Search

26th September | Current Affairs | MB Books


1. 26 सितम्बर : अंतर्राष्ट्रीय परमाणु हथियार पूर्ण उन्मूलन दिवस

26 सितम्बर को अंतर्राष्ट्रीय परमाणु हथियार पूर्ण उन्मूलन दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य वैश्विक समुदाय द्वारा परमाणु हथियार निशस्त्रीकरण के प्रति वचनबद्धता को दर्शाना है। इस दिवस का उद्देश्य लोगों व नेताओं को परमाणु हथियारों के उन्मूलन के लाभ से अवगत करवाना है।

पृष्ठभूमि

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु हथियार पूर्ण उन्मूलन दिवस की घोषणा संयुक्त राष्ट्र महासभा ने दिसम्बर, 2013 में प्रस्ताव पारित करने के पश्चात की थी। इससे पहले 26 सितम्बर, 2013 को अमेरिका के न्यूयॉर्क में परमाणु निशस्त्रीकरण को लेकर एक उच्च स्तरीय बैठक आयोजित की गयी थी। इस दिवस का उद्देश्य लोगों को परमाणु हथियारों के खतरों से अवगत करवाना है।

नोट : संयुक्त राष्ट्र महासभा 29 अगस्त को अंतर्राष्ट्रीय परमाणु परिक्षण निषेध दिवस के रूप में मनाती है, इसकी घोषणा 2009 में पारित 64/35 प्रस्ताव के तहत की गयी थी

संयुक्त राष्ट्र और परमाणु हथियार

1963 में, आंशिक परीक्षण प्रतिबंध संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे। इसने बाहरी अंतरिक्ष और पानी के भीतर परमाणु हथियारों के परीक्षण पर प्रतिबंध लगा दिया।

1967 में, लैटिन अमेरिका और कैरिबियन में परमाणु हथियारों के निषेध की संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे। इसने पहला परमाणु हथियार मुक्त क्षेत्र स्थापित किया।

  • 1978 में, संयुक्त राष्ट्र ने निशस्त्रीकरण के लिए अपना पहला विशेष सत्र आयोजित किया।

  • 1985 में, दक्षिण प्रशांत राट्रोंगा की संधि के तहत दूसरा परमाणु हथियार मुक्त क्षेत्र बना।

  • 1995 में, दक्षिण पूर्व एशिया बैंकॉक संधि के तहत तीसरा परमाणु हथियार मुक्त क्षेत्र बना।

  • 1996 में, पेलिंडाबा संधि के तहत अफ्रीका चौथा परमाणु हथियार मुक्त क्षेत्र बना।

  • 2006 में मध्य एशिया में परमाणु हथियार मुक्त क्षेत्र पर संधि पर हस्ताक्षर किए गए जिससे मध्य एशिया परमाणु हथियारों से मुक्त होने वाला चौथा क्षेत्र बना।

  • 2017 में, परमाणु हथियारों के निषेध की संधि पर हस्ताक्षर किए गए थे। यह पहली बहुपक्षीय संधि है जिसने बड़े पैमाने पर परमाणु निशस्त्रीकरण को बाध्य किया।

  • 2020 में परमाणु हथियारों के अप्रसार पर संधि की 50वीं वर्षगांठ मनाई गई।

2. भारत-जापान समुद्री द्विपक्षीय अभ्यास

भारत-जापान समुद्री द्विपक्षीय अभ्यास (JIMEX) का चौथा संस्करण 26 सितंबर, 2020 से उत्तरी अरब सागर में शुरू होगा। यह तीन दिनों के लिए आयोजित किया जाएगा। COVID-19 प्रतिबंधों के दौरान, इस वर्ष अभ्यास ‘non-contact at-sea-only’ फॉर्मेट में किया जा रहा है।

JIMEX- 2020

JIMEX 2020 उच्च स्तर की अंतर-संचालन और संयुक्त परिचालन कौशल का प्रदर्शन करेगा।

दोनों देशों की नौसेनाएं संचालन अभियानों के दायरे में कई उन्नत अभ्यास करेंगी।

दोनों नौसेनाएं एक बहुआयामी सामरिक अभ्यास का आयोजन करेंगी जिसमें वेपन फायरिंग, क्रॉस डेक हेलीकाप्टर संचालन, पनडुब्बी रोधी और वायु युद्ध अभ्यास शामिल होगा।

भारतीय नौसेना का प्रतिनिधित्व किया जाएगा:

स्वदेशी रूप से निर्मित स्टेल्थ डिस्ट्रॉयर ‘चेन्नई’।

तेग क्लास स्टेल्थ फ्रिगेट ‘तरकश’।

फ्लीट टैंकर।

जापानी समुद्री आत्म-रक्षा बल का प्रतिनिधित्व किया जाएगा:

JMSDF शिप्स कागा, एक इज़ुमो क्लास हेलीकॉप्टर डिस्ट्रॉयर।

इकाज़ुची, एक गाइडेड मिसाइल विध्वंसक।

कमांडर एस्कॉर्ट फ्लोटिला – 2 (CCF – 2)।

P8I लॉन्ग रेंज मैरीटाइम पैट्रोल एयरक्राफ्ट, इंटीग्रल हेलीकॉप्टर और फाइटर एयरक्राफ्ट।

JIMEX के बारे में

यह अभ्यास 2012 में शुरू किया गया था। यह भारतीय नौसेना और जापानी समुद्री आत्म-रक्षा बल (JMSDF) के बीच द्विवार्षिक रूप से आयोजित किया जाता है। यह समुद्री सुरक्षा सहयोग पर बल देता है। JIMEX का आखिरी संस्करण अक्टूबर 2018 में विशाखापत्तनम तट पर आयोजित किया गया था।

महत्व

उन्नत स्तर के ऑपरेशन और अभ्यास भारत-जापान रक्षा संबंधों में वृद्धि को इंगित करते हैं। यह नियमित अभ्यास दोनों सरकारों द्वारा एक अधिक सुरक्षित, खुले और समावेशी वैश्विक डोमेन के लिए बारीकी से काम करने के लिए निरंतर प्रयासों को दर्शाता है। JIMEX 2020 दोनों नौसेनाओं के बीच सहयोग और आपसी विश्वास को और बढ़ाएगा। यह दोनों देशों के बीच मित्रता को भी मज़बूत करेगा।

3. मोहम्मद हुसैन रोबल सोमालिया के नए प्रधान मंत्री

सोमालिया के राष्ट्रपति, मोहम्मद अब्दुल्लाही मोहम्मद ने मोहम्मद हुसैन रोबल को सोमालिया के नए प्रधान मंत्री के रूप में नियुक्त किया है।

वह पूर्व प्रधानमंत्री हसन अली खैरे का स्थान लेंगे, जिन्हें फरवरी 2021 से पहले पूर्णत: पूरी तरह से लोकतांत्रिक चुनावों का मार्ग प्रशस्त करने में विफल होने के कारण जुलाई में संसद द्वारा पद से हटाने के लिए वोट दिया गया था।

राष्ट्रपति फरमाजो की अध्यक्षता में सत्र में भाग लेने वाले सभी 215 सांसदों ने पीएम के रूप में हुसैन रोबल की नियुक्ति के समर्थन में वोट किया।

4. गोवा में आयोजित होने वाला 51वां अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव स्थगित

भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) के 51वे संस्करण का आयोजन इस साल 20 से 28 नवम्बर की जगह अगले साल 16 से 24 जनवरी तक किया जाएगा। इसका आयोजन मिश्रित यानि डिजिटिल और प्रत्यक्ष दोनों तरीके से होगा। सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने एक बयान में 24 सितम्बर 2020 को कहा कि गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत से इस विषय पर चर्चा करने के बाद इफ्फी का आयोजन टालने का फैसला किया गया।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि कोरोना महामारी (कोविड-19) की स्थिति को ध्यान में रखते हुए यह फैसला किया गया। प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव दिशानिर्देश और नियमों के अनुरूप गोवा में 16 जनवरी से 24 जनवरी 2021 तक संयुक्त रूप से महोत्सव का आयोजन करने का फैसला किया गया है।

कोविड-19 से जुड़े सभी नियमों का पालन

सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव सर्किट में हाल में आयोजित महोत्सवों के अनुरूप कोविड-19 से जुड़े सभी नियमों का पालन किया जाएगा। इफ्फी के पिछले साल स्वर्ण जयंती समारोह के शुभारंभ में अभिनेता अमिताभ बच्चन और रजनीकांत ने एक साथ शिरकत की थी। फ्रांस की नामी अदाकारा इसाबेल हुपर्ट को लाइटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। चर्चित गायक और संगीतकार शंकर महादेवन ने भी पिछले साल शुरुआती समारोह में अपनी प्रस्तुतियों के जरिए प्रशंसकों का मनोरंजन किया था। पिछले साल के समारोह में विभिन्न देशों की लगभग 250 फिल्में दिखायी गयी थी।

भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) के बारे में

भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (इफ्फी) की शुरुआत वर्ष 1952 में हुई थी। उस समय इसका आयोजन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के संरक्षण में भारत सरकार के फिल्म डिवीज़न द्वारा किया गया था। भारतीय अंतरराष्ट्री फिल्म महोत्सव (इफ्फी) का मुख्य उद्देश्य फिल्म निर्माण कला की उत्कृष्टता को दर्शाने के लिये दुनिया भर के सिनेमाघरों को आम मंच प्रदान करना है। इफ्फी एशिया में आयोजित किया जाने वाले पहला अंतरराष्ट्री फिल्म समारोह भी है।

5. प्रख्यात गायक एस. पी. बालासुब्रमण्यम का निधन

महान गायक एस पी बालासुब्रमण्यम का निधन हो गया है। उन्होंने 1966 में तेलुगु फिल्म श्री श्री श्री मरियाडा रमन्ना से अपना गायन शुरू किया।

उन्होंने तेलुगु, तमिल, मलयालम, कन्नड़ और हिंदी सहित 16 भाषाओं में 40,000 से अधिक गाने गाए हैं। एस पी बालासुब्रमण्यम ने शंकरभरणम के लिए अपना पहला राष्ट्रीय पुरस्कार जीता।

दूसरी बार उन्होंने अपने पहले हिंदी गीत, तेरे मेरे बीच में फिल्म 'एक दूजे के लिए' के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार जीता।

6. COVID-19 in India : देश में Corona मामले 58 लाख के पार, 48 लाख से अधिक हुए स्वस्थ

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) संक्रमण के मामलों में हो रही लगातार वृद्धि के कारण संक्रमितों की संख्या अब 58 लाख के पार हो चुकी है। वहीं दूसरी ओर इस दौरान 76,002 और लोगों के स्वस्थ होने से रोग मुक्त लोगों की संख्या 48,29,004 हो गई है। विभिन्न राज्यों से प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार देर रात तक 76,615 नए मामले सामने आने से संक्रमितों की संख्या 58,92,721 हो गई है। इस दौरान 952 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 93 हजार से अधिक होकर 93,269 हो गई है। राहत की बात यह है कि देश में कोरोनावायरस से निजात पाने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है। इस दौरान 76,002 और लोगों के स्वस्थ होने से रोग मुक्त लोगों की संख्या 48,29,004 हो गई है। देश में कोरोनावायरस के सक्रिय मामले छह दिन से लगातार कम हो रहे हैं और शुक्रवार सुबह यह संख्या 9,70,116 रह गई। देर रात को इसमें वृद्धि के बाद सक्रिय मामलों की संख्या अब 9,71,832 पर पहुंच गई है लेकिन उन प्रमुख राज्यों की रिपोट आनी शेर्ष है जहां सुधार हो रहा है। महाराष्ट्र 2,74,993 सक्रिय मामलों के साथ शीर्ष पर है। उसके बाद कर्नाटक में 94,652 मामले और आंध्र प्रदेश में 69,353 सक्रिय मामले हैं। देश में सक्रिय मामलों की दर 17.02 प्रतिशत और रोग मुक्त होने वालों की दर 81.37 फीसदी है, जबकि मृत्यु दर 1.59 फीसदी है। कोरोना महामारी से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र में संक्रमण के 17,794 नए मामले सामने आने से संक्रमितों की संख्या आज रात 13 लाख को पार कर 13,00,757 पहुंच गई। राज्य में पिछले 24 घंटे के दौरान नए मामलों की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या अधिक होने से सक्रिय मामलों में कमी आई है। सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 2,72,775 हो गई है।

इस दौरान 19,592 और मरीजों के स्वस्थ होने से संक्रमण से मुक्ति पाने वालों की संख्या 9,92,806 हो गई है। राज्य में 416 और मरीजों की मौत होने से मृतकों की संख्या 34,761 हो गई है। राज्य में मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर 76.33 फीसदी पहुंच गई है, वहीं मृत्यु दर 2.67 फीसदी है।

7. सोनू सूद बने एसर इंडिया के ब्रांड एंबेसडर

एक अग्रणी पर्सनल कंप्यूटर (पीसी) ब्रांड, एसर इंडिया ने अभिनेता सोनू सूद को अपना ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया है।

एसर इंडिया के ब्रांड एंबेसडर के रूप में, सोनू सूद सोशल मीडिया पर एसर के अभिनव उत्पादों की रेंज का समर्थन करेंगे और प्रौद्योगिकी के माध्यम से लोगों के जीवन को बेहतर बनाने में एसर की प्रतिबद्धता पर अभियान करेंगे।

8. आयुष मंत्रालय ने औषधीय पौधों की खेतो को बढ़ावा देने के लिए MoU पर हस्ताक्षर किए

आयुष मंत्रालय के तहत संचालित राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड ने औषधीय पौधों की खेती को बढ़ावा देने के लिए प्रमुख हर्बल औद्योगिक निकायों और अन्य प्रमुख आयुष उद्योगों के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

मुख्य बिंदु

जिन औद्योगिक निकायों ने समझौते पर हस्ताक्षर किए उनमें ADMA (आयुर्वेदिक ड्रग मैन्युफैक्चरर एसोसिएशन), FICCI, CII, ANMOI (आयुर्वेदिक मेडिसिन मैन्युफैक्चरर्स ऑर्गनाइजेशन ऑफ इंडिया) आदि शामिल हैं। उद्योगों और राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड किसानों को बाय-बेक गारंटी प्रदान करने के लिए सहमत हुए।

राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड

औषधीय पौधों से संबंधित मामलों की देखभाल के लिए 2000 में आयुष मंत्रालय के तहत इस बोर्ड की स्थापना की गई थी। यह बोर्ड औषधीय पौधों के संरक्षण और औषधीय पौधों की खेती को बढ़ावा देने के लिए काम करता है।

बोटैनिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया के अनुसार, 8000 औषधीय पौधों में से 53 पौधे लुप्तप्राय, संकटग्रस्त या गंभीर रूप से लुप्तप्राय की श्रेणी में आते हैं। इससे पता चलता है कि भारत औषधीय पौधों और जैव विविधता से समृद्ध है। इसलिए, स्थिति को बनाए रखने के लिए संरक्षण आवश्यक है।

औषधीय पौधों के लिए योजनाएँ

राष्ट्रीय आयुष मिशन को NAM कहा जाता है और भारत सरकार द्वारा औषधीय पौधों के संरक्षण, विकास और सतत प्रबंधन के लिए केंद्रीय क्षेत्र योजना शुरू की गई है।

ई-चरक

भारत सरकार ने औषधीय पौधों के बारे में बेहतर जानकारी के लिए ई-चरक प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है। इस प्लेटफार्म को राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड और CDAC द्वारा विकसित किया गया था। यह औषधीय पौधों के लिए एक मार्केटप्लेस के रूप में कार्य करता है। इसके अलावा, यह औषधीय पौधों से संबंधित प्रौद्योगिकियों और सूचनाओं के ज्ञान भंडार के रूप में कार्य करता है।

नेशनल जीन बैंक

अगस्त 2020 में, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड ने औषधीय और सुगंधित पौधों के आनुवंशिक संसाधनों के संरक्षण के लिए एक समझौते में प्रवेश किया। इस पहल के तहत, राष्ट्रीय जीन बैंक में सुगंधित और औषधीय पौधों के जीन का संरक्षण किया जायेगा।

इसकी स्थापना 1996 में की गयी थी। यह आयुष मंत्रालय के तहत काम करने वाले राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड और कृषि व किसान कल्याण मंत्रालय के तहत काम करने वाले राष्ट्रीय पादप आनुवंशिक संसाधनों का संचालन करता है। बैंक द्वारा प्रदान की जाने वाली चार मुख्य सुविधाएं निम्नलिखित हैं :

  • बीज जीन बैंक

  • क्रायो जीन बैंक

  • इन विट्रो जीन बैंक

  • फील्ड जीन बैंक

9. केरल ने गैर-संचारी रोगों के नियंत्रण के लिए संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार जीता

केरल ने गैर-संचारी रोगों नियंत्रित करने से संबंधित सतत विकास लक्ष्यों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए यूनाइटेड नेशन इंटरएजेंसी टास्क फोर्स अवार्ड जीता।

मुख्य बिंदु

इस पुरस्कार ने गैर संचारी रोगों और मानसिक स्वास्थ्य की रोकथाम और नियंत्रण में 2019 के दौरान राज्य की उपलब्धियों को सम्मानित किया। सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों से अस्पतालों तक जीवन शैली की बीमारियों के इलाज के लिए राज्य में सभी स्तरों पर सुविधाएं हैं। राज्य COVID-19 की मृत्यु दर को नियंत्रित करने में सक्षम था क्योंकि इसने गैर-संचारी रोगों पर ध्यान केंद्रित किया।

पुरस्कार प्राप्त करने के लिए केरल दुनिया भर में 7 स्वास्थ्य मंत्रालयों में से एक है। राज्य के अन्य कार्यक्रमों जैसे कैंसर उपचार कार्यक्रम, फेफड़े के रोग कार्यक्रम और पक्षाघात नियंत्रण कार्यक्रम पर भी विचार किया गया।

गैर-संचारी रोगों पर संयुक्त राष्ट्र की इंटर एजेंसी टास्क फोर्स

यह टास्क फोर्स साल में एक बार संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (ECOSOC) को रिपोर्ट करती है। 2030 के संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्य एजेंडा को अपनाने के बाद, “गैर संचारी रोगों” से संबंधित सतत विकास लक्ष्यों को शामिल करने के लिए UNIATF के काम का दायरा बढ़ाया गया था। वे मानसिक स्वास्थ्य, चोट, हिंसा, पर्यावरण के मुद्दों और पोषण के मुद्दे हैं। ये प्रमुख कारक हैं जो गैर-संचारी रोगों को प्रभावित करते हैं। दुनिया में लगभग 70% मौतें गैर-संचारी रोगों के कारण होती हैं।

गैर-संचारी रोगों पर भारत के प्रयास

भारत ने गैर-संचारी रोगों को नियंत्रित करने के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम शुरू किया है। पिछले चार वर्षों में, कार्यक्रम को चार बार बढ़ाया गया है। आज भारत के सभी 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने इस कार्यक्रम को अपना लिया है। यह कार्यक्रम नि: शुल्क निदान, फॉलो-अप, उपचार, रेफरल प्रदान करता है।

भारत में गैर-संचारी रोग

भारत में मुख्य गैर-संचारी रोग कैंसर, दिल का दौरा, पुरानी सांस सम्बन्धी बीमारियाँ और मधुमेह हैं। सतत विकास लक्ष्यके 2030 एजेंडा में 2030 तक गैर-संचारी रोगों के कारण समय से पहले होने वाली मौतों की संख्या को कम करने का लक्ष्य शामिल है।

भारत में गैर-संचारी रोग गरीबी से निकटता से संबंधित है।

10. रजत सूद बने EESL के नए प्रबंध निदेशक

भारत सरकार के ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के एक संयुक्त उद्यम (JV) ऊर्जा दक्षता सेवा लिमिटेड (Energy Efficiency Services Ltd -EESL) ने तत्काल प्रभाव से रजत सूद को अपना नया प्रबंध निदेशक नियुक्त किया है।

वह एस गोपाल, निदेशक (वाणिज्यिक) से प्रभार लेंगे, जिन्हें अंतरिम एमडी के रूप में अतिरिक्त प्रभार दिया गया था। EESL से पहले, उन्होंने स्टरलाइट पावर ट्रांसमिशन लिमिटेड में कार्यकारी उपाध्यक्ष के रूप में काम किया।

11. पीएम मोदी ने श्रीलंकाई प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे से की वार्ता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने शनिवार को श्रीलंका (Sri Lanka) के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के साथ अनेक विषयों पर बातचीत की जिनमें द्विपक्षीय संबंध तथा महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने जैसे विषय शामिल रहे। डिजिटल द्विपक्षीय शिखर-वार्ता में अपने प्रारंभिक वक्तव्य में मोदी ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि श्रीलंका में राजपक्षे सरकार की नीतियों के आधार पर चुनाव में सत्तारूढ़ पार्टी की बड़ी जीत दोनों देशों के बीच सहयोग को और गहन बनाएगी।

उन्होंने कहा, ‘‘चुनाव में आपकी पार्टी की विजय के बाद भारत-श्रीलंका के संबंधों में एक नये अध्याय की शुरुआत का अवसर आया है दोनों देशों के लोग नयी उम्मीद और अपेक्षाओं के साथ हमें देख रहे हैं'' राजपक्षे ने नौ अगस्त को नये कार्यकाल के लिए श्रीलंकाई प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली थी उनकी पार्टी ‘श्रीलंका पीपुल्स फ्रंट' ने संसदीय चुनावों में दो तिहाई बहुमत हासिल कियामोदी ने कहा कि भारत श्रीलंका के साथ अपने संबंधों को प्राथमिकता देता है वार्ता पर विदेश मंत्रालय ने कहा कि वार्ता के नतीजों से संबंधों को प्रगाढ़ करने के महत्वाकांक्षी एजेंडा को निर्धारित करने में मदद मिलेगी महिंदा राजपक्षे के साथ वार्ता में मोदी ने श्रीलंका के साथ बौद्ध संबंधों को बढ़ावा देने के लिए 1.5 करोड़ डॉलर की सहायता देने की घोषणा की।

प्रधानमंत्री मोदी ने श्रीलंका की नयी सरकार से समानता, न्याय, शांति, गरिमा की तमिलों की आकांक्षा को साकार करने के लिए काम करने को कहा मछुआरों के मुद्दे पर मोदी और राजपक्षे ने इस दिशा में रचनात्मक और मानवीय दृष्टिकोण से काम करते रहने पर सहमति जतायी राजपक्षे के साथ वार्ता में मोदी ने तमिल सुलह-सफाई मुद्दे पर श्रीलंका के संविधान के 13 वें संशोधन को लागू करने पर जोर दिया। कर्ज भुगतान टालने के लिए श्रीलंका के आग्रह पर तकनीकी वार्ता जारी है

मोदी और राजपक्षे ने रक्षा सहयोग की प्रगाढ़ता पर संतोष व्यक्त किया, आगे समुद्री सुरक्षा संबंधों को मजबूत करने पर सहमति जतायी।

12. आईडीएफसी फर्स्ट बैंक ने संपर्क रहित डेबिट कार्ड सुविधा "SafePay" शुरू की

आईडीएफसी फर्स्ट बैंक एक संपर्क रहित डेबिट कार्ड-आधारित भुगतान सुविधा "सेफपे (SafePay)" लॉन्च करेगा।

यह भुगतान सुविधा निकट क्षेत्र संचार (Near Field Communication-NFC) द्वारा संचालित पीओएस टर्मिनल के खिलाफ एक स्मार्टफोन को घुमाकर संपर्क रहित डेबिट कार्ड भुगतान की अनुमति देगा।

सेफपे (SafePay) बैंक द्वारा जारी किए गए डेबिट कार्ड का उपयोग करके सुरक्षित भुगतान सक्षम करने के लिए IDFC फर्स्ट मोबाइल ऐप में नियर फील्ड कम्युनिकेशन (NFC) तकनीक को लागू करता है।

सेफपे भुगतान में सोशल डिस्टेंसिंग का सपोर्ट करता है और इसके इस्तेमाल से ग्राहकों को न तो कार्ड अपने साथ रखना होगा और न ही उसे खरीदारी के समय मर्चेंट (दुकानदार) को सौंपना होगा।

सेफपे के जरिए प्रति लेन-देन 2,000 रुपये तक का भुगतान किया जा सकता है और इसकी दैनिक सीमा 20,000 रुपये तक की है।

16 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved