Search

21st November | Current Affairs | MB Books


1. विश्व मतस्य पालन दिवस : 21 नवम्बर

21 नवम्बर को विश्व भर में विश्व मतस्य पालन दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य मतस्य पालन से जुड़े लोगों की आजीविका तथा महासागरीय पारिस्थितिकी तंत्र को सुनिश्चित करना है। इस दौरान रैली, वर्कशॉप, बैठक, सांस्कृतिक कार्यक्रम तथा प्रदर्शनी इत्यादि का आयोजन किया जाता है।

भारत में मतस्य उद्योग

मतस्य उद्योग भारतीय अर्थव्यवस्था का अति महत्वपूर्ण हिस्सा है, इससे देश में लाखों लोगों को रोज़गार प्राप्त होता है तथा इससे देश में खाद्य सुरक्षा भी सुनिश्चित होती है। भारत की तटीय रेखा लगभग 8,000 किलोमीटर है तथा विशेष आर्थिक क्षेत्र (EEZ) 2 मिलियन वर्ग किलोमीटर है। भारतीय अर्थव्यवस्था में मतस्य उद्योग का योगदान सकल घरेलु उत्पाद (जीडीपी) में 1.07% है। मतस्य पालन भारत में कृषि व सम्बंधित क्षेत्र 5.5% हिस्सा है।

भारत में मतस्य क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण भाग अंतर्देशीय मतस्य है, इसमें नदी, झीलें, जलाशय, तालाब इत्यादि प्रमुख हैं। भारत में 1950 में अंतर्देशीय मतस्य उत्पादन 1,92,000 टन था, वर्ष 2007 में यह बढ़कर 7,81,846 टन पहुँच गया था।

प्रधानमंत्री मत्स्य सम्पदा योजना

यह योजना भारत में मत्स्य पालन के सतत विकास पर केंद्रित है। इसे 2020-21 और 2024-25 के बीच लागू किया जायेगा। इस योजना के तहत मत्स्यपालकों के लिए आवंटित धनराशि 20,050 करोड़ रुपये है। यह मछली पालन क्षेत्र के लिए सबसे अधिक आवंटित की गयी धनराशी है।

योजना की मुख्य विशेषताएं

इस योजना का लक्ष्य 2024-25 तक मछली उत्पादन को 70 लाख टन तक बढ़ाना है।

इसका उद्देश्य मत्स्य किसानों की आय को दोगुना करना है।

यह योजना मत्स्य पालन क्षेत्र की फसल के बाद के नुकसान को घटाकर 25% से 20% से 10% कर देगी

यह योजना मत्स्य क्षेत्र में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 55 लाख रोजगार पैदा करेगी।

इस योजना का उद्देश्य फिनफिश हैचरी की स्थापना, बायोफ्लॉक तालाबों का निर्माण, आइस प्लांट्स, पिंजरों की स्थापना, मछली चारा पौधों की स्थापना आदि है।


2. भारतीय मूल की अमेरिकी माला अडिगा बनीं बाइडेन की पत्नी की सलाहकार

अमेरिकी राजनीति में भारतीयों का दबदबा बढ़ता ही जा रहा है। भारतीय मूल की अमेरिकी माला अडिगा (Mala Adiga) को जिल बाइडेन की नीति निदेशक नियुक्त किया गया है। जिल बाइडेन (Jill Biden) अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन की पत्नी हैं। जो बाइडेन के 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद जिल देश की प्रथम महिला की जिम्मेदारी संभालेंगी। अमेरिका की उप राष्ट्रपति कमला हैरिस (Kamala Harris) भी भारतीय मूल की हैं।

माला अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के गृहनगर इलिनायस से ताल्लुक रखती हैं। उन्होंने शिकागो लॉ स्कूल यूनिवर्सिटी के मिनीसोता स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के ग्रिनेल कॉलेज से स्नातक किया है। अडिगा ने ओबामा प्रशासन के दौरान भी एसोसिएट अटार्नी जनरल की सलाहकार के तौर पर भी काम किया था। बाइडेन और नवनियुक्त उप राष्ट्रपति कमला हैरिस की प्रचार टीम में वरिष्ठ नीतिगत सलाहकार और जिल बाइडेन की वरिष्ठ सलाहकार की जिम्मेदारी पहले ही संभाल चुकी हैं। अडिगा बाइडेन फाउंडेशन में उच्च शिक्षा और सैन्य परिवारों से जुड़ी शाखा की निदेशक भी थीं।

पूर्व राष्ट्रपति ओबामा के प्रशासन में माला अडिगा शैक्षिक एवं सांस्कृतिक मामलों के ब्यूरो में एकेडमिक प्रोग्राम की उप सहायक सचिव के पद पर कार्य कर रही थीं। अडिगा राष्ट्रपति कार्यालय में महिलाओं के वैश्विक मुद्दों के कार्यालय में चीफ ऑफ स्टॉफ रह चुकी हैं। उन्होंने मानवाधिकार से जुड़े पदों पर जिम्मेदारी संभाली थी।

अडिगा करियर के शुरुआती दौर में संघीय सरकार में क्लर्क की नौकरी की थी और 2008 में बराक ओबामा के प्रचार अभियान में जुड़ने से पहले शिकागो लॉ फर्म में कार्यरत थीं। बाइडेन अपने व्हाइट हाउस के सीनियर स्टॉफ के लिए चार सदस्यों की नियुक्ति का ऐलान पहले ही कर चुके हैं।


3. मिशन सागर II : भारतीय नौसेना का पोत ऐरावत केन्या के पोर्ट मोम्बासा में पहुंचा

मिशन ‘सागर-II’ के दौरान, भारतीय नौसेना का पोत ऐरावत केन्या के पोर्ट ऑफ मोम्बासा में पहुंचा गया। प्राकृतिक आपदाओं और COVID-19 महामारी का मुकाबला करने के लिए भारत सरकार मित्रवत देशों को सहायता प्रदान कर रही है।

मुख्य बिंदु

मिशन सागर-II को प्रधानमंत्री के ‘SAGAR-सिक्यूरिटी एंडग्रोथ फॉर ऑल इन द रीजन’ के दृष्टिकोण के साथ जोड़ा गया है। यह मिशन भारत द्वारा दक्षिण सूडान के साथ संबंधों के महत्व को भी रेखांकित करता है।

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि अफ्रीका में भारत और देशों के बीच मित्रता और भाईचारे के संबंधों के मजबूत बंधन कई शताब्दियों से मौजूद हैं और वे निरंतर मजबूत हुए हैं। भारत हमेशा अफ्रीका में देशों और लोगों के साथ एकजुटता में खड़ा रहा है और भारत ने विकास, क्षमता निर्माण और मानवतावादी सहायता कार्यक्रमों में भागीदारी की है।

मिशन सागर

SAGAR का पूर्ण स्वरुप Security and Growth for All in the Region है। इसे 2015 में हिंद महासागर क्षेत्र की रणनीतिक दृष्टि के तहत लॉन्च किया गया था। SAGAR के तहत, भारत का लक्ष्य अपने समुद्री पड़ोसियों के साथ आर्थिक और सुरक्षा सहयोग को मजबूत करना है। साथ ही, भारत हिंद महासागर क्षेत्र में राष्ट्रीय हितों की रक्षा करेगा।

मिशन सागर को भारत की अन्य नीतियों जैसे प्रोजेक्ट सागरमाला, प्रोजेक्ट मौसम, एक्ट ईस्ट पॉलिसी के साथ संयोजन के रूप में देखा जाता है।

प्रोजेक्ट सागरमाला

सागरमाला का लक्ष्य भारत के तटों के आसपास बंदरगाहों की एक श्रृंखला विकसित करना है। इस पहल का मुख्य उद्देश्य देश की 7,500 किलोमीटर लंबी तटरेखा में बंदरगाह के नेतृत्व में विकास को बढ़ावा देना है। अंतर्देशीय जलमार्ग, रेल, सड़क और तटीय सेवाओं के विस्तार के माध्यम से विकास किया जायेगा। शिपिंग मंत्रालय इस योजना को लागू करने वाली नोडल एजेंसी है।


4. भारतीय मूल के लॉर्ड मेघनाद देसाई ने नस्लवाद पर लेबर पार्टी से दिया इस्तीफा

भारतीय मूल के अर्थशास्त्री, लेखक लॉर्ड मेघनाद देसाई ने ब्रिटेन के विपक्षी दल लेबर पार्टी पर नस्लीय भेदभाव से प्रभावी तरीके से निपटने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए उसकी सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने कहा कि वह हमेशा से लेबर पार्टी के समर्थक थे लेकिन सदस्यता लेने के 49 वर्षों बाद बृहस्पतिवार को उन्होंने इसे रद्द कराने के फैसला किया क्योंकि जेर्मी कॉर्बिन को महज 19 दिन के निलंबन के बाद पार्टी में फिर से शामिल कर लिया गया जबकि देश के मानवाधिकार निगरानीकर्ता द्वारा उन्हें “गैरकानूनी कृत्यों” में शामिल पाया गया था।

लॉर्ड देसाई (80) ने कहा, “उन्हें बिना माफी मांगे वापसी की इजाजत देने का फैसला बेहद विशिष्ट था। हाउस ऑफ कॉमन्स में पार्टी व्हिप के लिये कुछ महीनों तक उनकी अनदेखी की गई, लेकिन बेहद बड़े संकट के लिये यह काफी मामूली प्रतिक्रिया थी।”

उन्होंने कहा, “मैं बेहद असहज और थोड़ा शर्मिंदा हूं कि पार्टी में इस तरह का नस्लवाद भरा है। यहूदी सांसदों को खुलेआम भला-बुरा कहा जाता है, महिला सदस्यों को ट्रोल किया जाता है। यह साफ है और साफ तौर पर नस्लवाद है।”

लेबर पार्टी पर कुछ सालों से यहूदियों को लेकर नस्लवादी टिप्पणियों का आरोप लगता रहा है और दिसंबर 2019 की चुनावी हार को भी इस संकट से जोड़कर देखा जा रहा था।

देसाई ने कहा, “मैं निकट भविष्य में चीजों को वास्तव में बदलते हुए नहीं देख रहा और अंतत: मुझे अपने अंतर्मन के साथ जाना है। मैं यहूदियों के प्रति पूर्वाग्रह रखने वाले दल में नहीं रह सकता।” उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि उनका किसी और राजनीतिक दल में शामिल होने का इरादा नहीं है।


5. नरेंद्र सिंह तोमर ने PM-FME के क्षमता निर्माण घटक का किया उद्घाटन

केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग नरेन्द्र सिंह तोमर ने प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना (PM-FME Scheme) के क्षमता निर्माण घटक के लिए मास्टर ट्रेनर्स प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया है।

PM-FME योजना को 2020-21 से 2024-25 तक पांच वर्षों की अवधि के लिए 10,000 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ शुरू किया जाएगा।

इसके अलावा उन्होंने भारत के GIS 'एक जिला-एक उत्पाद योजना' (One District One Product) डिजिटल मैप का भी अनावरण किया।

यह घटक खाद्य प्रसंस्करण उद्यमियों, विभिन्न समूहों, स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी), किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ), सहकारी समितियों, श्रमिकों और अन्य हितधारकों को पीएम-एफएमई योजना के कार्यान्वयन से संबंधित प्रशिक्षण प्रदान करने की परिकल्पना करता है। ।

मास्टर ट्रेनरों को ऑनलाइन मोड, क्लासरूम लेक्चर, प्रदर्शन और ऑनलाइन पाठ्य सामग्री के माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।

मास्टर ट्रेनर तब जिला-स्तरीय प्रशिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे, जो अंततः लाभार्थियों को प्रशिक्षित करेंगे।


6. सरकार ने पारदर्शिता बढ़ाने के लिए आरोग्य सेतु एप्प का बैकएंड कोड जारी किया

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने ओपन डोमेन में आरोग्य सेतु एप्प का बैकएंड कोड जारी किया है। एंड्रॉइड और आईओएस संस्करणों के सोर्स कोड पहले जारी किए गए थे और डेवलपर समुदाय के साथ सभी कोड रिपोजिटरी साझा करने के लिए भारत सरकार की नीति के अनुसार बैकएंड सोर्स कोड भी जारी किया जा रहा है।

मुख्य बिंदु

इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि आरोग्य सेतु एप्प भारत की COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में बहुत उपयोगी साबित हुआ है और आरोग्य सेतु ऐप के सोर्स कोड को फिर से व्यवस्थित करना पारदर्शिता को पूरा करने की सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

मंत्रालय ने कहा, इस एप्प को 16.43 करोड़ से अधिक उपयोगकर्ताओं द्वारा डाउनलोड किया गया है और इसने COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में अग्रिम पंक्ति के स्वास्थ्य कर्मचारियों के प्रयासों को मज़बूत किया है। इसने COVID सकारात्मक उपयोगकर्ताओं के ब्लूटूथ संपर्कों की पहचान करने में मदद की है और लोगों को सुरक्षित रहने में मदद की।

आरोग्य सेतु एप्प

केन्द्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत संचालित राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र ने “आरोग्य सेतु” एप्लीकेशन विकसित किया है। जब कोई व्यक्ति COVID-19 संक्रमित व्यक्ति के छह फीट के संपर्क में आता है, तो यह एप्प उस व्यक्ति को सचेत कर देता है।

एप्प की मुख्य विशेषताएं

यह एप्प यूजर को सूचित करने के लिए स्मार्टफोन के ब्लूटूथ और जीपीएस का उपयोग करता है यदि वह व्यक्ति COVID-19 संक्रमित व्यक्ति से 6 फीट के दायरे में है। यह एप्प वायरस की रोकथाम के बारे में सर्वोत्तम प्रथाओं और सलाह के बारे में जानकारी प्रदान करता है।

यह एप्लीकेशन 11 भाषाओं में उपलब्ध है। इस एप्लिकेशन को चालू रखने के लिए GPS और ब्लूटूथ को हमेशा चालू रखना होगा।

यह एप्लीकेशन COVID-19 रोगी के बारे में जानकारी ढूंढता है, यह रोगी की गोपनीयता को भंग नहीं करता है। इस एप्लीकेशन की गोपनीयता नीति स्पष्ट रूप से बताती है कि निकाले गए उपयोगकर्ता डाटा को तीसरे पक्ष के साथ साझा नहीं किया जाएगा।


7. CBIC के अध्यक्ष अजीत कुमार ने पंचकुला में GST भवन का किया उद्घाटन

केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) के अध्यक्ष एम. अजीत कुमार ने बोर्ड के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर हरियाणा के पंचकुला में GST भवन का उद्घाटन किया।

यह पंचकूला में केंद्र के जीएसटी के कार्यालयों का भवन होगा। इसे लगभग 31 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है।

यह COVID के समय में पूरी हुई CBIC की यह पहली बड़ी बुनियादी ढांचा परियोजना है। यह इमारत पूरी तरह से वातानुकूलित तीन मंजिला इमारत है, जो लगभग 1.4 एकड़ भूमि पर बनी है जिसमें 7600 व

र्ग मीटर क्षेत्र और लगभग 200 व्यक्तियों के बैठने की क्षमता है।


8. मास्टरकार्ड और यूएसएआईडी ने प्रोजेक्ट किराना लांच किया

19 नवंबर, 2020 को मास्टरकार्ड और यूनाइटेड स्टेट्स एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट ने “प्रोजेक्ट किराना” लॉन्च किया। यह कार्यक्रम महिला उद्यमियों को प्रगति करने और अपने कार्य का विस्तार करने में सक्षम बनाएगा।

मुख्य बिंदु

प्रोजेक्ट किराना के तहत, उत्तर प्रदेश के कानपुर, लखनऊ और वाराणसी जैसे चुनिंदा शहरों में दो साल का कार्यक्रम शुरू किया जायेगा। यह परियोजना राजस्व, डिजिटल भुगतान बढ़ाने और वित्तीय समावेशन का विस्तार करने के लिए काम करेगी।

उत्तर प्रदेश को क्यों चुना गया?

उत्तर प्रदेश भारत का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है। बड़ी संख्या में लोग अनौपचारिक क्षेत्र में कार्यरत्त हैं। साथ ही, राज्य में 10.3% से अधिक महिलाएं MSME में कार्यरत हैं। साथ ही, उत्तर प्रदेश में भारत में MSME की सबसे अधिक संख्या है।

प्रोजेक्ट किराना की प्रमुख विशेषताएं क्या हैं?

इस परियोजना का उद्देश्य राज्य में महिलाओं को डिजिटल साक्षरता और वित्तीय साक्षरता प्रदान करना है। यह महिलाओं के व्यवसाय प्रबंधन कौशल में सुधार करेगा।

परियोजना किराना क्यों महत्वपूर्ण है?

यह अनुमान है कि देश की जीडीपी अगले पांच वर्षों में 12% से 25% के बीच बढ़ेगी। भारत में व्यवसाय करने वाली महिलाओं के पास जबरदस्त अप्रयुक्त क्षमता है जो अर्थव्यवस्था को बदलने में सक्षम है।

भारत दुनिया में सबसे अधिक लिंग अंतर वाले देशों में से एक है। जैसा कि प्रोजेक्ट किराना महिलाओं को समर्थन देने और देश में उनकी वित्तीय पहुंच बढ़ाने के लिए बनाया गया है, यह लैंगिक समानता मुद्दों को हल करने में मदद करेगा।

पृष्ठभूमि

जुलाई 2020 में, मास्टरकार्ड ने घोषणा की कि वह एसएमई (स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज) को रिबूट करने के लिए 250 करोड़ रुपये देगा। इस प्रतिबद्धता के अनुरूप, मास्टर कार्ड ने पहल की मेजबानी की थी। प्रोजेक्ट किराना ऐसी ही एक परियोजना है।

USAID

USAID अंतर्राष्ट्रीय विकास के लिए संयुक्त राज्य एजेंसी है। यह एक स्वतंत्र एजेंसी है जो विदेशी सहायता और विकास सहायता के लिए जिम्मेदार है।


9. डॉ हर्षवर्धन ने 33 वीं स्टॉप टीबी पार्टनरशिप बोर्ड की बैठक को किया संबोधित

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से नई दिल्ली में 33 वीं स्टॉप टीबी पार्टनरशिप बोर्ड की बैठक को संबोधित किया।

बैठक के दौरान, मंत्री ने रणनीतिक रूप से समर्थन, विचार नेतृत्व, विघटनकारी सामाजिक उद्यमिता, शक्तिशाली, सामाजिक और राजनीतिक प्रतिबद्धता के साथ टीबी के उन्मूलन के लिए एक जन आंदोलन बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया।

इस ओर ध्यान देना चाहिए कि भारत 2030 के वैश्विक लक्ष्य से पांच साल पहले 2025 तक टीबी से संबंधित सतत विकास लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए "टीबी हरेगा, देश जीतेगा" अभियान चला रहा है।


10. 130 किमी की रफ्तार वाली पहली ट्रेन बनेगी 'प्रयागराज एक्सप्रेस'

उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) की सबसे प्रमुख ट्रेन प्रयागराज-नई दिल्ली विशेष गाड़ी भारतीय रेल की 24 एलएचबी कोचों वाली ऐसी पहली ट्रेन बनने जा रही है जो 25 नवंबर 2020 से 130 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से संचालित होगी। उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी अजित कुमार सिंह ने बताया कि उत्तर मध्य रेलवे को 130 किमी प्रति घंटे या इससे अधिक की गति से 100 से अधिक ट्रेनें चलाने का गौरव प्राप्त है। इनमें भारत की सबसे तेज ट्रेन गातिमान एक्सप्रेस और भारतीय रेल की सर्वाधिक औसत गति वाली वंदे भारत एक्सप्रेस वाली ट्रेन भी शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इसी क्रम में एक और महत्वपूर्ण मील का पत्थर हासिल करते हुए उत्तर मध्य रेलवे नौ अतिरिक्त जोड़ी ट्रेनों की गति बढ़ा रहा है और ये ट्रेनें उत्तर मध्य रेलवे पर 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेंगी। सिंह ने बताया कि 16 जुलाई 1984 को प्रारंभ हुई प्रयागराज एक्सप्रेस, यात्रियों को गुणवत्तायुक्त यात्रा अनुभव प्रदान कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रयागराज एक्सप्रेस ट्रेन की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसे 18 दिसंबर 2016 से 22 कोचों तक बढ़ाया गया और 15 मई 2017 से 23 कोच तक और दो सितंबर 2019 से अधिकतम 24 एलएचबी कोच से युक्त कर दिया गया है। सिंह ने बताया कि उत्तर मध्य रेलवे में जिन अन्य ट्रेनों की गति में वृद्धि की गई है उनमें मंडुआडीह-नई दिल्ली, लखनऊ-नई दिल्ली, बांद्रा-गोरखपुर, बांद्रा-मुजफ्फरपुर, डिब्रूगढ़-नई दिल्ली, गोरखपुर-हिसार, सहरसा-नई दिल्ली और रीवा-नई दिल्ली एक्सप्रेस शामिल हैं।


11. विजयनगर कर्नाटक का होगा 31 वां जिला: कर्नाटक सरकार

विजयनगर साम्राज्य की पूर्ववर्ती राजधानी हम्पी के विश्व विरासत स्थल जल्द ही एक नए जिले का हिस्सा बनने जा रहे है।

कर्नाटक सरकार ने विजयनगर को राज्य के एक नए जिले के रूप में गठन करने की मंजूरी दी है।

विजयनगर राज्य का 31 वां जिला होगा।

नए जिले को बल्लारी से अलग करके बनाया जाएगा और इसका नाम विजयनगर साम्राज्य के नाम पर रखा जाएगा जिसने इस क्षेत्र पर शासन किया था।


12. बार्कलेज ने वित्त वर्ष 21 में भारत की GDP -6.4% रहने का जताया अनुमान

बार्कलेज (Barclays) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 में भारत के लिए जारी अपने जीडीपी के पूर्वानुमान को -6% के अपने पूर्व अनुमान से संशोधित कर -6.4% कर दिया है।

हालंकि, बार्कलेज ने वित्त वर्ष 2021-22 की वृद्धि के लिए जारी अपने पूर्वानुमान को 7 प्रतिशत से बढ़ाकर 8.5 प्रतिशत कर दिया है।


13. आईसीसी का बड़ा फैसला, 15 साल से कम उम्र वाले खिलाड़ी नहीं खेल पाएंगे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने 19 नवंबर 2020 को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को लेकर एक बड़ा घोषणा किया है। आईसीसी बोर्ड ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के लिए खिलाड़ियों के लिए न्यूनतम आयु की नीति शुरू की है। उसके मुताबिक, क्रिकेटर को विश्व स्तर पर खेल खेलने के लिए कम से कम 15 साल का होना चाहिए।

आईसीसी बोर्ड ने खिलाड़ियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए यह नियम बनाया है। इस बात की जानकारी बोर्ड ने दी। यह आयु संबंधी सीमा सभी तरह की क्रिकेट पर लागू होगा जिसमें आईसीसी के टूर्नामेंट्स, द्विपक्षीय क्रिकेट और अंडर-19 क्रिकेट शामिल है। आईसीसी ने एक बयान में कहा है पुरुषों के किसी भी प्रारूप में खेलने के लिए, महिलाओं या U19 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ियों की अब न्यूनतम आयु 15 वर्ष होनी चाहिए।

अपवाद की स्थिति में

आईसीसी ने एक बयान में कहा कि अपवाद की स्थिति में, सदस्य बोर्ड 15 साल से कम खिलाड़ियों को खेलने की मंजूरी देने के लिए आईसीसी से अपील कर सकता है। इसमें खिलाड़ी का खेलने का अनुभव, मानसिक विकास और वह किस तरह से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का दबाव झेल पाएगा इस बात का ध्यान रखा जाएगा।

हालांकि एक सदस्य बोर्ड आईसीसी से 15 वर्ष से कम उम्र के खिलाड़ियों को खेलने की अनुमति मांग सकता है लेकिन उस खिलाड़ी को खेल का अनुभव एवं मानसिक विकास से मुकाबला करने में सक्षम होना चाहिए।

पृष्ठभूमि

बता दें इससे पहले, किसी भी क्रिकेटर की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के किसी भी रूप में खेलने की उम्र पर कोई रोक नहीं थी। बता दें कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पाकिस्तान के हसन रजा ने 14 साल और 227 दिन की उम्र में अपना पहला मैच खेला था. वह सबसे कम उम्र में डेब्यू करने वाले खिलाड़ी हैं।

पूर्व दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर देश के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय हैं। उन्होंने 16 साल और 205 दिन की उम्र में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया। मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने टेस्ट में 15,921 रन बनाए और 18,426 रन के साथ अपने वनडे करियर का समापन किया।


14. डॉ. पोखरियाल को वातायन लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से किया जाएगा सम्मानित

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' को वातायन लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा।

यह पुरस्कार उन्हें लेखन, कविता और अन्य साहित्यिक कार्यों के लिए प्रदान किया जाएगा।

मंत्री ने व्यापक मुद्दों पर 75 से अधिक पुस्तकों का लेखन किया हैं, जिनका कई राष्ट्रीय और विदेशी भाषाओं में अनुवाद भी किया गया है।

लंदन में वातायन-यूके संगठन द्वारा दिए जाने वाले वातायन अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार कवियों, लेखकों और कलाकारों को उनके संबंधित क्षेत्रों में उनके अनुकरणीय कार्यों को सम्मानित करने के लिए दिया जाता हैं।


5 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved