Search

22nd October | Current Affairs | MB Books


1. ऑस्ट्रेलियाई नौसेना मालाबार अभ्यास में शामिल होगी

भारत सरकार ने घोषणा की कि ऑस्ट्रेलियाई नौसेना नवंबर 2020 में होने वाले मालाबार अभ्यास में शामिल होगी। इसका मतलब यह है कि सभी चार क्वाड देश इस अभ्यास में भाग लेंगे।

मुख्य बिंदु

इस अभ्यास में भाग लेने वाले देश जापान, भारत और अमेरिका हैं। समुद्री सुरक्षा क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग प्राप्त करने की प्रक्रिया में, भारत ने अभ्यास में भाग लेने के लिए ऑस्ट्रेलिया को आमंत्रित किया था।

मालाबार अभ्यास

शुरू में भारतीय और अमेरिकी नौसेना के बीच यह अभ्यास आयोजित किया गया था। यह अभ्यास 1992 में शुरू हुआ था। जापान अभ्यास में शामिल हुआ और 2015 में एक स्थायी सदस्य बन गया। 2018 में, भारत ने अभ्यास में ऑस्ट्रेलिया की भागीदारी को अस्वीकार कर दिया था।

पृष्ठभूमि

हाल ही में, भारत हिंद महासागर क्षेत्र में लगातार समुद्री अभ्यास कर रहा है। हाल ही में आयोजित संयुक्त नौसैनिक अभ्यास इस प्रकार हैं :

  • भारत-अमेरिका ने जुलाई 2020 में PASEX का आयोजन किया। दुनिया के सबसे बड़े विमान वाहक पोत यूएसएस निमित्ज नेइस अभ्यास में भाग लिया।

  • भारत-ऑस्ट्रेलिया ने सितंबर 2020 में PASEX का आयोजन किया।

  • भारत-जापान ने JIMEX, 2020 आयोजित किया

  • सागर कवच और मातला अभियान का आयोजन किया गया

  • भारत और बांग्लादेश नेअक्टूबर 2020 में बोंगसागर और CORPAT का आयोजन किया ।

  • भारत-श्रीलंका नेSLINEX, 2020 का आयोजन किया ।

  • इंद्र नौसैनिक अभ्यासआयोजित किया गया।

उपरोक्त सभी अभ्यास पिछले दो महीनों की समयावधि में आयोजित किए गए थे।


2. सिंगापुर टैक्स भुगतान के लिए चेहरे की पहचान करने वाला बना विश्व पहला देश

सिंगापुर नेशनल आइडेंटिफिकेशन डेटाबेस में फेशियल वेरिफिकेशन अटैच करने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है।

इस फ़ंक्शन को “SingPass Face Verification” नाम डिया गया है। इस तकनीक को शहर की राज्य की सिंगपास डिजिटल पहचान योजना में शामिल किया जा रहा है, जिसमें 400 से कम ऑनलाइन सेवाओं तक पहुँच की पेशकश की गई है, जिसमें टैक्स डिक्लेरेशन और पब्लिक हाउसिंग एप्लीकेशन शामिल हैं।

सिंगापुर के अधिकारियों के अनुसार, प्रौद्योगिकी यह सुनिश्चित करने में मदद करेगी कि सही व्यक्ति वास्तव में उनकी स्क्रीन के सामने मौजूद हो, बजाय किसी तस्वीर, वीडियो, रिप्ले रिकॉर्डिंग या एक डीपफेक के।


3. 'NAG' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण

भारत ने गुरुवार को डीआरडीओ द्वारा विकसित 'नाग' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का अंतिम परीक्षण एक वारहेड के साथ सफलतापूर्वक किया। राजस्थान के पोखरण फील्ड फायरिंग रेंज में सुबह 6.45 बजे इस अत्याधुनिक एंटी गाइडेड मिसाइल का परीक्षण किया गया।

यह मिसाइल किसी भी मौसम में दुश्मन के बड़े युद्ध टैंकों को मार गिराने की क्षमता रखती है। इसमें इंफ्रारेड भी है, जो लॉन्च से पहले टारगेट को लॉक करता है। इसके बाद नाग अचानक ऊपर उठती है और फिर तेजी से टारगेट के एंगल पर मुड़कर उसकी ओर चल देती है। लक्ष्‍य भेदने की इसकी क्षमता काफी सटीक है।

यह मिसाइल जमीन से जमीन पर 4 किलोमीटर तक मार कर सकती है और हेलीकॉपटर से इसकी मारक क्षमता बढ़कर 5 किमी हो जाती है।

सीमा पर चीन के साथ जारी तनाव के बीच इस मिसाइल परीक्षण को काफी अहम माना जा रहा है। आज ही आईएनएस करावत्ती को भी नौसेना में शामिल किया जा रहा है। भारतीय सेना को मजबूती देने की दिशा में हाल ही में सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस समेत कई मिसाइलों के परिक्षण किए गए हैं।


4. नासा ने चंद्रमा पर 4G LTE मोबाइल नेटवर्क स्थापित करने के लिए नोकिया का किया चयन

नासा द्वारा चंद्रमा पर पहला सेलुलर नेटवर्क स्थापित करने के लिए नोकिया का चयन किया गया है।

नासा का लक्ष्य 2024 तक मनुष्यों को चंद्रमा पर ले जाना और अपने आर्टेमिस कार्यक्रम के तहत दीर्घकालिक समय तक रहने के लिए खुदाई करना है।

अंतरिक्ष में पहला वायरलेस ब्रॉडबैंड संचार प्रणाली 2022 के अंत में लुनार सतह पर स्थापित किया जाएगा।


5. केरल में सरकारी नौकरियों में 10 फीसदी आरक्षण

केरल कैबिनेट ने सामान्य श्रेणी में आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के लिए सरकारी नौकरियों में 10 प्रतिशत आरक्षण को लागू करने को बुधवार को मंजूरी दे दी। सरकार के फैसले से आरक्षण का लाभ ले रही मौजूदा श्रेणियां प्रभावित नहीं होंगी।

एक सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि मुख्यमंत्री पी विजयन की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक हुई थी, जिसमें इस बाबत निर्णय लिया गया। आरक्षण को केरल राज्य और अधीनस्थ सेवा नियमों में आरक्षण के प्रावधानों में संशोधन करके लागू किया जाएगा।

बैठक में सेवानिवृत्त न्यायाधीश के शशिधरन नायर की अध्यक्षता वाले दो सदस्यीय आयोग की सिफारिशों पर विचार के बाद आरक्षण का मानदंड तय किया गया। इस आयोग में वकील के राजगोपालन नायर सदस्य थे।

केरल मंत्रिमंडल ने सरकारी कर्मचारियों के वेतन में कटौती करने के फैसले को बुधवार को वापस ले लिया। कोरोना वायरस के कारण वित्तीय संकट को देखते हुए सितंबर से अगले छह महीने तक वेतन में कटौती करने का फैसला किया गया था।


6. भारत OECD इंटरनेशनल माइग्रेशन आउटलुक रिपोर्ट में रहा 2 वें स्थान पर

भारत ने आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (Organisation for Economic Co-operation and Development) देशों में जाने वाले प्रवासियों की संख्या और उन देशों की नागरिकता प्राप्त करने के मामले में दूसरी रैंक हासिल की है।

इस सूची में चीन ने 4.3 लाख प्रवासियों के साथ अपने शीर्ष स्थान को बरकरार रखा है, जो 2019 की रिपोर्ट से 1 प्रतिशत कम है।

यह इस वार्षिक रिपोर्ट का 44 वां संस्करण है। डेटा को ओईसीडी द्वारा वार्षिक अंतर्राष्ट्रीय प्रवासन आउटलुक रिपोर्ट के 2020 संस्करण में जारी किया गया था, जो अपने देशों में प्रवासियों की आवाजाही और नीतियों में हाल के घटनाक्रम का विश्लेषण करता है।

भारत से, 3.3 लाख प्रवासी चले गए, और यह पिछले संस्करण की तुलना में 10 प्रतिशत अधिक है। इसमें रोमानिया इन देशों में मानव पूंजी का तीसरा सबसे बड़ा निर्यातक बनकर उभरा है।

OECD पेरिस स्थित 37 विकसित देशों का एक संघ है जो अक्सर काम के अवसरों, शिक्षा और शरण के लिए आप्रवासियों को आकर्षित करते हैं।


