Search

23rd October | Current Affairs | MB Books


1. जी-20 एंटी करप्शन वर्किंग ग्रुप की पहली बैठक आयोजित की गयी

22 अक्टूबर, 2020 को G-20 एंटी-करप्शन वर्किंग ग्रुप की पहली मंत्री स्तरीय बैठक हुई। इस बैठक की मेजबानी करने वाला सऊदी अरब पहला देश बन गया है।

मुख्य बिंदु

जी-20 के भ्रष्टाचार रोधी कार्य समूह की स्थापना जून 2010 में टोरंटो शिखर सम्मेलन, जी 20 में की गई थी। इस समूह का मुख्य उद्देश्य भ्रष्टाचार से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रयासों को बढ़ावा देने के बारे में सुझाव देना है।

यह समूह ओईसीडी (आर्थिक सहयोग और विकास संगठन), विश्व बैंक, फाइनेंशियल एक्शन टास्क फ़ोर्स और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के साथ काम करता है।

जी-20 और इसके भ्रष्टाचार विरोधी प्रयास

जी -20 देशों ने 2018 में ब्यूनस आयर्स में भ्रष्टाचार-रोधी योजना, 2019-21 पर सहमति व्यक्त की थी।

भारत के प्रयास

भारत ने 1964 में केंद्रीय सतर्कता आयोग बनाया। यह आयोग सतर्कता प्रशासन की देखरेख करता है। यह भ्रष्टाचार से संबंधित मामलों में अधिकारियों की सहायता करता है। 1988 में, भ्रष्टाचार निरोधक कानून को कानून बनाया गया। इस अधिनियम का उद्देश्य कॉर्पोरेट रिश्वतखोरी के खिलाफ भ्रष्टाचार की कड़ी जाँच करना है। यह अधिनियम 2018 में संशोधन किया गया था।

2013 में, लोकपाल और लोकायुक्त अधिनियम को कानून बनाया गया था। यह अधिक पारदर्शिता, जवाबदेही लाने के लिए किया गया था।

भ्रष्टाचार के प्रति भारत के अन्य विधायी उपाय सूचना का अधिकार अधिनियम, व्हिसलब्लोअर प्रोटेक्शन एक्ट, बेनामी लेनदेन (निषेध) अधिनियम, 2016 हैं।


2. नाटो जर्मनी के रैमस्टीन में नया अंतरिक्ष केंद्र स्थापित करेगा

उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) जर्मनी के रैमस्टीन में एक नया अंतरिक्ष केंद्र स्थापित करेगा। यह केंद्र अंतरिक्ष अवलोकन के लिए एक समन्वय केंद्र के रूप में कार्य करना है।

मुख्य बिंदु

यह नया केंद्र उपग्रहों के लिए संभावित खतरों के बारे में जानकारी एकत्र करेगा। केंद्र को निकट भविष्य में रक्षात्मक उपायों के कमांड सेंटर के रूप में विकसित किया जायेगा। उत्तर अटलांटिक संधि संगठन के अनुच्छेद 5 के आधार पर इस केंद्र की स्थापना की जा रही है।

नाटो का अनुच्छेद 5

यह अनुच्छेद संगठन को सामूहिक रक्षा कार्रवाई करने का अधिकार देता है। यह मानदंड प्रदान करता है जिसके तहत नाटो रक्षात्मक उपाय कर सकता है।

नाटो द्वारा सीरिया संकट, रूस-यूक्रेन संकट और अमेरिका पर 26/11 हमले जैसी स्थितियों में अनुच्छेद 5 को लागू किया गया था।

इस अनुच्छेद में कहा गया है कि उत्तरी अमेरिका या यूरोप में नाटो के एक या अधिक देशों के खिलाफ सशस्त्र हमले को उन सभी के खिलाफ हमला माना जाता है। संयुक्त राष्ट्र के अनुच्छेद 51 पर आधारित इस परिदृश्य के तहत, अनुच्छेद 5 को लागू किया जा सकता है। संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के अनुच्छेद 51 में कहा गया है कि किसी सदस्य को आत्मरक्षा में कदम उठाने का अधिकार है। यह सदस्य देशों को ऐसी स्थितियों में सशस्त्र बलों का उपयोग करने की भी अनुमति देता है। हालांकि, यह केवल उत्तरी अटलांटिक क्षेत्र की सुरक्षा को बहाल करने और बनाए रखने के हित पर किया जाएगा।

केस्टर उपग्रह ग्राउंड स्टेशन

नाटो देशों द्वारा नियंत्रित 24 से अधिक सैटेलाइट ग्राउंड स्टेशन हैं। बेल्जियम में स्थित केस्टर उपग्रह ग्राउंड स्टेशन वर्तमान में नाटो देशों के बीच अंतरिक्ष संचार का केंद्र माना जाता है। इसी तरह, 4 अन्य स्टेशन हैं जो सेंट्रल हब की भूमिका निभाते हैं।

पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले दो हजार उपग्रह हैं। इनमें से आधे नाटो देशों द्वारा संचालित हैं। इसलिए, नाटो देशों के लिए अपने अंतरिक्ष संसाधनों की सुरक्षा करना आवश्यक हो जाता है।

महत्व

यह चीन और रूस के आक्रामक व्यवहार के विरुद्ध किया जा रहा है। ये देश एंटी-सैटेलाइट सिस्टम विकसित कर रहे हैं। नाटो देश भूमि, समुद्र, वायु और साइबरस्पेस के बाद पांचवां डोमेन बना रहे हैं।

नाटो में भारत

भारत को संधि पर हस्ताक्षर करना बाकी है। संगठन में शामिल होने की प्रक्रिया संधि के अनुच्छेद 10 द्वारा शासित है। इस अनुच्छेद के अनुसार देश तभी संगठन में शामिल होने के योग्य बनते हैं जब उन्होंने जियोस्पेशियल कोऑपरेशन, लॉजिस्टिक्स सपोर्ट एग्रीमेंट (एलएसए) और कम्युनिकेशंस इंटरऑपरेबिलिटी और सिक्योरिटी मेमोरेंडम ऑफ एग्रीमेंट (CISMOA) जैसे बेसिक एक्सचेंज एंड कोऑपरेशन एग्रीमेंट (BECA) जैसे समझौतों पर हस्ताक्षर किए हों।

अक्टूबर 2020 के अंत तक होने वाली 2 + 2 वार्ता के दौरान भारत को संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ BECA पर हस्ताक्षर करेगा।


3. पारले एग्रो ने प्रियंका चोपड़ा जोनास को बनाया अपना ब्रांड एंबेसडर

पारले एग्रो ने अपने फ्रूट्स प्लस फ़िज़ पोर्टफोलियो ‘B-Fizz’ तक ग्राहकों की पहुंच और जागरूकता बढ़ाने प्रियंका चोपड़ा जोनास को अपना नेशनल ब्रांड एंबेसडर बनाया है।

इस अभियान का हॉटस्टार पर पूरे आईपीएल के दौरान और YouTube पर आक्रामक रूप से प्रचार किया जाएगा।

B-Fizz, एक यूनिक और ताज़ा सेब का रस-आधारित माल्ट फ्लेवर्ड कार्बोनेटेड पेय पदार्थ है जो कि सभी आयु समूहों के उपभोक्ताओं को एक नया स्वाद अनुभव कराएगा।


4. एलजी ने लुईस हैमिल्टन को बनाया एलजी सिग्नेचर का ब्रांड एम्बेसडर

एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स ने लुईस हैमिल्टन को अपने होम सोलूशन ब्रांड, एलजी सिग्नेचर का ग्लोबल एम्बेसडर बनाया है।

इस के बाद अब हैमिल्टन की कौशल, शैली और सटीकता के प्रतीक ब्रांड के प्रचार विज्ञापनों में दिखाई देंगे।

इस नए अभियान में, वह एक स्टाइलिश, परिष्कृत जीवन जीने के तरीके पर अपने विचारों को दर्शकों के साथ साझा करेंगे, और जो उन्हें अपने क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ बनने के लिए प्रेरित करता है।


5. चंद्रमा पर पहली बार सेलुलर नेटवर्क बनाएगा नोकिया

नासा ने चंद्रमा पर पहली बार सेलुलर नेटवर्क बनाने के लिए नोकिया को एक भागीदार के तौर पर चुना है, जिससे चंद्र सतह पर एक स्थायी मानव उपस्थिति की दिशा में मार्ग प्रशस्त होगा।

नोकिया ने यह घोषणा की है कि, चंद्रमा के लिए "टिपिंग प्वाइंट" टेक्नोलॉजीज़ को आगे बढ़ाने के लिए नासा द्वारा इसे भागीदार के तौर पर नामित किया गया था, ताकि अंतरिक्ष में पहला LTE/ 4G संचार प्रणाली तैनात किया जा सके।

नोकिया इस मिशन के लिए ग्राउंडब्रेकिंग संचार नेटवर्क को चंद्र लैंडर में एकीकृत करने और इसे चंद्र सतह तक पहुंचाने के लिए टेक्सास स्थित इंट्यूएटिव मशीनों के साथ साझेदारी करेगा।

लंबे समय तक चलने वाला नेटवर्क

इस नेटवर्क को अत्यधिक विषम परिस्थियों में लॉन्च करने और चंद्र लैंडिंग स्थितियों के साथ-साथ अंतरिक्ष में संचालन के लिए सक्षम बनने के लिए डिज़ाइन किया जाएगा। यह अंतरिक्ष पेलोड के सभी आकार, वजन और शक्ति की कमी को पूरा करते हुए, चंद्रमा की तरफ़ एक अत्यंत कॉम्पैक्ट (छोटे) रूप में भेजा जाएगा।

मुख्य विशेषताएं

इस नासा साझेदारी के तहत, नोकिया पहली बार अल्ट्रा-कॉम्पैक्ट और लो-पॉवर्ड एंड-टू-एंड LTE सोल्यूशन का निर्माण करेगा। इस टेक्नोलॉजी को नोकिया बेल लैब्स के अग्रणी नवाचारों द्वारा विकसित किया जाएगा।

नोकिया की इस चंद्र प्रणाली में एक LTE बेस स्टेशन, LTE यूसर उपकरण, RF एंटिना और उच्च-विश्वसनीयता संचालन और रखरखाव (O&M) नियंत्रण सॉफ्टवेयर शामिल होंगे।

इस वायरलेस तकनीक को ऐसे डिज़ाइन किया जाएगा कि, यह चंद्रमा पर पहली बार LTE संचार प्रणाली की स्थापना के लिए तैनात होने के समय खुद को ‘सेल्फ़-कॉन्फ़िगर’ करेगा।

यह महत्वपूर्ण संचार क्षमतायें प्रदान करेगा, जो रियल टाइम नेविगेशन, चंद्र रोवर्स के रिमोट कंट्रोल, महत्वपूर्ण आदेश और नियंत्रण कार्यों और हाई डेफिनिशन वीडियो स्ट्रीमिंग का समर्थन करेगा।

ये संचार अनुप्रयोग, अपने आर्टेमिस कार्यक्रम के तहत वर्ष 2024 तक चंद्रमा पर मनुष्यों को बसाने की नासा की योजना के अनुसार चंद्र सतह पर एक दीर्घकालिक मानव उपस्थिति के लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं।

अंतरिक्ष यात्रियों को किसी भी तरह की गतिविधि के लिए चंद्र सतह पर वायरलेस कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए नोकिया का यह LTE नेटवर्क आदर्श साबित होने की उम्मीद जताई जा रही है।

यह टेलीमेट्री और बायोमेट्रिक डाटा एक्सचेंज, वोयस और वीडियो संचार क्षमताओं को हासिल करने के साथ-साथ रोबोट और सेंसर पेलोड को तैनात करने और नियंत्रित करने की अनुमति भी देगा।

चंद्र सेटलमेंट्स (बस्तियां)

मनुष्यों के चंद्रमा पर जाने से पहले वायरलेस ब्रॉडबैंड संचार प्रणाली को वर्ष 2022 के अंत तक चंद्र सतह पर तैनात किए जाने की उम्मीद है। नासा ने वर्ष 2024 तक मनुष्यों को चंद्रमा पर बसाने के साथ ही, मंगल जैसे अन्य ग्रहों के लिए भविष्य के मिशनों का समर्थन करने के लिए, चंद्र बस्तियों का निर्माण करने के लिए योजना बनाई है।

नासा का आर्टेमिस कार्यक्रम

इस आर्टेमिस कार्यक्रम के तहत, नासा वर्ष 2024 तक चंद्रमा पर पहली महिला और अगले पुरुष को उतारने की योजना बना रहा है। इस कार्यक्रम को अन्य अंतरिक्ष एजेंसियों द्वारा भी समर्थन दिया जाएगा।

नासा को उम्मीद है कि, चंद्रमा पर एक स्थायी उपस्थिति स्थापित करने के दीर्घकालिक लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अंतर-राष्ट्रीय भागीदारी इस कार्यक्रम को अपने अगले स्तर तक ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।


6. जाने-माने अर्थशास्त्री डॉ. जयंत माधब का निधन

असम के प्रसिद्ध अर्थशास्त्री डॉ. जयंत माधब का निधन।

उन्होंने कलकत्ता मेट्रोपॉलिटन डेवलपमेंट कॉर्प के वित्तीय सलाहकार और एडीबी में निदेशक के रूप में कार्य किया था।

वह उत्तर पूर्वी विकास वित्त निगम लिमिटेड के संस्थापक अध्यक्ष थे। इसके अतिरिक्त वह 2003-2009 के दौरान मुख्यमंत्री के वित्तीय सलाहकार भी रहे थे।


7. भारतीय वायुसेना की पहली महिला अधिकारी विजयलक्ष्मी रमनन का निधन

भारतीय वायु सेना की पहली महिला अधिकारी, विंग कमांडर (रि.) डॉ. विजयलक्ष्मी रमनन का निधन।

उनका जन्म फरवरी 1924 में हुआ था, वह अपनी एमबीबीएस करने के बाद 22 अगस्त, 1955 को आर्मी मेडिकल कोर में शामिल हुई थी।

विभिन्न वायु सेना अस्पतालों में स्त्री रोग विशेषज्ञ के रूप में कार्य करने के अलावा, उन्होंने युद्धों के दौरान घायल सैनिकों को सेवाए दी और और प्रशासनिक कर्तव्यों का पालन भी तत्पर्ता से किया।

अगस्त 1972 में रमनन को विंग कमांडर के पद पर पदोन्नत किया गया था और पाँच साल बाद उन्हें विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया गया। वह फरवरी 1979 में सेवानिवृत्त हुई थी।

इसके अलावा रमनन ने कर्नाटक संगीत की शिक्षा ली और बहुत कम उम्र में ऑल इंडिया रेडियो के साथ एक कलाकार के रूप में भी कार्य किया था।


8. 'फोर्ब्स वर्ल्ड बेस्ट एम्प्लॉयर- 2020' में एनटीपीसी प्रथम स्थान पर

फोर्ब्स द्वारा प्रकाशित 'फोर्ब्स वर्ल्ड बेस्ट एम्प्लॉयर- 2020' में सार्वजनिक क्षेत्र के भारतीय उपक्रमों में देश की सबसे बड़ी विद्युत उत्पादक कंपनी नेशनल थर्मल पावर निगम (एनटीपीसी) का नाम प्रथम स्थान पर दर्ज किया गया है। यह उपलब्धि एनटीपीसी की उस प्रतिबद्धता को साबित करती है, जिसके तहत कंपनी अपनी श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ रूप से विकसित प्रथाओं को अपनाती है और उन्हें बेहतर तरीके से डिजाइन करते हुए मजबूती के साथ लागू करती है। एनटीपीसी (शक्तिनगर) के जनसंपर्क अधिकारी आदेश पाण्डेय ने शुक्रवार को यहां बताया कि लॉकडाउन के दौरान और उसके बाद अनलॉक अवधि में एनटीपीसी ने लर्निंग और डेवलपमेंट की अपनी रणनीति के माध्यम से वर्तमान परिदृश्य की आवश्यकता के अनुसार आगे बढ़ने के लिए खुद को परिवर्तित किया। इसकी प्रशिक्षण पद्धति ने अपने हजारों कर्मचारियों के जीवन को गहन डिजिटलीकरण और ऑनलाइन प्रशिक्षण के माध्यम से और समृद्ध किया और उन्हें दूरस्थ स्थानों से भी सेवाएं प्रदान करने में सक्षम बनाया। उन्होंने बताया कि मॉड्यूल ने एनटीपीसी के हजारों कर्मचारियों को पेशेवर क्षेत्र से आगे सोचने और इस दिशा में आगे बढ़ने में मदद की है। हायरिंग, एंगेजमेंट, डाइवर्सिटी और इनक्लूजन, रिवाड्र्स और रिकॉग्निशन और परफॉर्मेंस मैनेजमेंट के डोमेन में एनटीपीसी ने लोगों से संबंधित प्रथाओं को सफलतापूर्वक लागू किया है। पाण्डेय ने बताया कि हाल के दिनों में एनटीपीसी ने आधिकारिक कार्यों से परे सफलता की कहानियों पर ‘एनटीपीसी सीरीज‘ शुरू की है। यह एक ऐसी सीरीज है, जिसमें कर्मचारियों के आधिकारिक असाइनमेंट से अलग ‘महत्वाकांक्षा, विकास, सफलता से परे काम‘ पर आधारित उपलब्धियों को प्रदर्शित किया गया है। कई देशों और क्षेत्रों में संचालन के साथ अपने कारोबारों के लिए काम कर रहे 58 देशों के लगभग 160,000 पूर्णकालिक और अंशकालिक श्रमिकों ने इस सर्वेक्षण में हिस्सा लिया और इन प्रतिभागियों ने उत्साहपूर्वक दूसरों की तुलना में अपने नियोक्ताओं का मूल्यांकन किया। कोविड-19 से संबंधित घटनाओं पर जताई जाने वाली प्रतिक्रियाओं के आधार पर भी नियोक्ताओं का मूल्यांकन किया गया। साथ ही उनकी छवि, आर्थिक पदचिह्न, प्रतिभा विकास, लैंगिक समानता और सामाजिक जिम्मेदारी के आधार पर भी आंका गया। उन्होंने बताया कि अंतिम सूची में 45 देशों में मुख्यालय वाले 750 बहुराष्ट्रीय और बड़े निगम शामिल थे।


9. तमिलनाडु सरकार स्मार्ट ब्लैक बोर्ड योजना को लागू करेगी

तमिलनाडु सरकार 80,000 से अधिक सरकारी स्कूलों में स्मार्ट ब्लैकबोर्ड योजना को लागू करने जा रही है। यह बेहतर शिक्षण वातावरण सुनिश्चित करने के लिए है।

मुख्य विचार

स्मार्ट ब्लैकबोर्ड योजना का उद्देश्य ऑडियो विजुअल शिक्षण सामग्री का उपयोग करना है जिसे डिजिटल कक्षाओं के साथ एकीकृत किया जा सकता है। यह उन सामग्रियों का निर्माण करेगा जो पेन ड्राइव का उपयोग करके कंप्यूटर स्क्रीन में फीड की जा सकती हैं।

तमिलनाडु सरकार ने 2020-21 के पाठ्यक्रम को 40 प्रतिशत तक कम करने का निर्णय लिया है।

राज्य में 7500 से अधिक शिक्षण और 2400 गैर-शिक्षण पद खाली हैं। सरकार वर्तमान में इन पदों को भरने के लिए आवश्यक कदम उठा रही है।

भारत में डिजिटल शिक्षा

शिक्षा मंत्रालय, जिसे पहले मानव संसाधन और विकास मंत्रालय कहा जाता था, ने India Report on Digital Education 2020 लांच की। इस रिपोर्ट में मंत्रालय द्वारा घर पर बच्चों को समावेशी और सुलभ शिक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपनाई गई नवीन विधियों के बारे में बताया गया है।

इस रिपोर्ट के अनुसार, देश में डिजिटल शिक्षा में सुधार के लिए निम्नलिखित पहलें राज्यों द्वारा शुरू की गई थी :

Social Media interface for Learning Management, SMILE को राजस्थान में लॉन्च किया गया था।

जम्मू में प्रोजेक्ट होम कक्षाएं शुरू की गईं।

‘एजुकेशन एट योर डोरस्टेप छत्तीसगढ़ में शुरू की गई।

उन्नयन पहल बिहार में शुरू की गई थी।

केरल में KITE VICTERS यह केरल सरकार का एक टीवी चैनल था जो विशेष रूप से बच्चों की शिक्षा पर केंद्रित था।

मेघालय में ई-स्कॉलर पोर्टल।राज्य ने शिक्षकों के लिए मुफ्त ऑनलाइन पाठ्यक्रम भी शुरू किया।

मानव संसाधन और विकास मंत्रालय ने कोविड-19 के दौरान छात्रों, शिक्षकों और परिवार के सदस्यों को मनोसामाजिक सहायता प्रदान करने के लिए मनोदर्पण पहल शुरू की। इस पहल के तहत एक राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर शुरू किया गया था।

मंत्रालय ने बच्चों को उनके घरों से सीखने में मदद करने के लिए दीक्षा मंच, शिक्षा वाणी, स्वयं प्रभा टीवी चैनल और ई-पाठशाला भी लॉन्च की है।

6 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved