Search

1st September | Current Affairs |MB Books


1. भारतीय मूल के प्रीतम सिंह बने सिंगापुर में विपक्ष के पहले नेता

सिंगापुर (Singapore) में भारतीय मूल के नेता प्रीतम सिंह (Pritam Singh) ने यहां विपक्ष के पहले नेता का पद संभालने के साथ ही इतिहास रच दिया। संसद ने सोमवार को उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी। प्रीतम सिंह की वर्कर्स पार्टी 10 जुलाई को हुए आम चुनाव में 93 में से 10 सीटें जीतकर सिंगापुर के संसदीय इतिहास में सबसे बड़े विपक्ष के रूप में उभरी है।

सत्र की शुरुआत में नेता सदन इंद्राणी राजा ने 43 वर्षीय सिंह को औपचारिक रूप से देश में विपक्ष के पहले नेता के तौर पर मान्यता दी। भारतीय मूल की इंद्राणी राजा सत्तारूढ़ पीपल्स एक्शन पार्टी (पीएपी) की नेता हैं। पीएपी का 83 सदस्यों के साथ सदन में बहुमत हैं।

चैनल न्यूज एशिया के मुताबिक सिंह अब प्रधानमंत्री ली सीन लांग के ठीक सामने बैठेंगे। प्रीतम सिंह ने अपने भाषण में विदेशियों और वे जिन हालात में रह रहे हैं, उन पर ध्यान देने की जरूरत को रेखांकित किया। न्यूज एशिया ने सिंह के हवाले से कहा, ‘‘उनकी (विदेशियों की) मौजूदगी सिंगापुर को वह जीवंतता देती है जो हमें आर्थिक रूप से प्रासंगिक बनाती है और हमारे साथी सिंगापुर वासियों को नौकरियां और अवसर देती है।''


2. कैलास-मानसरोवर इलाके में मिसाइल साइट बना रहा चीन, जानें वजह

रिपोर्ट्स के अनुसार, भारत और चीन सीमा विवाद के चलते, चीन ने कैलाश-मानसरोवर में एक झील के पास मिसाइल साइट का निर्माण किया है, जहां वो जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल बना रहा है। यह झील कैलाश-मानसरोवर का हिस्सा है।

विशेषज्ञों के अनुसार, मिसाइल की तैनाती चीन की ओर से जारी आक्रामक उकसावे का हिस्सा है। इससे दोनों देशों के बीच सीमा विवाद और जटिल हो सकता है। भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव अभी जारी है। दोनों देशों की सेनाएं पूर्वी लद्दाख में आमने-सामने खड़ी हैं।

भारत-चीन में तनाव जारी

चीन के इस कदम से भारत के साथ उसके संबंध सीमा पर और भी तनावपूर्ण होने के पूरे आसार हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, चीन ने कैलास-मानसरोवर के इलाके में न केवल अपनी सैन्य तैनाती को बढ़ाया है। बल्कि, वह मानसरोवर के पास एक मिसाइल साइट का निर्माण भी कर रहा है। कैलास-मानसरोवर के पास डीएफ-21 नाम की मिसाइल तैनात की गई है। यह मध्यम रेंज की बैलिस्टिक मिसाइल 2,200 किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकती है।

कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील: एक नजर में

कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील, जिसे आमतौर पर कैलाश-मानसरोवर स्थल के रूप में जाना जाता है, चार धर्मों द्वारा पूजनीय है और भारत में सांस्कृति और आध्यात्मिक शास्त्रों से जुड़ा हुआ है। हिंदू इस स्थल को शिव और उनकी पत्नी पार्वती का निवास मानते हैं, तिब्बती बौद्ध लोग पहाड़ को कंग रिंपोछे कहते हैं। जैन इस पहाड़ को अस्तपद कहते हैं और इसे वह स्थान माना जहां उनके 24 आध्यात्मिक गुरुओं में से प्रथम ने मोक्ष प्राप्त किया। तिब्बत का बौद्ध पूर्व धर्म बोन्स के अनुयायी इस पर्वत को आकाश की देवी सिपाईमेन का निवास स्थान बताया। यह पवित्र स्थल सिंधु, ब्रह्मपुत्र, सतलज और कर्णाली (गंगा की एक प्रमुख सहायक नदी) का उद्गम स्थल भी है।

पृष्ठभूमि

भारत और चीन के बीच अप्रैल-मई से ही तनातनी जारी है। पूर्वी लद्दाख के कई इलाकों में चीनी सेना ने घुसपैठ की कोशिश की। इस घुसपैठ का भारतीय सैनिकों ने मुंहतोड़ जवाब दिया है। गलवान घाटी में 15 जून 2020 को दोनों देश के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई। इस झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए। चीन के भी कई सैनिक हताहत हुए लेकिन उसने अभी तक संख्या का खुलासा नहीं किया है। दोनों देशों के बीच सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर बातचीत भी चल रही है।

3. यूएई के DMCC ने लॉन्च किया "Agriota E-Marketplace"

कमोडिटीज ट्रेड एंड एंटरप्राइज पर दुबई प्राधिकरण, दुबई मल्टी कमोडिटीज सेंटर (DMCC) ने एक प्रौद्योगिकी-संचालित एग्री-कमोडिटी ट्रेडिंग और सोर्सिंग प्लेटफॉर्म "Agriota E-Marketplace" शुरू किया है।

ब्लॉकचेन का उपयोग करने वाला यह प्लेटफॉर्म भारत में लाखों ग्रामीण किसानों और यूएई के खाद्य उद्योग के बीच के अन्तर को कम करने में मदद करेगा।

एग्रीओटा प्लेटफार्म भारतीय किसानों को यूएई में संपूर्ण खाद्य उद्योग से सीधे जोड़ेगा, जिसमें खाद्य प्रसंस्करण कंपनियां, व्यापारी और थोक व्यापारी भी शामिल हैं।

ई-मार्केटप्लेस उन्हें बिचौलियों से बचाएगा और आपूर्ति श्रृंखला का अनुकूलन करने में सक्षम करेगा।

दुबई मल्टी कमोडिटीज सेंटर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी: अहमद बिन सुलेयम

UAE के राष्ट्रपति: शेख खलीफा बिन जायद अल नाहयान

यूएई की राजधानी: अबू धाबी

मुद्रा: संयुक्त अरब अमीरात दिरहम


4. DGCA ने फिर बढ़ाया प्रतिबंध, अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 30 सितंबर तक जारी रहेगी पाबंदी

केंद्र सरकार ने अंतरराष्ट्रीय कॉमर्शियल उड़ानों की आवाजाही पर 30 सितंबर तक रोक लगा दी है। सरकार ने कुछ उड़ानों को छोड़ भारत से दूसरे देशों में आने और जाने वाली उड़ानों पर रोक को बढ़ा दिया है। कोरोना वायरस के मद्देनजर भारत में 23 मार्च से निर्धारित अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें निलंबित हैं।

नागरिक विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने 31 अगस्त 2020 को कहा कि सभी निर्धारित अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें 30 सितम्बर तक निलंबित रहेंगी। डीजीसीए ने एक परिपत्र में कहा कि सक्षम प्राधिकारियों द्वारा कुछ चुनिंदा मार्गों पर मामलों के आधार पर अंतरराष्ट्रीय निर्धारित उड़ानों को अनुमति दी जा सकती है।

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 23 मार्च से प्रतिबंध

मालूम हो कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 23 मार्च से प्रतिबंध लगा है। केवल विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने के वंदे भारत मिशन के तहत विमान दूसरे देशों में जा रहे हैं। साथ ही गृह मंत्रालय द्वारा स्वीकृत उड़ानों पर भी यह प्रतिबंध लागू नहीं है। इसी प्रकार ऑल कार्गो उड़ान भी इस प्रतिबंध से बाहर रहेंगे।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए मानक परिचालन प्रक्रिया (SOP) में बदलाव किया था और एयरलाइन कंपनियों को भोजन परोसने की अनुमति दी थी। यात्रियों को अब एयरलाइंस की नीति के मुताबिक, पहले से पैक हुए भोजन, स्नैक्स और पेय पदार्थ परोसा जा सकता है।

'नो-फ्लाई लिस्ट': एक नजर में

नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने एयरलाइंस से उन यात्रियों को 'नो-फ्लाई लिस्ट' में डालने के लिए कहा है जो उड़ान के दौरान मास्क नहीं पहनते हैं और कोविड-19 एसओपी का उल्लंघन करते हैं। मालूम हो कि घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों के लिए इन-फ्लाइट मनोरंजन की भी अनुमति दे दी गई।

वंदे भारत मिशन

विदेश मंत्रालय ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर सरकार द्वारा 07 मई को ‘वंदे भारत’ मिशन शुरू करने के बाद से अब तक लगभग 12 लाख से अधिक भारतीयों को स्वदेश लाया जा चुका है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि वर्तमान में वंदे भारत मिशन का पांचवां चरण चल रहा है और इसके तहत 26 अगस्त तक 12 लाख से अधिक भारतीयों को वापस लाया जा चुका है। वंदे भारत मिशन का छठा चरण एक सितंबर से शुरू होगा।

तेजी से बढ़ रहा कोरोना

देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़कर 36 लाख के पार पहुंच गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से 31 अगस्त 2020 को सुबह जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के 78 हजार 512 नए मामले सामने आए और इस दौरान 971 लोगों की जान चली गई। इसके साथ ही देश में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 36,21,246 हो गई है। वहीं, अब तक 64,469 लोग इस जानलेवा वायरस के शिकार बन चुके हैं। देश में अभी 7,81,975 एक्टिव मामले हैं।

5. CISF ने पेंशनभोगियों के लिए विकसित की "Pensioners Corner" मोबाइल ऐप

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (Central Industrial Security Force-CISF) ने अपने कर्मियों के लिए "Pensioners Corner" मोबाइल ऐप विकसित की है।

इस मोबाइल ऐप को CISF द्वारा पेंशनभोगियों तक पहुंचने और उन्हें वन स्टॉप सॉल्यूशन के रूप में डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लाने के लिए तैयार किया गया है।

मोबाइल ऐप "पेंशनर्स कॉर्नर" के जरिए CISF , देश के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले पूर्व-सेना कर्मियों के आत्म सम्मान को बढ़ाने के लिए उन तक पहुंच बनाएगा।

इस मोबाइल ऐप में इनबिल्ट शिकायत निवारण सुविधा शामिल है और साथ ही, इसमें सभी महत्वपूर्ण परिपत्र जैसे नौकरी के अवसर और पेंशनभोगियों से संबंधित लाभों के बारे में जानकारी शामिल होगी।

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के महानिदेशक: राजेश रंजन


6. पश्चिम बंगाल में लगाया गया दुनिया का सबसे बड़ा सौर वृक्ष

केंद्रीय यांत्रिक अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान (CMERI), दुर्गापुर ने अपनी आवासीय कालोनी में एक विशाल सौर वृक्ष लगाया है। दावा किया जा रहा है कि यह दुनिया का सबसे विशाल सौर वृक्ष है। इस सौर वृक्ष का डिजाइन इस तरह तैयार किया गया है कि इसके प्रत्येक सोलर फोटोवोल्टिक (पीवी) पैनल को सूरज की रोशनी मिल सके। वहीं, यह भी ध्यान रखा गया है कि इसके नीचे बेहद कम हिस्से में छाया पड़े।

CMERI के निदेशक प्रोफेसर हरीश हिरानी ने बताया कि इस सौर वृक्ष की क्षमता रोजाना आधार पर 11.5 केडब्ल्यूपी (किलोवाट पीक) है। वहीं इसकी सालाना क्षमता 12,4000-14,000 स्वच्छ एवं हरित ऊर्जा पैदा करने की है। सीएमईआरआई वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) के तहत काम करता है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे द्वारा तैयार किए गए वृक्ष में ऊर्जा के उत्पादन के साथ-साथ पीवी पैनलों की संख्या, दुनिया में सबसे ज्यादा है।'' इस संस्थान के प्रवक्ता ने बताया कि उनके पास उपलब्ध जानकारी के अनुसार दुनिया का सबसे बड़ा सौर वृक्ष यूरोप में है, जिससे नियमित 8.6 केडब्ल्यूपी ऊर्जा का उत्पादन होता है जो कि इस वृक्ष से कम है।


7. राजीव कुमार ने संभाली कुर्सी, जानिए कौन हैं नए चुनाव आयुक्त

पूर्व नौकरशाह राजीव कुमार (Rajeev Kumar) ने मंगलवार को नए चुनाव आयुक्त (Election Commissioner) के रूप में पदभार ग्रहण किया। उन्हें अशोक लवासा (Ashok Lawasa) के स्थान पर चुनाव आयुक्त बनाया गया है। लवासा एशियाई विकास बैंक के उपाध्यक्ष नियुक्त किए गए हैं। झारखंड कैडर के 1984 बैच के सेवानिवृत्त IAS अधिकारी कुमार का कार्यकाल पांच साल का होगा और वह 2025 में सेवानिवृत्त होंगे।

वह साल 2024 में होने वाले अगले लोकसभा चुनाव के समय मुख्य चुनाव आयुक्त हो सकते हैं। नियमानुसार, चुनाव आयुक्त का कार्यकाल छह साल या 65 वर्ष की आयु में से जो भी पहले हो, उस समय तक होता है। कुमार का जन्म फरवरी, 1960 में हुआ था।

राजीव कुमार ने 36 से अधिक वर्षों की सेवा के दौरान केंद्र और बिहार-झारखंड राज्य कैडर में विभिन्न मंत्रालयों में काम किया। वह इस साल फरवरी में केंद्रीय वित्त सचिव के पद से सेवानिवृत्त हुए और उन्हें 29 अप्रैल को सार्वजनिक उद्यम चयन बोर्ड (PESB) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया।


8. भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 69,921 नए COVID-19 केस, कोरोनावायरस से 819 की मौत

Coronavirus in India: देश में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं और अब यब आंकड़ा 37 लाख से कुछ कदम दूर ही रह गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा ताजा आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में देश में 69,921 नए मामले सामने आए हैं, जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 36,91,166 हो गई है, वहीं इस दौरान 819 लोगों की मौत हुई है, कुल मृतकों की संख्या 65,288 हो गई है। देश में इस वक्त कुल 7,85,996 मामले एक्टिव हैं। वहीं बात करें इस वायरस को मात देकर ठीक होने वाले लोगों की तो आपको बता दें कि पिछले 24 घंटों में 65,081 मरीज इस वायरस को हराकर अपने घर जाने में कामयाब हुए हैं, वहीं अब तक कुल 28,39,882 मरीज ठीक हो चुके हैं।