Search

21st July | Current Affairs | MB Books


1. एरियल हेनरी बने हैती के प्रधानमंत्री

हैती (Haiti) में उथल-पुथल के बीच एरियल हेनरी (Ariel Henry) को देश का नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया है।

मुख्य बिंदु : राष्ट्रपति जोवेनेल मोइस (Jovenel Moise) की हत्या से हैती में उथल-पुथल मच गई थी। इस उथल-पुथल के बीच देश ने एरियल हेनरी को अपना नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया है।

एरियल हेनरी : एरियल हेनरी एक न्यूरोसर्जन और पूर्व कैबिनेट मंत्री हैं। उनकी हत्या से कुछ दिन पहले देश के राष्ट्रपति द्वारा उन्हें प्रधानमंत्री बनने के लिए चुना गया था। वह देश का नेतृत्व तब तक करेंगे जब तक कि सितंबर के महीने में देश में होने वाले चुनावों के माध्यम से एक नए राष्ट्रपति की नियुक्ति नहीं हो जाती।

राष्ट्रपति जोवेनल मोइसे की हत्या : राष्ट्रपति जोवेनेल मोइस की हत्या अभी भी एक रहस्य बनी हुई है। आधी रात को हुए इस हमले में मोइस की पत्नी भी गंभीर रूप से घायल हो गई थीं। अब तक, हैती पुलिस ने बताया है कि अब तक कम से कम 26 लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिनमें स्थानीय पुलिस अधिकारी, हैतियन-अमेरिकी और कोलंबियाई शामिल हैं।


2. चीन ने 600 किमी/घंटा की गति वाली हाई स्पीड मैग्लेव ट्रेन शुरू की

20 जुलाई, 2021 चीन ने क़िंगदाओ में 600 किमी/घंटा की गति से चलने वाली हाई-स्पीड मैग्लेव ट्रेन शुरू की।

मुख्य बिंदु :

  • वर्तमान में, मैग्लेव ट्रेन सबसे तेज उपलब्ध ज़मीनी वाहन है।

  • शेनझेन से शंघाई तक की यात्रा जिसमें 10 घंटे लगते थे, अब इसमें केवल 5 घंटे लगेंगे।

  • नई मैग्लेव ट्रेन कई तकनीकी प्रगति को प्रदर्शित करती है जिसमें 30% अधिक कुशल स्व-विकसित ब्रेक सिस्टम भी शामिल है।

  • इस ट्रेन में व्हर्लपूल ब्रेक के लिए चुंबकीय ध्रुवों को विकसित करने में 19 महीने लगे और उन्हें पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है।

  • एल्यूमीनियम मिश्र धातु का उपयोग करके ट्रेन के लिए एक कपलर विकसित किया गया था जिसकी लंबाई केवल 280 मिलीमीटर है और वजन 30 किलोग्राम से कम है।

  • सुचारू दूरसंचार सुनिश्चित करने के लिए 5G वाई-फाई सिस्टम और वायरलेस चार्जिंग प्रदान की जाएगी।

  • यह परियोजना वर्ष 2016 में शुरू की गई थी और वर्ष 2019 में एक प्रोटोटाइप वाहन विकसित किया गया था जिसका जून 2020 में एक ट्रायल रन किया गया था।

  • मैग्लेव ट्रेन को 2 से 10 कारों के अनुसार अनुकूलित किया जा सकता है, जिसमें प्रत्येक कार 100 से अधिक यात्रियों को समायोजित करने में सक्षम है।

उच्च गति वाली मैग्लेव लाइन : चीन का वित्तीय केंद्र शंघाई, वर्तमान में एकमात्र चीनी शहर है जो उच्च गति वाली मैग्लेव लाइन संचालित करता है। यह लाइन वर्ष 2003 से चालू है और शंघाई मैग्लेव ट्रेन पुडोंग हवाई अड्डे को डाउनटाउन शंघाई से जोड़ती है।

चीन का हाई-स्पीड रेलवे नेटवर्क : दुनिया में, चीन के पास सबसे बड़ा हाई-स्पीड रेलवे नेटवर्क है और इसके 95% शहर शामिल हैं। 2035 तक चीन का लक्ष्य 4,60,000 किलोमीटर हाईवे, 25,000 किलोमीटर हाई लेवल सी लेन और 2,00,000 किलोमीटर रेलवे का निर्माण करना है।


3. रूस ने S-500 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली का परीक्षण किया

20 जुलाई, 2021 को रूस ने घोषणा की कि इसने देश की दक्षिणी प्रशिक्षण रेंज में सफलतापूर्वक अपनी नई हवा रक्षा मिसाइल प्रणाली S-500 का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया है।

S-500 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली : रूस ने घोषणा की कि S-500 दुनिया की सबसे उन्नत मिसाइल रोधी प्रणाली है और इसकी सीमा 600 किमी होने की उम्मीद है। यह मिसाइल प्रणाली अंतरिक्ष से होने वाले हमलों का मुकाबला करने में भी सक्षम है। इस मिसाइल प्रणाली का कपुस्टिन यार (Kapustin Yar) प्रशिक्षण मैदान में परीक्षण किया गया था और लाइव फायर अभ्यास आयोजित किया गया था। मिसाइलों ने उच्च गति वाले बैलिस्टिक लक्ष्य पर सफलतापूर्वक निशाना साधा। परीक्षणों के सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद पहले S-500 सिस्टम जिन्हें ट्रायम्फेटर-एम (Triumfator-M) और प्रोमेथियस (Prometheus) भी कहा जाता है, को मॉस्को शहर के बाहर एक वायु रक्षा इकाई में रखा जाएगा।

S-500 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली का विकास : इस मिसाइल प्रणाली का विकास समय से वर्षों पीछे चल रहा है। सेना ने पहले घोषणा की थी कि सेना को वर्ष 2020 में पहला S-500 सिस्टम मिलना शुरू हो जाएगा।

रूस द्वारा किए गए अन्य परीक्षण : रूस ने घोषणा की कि उसने अपनी जिरकोन हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल (Zircon Hypersonic Cruise Missile) का एक और सफल परीक्षण किया है। जिरकोन रूस के शस्त्रागार का नया हिस्सा है।


4. Project 75-India : सरकार ने 6 पनडुब्बियों के निर्माण के लिए 50,000 करोड़ रुपये जारी किए

प्रोजेक्ट 75-इंडिया (Project 75-India) के तहत, सरकार ने छह पारंपरिक डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बियों के निर्माण के लिए 50,000 करोड़ रुपये का टेंडर जारी किया है। ये पनडुब्बियां स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बियों से बड़ी होंगी, जिन्हें मुंबई के मझगांव डॉकयार्ड्स लिमिटेड में बनाया जा रहा है।

मुख्य बिंदु :

  • प्रोजेक्ट-75 इंडिया के तहत छह पारंपरिक पनडुब्बियों के निर्माण के लिए रक्षा मंत्रालय की ओर से 50,000 करोड़ रुपये का टेंडर जारी किया गया है।लार्सन एंड टुब्रो (Larsen and Toubro) और मझगांव डॉकयार्ड्स लिमिटेड (Mazagon Dockyards Limited) को टेंडर जारी कर दिया गया है।

  • यह दोनों भारतीय कंपनियां अब जर्मनी, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, रूस और स्पेन की फर्मों सहित पांच वैश्विक मूल उपकरण निर्माताओं (original equipment manufacturers) में से एक-एक भागीदार का चयन करेंगी।

  • यह पनडुब्बियां भारी-भरकम मारक क्षमता से लैस होंगी और इनमें न्यूनतम 12 लैंड अटैक क्रूज मिसाइलों (LACM) के साथ एंटी-शिप क्रूज मिसाइल (ASCM) होंगी।

  • भारत को रक्षा उपकरण निर्माण केंद्र के रूप में बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस परियोजना को अंजाम दिया जा रहा है।

  • इस परियोजना का अन्य उद्देश्य देश में एक अनुसंधान एवं विकास और औद्योगिक पारिस्थितिकी तंत्र स्थापित करना है जो भारतीय सशस्त्र बलों की भविष्य की सभी आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम होगा।

प्रोजेक्ट 75-इंडिया : प्रोजेक्ट 75-इंडिया सबसे बड़ी मेक इन इंडिया परियोजनाओं में से एक है जिसे सरकार द्वारा शुरू किया जा रहा है। यह हिन्द-प्रशांत क्षेत्र की रक्षा और आत्मनिर्भरता सुनिश्चित करने के लिए किया जा रहा है।


5. नोएडा में बनेगा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेरिटेज (Indian Institute of Heritage)

सरकार द्वारा नोएडा में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेरिटेज (Indian Institute of Heritage) की स्थापना की जाएगी। यह देश में अपनी तरह का पहला संस्थान होगा।

मुख्य बिंदु : इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेरिटेज (Indian Institute of Heritage) की स्थापना की जाएगी और यह देश की समृद्ध विरासत पर ध्यान केंद्रित करेगा और राष्ट्र के सांस्कृतिक पहलुओं पर शिक्षा प्रदान करेगा।

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेरिटेज में ऑफर किए जाने वाले कोर्स : यह संस्थान छात्रों को निम्नलिखित विषयों में पीएचडी के साथ-साथ परास्नातक पाठ्यक्रम भी प्रदान करेगा।

  • पाण्डुलिपिविज्ञान (Manuscriptology)

  • संग्रहालय विज्ञान (Museology)

  • पुरातत्त्व (Archaeology)

  • निवारक संरक्षण (Preventive Conservation)

  • संरक्षण (Conservation)

  • · अभिलेखीय अध्ययन (Archival Studies)

  • · पुरालेख और मुद्राशास्त्र (Epigraphy and Numismatics)

  • · कला का इतिहास (History of Arts)

भारतीय विरासत संस्थान की स्थापना : निम्नलिखित संस्थानों को एकीकृत करके इस संस्थान को डीम्ड विश्वविद्यालय के रूप में स्थापित किया जाएगा :-

  • पुरातत्व संस्थान (Institute of Archaeology)

  • सांस्कृतिक संपत्ति के संरक्षण के लिए राष्ट्रीय अनुसंधान प्रयोगशाला (National Research Laboratory for Conservation of Cultural Property)

  • इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र का अकादमिक विंग (Academic Wing of Indira Gandhi National Centre for the Arts)

  • कला, संरक्षण और संग्रहालय के इतिहास के राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान (National Museum Institute of History of Art, Conservation and Museology)

  • अभिलेखीय अध्ययन के स्कूल (School of Archival Studies)

6. IOC मथुरा में भारत का पहला ग्रीन हाइड्रोजन प्लांट बनाएगी

भारत की सबसे बड़ी तेल कंपनी IOC (Indian Oil Corporation) मथुरा में अपनी रिफाइनरी में देश का पहला ‘ग्रीन हाइड्रोजन’ प्लांट बनाएगी। यह निर्णय ऊर्जा के स्वच्छ रूपों की बढ़ती मांगों को पूरा करने के लिए भविष्य की तैयारी की दृष्टि से लिया गया है।

मुख्य बिंदु :

  • यह परियोजना भारत की पहली हरित हाइड्रोजन इकाई होगी।

  • इससे पहले, प्राकृतिक गैस जैसे जीवाश्म ईंधन का उपयोग करने वाली ‘ग्रे हाइड्रोजन’ उत्पादन परियोजनाओं की घोषणा की गई है।

  • IOC द्वारा कई हाइड्रोजन उत्पादन इकाइयां स्थापित करने की योजना बनाई जा रही है।

  • हाइड्रोजन फ्यूल सेल से चलने वाली बसें सड़कों पर चल रही हैं, इसलिए हाइड्रोजन पावर प्लांट लगाना जरूरी है।

हाइड्रोजन प्लांट के प्रकार :

  • हाइड्रोजन नवीनतम चर्चा है क्योंकि यह एक स्वच्छ ईंधन है लेकिन इसके निर्माण से कार्बन उप-उत्पादों उत्पन्न होते हैं और यह ऊर्जा-गहन (energy-intensive) है।

  • कोयले के गैसीकरण की प्रक्रिया के माध्यम से ब्राउन हाइड्रोजन (brown hydrogen) का निर्माण होता है जबकि इस प्रक्रिया से कार्बन अपशिष्ट बाहर निकल जाता है।

  • ब्लू हाइड्रोजन कार्बन कैप्चर का उपयोग करता है।

  • परम स्वच्छ हाइड्रोजन संसाधन ग्रीन हाइड्रोजन उत्पादन है और यह हाइड्रोजन ईंधन बनाने के लिए अक्षय ऊर्जा का उपयोग करता है।

  • हाइड्रोजन को भविष्य का ईंधन भी कहा जाता है।

भारत में स्वच्छ ऊर्जा का महत्व :

पूर्वानुमान बताते हैं कि भारतीय ईंधन की मांग 2040 तक 250 मिलियन टन के मुकाबले 400-450 मिलियन टन तक पहुंच जाएगी और इसलिए, सीएनजी, एलएनजी, इथेनॉल और बायोडीजल में निवेश करना महत्वपूर्ण होगा।

IOC : इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IOCL) एक सरकारी स्वामित्व वाली गैस और तेल कंपनी है जिसकी स्थापना वर्ष 1959 में हुई थी। इसका मुख्यालय दिल्ली में स्थित है और इसके वर्तमान अध्यक्ष श्रीकांत माधव वैद्य हैं।


7. पशुपालन और डेयरी विभाग ने Dairy Investment Accelerator लॉन्च किया

भारत सरकार के पशुपालन और डेयरी विभाग (DAHD) ने अपने निवेश सुविधा प्रकोष्ठ (Investment Facilitation Cell) के तहत डेयरी निवेश एक्सेलरेटर (Dairy Investment Accelerator) की स्थापना की है।

डेयरी निवेश एक्सेलरेटर :

  • यह देश के डेयरी क्षेत्र में निवेश को बढ़ावा देने और सुगम बनाने की दिशा में कार्य करने के उद्देश्य से स्थापित किया गया है।

  • डेयरी इन्वेस्टमेंट एक्सेलेरेटर एक क्रॉस फंक्शनल टीम है जिसे निवेशक इंटरफेस के रूप में काम करने के लिए गठित किया गया है।

  • यह निवेश एक्सेलरेटर पूरे निवेश चक्र (investment cycle) में सहायता प्रदान करेगा। यह निवेश के अवसरों के मूल्यांकन के संबंध में इनपुट प्रदान करेगा और सरकार को आवेदन के बारे में विभिन्न प्रश्नों को भी संबोधित करेगा।

  • डेयरी निवेश एक्सेलरेटर स्थानीय और वैश्विक उद्योग प्रतिभागियों के साथ कार्यक्रम आयोजित करने के लिए पशुपालन और डेयरी विभाग के साथ मिलकर काम करेगा और निवेशकों के साथ उनके दृष्टिकोण को बेहतर ढंग से समझने के लिए आमने-सामने चर्चा करने में भी मदद करेगा।यह विभिन्न सरकारी अधिकारियों के साथ सीधे बातचीत की सुविधा भी प्रदान करेगा।

पशुपालन अवसंरचना विकास कोष : पशुपालन और डेयरी विभाग (DAHD) द्वारा शुरू की गई पशुपालन अवसंरचना विकास निधि एक प्रमुख योजना है। इस योजना के तहत निजी कंपनियों, उद्यमियों, किसान उत्पादक संगठनों (FPOs), MSME और धारा 8 कंपनियों को वित्तीय सहायता देने के लिए 15,000 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। इस योजना का लाभ डेयरी प्रसंस्करण, पशु चारा संयंत्र और मांस प्रसंस्करण और इससे संबंधित बुनियादी ढांचे के क्षेत्रों में नई इकाइयों के विस्तार या स्थापना के लिए लिया जा सकता है।

इस योजना के लाभ 6 साल की चुकौती अवधि (repayment period) के साथ 2 साल की मोहलत (moratorium) के साथ ऋण पर 3% ब्याज सबवेंशन हैं। साथ ही 750 करोड़ रुपये की क्रेडिट गारंटी भी दी जाएगी।


8. DRDO ने विकसित किया उच्च शक्ति वाला बीटा टाइटेनियम मिश्र धातु

भारत के रक्षा अनुसंधान व विकास संगठन (DRDO) द्वारा एक उच्च शक्ति टाइटेनियम मिश्र धातु विकसित की गई है। इस मिश्र धातु को एयरोस्पेस संरचनात्मक फोर्जिंग में अनुप्रयोगों के लिए विकसित किया गया है।

टाइटेनियम मिश्र धातु : टाइटेनियम मिश्र धातु अपनी लचीलापन, उच्च शक्ति, फ्रैक्चर मजबूती के कारण अद्वितीय हैं जो इसे विभिन्न विमान संरचनात्मक अनुप्रयोगों (aircraft structural applications) के लिए फायदेमंद बनाते हैं।

इसके अलावा इस मिश्र धातु की स्टील की तुलना में इसके बेहतर संक्षारण प्रतिरोध (corrosion resistance) के कारण अपेक्षाकृत कम जीवनकाल लागत है, जो इसे विमान संरचनात्मक अनुप्रयोगों के लिए बहुत फायदेमंद बनाती है।

DRDO ने कहा है कि इस मिश्र धातु का इस्तेमाल विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है जिसमें स्लैट और फ्लैप ट्रैक, लैंडिंग गियर और लैंडिंग गियर में ड्रॉप लिंक आदि शामिल हैं।

इस मिश्र धातु के साथ निकट भविष्य में प्रतिस्थापित (replace) किए जा सकने वाले 15 से अधिक इस्पात घटकों की पहचान वैमानिकी विकास एजेंसी (Aeronautical Development Agency – ADA) द्वारा की गई है।

मिश्र धातु की संरचना : इस उच्च शक्ति मिश्र धातु, Ti-10V-2Fe-3Al में आयरन, वैनेडियम और एल्युमिनियम है। डिफेंस मेटलर्जिकल रिसर्च लेबोरेटरी (DMRL) ने इस उच्च शक्ति वाले टाइटेनियम मिश्र धातु को विकसित किया है।


9. IIT रोपड़ ने अपनी तरह का पहला ऑक्सीजन राशनिंग उपकरण AMLEX विकसित किया

“AMLEX” एक ऑक्सीजन राशनिंग उपकरण है, जो भारत में अपनी तरह का पहला उपकरण है, जिसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रोपड़ के शोधकर्ताओं द्वारा विकसित किया गया है। यह उपकरण एक मरीज द्वारा सिलेंडर से ऑक्सीजन के प्रवाह को नियंत्रित करके ऑक्सीजन की बर्बादी को कम कर सकता है।

मुख्य बिंदु :

  • यह विशेष रूप से ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए विकसित किया गया है, AMLEX एक मरीज के ऑक्सीजन के प्रवाह को सिंक्रनाइज़ करता है।इस प्रकार ऑक्सीजन के प्रवाह को नियंत्रित करके यह अपव्यय (wastage) को कम करता है।

  • यह उपकरण ऑक्सीजन सिलेंडर के जीवनकाल को बढ़ाएगा और इस प्रकार रोगियों के साथ-साथ अस्पतालों के लिए भी बहुत सारे पैसे बचाएगा। कोरोनावायरस की दूसरी लहर के दौरान देश मेंतरल चिकित्सा ऑक्सीजन की मांग कई गुना बढ़ गयी थी और देश में कई लोगों को ऑक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ा था।

  • साँस छोड़ने के दौरान, ऑक्सीजन सिलेंडर या पाइप में ऑक्सीजन को उपयोगकर्ता द्वारा छोड़े गए CO2 के साथ बाहर धकेल दिया जाता है।इससे बड़ी मात्रा में ऑक्सीजन की बर्बादी होती है। इसके अलावा, चूंकि मास्क में ऑक्सीजन का निरंतर प्रवाह होता है, साँस लेने और छोड़ने के बीच की अवधि के दौरान ऑक्सीजन की एक बड़ी मात्रा छिद्र से निकल जाती है।

  • AMLEX डिवाइस रोगी के साँस लेने और छोड़ने के साथ ऑक्सीजन के प्रवाह को समायोजित करने में मदद करेगा और इस प्रकार बड़ी मात्रा में ऑक्सीजन के संरक्षण में मदद करेगा।यह उपकरण रोगी को साँस लेने के लिए आवश्यक मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति करेगा।

  • AMLEX के अविष्कार करने वालों ने कहा है कि उन्हें उम्मीद है कि उनके द्वारा बनाया गया डिवाइस ऑक्सीजन की बर्बादी को बचाने और रोगियों की सहायता करने में मदद करेगा।

10. ओलंपिक का नया आदर्श वाक्य जारी किया गया

20 जुलाई, 2021 को ओलंपिक के आदर्श को “Faster, Higher, Stronger” से बदलकर “Faster, Higher, Stronger – Together” में अपडेट किया गया। यह अपडेट कोविड-19 महामारी के समय दुनिया भर में एकजुटता दिखाने के लिए किया गया है।

मुख्य बिंदु :

  • टोक्यो ओलंपिक से पहले अपने सत्र में, अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने इस बदलाव को मंजूरी दे दी है।

  • 1894 के बाद से, ओलंपिक आदर्श वाक्य लैटिन में “सिटियस, अल्टियस, फोर्टियस” (Citius, Altius, Fortius) या “तेज़, उच्च, मजबूत” (Faster, Higher, Stronger) रहा है, जब इसे अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के संस्थापक पियरे डी कूपर्टिन के सुझाव पर अपनाया गया था।

  • अब इस वाक्य का लैटिन संस्करण “सिटियस, अल्टियस, फोर्टियस, कम्युनिटर” (Citius, Altius, Fortius, Communiter) है।

2026 मिलान-कॉर्टीना शीतकालीन खेल : 2026 मिलान-कॉर्टीना शीतकालीन खेलों के लिए, स्की पर्वतारोहण को एक अतिरिक्त खेल के रूप में अनुमोदित किया गया है। यह इटली का बहुत लोकप्रिय खेल है। इस श्रेणी के लिए पांच पदक प्रतियोगिताएं 2026 खेलों में आयोजित की जाएंगी।

2020 टोक्यो ओलंपिक : 2020 ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक 238 जुलाई से 8 अगस्त, 2021 तक जापान के टोक्यो में आयोजित किया जाएगा। यह मूल रूप से वर्ष 2020 में आयोजित होने वाला था, लेकिन COVID-19 महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया था। यह कार्यक्रम महामारी को ध्यान में रखते हुए बंद दरवाजों के पीछे आयोजित किया जाएगा।











  • Source of Internet

9 views0 comments

Recent Posts

See All