिल्ली और उत्तराखंड हैं।

केंद्रशासित प्रदेशों की श्रेणी में चंडीगढ़ शीर्ष पर है, इसके बाद पुडुचेरी और लक्षद्वीप हैं। दादरा और नगर हवेली, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, जम्मू और कश्मीर सबसे कम प्रदर्शन करने वाले केंद्र शासित प्रदेश हैं।

कस्तूरीरंगन के बारे में

कस्तूरीरंगन भारत के एक अंतरिक्ष वैज्ञानिक हैं, जिन्होंने 1994 और 2003 के बीच भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन का नेतृत्व किया। वह वर्तमान में केंद्रीय विश्वविद्यालय और राजस्थान के NIIT विश्वविद्यालय के चांसलर के रूप में सेवारत हैं। उन्हें भारत के तीन सबसे प्रतिष्ठित नागरिक पुरस्कारों जैसे पद्मश्री, पद्म भूषण, पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया। वह राज्यसभा के पूर्व सदस्य और भारत के योजना आयोग के पूर्व सदस्य थे। वह पश्चिमी घाट पर अपनी रिपोर्ट के लिए भी जाने जाते हैं।

कस्तूरीरंगन रिपोर्ट

उन्होंने पश्चिमी घाट का अध्ययन करने और एक रिपोर्ट बनाने के लिए 10 सदस्यों के एक पैनल का नेतृत्व किया। भारत सरकार ने उनकी रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया। इससे पहले इसी तरह की रिपोर्ट गाडगिल समिति द्वारा तैयार की गई थी।

गाडगिल कमेटी की रिपोर्ट और कस्तूरीरंगन रिपोर्ट दोनों ने बड़े पर्यावरणीय नुकसान के बिना पश्चिमी घाट क्षेत्र में सतत विकास पर ध्यान केंद्रित किया।

9 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved