Search

2nd June | Current Affairs | MB Books


1. कनाडा ने कोविड-19 वैक्सीन ब्रांडों की मिक्सिंग और मैचिंग को मंजूरी दी

कनाडा ने एस्ट्राजेनेका, फाइजर और मॉडर्ना के कोविड -19 टीकों की “मिक्सिंग और मैचिंग” की सिफारिश की है।

NACI दिशानिर्देश : National Advisory Committee on Immunization (NACI) ने कोविड -19 टीकों की दूसरी खुराक की मिक्सिंग और मैचिंग पर प्रांतों और क्षेत्रों के लिए दिशानिर्देश जारी किए थे। इसने कनाडाई लोगों को सलाह दी है कि वे विशिष्ट परिस्थितियों के लिए “एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड, फाइजर-बायोएनटेक या मॉडर्ना शॉट्स” को एक-दूसरे के साथ ले सकते हैं। NACI ने यूके और स्पेन के शुरुआती शोध के आधार पर इसकी सिफारिश की थी। शोध पर प्रकाश डाला गया, एस्ट्राजेनेका और फाइजर टीके बीमारी को रोकने में सुरक्षित और प्रभावी थे। यह अनुशंसा की जाती है कि एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के पहले शॉट के बाद मॉडर्ना या फाइजर के शॉट्स लिए जा सकते हैं।

मिक्सिंग-मैचिंग की सिफारिश क्यों की गई? : कनाडा के जिन लोगों नेमॉडर्ना या फाइजर की पहली खुराक थी, वे अब दूसरी खुराक के रूप में दो में से कोई एक शॉट ले सकते हैं। ऐसा इसलिए है, क्योंकि दोनों टीकों को समान mRNA तकनीक से तैयार किया गया था।

National Advisory Committee on Immunization (NACI) : NACI एक बाहरी सलाहकार निकाय है जो कनाडा की सार्वजनिक स्वास्थ्य एजेंसी (PHAC) को टीकाकरण से संबंधित स्वतंत्र चिकित्सा, वैज्ञानिक और सार्वजनिक स्वास्थ्य सलाह प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है। इसमें बाल रोग, फार्मेसी, संक्रामक रोग, इम्यूनोलॉजी, महामारी विज्ञान, नर्सिंग, फार्माकोइकॉनॉमिक्स, सामाजिक विज्ञान आदि क्षेत्रों के विशेषज्ञ शामिल हैं।


2. मध्य प्रदेश सरकार ने शुरू की 'अंकुर' योजना

मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) सरकार ने 'अंकुर (Ankur)' नाम की एक योजना शुरू की है, जिसके तहत नागरिकों को मानसून के दौरान पेड़ लगाने के लिए सम्मानित किया जाएगा।

इस पहल में भाग लेने वाले नागरिकों को कार्यक्रम में जनभागीदारी सुनिश्चित करने के लिए प्राणवायु पुरस्कार दिया जाएगा।

मानसून के दौरान वृक्षारोपण अभियान चलाया जाएगा।

प्रतिभागियों को पौधा लगाते समय एक तस्वीर अपलोड करनी होगी और फिर 30 दिनों तक पौधे की देखभाल करने के बाद दूसरी तस्वीर अपलोड करनी होगी।

फिर प्राणवायु पुरस्कार प्राप्त करने के लिए प्रत्येक जिले से विजेताओं का चयन, सत्यापन के बाद, किया जाएगा।

नागरिक "अंकुर" कार्यक्रम की गतिविधियों के प्रबंधन के लिए राज्य द्वारा शुरू किए गए वायुदूत ऐप पर अपना पंजीकरण कराकर वृक्षारोपण अभियान में भाग ले सकते हैं।


3. कैबिनेट ने सतत शहरी विकास पर भारत और जापान के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने शहरी विकास पर 2007 के मौजूदा समझौता ज्ञापन को निलंबित करके भारत और जापान के बीच सतत शहरी विकास पर सहयोग ज्ञापन (Memorandum of Cooperation – MoC) को मंजूरी दी।

मुख्य बिंदु : इस MoC के तहत सहयोग पर कार्यक्रमों को लागू करने और रणनीति बनाने के लिए, एक संयुक्त कार्य समूह (JWG) का गठन किया जाएगा। यह JWG साल में एक बार जापान के साथ-साथ भारत में बारी-बारी से बैठक करेगा। इस MoC के तहत सहयोग 5 वर्षों की अवधि के लिए जारी रहेगा, जिसे एक बार में 5 वर्षों के लिए स्वतः-नवीनीकृत किया जा सकता है।

MoC का महत्व : यह भारत और जापान के बीच सतत शहरी विकास के संबंध में मजबूत, गहन और दीर्घकालिक द्विपक्षीय सहयोग को बढ़ावा देगा। इससे शहरी नियोजन, किफायती आवास, किराये के आवास, स्मार्ट शहरों के विकास, शहरी बाढ़ प्रबंधन, जल प्रबंधन, सीवरेज और अपशिष्ट जल प्रबंधन आदि सहित सतत शहरी विकास के सूचीबद्ध क्षेत्रों में रोजगार के अवसर पैदा होने की उम्मीद है।

उद्देश्य : यह सतत शहरी विकास और अन्य सूचीबद्ध क्षेत्रों के क्षेत्र में भारत-जापान तकनीकी सहयोग को सुविधाजनक बनाने और मजबूत करने का प्रयास करता है जिसे दोनों देशों द्वारा पारस्परिक रूप से चिन्हित किया जाएगा। यह सूचीबद्ध क्षेत्रों में प्रमुख शिक्षाओं और सर्वोत्तम प्रथाओं के आदान-प्रदान को भी सक्षम करेगा।


4. CBDT सदस्य जेबी महापात्र को मिला अध्यक्ष का अतिरिक्त प्रभार

CBDT के सदस्य, वित्त मंत्रालय जगन्नाथ विद्याधर महापात्र (Jagannath Bidyadhar Mohapatra) को तीन महीने के लिए प्रत्यक्ष कर बोर्ड के अध्यक्ष का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।

मौजूदा अध्यक्ष प्रमोद चंद्र मोदी (Pramod Chandra Mody) का विस्तारित कार्यकाल 31 मई को समाप्त हो गया।

फरवरी में, उन्हें 31 मई तक तीसरा विस्तार दिया गया था। पिछले हफ्ते, सरकार ने आयकर विभाग के लिए प्रशासनिक और नीति बनाने वाले निकाय, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) में तीन नए सदस्यों को नियुक्त किया था।


5. लेफ्टिनेंट जनरल प्रदीप चंद्रन नायर (Pradeep Chandran Nair) बने असम राइफल्स के महानिदेशक

हाल ही में लेफ्टिनेंट जनरल प्रदीप चंद्रन नायर (Pradeep Chandran Nair) ने असम राइफल्स (Assam Rifles) के महानिदेशक का कार्यभार संभाला। वे असम राइफल्स के 21वें महानिदेशक बन गये हैं। वे पहले असम राइफल्स में इंस्पेक्टर जनरल और कंपनी कमांडर के रूप में भी कार्य कर चुके हैं। इसके अलावा वे ब्रिगेड कमांडर भी रहे चुके हैं।

असम राइफल्स : असम राइफल्स भारत का सबसे पुराना अर्द्धसैनिक बल (paramilitary force) है। इसका गठन ब्रिटिश राज में वर्ष 1835 में किया गया था। पहले इसके नाम Cachar Levy हुआ करता था। 1917 में असम राइफल्स नाम रखा। इसका आदर्श वाक्य ‘उत्तर-पूर्व के प्रहरी’ (Sentinels of the North East) है। यह केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करता है, जबकि इसकी पैरेंट एजेंसी भारतीय सेना है। असम राइफल्स का मुख्यालय शिलोंग में है।

नोट : CISF, CRPF, BSF, ITBP तथा SSB केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधीन आते हैं, इससे पहले इन बलों को अद्धसैनिक बल माना जाता था। परन्तु मार्च 2011 के बाद इन बलों को केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल के रूप में वर्गीकृत किया गया।

भारत में “अद्धसैनिक बल” को किसी कानून के द्वारा आधिकारिक रूप से परिभाषित नहीं किया गया है। “अद्धसैनिक बल” का उपयोग असम राइफल्स (इसका प्रशासनिक नियंत्रण केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधीन है, जबकि इसका संचालनात्मक नियंत्रण भारतीय थल सेना के पास है) तथा स्पेशल फ्रंटियर फ़ोर्स (SFF) के लिए किया जाता है।


6. टाटा स्टील के टीवी नरेंद्रन ने CII के अध्यक्ष का पदभार संभाला

टाटा स्टील लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक, टीवी नरेंद्रन (T.V. Narendran) ने 2021-22 के लिए भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला है।

उन्होंने कोटक महिंद्रा बैंक लिमिटेड के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी उदय कोटक (Uday Kotak), जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा कर लिया है, से उद्योग निकाय का नेतृत्व लिया है।

नरेंद्रन, भारतीय प्रबंधन संस्थान, कलकत्ता के पूर्व छात्र, कई वर्षों से CII से जुड़े हुए हैं।

वह 2016-17 के दौरान CII पूर्वी क्षेत्र के अध्यक्ष थे और CII झारखंड के अध्यक्ष होने के अलावा, उन्होंने नेतृत्व और मानव संसाधन पर उद्योग निकाय की राष्ट्रीय समितियों का नेतृत्व किया है।


7. चीन में H10N3 बर्ड फ्लू का दुनिया का पहला मानव मामला दर्ज किया गया

चीन के पूर्वी प्रांत जिआंगसु (Jiangsu) में H10N3 बर्ड फ्लू का पहला मानव मामला सामने आया था।

मुख्य बिंदु : एक 41 वर्षीय व्यक्ति बर्ड फ्लू के H10N3 स्ट्रेन से संक्रमण का पहला मानव मामला बन गया है। उन्हें 28 मई को H10N3 एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस का पता चला था। यह अभी भी पुष्टि नहीं हुई है कि वह वायरस से कैसे संक्रमित हुए।

H10N3 बर्ड फ्लू क्या है? : H10N3 पोल्ट्री में कम रोगजनक या कम गंभीर वायरस है। इसके बड़े पैमाने पर संचरण का जोखिम भी बहुत कम है। लगभग 40 वर्षों में, पूरे एशिया और उत्तरी अमेरिका में जंगली पक्षियों या जलपक्षी में इस वायरस के केवल 160 आइसोलेट्स की सूचना मिली थी। मुर्गियों में इसका पता नहीं चला है।

इन्फ्लुएंजा क्या है? : इसे आमतौर पर “फ्लू” कहा जाता है। यह संक्रामक रोग इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण होता है। इसके लक्षणों में हल्का से तेज बुखार, नाक बहना, गले में खराश, सिरदर्द, खांसी, मांसपेशियों में दर्द और थकान शामिल हैं। यह लक्षण आमतौर पर वायरस के संपर्क में आने के 1-4 दिन बाद शुरू होते हैं और 2-8 दिनों तक रहते हैं। यह निमोनिया, तीव्र श्वसन संकट सिंड्रोम, एन्सेफलाइटिस, मेनिन्जाइटिस और अस्थमा जैसी पहले से मौजूद स्वास्थ्य समस्याओं के बिगड़ने का कारण भी बन सकता है।

एवियन इन्फ्लूएंजा या एवियन फ्लू या बर्ड फ्लू : यह पक्षियों के अनुकूल वायरस के कारण होता है। यह स्वाइन फ्लू, हॉर्स फ्लू, डॉग फ्लू और मानव फ्लू के समान है। तीन प्रकार के इन्फ्लूएंजा वायरस अर्थात् ए, बी, और सी में से; इन्फ्लूएंजा ए वायरस जूनोटिक संक्रमण है जो पूरी तरह से पक्षियों को प्रभावित करता है।


8. Microsoft ने Asia-Pacific Cybersecurity Council लॉन्च की

माइक्रोसॉफ्ट ने “एशिया प्रशांत सार्वजनिक क्षेत्र साइबर सुरक्षा कार्यकारी परिषद” (Asia Pacific Public Sector Cyber Security Executive Council) लॉन्च की है। इसे साइबर खतरों से निपटने और भाग लेने वाले देशों के बीच सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के लिए मजबूत संचार चैनल बनाने के उद्देश्य से लॉन्च किया गया है।

एशिया-प्रशांत साइबर सुरक्षा परिषद : इस साइबर सुरक्षा परिषद में इंडोनेशिया, कोरिया, ब्रुनेई, मलेशिया, सिंगापुर, फिलीपींस और थाईलैंड जैसे देशों के नीति निर्माता शामिल हैं। यह साइबर सुरक्षा पेशेवरों द्वारा समर्थित है। साइबर सुरक्षा में सार्वजनिक-निजी भागीदारी में तेजी लाने और खतरे की खुफिया जानकारी साझा करने के उद्देश्य से इस परिषद की स्थापना की गई थी।

इस परिषद की स्थापना क्यों की गई? : मजबूत गठबंधन बनाने और साइबर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए परिषद की स्थापना की गई है। क्योंकि ये देश मैलवेयर और रैंसमवेयर हमलों की औसत से अधिक घटनाओं का अनुभव करते हैं। वे अन्य देशों की तुलना में 1.6 गुना अधिक मैलवेयर हमलों और 1.7 गुना अधिक रैंसमवेयर हमलों का अनुभव करते हैं।

परिषद का कार्य : इस परिषद की तिमाही आधार पर वर्चुअल बैठक होगी ताकि साइबर खतरों और संबंधित साइबर सुरक्षा समाधानों पर सूचनाओं का लगातार आदान-प्रदान किया जा सके। वे अपने कार्यबल के डिजिटल कौशल में सुधार के लिए माइक्रोसॉफ्ट सुरक्षा प्रमाणन प्रशिक्षण, व्यावहारिक प्रयोगशाला सत्रों और समर्पित कार्यशालाओं से लाभ प्राप्त कर्नेगे। यह बदले में साइबर सुरक्षा में प्रतिभा की कमी को कम करने में मदद करेगा।


9. नाटो ने स्टीडफास्ट डिफेंडर 21 वॉर गेम्स शुरू किया

रूस के साथ तनाव बढ़ने पर उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (North Atlantic Treaty Organisation - NATO) यूरोप में "स्टीडफास्ट डिफेंडर 21 वॉर गेम्स (Steadfast Defender 21 war games)" सैन्य अभ्यास आयोजित कर रहा है।

किसी भी सदस्य पर हमले के लिए 30 देशों के सैन्य संगठन की प्रतिक्रिया का अनुकरण करने के उद्देश्य से इन युद्ध खेलों का आयोजन किया जा रहा है। यह अमेरिका से सैनिकों को तैनात करने के लिए नाटो की क्षमता का परीक्षण करना चाहता है।

नाटो के शीर्ष अधिकारियों का कहना है कि सैन्य अभ्यास, जिसमें 20 देशों के लगभग 9,000 सैनिक शामिल हैं, विशेष रूप से रूस के उद्देश्य से नहीं, लेकिन वे काला सागर क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जहां रूस पर जहाजों के मुक्त नेविगेशन को अवरुद्ध करने का आरोप है।


10. यूटा जैज के जॉर्डन क्लार्कसन ने 2021 का सिक्स्थ मैन ऑफ द ईयर जीता

यूटा जैज़ (Utah Jazz) गार्ड जॉर्डन क्लार्कसन (Jordan Clarkson) ने आरक्षित भूमिका में उनके योगदान के लिए 2020-21 किआ एनबीए सिक्स्थ मैन अवार्ड (Kia NBA Sixth Man Award) जीता है।

क्लार्कसन के लिए यह पहला सिक्स्थ मैन सम्मान है, जो जैज़ के साथ वार्षिक पुरस्कार जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने।

क्लार्कसन जैज़ फ्रैंचाइज़ी के इतिहास में पुरस्कार जीतने वाले पहले खिलाड़ी बन गए और उन्हें उनकी टीम के साथी और साथी सिक्स्थ मैन ऑफ द ईयर फाइनलिस्ट जो इंगल्स (Joe Ingles) द्वारा ट्रॉफी प्रदान की गई।

क्लार्कसन ने 65 प्रथम स्थान प्राप्त किए और 100 खिलाड़ियों और प्रसारकों के वैश्विक पैनल से कुल 407 अंक अर्जित किए।


11. डेनमार्क के पूर्व प्रधानमंत्री पॉल स्लूटर का निधन

डेनमार्क के पूर्व प्रधानमंत्री पॉल स्लूटर (Poul Schlueter), जिन्होंने एक प्रमुख यूरोपीय संघ (EU) संधि के लिए अपने देश के लिए छूट पर बातचीत की, का निधन हो गया है।

उनका जन्म 3 अप्रैल 1929 को टोंडर (Tonder), डेनमार्क में हुआ था। स्लूटर ने 1982-1993 तक देश के प्रधानमंत्री के रूप में कार्य किया।


12. CSIR ने पानी को कीटाणुरहित करने के लिए ‘SWASTIIK’ प्रौद्योगिकी विकसित की

CSIR-National Chemical Laboratory (CSIR-NCL), पुणे ने प्राकृतिक तेलों का उपयोग करके पानी कीटाणुरहित करने के लिए SWASTIIK नामक एक नई तकनीक शुरू की है। इसे इसलिए लॉन्च किया गया था, क्योंकि जल जनित बीमारियों ने भारत में बीमारियों का बोझ बढ़ा दिया है।

SWASTIIK :

  • पानी से होने वाली बीमारियों का कारण बनने वाले रोगजनक सूक्ष्मजीवों को हटाने के लिए पानी का कीटाणुशोधन आवश्यक है। लेकिन, पानी को कीटाणुरहित करने के लिए क्लोरीनीकरण जैसे रासायनिक तरीके हानिकारक या कार्सिनोजेनिक उपोत्पाद उत्पन्न करते हैं।

  • इस प्रकार, SWASTIIK तकनीक विकसित की गई जो दबाव में कमी के परिणामस्वरूप तरल को उबालती है। यह विधि पानी कीटाणुरहित करने के लिए रोगाणुरोधी गुणों वाले प्राकृतिक तेलों का उपयोग करती है।

पृष्ठभूमि : यह तकनीक राष्ट्रीय जल जीवन मिशन (National Jal Jeevan Mission – NJJM) की पृष्ठभूमि में विकसित की गई थी, जिसने हाल ही में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पानी की गुणवत्ता की निगरानी और सर्वेक्षण करने और बढ़ते कोविड-19 मामलों के बीच पीने योग्य पानी सुनिश्चित करने के लिए एक एडवाइजरी जारी की थी।

स्वास्तिक प्रौद्योगिकी : यह विधि सस्ते में हानिकारक बैक्टीरिया और एंटीबायोटिक प्रतिरोधी उपभेदों को खत्म कर सकती है। यह आयुर्वेद के भारतीय पारंपरिक ज्ञान को पानी कीटाणुरहित करने और प्राकृतिक तेलों के संभावित स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने के लिए एकीकृत करती है। यह हाइड्रोडायनामिक केविटेशन; पानी कीटाणुरहित करने के लिए प्राकृतिक तेल और पौधों के अर्क जैसे प्राकृतिक संसाधनों के साथ रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान और रासायनिक इंजीनियरिंग का उपयोग करती है।


13. कैबिनेट ने मॉडल टेनेंसी एक्ट (Model Tenancy Act) को मंजूरी दी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में नए कानून बनाकर या मौजूदा रेंटल कानूनों में आवश्यकतानुसार संशोधन करके अनुकूलन के लिए “मॉडल टेनेंसी एक्ट” को मंजूरी दे दी है।

मुख्य बिंदु :

  • यह अधिनियम भारत में किराये के आवास पर कानूनी ढांचे के पुनर्निर्माण में मदद करेगा जो बदले में समग्र विकास को बढ़ावा देगा।

  • एक जीवंत, सतत और समावेशी किराये के आवास बाजार बनाने के उद्देश्य से यह अधिनियम पारित किया गया था।

  • यह सभी आय समूहों के लिए पर्याप्त किराये के आवास स्टॉक बनाने में मदद करेगा और बेघरों के मुद्दे को संबोधित करेगा।

  • यह किराये के आवास को औपचारिक बाजार की ओर स्थानांतरित करके संस्थागतकरण को सक्षम करेगा।

  • यह किराये के आवास के प्रयोजनों के लिए खाली मकानों को खोलने की सुविधा प्रदान करता है और एक व्यवसाय मॉडल के रूप में किराये के आवास में निजी भागीदारी को बढ़ावा देता है। इससे आवास की भारी कमी को दूर करने में मदद मिलेगी।

मॉडल टेनेंसी एक्ट क्या है? : मॉडल किरायेदारी अधिनियम, 2019 भारत में एक किरायेदारी कानून है, इसे किरायेदारी बाजार के पुनर्निर्माण के लिए डिज़ाइन किया गया था। इस अधिनियम के निर्माण की घोषणा पहली बार 2019 के बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की थी। यह भारत के पुराने किराये से सम्बन्धी कानूनों को बदलने और आवास की कम उपलब्धता को हल करने का प्रयास करता है। इस अधिनियम “2022 तक सभी के लिए आवास” के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगा।









  • Source of Internet

10 views0 comments

Recent Posts

See All