Search

20th & 21st June | Current Affairs | MB Books


1. 21 जून : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

हर साल दुनिया भर में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है, इसका उद्देश्य योग के लाभ के बारे में जागरूकता फैलाना है और लोगों को अपने स्वास्थ्य के परत सचेत करना है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पहली बार वर्ष 2015 में मनाया गया था। इस दिन को मनाने का उद्देश्य योग का अभ्यास करने के लाभों के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाना है।

थीम : Yoga at home and Yoga with Family

इस वर्ष की थीम वैश्विक महामारी के समय योग के महत्व पर केंद्रित है। चूंकि दुनिया भर के अधिकांश देश लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का पालन कर रहे हैं, कई आर्थिक गतिविधियां रुक गई हैं, जो नौकरी की असुरक्षा, आर्थिक रूप से आदि के कारण तनाव के परिणामस्वरूप व्यक्तियों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों पर नकारात्मक प्रभाव डालती हैं। .

अनिश्चितता के इस समय में स्वास्थ्य में सुधार के साधन के रूप में, योग के ऐसे लाभ हैं जो किसी व्यक्ति को मानसिक शान्ति, लचीलेपन और फिटनेस को बढ़ाकर तनाव से निपटने में मदद कर सकते हैं। इंटरनेट पर उपलब्ध विभिन्न ऑनलाइन संसाधनों के माध्यम से घर से योग सीखा और अभ्यास किया जा सकता है।

पृष्ठभूमि : भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 69वें सत्र के उद्घाटन के दौरान अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के विचार के लिए प्रस्ताव रखा था। संयुक्त राष्ट्र ने दिसंबर, 2014 में प्रस्ताव पारित किया और 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित कर दिया। पहला योग दिवस 2015 में राजपथ, नई दिल्ली में मनाया गया था। इसने 35,985 लोगों के साथ दुनिया का सबसे बड़ा योग सत्र होने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया।

योग क्या है? : योग एक अभ्यास है जिसकी उत्पत्ति भारत में हुई। योग शब्द संस्कृत का शब्द है जिसका अर्थ है जुड़ना। योग शरीर और चेतना के एकीकरण का प्रतीक है। योग में 84 शास्त्रीय आसन हैं जैसे ताड़ासन, त्रिकोणासन, भुजंगासन आदि।

व्यस्त जीवन शैली के कारण पिछले कुछ दशकों में शारीरिक निष्क्रियता दुनिया भर में मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक बन गई है क्योंकि यह गैर-संचारी रोगों जैसे मधुमेह, हृदय रोग आदि का कारण बनती है। योग शारीरिक गतिविधि से अधिक है, यह न केवल अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है लेकिन दिन-प्रतिदिन के जीवन को संतुलित बनाए रखने में भी मदद करता है।


2. 20 जून : विश्व शरणार्थी दिवस

दुनिया भर में शरणार्थियों को सम्मानित करने के लिए, 20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस मनाया जा जाता है। पहली बार विश्व शरणार्थी दिवस 20 जून, 2001 को मनाया गया था।

महत्व : संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार आतंक, युद्ध और संघर्ष से बचने के लिए हर 1 मिनट में 20 लोग अपने घर से भागने को मजबूर हैं। 2019 के अंत तक, दुनिया में जबरन विस्थापित होने वाले लोगों के अनुमानित संख्या लघभग 79.5 मिलियन है।

तमाम दुर्दशा के बावजूद, दुनिया भर में शरणार्थियों द्वारा दिखाए गए साहस और लचीलेपन को आज मनाया जा रहा है ताकि उन्हें और मजबूत किया जा सके और उन्हें यह एहसास दिलाया जा सके कि वे न केवल जीवित रहेंगे, बल्कि अपने अधिकारों और सपनों को प्राप्त करने की दिशा में भी कामयाब होंगे।

इसके लिए, दुनिया भर की सरकारों को शरणार्थियों की रक्षा और समर्थन के लिए इस तिथि पर अपने कर्तव्यों का एहसास कराया जाता है।

संघर्षों और आतंक के अलावा, आज दुनिया में कई शरणार्थी ऐसे भी हैं जिन्हें प्राकृतिक आपदाओं जैसे सुनामी, भूकंप, बाढ़ आदि के कारण अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा।

शरणार्थियों से जुड़े आंकड़े : 2019 संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (UNHRC) के अनुसार, दुनिया में 68% शरणार्थी सीरिया (6.6 मिलियन शरणार्थी), वेनेजुएला (3.7 मिलियन शरणार्थी), अफगानिस्तान (2.7 मिलियन), दक्षिण सूडान (2.2 मिलियन) और म्यांमार (1.1 मिलियन) देशों से हैं।

2019 तक दुनिया भर में कुल 79.5 मिलियन शरणार्थियों में से 26 मिलियन 18 वर्ष से कम आयु के हैं।


3. इब्राहिम रायसी (Ebrahim Raisi) बने ईरान के नए राष्ट्रपति

इब्राहिम रायसी ईरान के नए राष्ट्रपति बन गये हैं। उन्हें कुल डाले गये 28.9 मतों में से 18 मिलियन वोट मिले। इब्राहिम रायसी को एक रुढ़िवादी नेता माना जाता है। वे राष्ट्रपति के रूप में हसन रूहानी की जगह लेंगे। वे वर्तमान में ईरान के मुख्य न्यायधीश भी हैं।

इब्राहिम रायसी (Ebrahim Raisi) : इब्राहिम रायसी का जन्म 14 दिसम्बर, 1960 को ईरान के मशाद में हुआ था। उन्होंने 22 अगस्त, 1994 से 9 अगस्त, 2004 तक जनरल इंस्पेक्शन ऑफिस के चेयरमैन के रूप में कार्य किया। इसके बाद 27 जुलाई, 2004 से 23 अगस्त, 2014 तक वे ईरान के पहले उप-मुख्य न्यायधीश रहे। इसके बाद 23 अगस्त, 2014 से 1 अप्रैल, 2016 तक वे ईरान के प्रासीक्यूटर जनरल रहे। 7 मार्च, 2019 से लेकर वे ईरान के मुख्य न्यायधीश के रूप में कार्य कर रहे हैं।

ईरान : ईरान एक इस्लामिक देश है, यह पश्चिम एशिया में स्थित है। इसका का क्षेत्रफल 16,48,195 वर्ग किलोमीटर है। इसकी सीमायें अर्मेनिया, अज़रबैजान, तुर्कमेनिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान, तुर्की और इराक से लगती हैं। ईरान की जनसँख्या लगभग 83 मिलियन है, इसमें लगभग 89% लोग शिया मुस्लिम हैं। ईरान की राजधानी तेहरान में है और इसकी मुद्रा ईरानी रियाल है।


4. चिली (Chile) नए संविधान का मसौदा तैयार करेगा

चिली के राष्ट्रपति सेबेस्टियन पिनेरा (Sebastian Pinera) के अनुसार, चिली की विधानपालिका देश के लिए एक नए संविधान का मसौदा तैयार करेगी, जो ऑगस्टो पिनोशे (Augusto Pinochet) की तानाशाही से विरासत में मिले संविधान की जगह लेगा। इसका पहला सत्र 4 जुलाई को होगा।

मुख्य बिंदु :

  • चिली में असमानता के खिलाफ 2019 के हिंसक सामाजिक विरोध के बाद व्यापक राजनीतिक सहमति के बाद संविधान को फिर से लिखा जाएगा।इसके लिए जनमत संग्रह आयोजित किया गया था, जिसके पक्ष में 25 अक्टूबर, 2020 को 78% लोगों ने मतदान किया।

  • कन्वेंशन नए संविधान को प्राप्त करने के लिए एक महान अवसर का प्रतिनिधित्व करता है और भविष्य के लोकतंत्र की ओर एकता और स्थिरता के ढांचे के तहत सभी चिलीवासियों द्वारा इसे मान्यता दी जाएगी और इसका सम्मान किया जाएगा।

  • इस कन्वेंशन में 155 प्रतिनिधि शामिल होंगे जो मई, 2021 में चुने गए थे।

पृष्ठभूमि : 1980 के संविधान में वैधता की समस्या है। संवैधानिक आयोग चिली के राजनीतिक स्पेक्ट्रम का प्रतिनिधि नहीं था क्योंकि इसके सदस्यों को पिनोशे तानाशाही द्वारा चुना गया था। इसके परिणामस्वरूप, देश में लोकतंत्र की बहाली के बाद से संविधान में बार-बार (20 बार) संशोधन किया गया है।

चिली (Chile) : चिली पश्चिमी दक्षिण अमेरिका में स्थित एक देश है। यह 7,56,096 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र और 17.5 मिलियन की आबादी को कवर करता है। यह अंटार्कटिका के काफी नजदीक और दुनिया भर में सबसे दक्षिणी देश है। यह पेरू, बोलीविया अर्जेंटीना और ड्रेक पैसेज के साथ सीमा साझा करता है। इसकी राजधानी और सबसे बड़ा शहर सैंटियागो है जबकि स्पेनिश राष्ट्रीय भाषा है। चिली को विश्व का ताम्र देश (copper country) कहा जाता है।


5. राजस्थान सरकार स्थापित करेगी वैदिक शिक्षा और संस्कार बोर्ड

संस्कृत शास्त्रों और वेदों के ज्ञान को पुनर्जीवित करने के लिए राजस्थान सरकार जल्द ही एक वैदिक शिक्षा और संस्कार बोर्ड का गठन करेगी। अगले चार से पांच महीनों में बोर्ड के गठन की संभावना है।

संस्कृत शिक्षा राज्य मंत्री (MoS) सुभाष गर्ग (Subhash Garg) ने उल्लेख किया है कि बोर्ड के लक्ष्यों, उद्देश्यों और कामकाज को परिभाषित करने के लिए गठित एक समिति ने अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंप दी है, रिपोर्ट के आधार पर मॉड्यूल को बोर्ड के सामने प्रस्तुत किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) की मंजूरी के बाद वैदिक बोर्ड काम करेगा।


6. महाराष्ट्र बना 2 करोड़ कोरोना वैक्सीन लगाने वाला पहला राज्य

16 जनवरी से शुरू हुए अभियान के बाद से महाराष्ट्र देश का पहला राज्य बन गया है जिसने 2 करोड़ वैक्सीन लगा लिए गये। पिछले 24 घंटे में राज्य में कुल 3680 टीकाकरण सत्र हुए, जिसमें से 3,81,35 लोगों को टीका लगाया गया।

टीकाकरण के लिए पंजीकरण कैसे करवाएं? : कोविड-19 टीकाकरण के लिए पंजीकरण Co-WIN पोर्टल (https://www.cowin.gov.in) और आरोग्य सेतु एप्प पर किया जा सकता है। पंजीकरण करने के बाद व्यक्ति को वैक्सीन का स्थान और समय चुनना पड़ता है।

भारत में इस्तेमाल किये जाने वाले टीके :

COVAXIN : COVAXIN भारत बायोटेक द्वारा निर्मित एक सरकारी समर्थित टीका है। इसकी प्रभावकारिता दर 81% है। COVAXIN वैक्सीन के चरण तीन परीक्षणों में 27,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया है। COVAXIN दो खुराक में दिया जाता है। खुराक के बीच का समय अंतराल चार सप्ताह है। COVAXIN को मृत COVID-19 वायरस से तैयार किया गया था।

COVISHIELD : COVISHIELD वैक्सीन एस्ट्राज़ेनेका द्वारा निर्मित है। स्थानीय रूप से, COVISHIELD सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा निर्मित किया जा रहा है। यह चिम्पांजी के एडेनोवायरस नामक एक सामान्य कोल्ड वायरस के कमजोर संस्करण से तैयार किया गया था। COVID-19 वायरस की तरह दिखने के लिए वायरस को संशोधित किया गया है। यह दो खुराक में लगाया जाता है।

स्पुतनिक वी (Sputnik V) :

  • इसे मॉस्को में गैम्लेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी (Gamleya Research Institute of Epidemiology and Microbiology) द्वारा विकसित किया गया था।

  • यह दो खुराक वाला टीका है।हालांकि, हाल ही में रूस में स्पुतनिक वी के एकल खुराक टीके का उत्पादन किया गया है। इसे स्पुतनिक लाइट सिंगल डोज कहा जाता है । भारत केवल डबल खुराक स्पुतनिक वी का इस्तेमाल कर रहा है।

  • जबकि COVISHIELD एक कमजोर सामान्य एडेनोवायरस से बनाया गया है जो चिंपैंजी को प्रभावित करता है, स्पुतनिक वी को विभिन्न मानव एडेनोवायरस का उपयोग करके बनाया गया है।

7. PMC Bank का अधिग्रहण करेगा Centrum

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने गैर-बैंक ऋणदाता Centrum Financial Services और फिनटेक स्टार्टअप भारतपे (BharatPe) के एक संघ द्वारा Punjab and Maharashtra Cooperatives Bank (PMC Bank) के अधिग्रहण के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।

पृष्ठभूमि : यह निर्णय पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी बैंक के पतन की पृष्ठभूमि में लिया गया था। 24 सितंबर, 2019 को जब नियामक ने इस पर कई सीमायें लगा दी थी। नियामक ने छह महीने के लिए नकद निकासी को जब्त कर लिया और इसकी लेखा चूक की जांच शुरू की। इसके बाद, Centrum Financial Services और BharatPe ने फरवरी 2021 में PMC बैंक का अधिग्रहण करने के एक संयुक्त प्रस्ताव प्रस्तुत किया था।

आरबीआई की मंजूरी : आरबीआई ने सेंट्रम को एक छोटा वित्त बैंक स्थापित करने के लिए सैद्धांतिक मंजूरी देने का फैसला किया है। इसे ऑन-टैप लाइसेंसिंग मानदंडों के तहत स्थापित किया जाएगा। ऑन-टैप लाइसेंसिंग का अर्थ है, जब नियामक कई वर्षों में एक बार के बजाय निरंतर आधार पर बैंक लाइसेंस देता है।

Centrum Financial Services : यह सूचीबद्ध इकाई सेंट्रम कैपिटल (Centrum Capital) की एक स्टेप-डाउन सहायक कंपनी है जो 2 लाख से 2 करोड़ रुपये की संपत्ति वाली छोटी और मध्यम आकार की कंपनियों को क्रेडिट प्रदान करती है। भारतपे का संचालन करने वाली रेजिलिएंट इनोवेशन प्राइवेट लिमिटेड, लघु वित्त बैंक में भी एक समान भागीदार होगा।

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड (PMC) : PMC एक बहु-राज्य सहकारी बैंक है जिसे 1983 में स्थापित किया गया था। पूरे भारत में इसकी 137 शाखाएँ हैं जबकि लगभग 100 शाखाएँ महाराष्ट्र में हैं। यह भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा विनियमित है और सहकारी समिति अधिनियम के तहत पंजीकृत है।


8. सेंट्रल बैंक सरप्लस ट्रांसफर के शेयर में भारत दूसरे स्थान पर

वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के प्रतिशत के रूप में सरकार को हस्तांतरित भंडार के मामले में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) दूसरे स्थान पर था। तुर्की (Turkey) पहले स्थान पर है।

RBI ने FY21 के लिए सरकार को 99,122 करोड़ रुपये का अधिशेष हस्तांतरित किया है, जो 2019-20 में भुगतान किए गए 57,128 करोड़ रुपये से 73% अधिक है।

RBI द्वारा हस्तांतरित अधिशेष सकल घरेलू उत्पाद का 0.44% है, जबकि तुर्की गणराज्य के सेंट्रल बैंक का सकल घरेलू उत्पाद का 0.5% है।


9. LIC CSL ने IDBI बैंक के सहयोग से लॉन्च किया प्रीपेड गिफ्ट कार्ड

LIC कार्ड्स सर्विसेज (LIC CSL) ने रुपे प्लेटफॉर्म (RuPay platform) पर IDBI बैंक के सहयोग से एक कॉन्टैक्टलेस प्रीपेड गिफ्ट कार्ड, 'शगुन (Shagun)' लॉन्च किया है।

इस कार्ड का उद्देश्य उपहार देने के कैशलेस तरीकों को बढ़ावा देने के इरादे से गिफ्ट कार्ड बाजार का विस्तार करना और अंत-उपयोग विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला पेश करना और भविष्य में ई-गिफ्ट कार्ड के बाजार में प्रवेश करना है।

रुपे नेटवर्क पर शगुन गिफ्ट कार्ड लॉन्च करने के लिए NPCI ने LIC CSL और IDBI बैंक के साथ भागीदारी की।

शगुन कार्ड, प्रारंभिक चरण में, आधिकारिक उपयोग के लिए LIC और उसकी सहायक कंपनियों के लिए उपलब्ध होगा. कार्ड का उपयोग आधिकारिक सम्मेलनों और समारोहों के दौरान पुरस्कारों और विशेष पुरस्कारों की सुविधा के लिए किया जाएगा।

शगुन गिफ्ट कार्ड 500 रुपये से लेकर 10,000 रुपये तक की किसी भी राशि के लचीले लोडिंग के रूप में अनुकूलन प्रदान करता है। इस कार्ड से ग्राहक 3 साल की वैधता के भीतर कई लेनदेन कर सकता है।

वे इसका उपयोग ऑनलाइन खरीदारी करने, उपयोगिता बिलों का भुगतान करने, हवाई, रेल, बस आदि के लिए टिकट बुक करने के लिए विभिन्न मोबाइल वॉलेट और ई-कॉमर्स पोर्टल या इस कार्ड का उपयोग करने वाले ऐप के माध्यम से भी कर सकते हैं। कार्ड की कॉन्टैक्टलेस (टैप एंड गो) सुविधा का उद्देश्य उपयोगकर्ताओं के लिए लेनदेन के अनुभव को बदलना है।


10. तमिलनाडु की इकॉनोमिक काउंसिल में शामिल होंगे रघुराम राजन

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन को नई जिम्मेदारी सौंपी गई है। तमिलनाडु सरकार ने उन्हें आर्थिक सलाहकार परिषद में शामिल किया है। मुख्यमंत्री एमके स्टालिन की इस अडवाइजरी काउंसिल में कई आर्थिक विशेषज्ञों को शामिल किया गया है।

रघुराम राजन के साथ-साथ नोबल पुरस्कार विजेता एस्थर डुफ्लो और डॉक्टर अरविंद सुब्रमणियन को भी जगह दी गई है। तमिलनाडु सरकार के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने सोमवार को इसकी जानकारी दी।

उन्होंने कहा, इस काउंसिल के सुझावों के आधार पर राज्य की इकॉनमी को मजबूत करने के साथ ही यह पक्का किया जाएगा कि इकॉनोमिक ग्रोथ के लाभ समाज के सभी वर्गों तक पहुंचे।

इस काउंसिल में डेवलपमेंट इकॉनोमिस्ट जीन ड्रेज को भी शामिल किया गया है।

तमिलनाडु की पिछली सरकार के कार्यकाल के दौरान राज्य की आर्थिक स्थिति कमजोर हुई थी। इस वजह से नई राज्य सरकार को कुछ मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

जानकारी के लिए बता दें कि, रघुराम राजन मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के आलोचक रहे हैं। वहीं भारत में कोरोना की बेकाबू स्थिति के लिए उन्होंने लीडरशिप और दूरदर्शिता की कमी को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने साथ ही कहा था कि पिछले साल कोविड की पहली लहर के बाद देश में पैदा हुई आत्ममुग्धता का भी भारत को नुकसान उठाना पड़ा।

वहीं बात अगर अरविंद सुब्रमणियन की बात करें तो वित्त मंत्रालय के पूर्व में मुख्य आर्थिक सलाहकार रहे अरविंद ने पिछले साल जुलाई 2020 में अशोका यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर के तौर पर काम शुरू किया था। इस साल मार्च में उन्होंने यूनिवर्सिटी प्रोफेसर के पद से इस्तीफा दे दिया था।


11. स्पोर्ट्स ब्रांड प्यूमा इंडिया ने युवराज सिंह के साथ साझेदारी का विस्तार किया

ग्लोबल स्पोर्ट्स ब्रांड प्यूमा इंडिया (Puma India) ने पूर्व भारतीय क्रिकेटर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) के साथ साझेदारी की है, जो एक दशक से अधिक समय से ब्रांड से जुड़े हुए हैं।

क्रिकेट से फास्ट लेन की ओर बढ़ते हुए, युवराज अब भारत में प्यूमा मोटरस्पोर्ट के चेहरे के रूप में एक नए अवतार में दिखाई देंगे, जो तेज कारों और खेल से प्रेरित फैशन के लिए अपने जुनून का प्रदर्शन करेंगे।

इसके साथ, युवराज, थियरी हेनरी, बोरिस बेकर और उसैन बोल्ट जैसे दिग्गजों की ब्रांड की वैश्विक लीग में शामिल हो गए हैं।

प्यूमा, विश्व स्तर पर स्क्यूडेरिया फेरारी, मर्सिडीज-AMG पेट्रोनास फॉर्मूला वन टीम, एस्टन मार्टिन रेड बुल रेसिंग, BMW M मोटरस्पोर्ट और पोर्श मोटरस्पोर्ट से जुड़ी हुई है।

प्यूमा मोटरस्पोर्ट के लिए भारत सबसे बड़े बाजारों में से एक होने के साथ, ब्रांड प्रदर्शन गियर से प्रेरितस्ट्रीट स्टाइल उत्पादों की बढ़ती मांग को भुनाने की कोशिश कर रहा है।


12. CII का अनुमान FY22 में भारत की GDP विकास दर 9.5%

भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) ने चालू वित्त वर्ष अर्थात् वित्त वर्ष 2021-22 में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के 9.5 प्रतिशत की दर से बढ़ने का अनुमान लगाया है। यह GDP को उस स्तर पर ले जाएगा, जो वित्त वर्ष 2020 की तुलना में थोड़ा अधिक है।

बढ़ते चिकित्सा व्यय ने आय और मांग को कम कर दिया है। लेकिन रिकवरी, कार्ड पर है। वैश्विक विकास और मैक्रोइकॉनॉमिक स्थिरता व्यापार और निवेश प्रवाह का समर्थन करेगी।


13. पूर्वोत्तर क्षेत्र में नवीन कृषि प्रौद्योगिकियों को खेतों से जोड़ेगी केंद्र सरकार

पूर्वोत्तर भारत में छोटे और सीमांत किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार नवीन कृषि प्रौद्योगिकियों (innovative agricultural technologies) को खेतों से जोड़ने की दिशा में काम कर रही है। यह मुख्य रूप से बायोटेक-किसान कार्यक्रम (Biotech-KISAN Programme) के तहत महिलाओं पर ध्यान केंद्रित करेगा।

मुख्य बिंदु :

  • जैव प्रौद्योगिकी विभागने इस कार्यक्रम के तहत पूर्वोत्तर क्षेत्र के लिए विशेष आह्वान जारी किया जो किसानों के स्थानीय मुद्दों को समझने और उन्हें वैज्ञानिक समाधान प्रदान करने में मदद करेगा।

  • यह कार्यक्रम विशेष रूप से पूर्वोत्तर क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करेगा क्योंकि यह मुख्य रूप से कृषि प्रधान है जहां इसके 70% कार्यबल कृषि और संबद्ध क्षेत्रों में आजीविका अर्जित करता है।

यह कार्यक्रम पूर्वोत्तर क्षेत्र के लिए क्यों शुरू किया गया? :

  • छोटे और सीमांत किसानों के लिए कृषि के साथ नवीन कृषि प्रौद्योगिकियों को जोड़ने के उद्देश्य से पूर्वोत्तर क्षेत्र में बायोटेक-किसान कार्यक्रम लागू किया जाएगा।

  • पूर्वोत्तर क्षेत्र भारत के खाद्यान्न का 5% उत्पादन करता है और अपने घरेलू उपभोग के लिए खाद्यान्न का शुद्ध आयातक बना हुआ है।

  • इस क्षेत्र में स्थान विशिष्ट फसलों, बागवानी और वृक्षारोपण फसलों, मत्स्य पालन और पशुधन उत्पादन को बढ़ावा देकर कृषि आबादी की आय बढ़ाने की क्षमता का दोहन नहीं किया गया है।

  • इस कार्यक्रम के तहत, पूर्वोत्तर में केंद्र भारत के वैज्ञानिक संस्थानों और राज्य कृषि विश्वविद्यालयों या कृषि विज्ञान केंद्रों आदि के साथ सहयोग करेंगे।

बायोटेक-किसान कार्यक्रम (Biotech-KISAN Programme) : Mission Programme Biotech – Krishi Innovation Science Application Network 2017 में शुरू की गई एक वैज्ञानिक-किसान साझेदारी योजना है। इसे कृषि नवाचार के लिए किसानों के साथ विज्ञान प्रयोगशालाओं को जोड़ने के उद्देश्य से अभिनव समाधान और प्रौद्योगिकियां प्राप्त करने के उद्देश्य से शुरू किया गया था। अब तक, भारत के 15 कृषि जलवायु क्षेत्रों और 110 आकांक्षी जिलों में 146 बायोटेक-किसान हब स्थापित किए गए हैं।


14. फादर्स डे पर डॉ. हर्षवर्धन ने लांच की कृष्णा सक्सेना की किताब 'My Joys and Sorrows'

केंद्रीय स्वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने आज वरिष्ठ लेखिका डॉ. कृष्णा सक्सेना की नई किताब 'My Joys and Sorrows' का विमोचन किया। किताब एक स्पेशल चाइल्ड की मां के बलिदान और उसके साहस पर लिखी गई है। 'फादर्स डे' पर किताब लांच करते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, मुझे उम्मीद है कि माताओं के साथ यह किताब पिता भी पढ़ेंगे, जिससे वे बच्चों की परवरिश के साथ-साथ पूरी पीढ़ी की परवरिश करने के बारे में भी जान सकेंगे। यह पुस्तक भारतीय मातृत्व की सर्वोत्तम परंपरा और एक मां की बहादुरी और सहनशक्ति का प्रतीक है। देश की तरह ऐसी माताओं को भी हमें नमन करना चाहिए। किताब दिल को छू लेने वाली और दिल दहला देने वाली है। किताब का हर पन्ना भावुक करने वाला और आंखें नम करने वाला है। हर रोज कैसे एक भारतीय मां अपनी वीरता और बलिदान से देश की पीढ़ियों की रक्षा करने में सर्वस्व न्यौछावर कर देती है, यह पुस्तक इसी बात का एहसास कराती है। सामान्य मां के जीवन को हल्के में लेने वाले लोगों के लिए भी यह आंखें खोलने वाला है। किताब पढ़ना एक आध्यात्मिक अनुभव सरीखा है। पुस्तक को बातचीत के अंदाज में और आसान शैली में लिखा गया है। पाठक बेहद नजदीक से लेखक की जीवन यात्रा में महसूस कर सकता है।पेशे से शिक्षक रहीं डॉ. कृष्णा सक्सेना ने यह किताब अपनी और अपने बेटे शिव की आत्मकथा के रूप में लिखी है। शिव विकलांग (differently abled) हैं। और अपनी कहानी स्वयं नहीं लिख सकते। पुस्तक का हर अध्याय उनके बेटे के जीवन के अद्भुत क्षणों को जीता है। यह कहानी उसी क्षण से शुरू हो जाती है, जब परिवार को पहली बार पता चलता है कि शिव किसी अन्य बच्चे की तरह नहीं है। सबका जीवन बदल जाता है लेकिन सबसे बढ़कर एक मां का जीवन बदलता है। अपने बेटे शिव के बड़े होने की कहानी को लेखक ने बेहतरीन तरीके से समेटा है।

लखनऊ विश्वविद्यालय से 1955 में पीएचडी की डिग्री लेने वाली पहली महिला का सम्मान पाने वाली डॉ. कृष्णा सक्सेना कहती हैं, मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं शिव के साथ अपने जीवन के बारे में लिख सकती हूं। लेकिन उम्र के साथ मुझे एहसास हुआ कि एक ऐसे बच्चे को आवाज देना भी मेरी जिम्मेदारी है, जिसकी अपनी कोई आवाज नहीं है और उसकी आवाज मेरी अपनी आवाज से इतनी उलझी हुई है कि यह किताब दो लोगों की एक आत्मकथा के रूप में सामने आई है।


15. सचिन तेंदुलकर बने 21वीं सदी के सबसे महान बल्लेबाज

क्रिकेट लीजेंड सचिन तेंदुलकर 21 वीं सदी सबसे महान बल्लेबाज बन गए हैं। सचिन को श्रीलंका के महान बल्लेबाज कुमार संगकारा से कड़ी टक्कर मिली। दोनों खिलाड़ियों के एक बराबर अंक रहे लेकिन ज्यादा जूरी सदस्यों की सूची में आने के कारण सचिन विजेता बन गए।आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच यहां एजिस बॉल में खेले जा रहे फ़ाइनल में दूसरे दिन शनिवार को चायकाल के दौरान यह घोषणा की गयी।

भारत के प्रमुख खेल प्रसारक स्टार स्पोर्ट्स ने आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल से पहले टेस्ट क्रिकेट में ऐतिहासिक पलों का जश्न मनाने के लिए टेस्ट क्रिकेट में 21वीं सदी के अब तक के सबसे महान खिलाड़ी को चुनने की एक अनूठी पहल की थी । इस पहल के पीछे स्टार स्पोर्ट्स का उद्देश्य दिग्गज क्रिकेटरों से लेकर दुनिया भर के वरिष्ठ खेल पत्रकारों, प्रसारकों, सांख्यिकीविदों, विश्लेषकों, एंकरों और पूरे क्रिकेट समुदाय एक साथ लाना था।

स्टार स्पोर्ट्स की ओर से चार श्रेणियों बल्लेबाज, गेंदबाज, ऑलराउंडर और कप्तान में से एक महान खिलाड़ी को चुना जाएगा। इसके लिए बल्लेबाज श्रेणी में सचिन तेंदुलकर, स्टीवन स्मिथ, कुमार संगकारा, जैक कैलिस , गेंदबाज श्रेणी में मुथैया मुरलीधरन, शेन वार्न, डेल स्टेन, ग्लेन मैग्राथ, ऑलराउंडर श्रेणी में जैक कैलिस , बेन स्टोक्स, एंड्रयू फ्लिंटॉफ, रविचंद्रन अश्विन और कप्तान श्रेणी में स्टीव वा , ग्रीम स्मिथ, रिकी पोंटिंग, विराट कोहली को नामित किया गया है।

इन नामित खिलाड़ियों में से महान खिलाड़ियों को चुनने के लिए स्टार स्पोर्ट्स ने 50 सदस्यीय जूरी का गठन किया है, जिसमें दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर, इयान बिशप, हरभजन सिंह, शेन वॉटसन, स्कॉट स्टायरिस, गौतम गंभीर और प्रसिद्ध खेल पत्रकार और कोच शामिल हैं। प्रसारक ने प्रशंसकों को भी जूरी का हिस्सा बनने का मौका दिया है। क्रिकेट प्रेमी ट्विटर पर 15 जून को बल्लेबाज और गेंदबाज, जबकि 17 जून को अपने पसंदीदा कप्तान और आलराउंडर को चुनने के लिए वोट कर पाएंगे।

महान खिलाड़ी को चुनने की प्रक्रिया की बात करें तो इसमें पूरी पारदर्शिता सुनिश्चित की गई है। चारों श्रेणियों में केवल एक जनवरी 2000 से या उसके बाद के आंकड़ों के हिसाब से ही खिलाड़ियों को नामित किया गया है। सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज श्रेणी के मानदंड के मुताबिक खिलाड़ी के 10 हजार से ज्यादा रन , 50 से ज्यादा की औसत और 25 से ज्यादा शतक होने चाहिए, गेंदबाज श्रेणी के मानदंड में गेंदबाज की घरेलू मैदानों और विदेशी जमीन पर औसत 30 से कम और उसके नाम 15 बार पांच विकेट होने चाहिए, ऑलराउंडर के 2500 से ज्यादा रन, 150 से ज्यादा विकेट और बल्लेबाजी और गेंदबाजी औसत में सकारात्मक अंतर होना चाहिए, जबकि कप्तान के लिए घरेलू और विदेशी मैदानों पर कम से कम 10 जीत और मैच जीत या ड्रा प्रतिशत 70 से अधिक होना चाहिए।


16. श्रीलंका के पूर्व स्पिनर मुथैया मुरलीधरन बने 21वीं सदी के सबसे महान गेंदबाज

टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट लेने वाले एकमात्र गेंदबाज श्रीलंका के ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधरन 21वीं सदी के सबसे महान गेंदबाज बन गए हैं। आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच यहां एजिस बॉल में खेले जा रहे फ़ाइनल में तीसरे दिन रविवार को चायकाल के दौरान यह घोषणा की गयी। इससे पहले कल दूसरे दिन भारत के सचिन तेंदुलकर को 21वीं सदी का सबसे महान बल्लेबाज चुना गया था।

भारत के प्रमुख खेल प्रसारक स्टार स्पोर्ट्स ने आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) फाइनल से पहले टेस्ट क्रिकेट में ऐतिहासिक पलों का जश्न मनाने के लिए टेस्ट क्रिकेट में 21वीं सदी के अब तक के सबसे महान खिलाड़ी को चुनने की एक अनूठी पहल शुरू की थी । इस पहल के पीछे स्टार स्पोर्ट्स का उद्देश्य दिग्गज क्रिकेटरों से लेकर दुनिया भर के वरिष्ठ खेल पत्रकारों, प्रसारकों, सांख्यिकीविदों, विश्लेषकों, एंकरों और पूरे क्रिकेट समुदाय एक साथ लाना था।

स्टार स्पोर्ट्स की ओर से चार श्रेणियों बल्लेबाज, गेंदबाज, ऑलराउंडर और कप्तान में से एक महान खिलाड़ी को चुना जाएगा। इसके लिए बल्लेबाज श्रेणी में सचिन तेंदुलकर, स्टीवन स्मिथ, कुमार संगकारा, जैक कैलिस , गेंदबाज श्रेणी में मुथैया मुरलीधरन, शेन वार्न, डेल स्टेन, ग्लेन मैग्राथ, ऑलराउंडर श्रेणी में जैक कैलिस , बेन स्टोक्स, एंड्रयू फ्लिंटॉफ, रविचंद्रन अश्विन और कप्तान श्रेणी में स्टीव वा , ग्रीम स्मिथ, रिकी पोंटिंग, विराट कोहली को नामित किया गया है।

टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट लेने वाले एकमात्र गेंदबाज मुरली को 50 सदस्यीय जूरी के अधिकतर सदस्यों ने चुना है,। इस जूरी में दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर, इयान बिशप, हरभजन सिंह, शेन वॉटसन, स्कॉट स्टायरिस, गौतम गंभीर और प्रसिद्ध खेल पत्रकार और कोच शामिल हैं। प्रसारक ने प्रशंसकों को भी जूरी का हिस्सा बनने का मौका दिया है। क्रिकेट प्रेमी ट्विटर पर 15 जून को बल्लेबाज और गेंदबाज, जबकि 17 जून को अपने पसंदीदा कप्तान और आलराउंडर को चुनने के लिए वोट करने का मौका था।

महान खिलाड़ी को चुनने की प्रक्रिया की बात करें तो इसमें पूरी पारदर्शिता सुनिश्चित की गई है। चारों श्रेणियों में केवल एक जनवरी 2000 से या उसके बाद के आंकड़ों के हिसाब से ही खिलाड़ियों को नामित किया गया है। सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज श्रेणी के मानदंड के मुताबिक खिलाड़ी के 10 हजार से ज्यादा रन , 50 से ज्यादा की औसत और 25 से ज्यादा शतक होने चाहिए, गेंदबाज श्रेणी के मानदंड में गेंदबाज की घरेलू मैदानों और विदेशी जमीन पर औसत 30 से कम और उसके नाम 15 बार पांच विकेट होने चाहिए, ऑलराउंडर के 2500 से ज्यादा रन, 150 से ज्यादा विकेट और बल्लेबाजी और गेंदबाजी औसत में सकारात्मक अंतर होना चाहिए, जबकि कप्तान के लिए घरेलू और विदेशी मैदानों पर कम से कम 10 जीत और मैच जीत या ड्रा प्रतिशत 70 से अधिक होना चाहिए।












  • Source of Internet

7 views0 comments

Recent Posts

See All