7. भारतीय पर्यटन सांख्यिकी: यूपी ने सबसे अधिक घरेलू पर्यटकों को आकर्षित किया

पर्यटन मंत्रालय ने हाल ही में भारतीय पर्यटक सांख्यिकी जारी की है। इस रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश ने देश में सबसे अधिक घरेलू पर्यटकों को आकर्षित किया।

मुख्य बिंदु

2019 में, भारत में विदेशी पर्यटकों के आगमन में 2% की वृद्धि हुई।2019 में भारत में कुल विदेशी आगंतुक 28.9 मिलियन थे। इसमें अप्रवासी भारतीय भी शामिल थे। पर्यटकों के शीर्ष पांच स्रोत देश बांग्लादेश, संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, श्रीलंका और कनाडा थे।

2019 में पर्यटन के कारण कुल विदेशी मुद्रा मूल्य 29 बिलियन अमरीकी डालर था।

लिंग वार वितरण: भारत पहुंचने वाले विदेशी पर्यटकों में 6% पुरुष और 41.4 प्रतिशत महिलाएँ थीं।

भारतीय पर्यटन और विश्व

संयुक्त राष्ट्र के विश्व पर्यटन संगठन के अनुसार, 2019 में अंतर्राष्ट्रीय पर्यटक आगमन में 4% की वृद्धि हुई। भारत में इसी अवधि में 6.8% की वृद्धि हुई।

वैश्विक पर्यटन सूचकांक

वैश्विक पर्यटन सूचकांक 2019 में भारत को 34वाँ स्थान दिया गया है।यह 2018 में 40वीं रैंक पर था।

भारत वर्ष 2000 में 58वें रैंक पर था।

भारत ई-पर्यटक वीजा

2019 में, लगभग 5 मिलियन पर्यटकों ने वीजा के लिए अप्लाई किया था। ई-टूरिस्ट वीजा भारत में 2015 में पेश किया गया था। सबसे बड़े ई-टूरिस्ट वीजा आवेदनकर्ता यूके, यूएस और चीन से हैं।

पर्यटक प्रवाह में वृद्धि के कारण

2019 में पर्यटन मंत्रालय ने पर्वतारोहण और ट्रेकिंग गतिविधियों के लिए उत्तराखंड, जम्मू और कश्मीर, सिक्किम और हिमाचल प्रदेश में 137 नए क्षेत्र खोले।

पर्यटक ई-वीजा शुल्क को 80 अमरीकी डालर से घटाकर 40 अमरीकी डालर कर दिया गया।

होटल के कमरे पर जीएसटी घटाकर18 प्रतिशत तक कम किया गया।

भारत के पसंदीदा पर्यटन स्थल

इस रिपोर्ट के अनुसार 2019 में निम्नलिखित देश भारतीयों के पसंदीदा पर्यटन स्थल थे :

  • थाईलैंड

  • सिंगापुर

  • संयुक्त राज्य अमेरिका

  • मलेशिया

  • दुबई

  • श्री लंका

  • ऑस्ट्रेलिया

  • जापान

  • भूटान

  • मालदीव

घरेलू पर्यटन

ताजमहल और गेटवे ऑफ़ इंडिया घरेलू पर्यटन के शीर्ष स्थान हैं। इन स्थानों पर हर दिन 40000 से अधिक पर्यटक आते हैं। उत्तर प्रदेश ने अधिकतम संख्या में घरेलू पर्यटकों को आकर्षित किया।

पर्यटकों की भारी आमद वाले अन्य राज्य केरल, राजस्थान और जम्मू-कश्मीर हैं।


8. दिग्गज टीवी एक्ट्रेस जरीना रोशन खान का निधन

जानी-मानी टीवी अभिनेत्री जरीन रोशन खान का निधन।

उन्हें टेलीविजन धारावाहिक "कुमकुम भाग्य" में निभाई इंदु दादी की भूमिका के लिए जाना जाता है।

ज़रीना ने अभिनय में अपना करियर शुरू करने से पहले एक स्टंट महिला के रूप में काम किया था और कई शो और फिल्मों में अभिनय किया है।

अभिनेत्री ने रिश्ता क्या कहलाता है जैसे धारावाहिकों में भी काम किया है और कई हिंदी फिल्मों में एक माँ की भूमिका निभाई है।


9. राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन: तीसरा चरण जनवरी 2021 से शुरू होगा

21 अक्टूबर 2020 को विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने घोषणा की कि राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन का तीसरा चरण जनवरी 2021 तक शुरू होगा। इस मिशन के तीसरे चरण में कंप्यूटिंग गति को लगभग 45 पेटाफ्लॉप्स तक बढ़ाया जायेगा।

मुख्य बिंदु

12 अक्टूबर, 2020 को C-DAC और नेशनल सुपरकंप्यूटिंग मिशन ने भारत के प्रमुख संस्थानों के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए। इन समझौते के अनुसार, विनिर्माण इकाइयों और सुपर कंप्यूटरों की असेंबली इकाइयां देश के प्रीमियर संस्थानों में स्थापित की जाएँगी। इसे आत्मनिर्भर भारत अभियान की ओर एक बड़ा कदम माना जा रहा है।

राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन

इस मिशन को सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ एडवांस कंप्यूटिंग सी-डैक द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है। इसका उद्देश्य राष्ट्रीय शैक्षणिक संस्थानों को सशक्त बनाना और सुपरकंप्यूटिंग सिस्टम स्थापित करने के लिए देश में अनुसंधान और विकास करना है। सुपरकंप्यूटिंग ग्रिड का गठन 70 से अधिक उच्च प्रदर्शन कंप्यूटिंग फैसिलिटी के साथ किया जायेगा। इन सुपर कंप्यूटरों को नैशनल नॉलेज नेटवर्क के तहत नेटवर्क किया जायेगा।

इस मिशन के चरण 1 के तहत, 6.6 पेटाफ्लॉप्स की सुपरकंप्यूटिंग गति हासिल की गई थी। इस मिशन के चरण 2 के तहत, 8 और संस्थानों को अप्रैल 2021 तक सुपरकंप्यूटिंग सुविधाओं से लैस किया जायेगा। चरण 2 के तहत लक्ष्य 10 पेटाफ्लॉप्स की गति प्राप्त करना है।

यह सभी तीन चरण भारत में 75 से अधिक संस्थानों को उच्च गति उच्च प्रदर्शन कंप्यूटिंग सुविधाएं प्रदान करेगे। यह नेशनल नॉलेज नेटवर्क के माध्यम से काम करने वाले शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं के लिए एक रीढ़ की हड्डी के रूप में कार्य करेगा।

पृष्ठभूमि

राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन के तहत, परम शिवाय स्वदेशी रूप से असेंबल किया जाने वाला सुपर कंप्यूटर है। इसे IIT भुवनेश्वर में स्थापित किया गया था। बाद में परम शक्ति और परम ब्रह्म सुपर कंप्यूटर क्रमशः IIT खड़गपुर और IISER पुणे में स्थापित किए गए।

पेटाफ्लॉप

पेटाफ्लॉप कंप्यूटर की प्रोसेसिंग स्पीड का एक पैमाना है। इसे प्रति सेकंड हजार ट्रिलियन फ्लोटिंग पॉइंट ऑपरेशंस के रूप में व्यक्त किया जाता है।


10. IFFCO ने सिक्किम में खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का निर्माण शुरू किया

IFFCO (Indian farmers Fertilizer Cooperative Limited) संयुक्त उद्यम सिक्किम इफको ऑर्गेनिक्स लिमिटेड ने हाल ही में सिक्किम में खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का निर्माण कार्य शुरू किया है। इस परियोजना को 2021 तक पूरा किया जायेगा।

मुख्य बिंदु

इस परियोजना के तहत दो खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का निर्माण 50 करोड़ रुपये की लागत से किया जायेगा। ये खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां सिक्किम में जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए उपयोगी सिद्ध होंगी। इन इकाइयों की मदद से, SIFCO इटली, जर्मनी और अन्य यूरोपीय देशों में अपनी एजेंसियों के माध्यम से अदरक का व्यापार शुरू करेगा। यह इकाइयाँ केवल जैविक उत्पादों का निपटान करेंगी। यह ग्रीन हिमालयन अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा देगा।

योजना क्या है?

एकीकृत खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां शुरू में हल्दी, अदरक, इलायची और बकव्हीट को संसाधित करेगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि ये फसलें सिक्किम की मुख्य फसलें हैं और इनमे निर्यात की बड़ी संभावनाएं हैं। इन कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए भारत ने पहले ही संयुक्त राज्य अमेरिका, क्रोएशिया और यूरोपीय संघ के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।

IFFCO

यह भारत की सबसे बड़ी सहकारी समितियों में से एक है। इसकी स्थापना 1976 में हुई थी। आज इस संगठन के साथ 36,000 भारतीय सहकारी संघ हैं। इस संगठन का मुख्य उद्देश्य किसानों की फसल उत्पादकता में वृद्धि करके उनकी आय में वृद्धि करना है।

सिक्किम : एक जैविक राज्य

2016 में सिक्किम भारत का पहला जैविक राज्य बना था। भारत जैविक खेती करने वाले किसानों की संख्या के मामले में नंबर एक पर है और जैविक खेती के लिए क्षेत्रफल के मामले में 9वें स्थान पर है।

भारत में जैविक खेती

भारत का प्रमुख जैविक निर्यात तिल, सोयाबीन, चावल, औषधीय पौधे और दालें हैं। ये मुख्य रूप से मिजोरम, असम, मणिपुर, नागालैंड से निर्यात किए जाते हैं। ऑर्गेनिक उत्पादों को मुख्य रूप से यूके, यूएसए, इटली और ईस्वातिनी को निर्यात किया जाता है।

जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार की पहलें

पूर्वोत्तर भारत के लिए मिशन ऑर्गेनिक वैल्यू चेन डेवलपमेंट को सतत कृषि के लिए राष्ट्रीय मिशन के तहत लॉन्च किया गया था। इसे 2015 में उत्तर पूर्वी राज्यों के लिए लॉन्च किया गया था। इसका उद्देश्य प्रमाणित जैविक उत्पादों का विकास करना है।

परम्परागत कृषि विकास योजना 2015 में सतत कृषि के राष्ट्रीय मिशन के तहत शुरू की गई थी। इसका उद्देश्य जैविक खेती को अपनाकर मिट्टी की सेहत को बढ़ावा देना है।


11. नासा का अंतरिक्ष यान बेन्नू एस्टेरोइड की सतह छूकर धूल और कंकड़ एकत्रित करने में हुआ सफल

नासा के OSIRIS-Rex अंतरिक्ष यान ने अपनी रोबोटिक भुजा को फैलाकर बेन्नू नाम के एक अच्छी तरह से संरक्षित, प्राचीन क्षुद्रग्रह (एस्टेरोइड) की सतह को छू लिया है। यह क्षुद्रग्रह वर्तमान में पृथ्वी से 200 मिलियन मील से अधिक दूरी पर है।

पहली बार, नासा के OSIRIS-Rex (ओरिजिन्स, स्पेक्ट्रल इंटरप्रिटेशन, रिसोर्स आइडेंटिफिकेशन, सिक्योरिटी, रेगोलिथ एक्सप्लोरर) अंतरिक्ष यान ने इस 20 अक्टूबर, 2020 को धूल और कंकड़ इकट्ठा करने के लिए एक क्षुद्रग्रह की सतह को सफलतापूर्वक छू लिया है। यह यान इन एकत्रित कणों को वर्ष 2023 तक पृथ्वी पर पहुंचा देगा।

नासा के OSIRIS-Rex अंतरिक्ष यान ने अपनी रोबोटिक भुजा को फैलाकर बेन्नू नाम के एक अच्छी तरह से संरक्षित, प्राचीन क्षुद्रग्रह (एस्टेरोइड) की सतह को छू लिया है। यह क्षुद्रग्रह वर्तमान में पृथ्वी से 200 मिलियन मील से अधिक दूरी पर है।

यह कार्य-प्रक्रिया बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह वैज्ञानिकों को शुरुआती सौर प्रणाली के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए एक आधार प्रदान करेगा जब यह पहली बार अरबों साल पहले आकार ले रहा था।

टच-एंड-गो सैंपल अधिग्रहण प्रणाली

इस सैंपल (नमूना) संग्रहण विधि को टच-एंड-गो सैंपल अधिग्रहण प्रणाली (TAGSAM) तौर पर जाना जाता है। अगर इस विधि से यह अंतरिक्ष यान पर्याप्त नमूने एकत्रित करने में सक्षम रहा तो इस मिशन की टीमें अपने इस अंतरिक्ष यान को मार्च, 2021 में अपने घर अर्थात पृथ्वी पर वापस लौटने के लिए अपनी यात्रा शुरू करने की आज्ञा देंगी अन्यथा यह अंतरिक्ष यान जनवरी, 2021 में एक अन्य नमूना संग्रहण प्रयास के लिए तैयार होगा।

यह नमूना संग्रहण कैसे हुआ?

OSIRIS-Rex अंतरिक्ष यान ने पहले खुद को बेन्नू के चारों ओर की कक्षा से बाहर करने के लिए अपने थ्रस्टरों को निकाल दिया और फिर अपने कंधे, फिर कोहनी, फिर अपनी 11 फुट की सैंपलिंग आर्म की कलाई को आगे बढ़ाया और लगभग आधे मील की दूरी पर उतरते हुए बेन्नू क्षुद्रग्रह की सतह तक पहुंचा।

इस TAG प्रणाली ने एक नमूना संग्रहण स्थल को लक्षित किया, जिसे नाइटिंगेल के तौर पर जाना जाता है, जो बोल्डर-कवर स्पेस रॉक के कुछ अपेक्षाकृत स्पष्ट स्थानों में से एक है। बेन्नू की सतह से संपर्क बनाने के कुछ ही समय बाद, इसने अपने थ्रस्टरों को निकाल दिया और सुरक्षित रूप से बेन्नू से दूर चला गया।

क्या अंतरिक्ष यान ने पर्याप्त नमूने एकत्र किए हैं?

इस अंतरिक्ष यान की टच-एंड-गो नमूना अधिग्रहण प्रणाली को अंतरिक्ष यान टेलीमेट्री डाटा के अनुसार, उम्मीद के मुताबिक संचालित किया गया था। हालांकि, इस अंतरिक्ष यान द्वारा एकत्र किए गए नमूने की मात्रा की पुष्टि करने के लिए OSIRIS-REx की अनुसंधान टीम को कम से कम एक सप्ताह का समय लगेगा।

वास्तविक समय के डाटा ने यह संकेत दिया है कि, इस अंतरिक्ष यान ने क्षुद्रग्रह की सतह से सफलतापूर्वक संपर्क किया और नाइट्रोजन गैस का एक विस्फोट किया, जिससे बेन्नू क्षुद्रग्रह की सतह से पर्याप्त धूल और कंकड़ ऊपर उठे होंगे, जिनमें से कुछ को नमूना संग्रहण के लिए एकत्रित किया जाना था।

OSIRIS-REx की टीम का लक्ष्य कम से कम 60 ग्राम वजन वाली सामग्री एकत्रित करना था। इस टीम के इंजीनियर और वैज्ञानिक दूर से विभिन्न नमूनों की पहचान करने और मापने के लिए कई तकनीकों का उपयोग करेंगे। वे टचडाउन से पहले और बाद में नमूना संग्रहण साइट की छवियों की तुलना करेंगे और देखेंगे कि, संबद्ध क्षेत्र में सतह सामग्री के कारण कितना फर्क पड़ा है।

अगर इस अंतरिक्ष यान के टच-एंड-गो सैंपल एक्विजिशन मैकेनिज्म (नमूना अधिग्रहण तंत्र) ने प्राचीन क्षुद्रग्रह की सतह पर महत्वपूर्ण आघात किया है तो इस बात की बहुत अधिक संभावना है कि इसने बहुत सारी सामग्री एकत्र कर ली है।

पृथ्वी पर वापसी

यह अंतरिक्ष यान मार्च, 2021 में बेन्नू से अपने घर अर्थात पृथ्वी गृह पर वापस लौटने की यात्रा की तैयारी करेगा, जब यह क्षुद्रग्रह पृथ्वी के साथ ठीक से सीध में आएगा। अगर इस अंतरिक्ष यान ने पर्याप्त नमूने एकत्रित नहीं करता है, तो यह 12 जनवरी, 2021 को एक और प्रयास करेगा। यह अंतरिक्ष यान 24 सितंबर, 2023 को हमारी पृथ्वी पर वापस लौटने वाला है।

पृष्ठभूमि

इस OSIRIS-REx अंतरिक्ष यान को 8 सितंबर, 2016 को फ्लोरिडा के केप कैनवेरल एयर फोर्स स्टेशन से लॉन्च किया गया था। यह 3 दिसंबर, 2018 को बेन्नू पहुंचा था और पहली बार 31 दिसंबर, 2018 को इस क्षुद्रग्रह की परिक्रमा शुरू की थी।


12. एनीमिया मुक्त भारत सूचकांक-2020 में हरियाणा सबसे ऊपर

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय तथा संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) की पहल पर एनीमिया मुक्त भारत (एएमबी) कार्यक्रम के तहत हरियाणा को देश के 29 राज्यों की सूची में पहला स्थान मिला है। हरियाणा देश के 29 राज्यों में एनीमिया मुक्त भारत (एएमबी) सूचकांक में सबसे ऊपर है।

यह जानकारी चंडीगढ़ में राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन की राज्‍य स्‍वास्‍थ्‍य सोसाइटी की 8वीं बैठक के दौरान दी गई। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा इस संबंध में हाल ही में जारी सूची के स्कोर कार्ड में हरियाणा को 46.7 अंक के साथ एनीमिया मुक्त भारत सूचकांक में शीर्ष स्थान पर रखा गया है।

सूची में पहले स्थान पर पहुंचा हरियाणा

हरियाणा के मुख्य सचिव विजयवर्धन और स्वास्थ्य विभाग के अलावा मुख्य सचिव राजीव आरोड़ा ने बैठक में एनएचएम की उपलब्धियों व नई तैयार की गई योजनाओं से अवगत कराया। हरियाणा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक प्रभजोत सिंह ने एक प्रस्तुति के जरिये बताया कि एनएचएम के तहत प्रदेश में 34 राष्ट्रीय कार्यक्रम चल रहे हैं।

एनीमिया मुक्त भारत

स्वास्थ्य सचिव राजीव अरोड़ा के अनुसार, मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अप्रैल 2018 में ’अटल अभियान‘ एश्योरिंग एनीमिया लिमिट अभियान शुरू किया था। इसके तहत एनीमिया मुक्त भारत की तर्ज पर हरियाणा में एनीमिया को कम करने के लिए योजना की घोषणा की गई थी। वर्ष 2019-20 में पहली बार राज्य में 93 फीसदी टीकाकरण का लक्ष्य प्राप्त किया गया।

शिशु मृत्यु दर में कमी

राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा 12 वैक्सीन प्रीवेंटबल डिजीज (वीपीडी) के खिलाफ टीकाकरण की सेवाएं प्रदान की जा रही हैं। यह टीके शिशु मृत्यु दर और पांच वर्ष से कम आयु वर्ग में मृत्यु दर में लगातार कमी लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

मातृ मृत्यु दर के मामले में हरियाणा 11वें स्थान पर

स्वास्थ्य सचिव के मुताबिक मातृ मृत्यु दर में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है और वर्तमान में हरियाणा मातृ मृत्यु दर के मामले में देश में 11वें स्थान पर है। मुख्य सचिव विजयवर्धन को जानकारी दी गई कि प्रदेश में संस्थागत प्रसूति 93.7 फीसदी तक बढ़ गई है और यह प्रदेश में 24 घंटे उपलब्ध प्रसूति सुविधाओं के कारण संभव हो पाया है।

एनीमिया क्या है, लक्षण, कारण, उपचार

एनीमिया का अर्थ शरीर में खून की कमी होना है। यह तब होता है, जब शरीर के रक्त में लाल कणों या कोशिकाओं के नष्ट होने की दर, उनके निर्माण की दर से अधिक होती है. एनीमिया एक गंभीर बीमारी है। एनीमिया एक रक्त से संबंधित बीमारी है।

एनीमिया के लक्षण त्वचा का सफेद दिखना, चक्कर आना, सांस फूलना, हृदयगति का तेज होना और चेहरे एवं पैरों पर सूजन दिखाई देना है। एनीमिया से बचाव के लिए आहार में कुछ बदलाव करना काफी फायदेमंद साबित होता है। शरीर में आयरन की जरूरत को पूरा करने के लिए खाने में चकुंदर, गाजर, ट्माटर और हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें।

7 views

Recent Posts

See All

Recruitment

State Bank of India SBI Apprentice 2020 Online Form Information : State Bank of India SBI Are Invited to Online Application Form for the Recruitment Post of Apprentice In State Bank of India Various S

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved