Search

19th May | Current Affairs | MB Books


1. जनजातीय स्कूलों के डिजिटल कायाकल्प पर भारत ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये

17 मई, 2021 को जनजातीय मामलों के मंत्रालय और माइक्रोसॉफ्ट ने जनजातीय स्कूलों के डिजिटल कायाकल्प (Digital Transformation of Tribal Schools) के लिए संयुक्त पहल पर एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इसमें आदिवासी क्षेत्रों में आश्रम स्कूल (Ashram Schools) और एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय (Eklavya Model Residential Schools – EMRS) शामिल है।

योजना क्या है? :

  • माइक्रोसॉफ्ट आदिवासी छात्रों के लिए हिंदी और अंग्रेजी में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) पाठ्यक्रम उपलब्ध कराएगी।

  • इस कार्यक्रम के पहले चरण में 250 EMRS स्थापित किये जायेंगे। इन 250 स्कूलों में से 50 स्कूलों को गहन प्रशिक्षण दिया जाएगा। और पहले चरण में 500 मास्टर ट्रेनर्स को ट्रेनिंग दी जाएगी।

  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एप्लीकेशन और ऑफिस 365 जैसी उत्पादक तकनीकों का उपयोग करने के लिए शिक्षकों को चरणबद्ध तरीके से प्रशिक्षित किया जायेगा।

  • इस कार्यक्रम के अंत में शिक्षकों को माइक्रोसॉफ्ट शिक्षा केंद्रों से ई-सर्टिफिकेट और ई-बैज भी प्रदान किए जाएंगे।

इस कार्यक्रम से छात्रों को क्या लाभ होगा? :

  • यह कार्यक्रम सुनिश्चित करेगा कि छात्रों को अपने गांव, पर्यावरण और समग्र समुदाय को बदलने का अवसर मिले।

  • यह टैलेंट पूल बनाने में मदद करेगा। यह देश के लिए एक संपत्ति के रूप में कार्य करेगा।

  • इसका उद्देश्य ज्ञान का भंडार बनाने वाली एक सतत प्रक्रिया बनाना है। यह कार्यक्रम इस तरह से काम करेगा कि अर्जित ज्ञान एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को हस्तांतरित हो सके।

  • छात्रों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एप्लीकेशन और संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों (UN Sustainable Development Goals) पर सलाह दी जाएगी।

  • उन्हें Minecraft जैसे गेमीफाइड वातावरण से अवगत कराया जाएगा।ऐसा उनके सोचने की क्षमता को बढ़ाने के लिए किया जायेगा।

2. मणिपुर के मुख्यमंत्री ने सब्जी के लिए 'MOMA मार्केट' का शुभारंभ किया

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह (N Biren Singh) ने ताज़ी सब्जियों की होम डिलीवरी के लिए एक स्मार्टफोन एप्लिकेशन "मणिपुर ऑर्गेनिक मिशन एजेंसी (Manipur Organic Mission Agency-MOMA) मार्केट" लॉन्च किया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि लोगों को COVID-19 प्रेरित कर्फ्यू के दौरान उनके घर पर ताजी सब्जियां मिलें।

राज्य के बागवानी और मृदा संरक्षण विभाग की एक इकाई MOMA ने COVID-19 महामारी के कारण लॉकडाउन के दौरान दिन-प्रतिदिन की खपत के लिए ताजी सब्जियां उपलब्ध कराने और कृषि उपज की संकट बिक्री को कम करने के लिए सीएम की देखरेख में ऐप लॉन्च किया।

MOMA को क्षेत्र में काम करने का काम सौंपा गया है और सब्जी के नुकसान और COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए उपभोक्ताओं को होम डिलीवरी के माध्यम से चैनल फार्म का उत्पादन किया गया है।

MOMA के साथ काम करने वाली किसान उत्पादक कंपनियां (FPC) विभिन्न खेतों से सब्जियों की कटाई करेंगी। फिर इसे संजेनथोंग और अन्य स्थानों में विभाग के परिसर में कोल्ड स्टोरेज और गोदामों में ले जाया जाएगा।

अंत में, उपभोक्ता के MOMA मार्केट ऑर्डर को उनके दरवाजे पर भेज दिया जाएगा।


3. भारत का पहला कृषि निर्यात सुविधा केंद्र पुणे में स्थापित किया गया

महाराष्ट्र चैंबर ऑफ कॉमर्स इंडस्ट्रीज एंड एग्रीकल्चर और नाबार्ड (National Bank for Agriculture and Rural Development) ने हाल ही में पहला कृषि निर्यात सुविधा केंद्र (Agricultural Export Facilitation Centre) लॉन्च किया।

केंद्र के बारे में :

  • यह केंद्र महाराष्ट्र राज्य के कृषि और खाद्य निर्यात को बढ़ावा देने में सहायता करेगा।

  • यह केंद्र कृषि खाद्य उत्पादन के निर्यात के लिए वन-स्टॉप शॉप के रूप में कार्य करेगा।

  • केंद्र किसी के लिए भी खुला है जो कृषि निर्यात में शामिल है।

  • यह न्यूनतम अवशेष स्तर, बाग प्रबंधन, ब्रांडिंग और विपणन, देश-वार प्रोटोकॉल, विशेष निर्यात उपचार और सरकारी निर्यात योजनाओं जैसे क्षेत्रों में मार्गदर्शन प्रदान करेगा।

  • साथ ही, यह केंद्र जागरूकता कार्यक्रम, कार्यशालाएं और प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करेगा।

कृषि निर्यात सुविधा केंद्र क्यों महत्वपूर्ण है? : 2018 में, भारत ने कृषि निर्यात नीति (Agri Export Policy) शुरू की थी। इस नीति का उद्देश्य कृषि निर्यात को दोगुना करना है, अर्थात 2022 तक कृषि निर्यात को 60 बिलियन अमरीकी डालर तक बढ़ाना है। कृषि निर्यात सुविधा केंद्र (Agricultural Export Facilitation Centre) भारत को इस लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगा।

यह केंद्र महाराष्ट्र में क्यों स्थापित किया गया है? :

  • महाराष्ट्र कृषि के क्षेत्र में अग्रणी राज्यों में से एक है।यह प्याज के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक है। आज यह देश में एक महत्वपूर्ण बागवानी राज्य के रूप में उभर रहा है।

  • राज्य में मिट्टी और कृषि जलवायु की स्थिति विविध है।यह राज्य को चावल, गेहूं, अरहर, चना, बाजरा, ज्वार और केला, आम, अंगूर, संतरा, काजू जैसे फल व विभिन्न प्रकार की फसलों का उत्पादन करने के लिए अनुकूल बनाता है।

  • राज्य दालों में अग्रणी उत्पादक है।

  • यह दूसरा सबसे बड़ा मोटा अनाज उत्पादक है।

  • यह सोयाबीन, गन्ना और कपास का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक भी है।

  • यह सूरजमुखी की तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है।

4. हरियाणा ने ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग घोषित किया

ब्लैक फंगस (Black Fungus) को हरियाणा में एक अधिसूचित बीमारी के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जिससे यह अनिवार्य हो गया है कि सरकारी अधिकारियों को प्रत्येक मामले के बारे में सूचित किया जाए। यह एक प्रकोप के ट्रैकिंग और प्रबंधन में अनुमति देगा।

भारत में COVID-19 महामारी ने ब्लैक फंगस या म्यूकोर्मिकोसिस के प्रसार को उत्प्रेरित किया है, जो घातक न होने पर भी लोगों को विकृत कर सकता है। किसी बीमारी को सूचित करने योग्य घोषित करने से सूचनाओं को एकत्रित करने में मदद मिलती है और अधिकारियों को रोग की निगरानी करने और प्रारंभिक चेतावनियां सेट करने में मदद मिलती है।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के अनुसार, "ब्लैक फंगस" मुख्य रूप से अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के लिए दवा लेने वाले लोगों को प्रभावित करता है, जो पर्यावरणीय रोगजनकों से लड़ने की उनकी क्षमता को कम करते हैं।

भारत में COVID-19 महामारी ने फंगल संक्रमण को एक खतरनाक बीमारी के रूप में बदल दिया है और यहां तक कि कुछ लोगों की जान भी ले ली है।


5. Biological E भारत में जॉनसन एंड जॉनसन COVID वैक्सीन का निर्माण करेगी

बायोलॉजिकल ई (Biological E) को अपने स्वयं के टीके के साथ जॉनसन एंड जॉनसन COVID-19 वैक्सीन का उत्पादन करेगी। यह देश के समग्र वैक्सीन उत्पादन को बढ़ावा देगा।

पृष्ठभूमि : पहले क्वाड समिट (Quad Summit) में एक नई वैक्सीन साझेदारी का अनावरण किया गया। भारत, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और जापान जैसे चार क्वाड देशों ने अपने संसाधनों को पूल करने का फैसला किया। उन्होंने 2022 तक 1 बिलियन COVID-19 टीके लगाने का भी फैसला किया है। योजना के अनुसार, United States International Development Finance Corporation बायोलॉजिकल ई की सहायता करेगा।

योजना क्या है? : बायोलॉजिकल ई सालाना 600 मिलियन जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन खुराक का उत्पादन करेगी। यह जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन (Johnson and Johnson Vaccine) के साथ-साथ अपनी वैक्सीन भी तैयार करेगी। हालांकि, टीकों की निर्माण इकाइयां अलग होंगी। साथ ही, जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन उत्पादन का वित्त पोषण अमेरिका द्वारा किया जायेगा। बायोलॉजिकल ई ने हैदराबाद में अपने स्वयं के टीके की 75 मिलियन से 80 मिलियन खुराक का उत्पादन करने की योजना बनाई है।

जॉनसन एंड जॉनसन वैक्सीन (Johnson and Johnson Vaccine) : इसे United States Food and Drug Administration और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अनुमोदित किया गया है। भारत में जॉनसन एंड जॉनसन ने क्लीनिकल ट्रायल करने की अनुमति मांगी है।

यह एक एडेनो वायरस वेक्टर आधारित COVID-19 वैक्सीन है। यह सिंगल डोज वैक्सीन है। अन्य एडेनो वायरस आधारित टीके जैसे कि मॉडर्ना और फाइजर दो खुराक वाले टीके हैं।

वर्तमान परिदृश्य : COVAX के अनुसार, भारत के अक्टूबर, 2021 तक COVID-19 टीकों के अपने प्रमुख निर्यात को फिर से शुरू करने की संभावना नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत टीकों का इस्तेमाल घरेलू उपयोग के लिए कर रहा है।


6. सतोशी उचिदा बने सुजुकी मोटरसाइकिल इंडिया के नए कंपनी हेड

सुजुकी मोटरसाइकिल इंडिया (Suzuki Motorcycle India) ने सतोशी उचिदा (Satoshi Uchida) को कंपनी का नया प्रमुख नियुक्त किया है। ​उन्होंने सुजुकी मोटर कॉरपोरेशन के वैश्विक सुधार के हिस्से के रूप में कोइचिरो हिराओ (Koichiro Hirao) की जगह ली है।

सुजुकी मोटरसाइकिल इंडिया ने अप्रैल 2021 में अपनी अब तक की सबसे अधिक मासिक बिक्री दर्ज की, जिसमें महीने के दौरान 77,849 यूनिट्स की बिक्री हुई। सुजुकी मोटर कॉर्पोरेशन एक जापानी बहुराष्ट्रीय निगम है जो मिनामी-कु में स्थित है।


7. US Space Force के लिए लॉन्च किया गया SBRIS Geo-5 Missile Warning Satellite

19 मई, 2021 को यूनाइटेड लॉन्च अलायंस (United Launch Alliance) ने केप कैनावेरल स्पेस फोर्स स्टेशन, फ्लोरिडा से एटलस वी रॉकेट (Atlas V Rocket) लॉन्च किया। इस एटलस वी रॉकेट में SBRIS जियो-5 मिसाइल चेतावनी उपग्रह (SBRIS Geo-5 Missile Warning Satellite) को ले जाया गया।

SBRIS Geo-5 Missile Warning Satellite : यह उपग्रह मिसाइल चेतावनी, युद्ध क्षेत्र, मिसाइल रक्षा में प्रमुख क्षमताएं प्रदान करेगा। इसका वजन 4,850 किलोग्राम है। 2018 तक, 10 SBRIS उपग्रह लॉन्च किए गए थे।

एटलस वी (Atlas V) : एटलस वी (Atlas V) दो चरणों वाला रॉकेट है। इसके पहले चरण में रॉकेट ग्रेड केरोसिन और तरल ऑक्सीजन और दूसरे चरण में हाइड्रोजन और तरल ऑक्सीजन का उपयोग किया जाता है। रॉकेट ने SBRIS को 35,753 किलो मीटर की ऊंचाई पर स्थापित किया।

SBRIS : SBRIS का अर्थ Space Based Infrared System है। इसे मिसाइल चेतावनी, मिसाइल युद्धक्षेत्र और रक्षा लक्षण वर्णन (defence characterization) के लिए डिज़ाइन किया गया है। SBRIS मूल रूप से एक अंतरिक्ष ट्रैकिंग और निगरानी प्रणाली है। SBRIS को United States Space Force System के इन्फ्रारेड स्पेस सर्विलांस को पूरा करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। केवल 2020 में ही, SBRIS उपग्रहों ने हजार से अधिक मिसाइलों का पता लगाया।

United States Space Force : यह अमेरिकी सशस्त्र बलों की एक शाखा है। यह पहला स्वतंत्र अंतरिक्ष बल है। साथ ही, यह दुनिया का एकमात्र अंतरिक्ष बल है। यह वायु सेना विभाग द्वारा संचालित है जो रक्षा विभाग में तीन नागरिक नेतृत्व वाले सैन्य विभागों में से एक है।

यूनाइटेड लॉन्च एलायंस (United Launch Alliance) : यह एक अमेरिकी स्पेसक्राफ्ट कंपनी है जो कई रॉकेट वाहनों का निर्माण और संचालन करती है। यह लॉन्च सेवाएं भी प्रदान करतीहै। एटलस वी रॉकेट इस कंपनी द्वारा संचालित किया जाता है। वल्कन सेंटॉर (Vulcan Centaur) एटलस वी का उत्तराधिकारी है और अभी इसका डिजाइन तैयार किया जा रहा है।

भविष्य में, ULA बोइंग स्टारलाइनर क्रू कैप्सूल (Boeing Starliner Crew Capsule) को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में लॉन्च करेगा। इस मिशन को OFT-2, यानी Orbital Flight Test कहा जाता है।


8. रमेश पोखरियाल निशंक को मिला 'अंतर्राष्ट्रीय अजेय स्वर्ण पदक'

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक (Dr Ramesh Pokhriyal Nishank) को इस वर्ष का अंतर्राष्ट्रीय अजेय स्वर्ण पदक (International Invincible Gold Medal) प्रदान किया गया है। उन्हें उनके लेखन, सामाजिक और शानदार सार्वजनिक जीवन के माध्यम से उनकी असाधारण प्रतिबद्धता और मानवता के लिए उत्कृष्ट सेवा के लिए सम्मानित किया गया है।

यह निर्णय महर्षि संगठन (Maharishi Organization) के वैश्विक प्रमुख डॉ टोनी नादेर (Dr Tony Nader) के नेतृत्व में विधिवत गठित एक उच्चाधिकार प्राप्त समिति द्वारा उचित विचार-विमर्श के बाद लिया गया था। यह सम्मान विश्वव्यापी महर्षि संगठन और उसके विश्वविद्यालयों द्वारा दिया जाएगा।


9. अर्जन भुल्लर MMA में विश्व खिताब जीतने वाले भारतीय मूल के पहले फाइटर बने

भारतीय मूल के कनाडाई फाइटर अर्जन सिंह भुल्लर (Arjan Singh Bhullar) ने हाल ही में इतिहास रच दिया। अर्जन भुल्लर शीर्ष स्तर के मिक्स्ड मार्शल आर्टस (एमएमए) प्रमोशन में विश्व खिताब जीतने वाले पहले भारतीय मूल के फाइटर बन गए। इस जीत के साथ अर्जन ने फिलिपींस मूल के अमेरिकी वेरा का पांच साल से चला आ रहा वर्चस्व तोड़ दिया।

वे ब्रैंडन वेरा को हराकर सिंगापुर की वन चैंपियनशिप में हैवीवेट विश्व चैंपियन बने। अर्जन भुल्लर ने इस मुकाबले में शानदार प्रदर्शन किया। खासतौर से दूसरे दौर में तो शुरू से ही दबदबा बनाया और मुकाबला जीत कर ही दम लिया।

ब्रैंडन वेरा ने क्या कहा? : ब्रैंडन वेरा ने मैच के बाद कहा कि यह मेरे अब तक के करियर में पहली बार है कि मुझे पहले दौर में पिछड़ने का अहसास हुआ। मैं फिट हूं और लगातार ट्रेनिंग ले रहा हूं। हम विश्व के सर्वश्रेष्ठ लोगों के साथ काम कर रहे हैं, यह मेरे लिए नया है।

अर्जन भुल्लर के बारे में : पहलवान अर्जन भुल्लर ने साल 2010 में दिल्ली में राष्ट्रमंडल खेलों का स्वर्ण पदक जीता था। वे साल 2012 में लंदन में ओलंपिक में कनाडा का प्रतिनिधित्व करने वाले पहले भारतीय मूल के फ्रीस्टाइल पहलवान बने।

उन्होंने अपने कुश्ती करियर के बाद जब यूएफसी (UFC)-215 में लुइस एनरिग बारबोसा डी ओलिवेरा के खिलाफ अपना UFC डेब्यू किया और जीत दर्ज की तो वह ऐसा करने वाले भारतीय मूल के पहले फाइटर बन गए थे।

35 साल के अर्जन भुल्लर ने छोटी उम्र से ही पहलवानी शुरू कर दी थी। वे लगातार पांच साल तक कनाडा की राष्ट्रीय टीम का हिस्सा रहे। साल 2008 से 2012 तक 120 किग्रा वजन वर्ग में लगातार चैंपियन बनते रहे।

उन्होंने साल 2007 में पैन अमरीका खेलों में कनाडा का प्रतिनिधित्व करते हुए 120 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता था।


10. पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता चमन लाल गुप्ता का निधन

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री चमन लाल गुप्ता का लंबी बीमारी के बाद 18 मई 2021 को जम्मू के गांधी नगर स्थित उनके आवास पर निधन हो गया। कुछ दिन पहले बीजेपी नेता चमन लाल गुप्ता कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे और सफल इलाज के बाद घर लौट आए थे। वे 87 साल के थे। उनके परिवार में उनके दो बेटे और एक बेटी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने उनके निधन पर शोक जताते हुए अपने ट्वीट में लिखा कि चमन लाल गुप्ता हमेशा समाज के लिए किए गए अपने काम के लिए याद किए जाएंगे। वे एक समर्पित विधायक थे और उन्होंने बीजेपी को पूरे जम्मू-कश्मीर में मजबूत किया। मुझे उनके निधन से दुख पहुंचा है। शोक की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार एवं समर्थकों के साथ हैं।


11. कांग्रेस सांसद राजीव सातव का निधन

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद राजीव सातव (Rajeev Satav) का कोरोनोवायरस संक्रमण से उबरने के कुछ दिनों बाद निधन हो गया है।

वह महाराष्ट्र से राज्यसभा के सदस्य और गुजरात में अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (AICC) मामलों के प्रभारी थे। पूर्व में, वह महाराष्ट्र के हिंगोली से 16वीं लोकसभा में संसद सदस्य थे।


12. BCCI रेफरी राजेंद्र सिंह जडेजा का निधन

सौराष्ट्र के पूर्व तेज गेंदबाज और बीसीसीआई रेफरी राजेंद्र सिंह जडेजा (Rajendra singh Jadeja) का COVID-19 के कारण निधन हो गया है।

वह बेहतरीन दाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाजों में से एक थे और एक उल्लेखनीय ऑलराउंडर थे।

उन्होंने 50 प्रथम श्रेणी मैच और 11 लिस्ट A गेम खेले, जिसमें क्रमशः 134 और 14 विकेट लिए. उन्होंने प्रथम श्रेणी मैचों में 1,536 रन और लिस्ट A क्रिकेट में 104 रन बनाए थे।









  • Source of Internet

12 views0 comments