Search

19th March | Current Affairs | MB Books


1. विश्व बैंक बांग्लादेश को 200 मिलियन अमरीकी डालर प्रदान करेगा

विश्व बैंक ने बांग्लादेश की मदद के लिए 200 मिलियन अमरीकी डालर की मंजूरी दी है। इस राशि का उपयोग निम्न-आय वाले शहरी युवाओं को सहायता और सेवाएं प्रदान करने के लिए किया जाएगा जो COVID 19 महामारी से प्रभावित हुए हैं और प्रवासी जो अपनी नौकरी खो चुके हैं या कोविड-19 महामारी के बीच देश लौटना पड़ा है।

RAISE Project : विश्व बैंक ने Recovery and Advancement of Informal Sector Employment (RAISE) Project पेश किया है। इस परियोजना का उद्देश्य लगभग 1.75 लाख गरीब शहरी युवाओं को प्रशिक्षुता कार्यक्रम, प्रशिक्षण, सूक्ष्म और स्वरोजगार सहायता और परामर्श द्वारा लाभान्वित करना है। यह परियोजना लगभग 2 लाख प्रवासियों को मदद करेगी। इससे उन्हें दोबारा प्रवास की तैयारी करने में भी मदद मिलेगी। इस परियोजना के तहत, उन्हें उनकी जरूरतों और आकांक्षाओं के आधार पर नकद अनुदान और परामर्श सेवाएं मिलेंगी। इस परियोजना से प्रवासियों के साथ-साथ शहरी अनौपचारिक क्षेत्र को संरचनात्मक बाधाओं को दूर करने और रोजगार प्राप्त करने में लाभ होगा।


2. इटली अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन में हुआ शामिल, भारत के साथ फ्रेमवर्क समझौते पर किए हस्ताक्षर

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने यह जानकारी दी है कि, 17 मार्च, 2021 को इटली ने भारत के साथ अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन के एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

अधिकारी ने एक ट्वीट में यह उल्लेख किया है कि, संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य राज्यों के लिए गठबंधन की सदस्यता प्रदान करने के लिए, 08 जनवरी, 2021 को ISA के फ्रेमवर्क समझौते में संशोधन के बाद इतालवी गणराज्य ने ISA के फ्रेमवर्क समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं।

इस फ्रेमवर्क समझौते पर इटली के राजदूत विन्सेन्ज़ो डी लुका ने हस्ताक्षर किए थे। अतिरिक्त सचिव (ER) ने, भारत के विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि के तौर पर, इस फ्रेमवर्क समझौते की हस्ताक्षरित प्रतियां प्राप्त कीं। मंत्रालय अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन ढांचे के समझौते का भी संग्रह स्थान है।

भारत ने ISA समझौते के लिए इटली का स्वागत किया : इससे पहले 17 मार्च को भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने इटली के राजदूत विन्सेन्ज़ो डी लुका से मुलाकात की थी। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन में इटली के प्रवेश का भी स्वागत किया। इस बैठक के दौरान, विदेश सचिव ने इटली की जी 20 प्रेसीडेंसी की भी चर्चा की, इटली वर्तमान में जी 20 का अध्यक्ष है। उन्होंने ‘वैक्सीन मैत्री’ पहल की भी चर्चा की, जिसके तहत भारत महामारी से पैदा हुए संकट से लड़ने के लिए वैक्सीन की खुराक को दूसरे देशों में निर्यात करने के लिए अपनी वैक्सीन उत्पादन और वितरण क्षमता का उपयोग कर रहा है।


3. अजय माथुर को अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन का महानिदेशक नियुक्त किया गया

अजय माथुर (Ajay Mathur) को अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (International Solar Alliance-ISA) के अगले महानिदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है। उन्होंने उपेंद्र त्रिपाठी का स्थान लिया है, जिन्होंने 2017 से महानिदेशक के रूप में काम किया। महानिदेशक का कार्यकाल चार साल का होता है। अजय माथुर इससे पहले नई दिल्ली स्थित ‘द एनर्जी एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट’ के प्रमुख हैं।

अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन एक ऐसा गठबंधन है जिसकी शुरुआत भारत ने वर्ष 2015 में की थी। इस गठबंधन का प्रस्ताव पीएम मोदी ने दिया था। इस गठबंधन का उद्घाटन वर्ष 2016 में फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद और पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था। वर्तमान में, आईएसए के 121 सदस्य देश हैं। इसका मुख्यालय हरियाणा के गुरुग्राम में है।

भारत अपनी सौर ऊर्जा क्षमता में वृद्धि कर रहा है। नवंबर 2020 तक, भारत की स्थापित सौर ऊर्जा 36.9 GW थी। भारत ने सौर संयंत्रों के प्रवर्तकों को भूमि उपलब्ध कराने के लिए 42 सौर पार्क स्थापित किए हैं। भारत ने 2022 तक 100 गीगावॉट सौर ऊर्जा हासिल करने का लक्ष्य रखा है।


4. एम. ए. गणपति बने राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के महानिदेशक

वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी, एम. ए. गणपति (M. A. Ganapathy) 16 मार्च, 2021 को राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (National Security Guard) के महानिदेशक नियुक्त किए गए थे।

उत्तराखंड कैडर के 1986 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (IPS) अधिकारी गणपति, वर्तमान में नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (BCAS) के महानिदेशक हैं।

उन्हें पद से जुड़ने की तारीख और 29 फरवरी, 2024 तक यानी उनकी सेवानिवृत्ति की तारीख तक महानिदेशक, राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (NSG) नियुक्त किया गया है।


5. डॉ. हर्षवर्धन को ‘Stop TB Partnership Board’ के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को 18 मार्च, 2021 को “Stop TB Partnership Board” के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। यह नियुक्ति भारत द्वारा क्षय रोग (टीबी) के उन्मूलन की दिशा में उनके उत्कृष्ट योगदान को मान्यता देने के लिए की गई थी। वह जुलाई 2021 से तीन साल के कार्यकाल के लिए इस वैश्विक निकाय में अपनी सेवाएँ देंगे।

Stop TB Partnership : यह एक अंतरराष्ट्रीय संस्था है जो राष्ट्रों को टीबी से लड़ने के लिए संरेखित करने का कार्य करती है। यह एक “टीबी मुक्त दुनिया” के विज़न के साथ काम करता है।

पृष्ठभूमि : स्टॉप टीबी पार्टनरशिप 2000 में स्थापित की गई थी। इसे तपेदिक को खत्म करने का कार्य सौंपा गया है। इस संगठन की स्थापना 1998 में लंदन में आयोजित तपेदिक महामारी पर तदर्थ समिति के पहले सत्र की बैठक के बाद की गई थी। इस संगठन ने एम्स्टर्डम घोषणा के माध्यम से मंत्रिस्तरीय प्रतिनिधिमंडलों से सहयोगात्मक कार्रवाई का आह्वान किया है। इसमें अंतरराष्ट्रीय, गैर-सरकारी और सरकारी संगठनों सहित 1500 भागीदार संगठन हैं। यह स्विट्जरलैंड के जिनेवा में बेस्ड है।


6. लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने 15-कॉर्प्स के नए कमांडर के रूप में पदभार संभाला

लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे (DP Pandey) ने लेफ्टिनेंट जनरल बीएस राजू (BS Raju) से रणनीतिक कश्मीर आधारित 15 कॉर्प्स की कमान संभाली है, जिन्हें भारतीय सेना के मिलिट्री ऑपरेशन के नए महानिदेशक (DGMO) के रूप में नियुक्त किया गया है।

राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र, जनरल पांडे को दिसंबर 1985 में भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून से सिख लाइट इन्फैंट्री रेजिमेंट में नियुक्त किया गया था।


7. रूस ने बैकाल झील में विशालकाय टेलीस्कोप को तैनात किया

रूसी वैज्ञानिकों ने 13 मार्च, 2021 को दुनिया के सबसे बड़े पानी के नीचे टेलिस्कोप में से एक को लांच किया है। इस पानी के नीचे के टेलिस्कोप को बैकाल झील में तैनात किया गया था।

डीप अंडरवाटर टेलिस्कोप (Deep Underwater Telescope) : वर्ष 2015 से गहरे पानी के टेलिस्कोप का निर्माण चल रहा था। इस टेलिस्कोप को न्यूट्रिनो (neutrino) नामक सबसे छोटे ज्ञात कणों के निरीक्षण के लिए डिजाइन किया गया है। इस टेलिस्कोप को “बैकाल-जीवीडी” (Baikal-GVD) नाम दिया गया है। यह बैकाल झील के किनारे से चार किलोमीटर की दूरी पर 750-1300 मीटर की गहराई तक डूबा हुआ है।

टेलिस्कोप का उद्देश्य : बैकाल टेलिस्कोप आइस क्यूब का प्रतिद्वंद्वी है, जो दक्षिण ध्रुव पर स्थित अमेरिकी अनुसंधान स्टेशन पर अंटार्कटिक बर्फ के नीचे एक विशाल न्यूट्रिनो वेधशाला है।


8. भारत सरकार ने स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना के लिए विशेषज्ञों की समिति बनाई

सरकार ने स्टार्टअप इंडिया सीड फंड योजना (Startup India Seed Fund Scheme) के समग्र निष्पादन और निगरानी के लिए एक विशेषज्ञ सलाहकार समिति का गठन किया है। ​इस समिति की अध्यक्षता विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के एच के मित्तल (H K Mittal) करेंगे।

समिति के अन्य प्रतिनिधियों में DPIIT के सदस्य, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी, नीति आयोग और स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र के विशेषज्ञ सदस्य शामिल होंगे।

समिति योजना के तहत धन के आवंटन के लिए इनक्यूबेटरों का मूल्यांकन और चयन करेगी, प्रगति की निगरानी करेगी और योजना के उद्देश्यों की पूर्ति के लिए धन के कुशल उपयोग के लिए सभी आवश्यक उपाय करेगी।


9. बीमा संशोधन विधेयक, 2021 राज्य सभा में पास हुआ

राज्य सभा ने बीमा (संशोधन) विधेयक, 2021 (Insurance (Amendment) Bill, 2021) पारित किया है। यह बीमा अधिनियम, 1938 में संशोधन करेगा, जिससे भारतीय बीमा कंपनियों में विदेशी निवेश की सीमा बढ़ जाएगी।

मुख्य बिंदु : इस विधेयक में विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (foreign direct investment) सीमा को मौजूदा 49 प्रतिशत से बढ़ाकर 74 प्रतिशत करने का प्रावधान है। इसमें बीमा कंपनियों के स्वामित्व और नियंत्रण पर प्रतिबंध हटाने का भी प्रावधान है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा 74 प्रतिशत की उच्च एफडीआई सीमा हर बीमा कंपनी के लिए एक बाध्यता नहीं है, क्योंकि यह केवल ऊपरी सीमा निर्धारित करती है। उन्होंने स्पष्ट किया कि सीमा बढ़ाने का मतलब सभी कंपनियों के लिए उस स्तर पर स्वचालित विदेशी निवेश नहीं है, प्रत्येक कंपनी निवेश की सीमा तय करेगी।

प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) : एक इकाई द्वारा दूसरे देश में एक व्यवसाय के स्वामित्व को नियंत्रित करने के रूप में जो निवेश किया जाता है उसे विदेशी प्रत्यक्ष निवेश कहा जाता है। इस प्रकार, यह प्रत्यक्ष नियंत्रण के संबंध में एक विदेशी पोर्टफोलियो निवेश से अलग है।

विदेशी पोर्टफोलियो निवेश : यह स्टॉक, बॉन्ड और रोकड़ समकक्ष जैसी परिसंपत्तियों का समूह है। इस तरह के निवेश एक निवेशक द्वारा किए जाते हैं या इसे वित्तीय पेशेवरों द्वारा प्रबंधित किया जाता है।


10. सिपरी की रिपोर्ट, 33% कम हुआ भारत के हथियारों का आयात

स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (Stockholm International Peace Research Institute-Sipri) द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 2011-15 और 2016-20 के बीच भारत के हथियारों के आयात में 33% की कमी आई है।

अंतर्राष्ट्रीय हथियारों के ट्रान्सफर की रिपोर्ट ने मुख्य रूप से रूसी हथियारों और जटिल खरीद प्रक्रियाओं पर निर्भरता को कम करने के प्रयास में भारत के हथियारों के आयात में गिरावट को जिम्मेदार ठहराया। रूस सबसे अधिक प्रभावित आपूर्तिकर्ता था, हालांकि भारत के अमेरिकी हथियारों का आयात भी 46% तक गिर गया था।

रिपोर्ट के अनुसार, 2016-20 के दौरान भारत के शीर्ष तीन हथियार आपूर्तिकर्ता रूस (भारत के 49% आयात के लिए जिम्मेदार), फ्रांस (18%) और इज़राइल (13%) थे। म्यांमार, श्रीलंका और मॉरीशस भारतीय सैन्य हार्डवेयर के शीर्ष प्राप्तकर्ता थे।


11. महामारी के दौरान डिजिटल टेक को अपनाने में भारत अग्रणी : EY सर्वेक्षण

EY और Imperial College London’s institute for Global Health Innovations ने “Embracing Digital: Is covid-19 the catalyst for lasting change?” सर्वेक्षण किया था। इस सर्वेक्षण के अनुसार, भारत ने कोविड-19 के दौरान स्वास्थ्य और मानव सेवाओं में डिजिटल तकनीकों को अपनाने के उच्चतम स्तर को देखा है।

सर्वेक्षण की मुख्य बातें : एह सर्वेक्षण भारत, ऑस्ट्रेलिया, संयुक्त अरब अमीरात, इटली, अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम में 2000 से अधिक वैश्विक एचएचएस प्रोफेशनल्स पर किया गया था। भारत से, 359 उत्तरदाताओं ने इस सर्वेक्षण में भाग लिया। इस सर्वेक्षण में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद से डिजिटल तकनीकों और डेटा समाधानों का उपयोग बढ़ा है। इस सर्वेक्षण के दौरान यह पाया गया कि, भारत भर में 74% उत्तरदाताओं ने बताया कि डिजिटल प्रौद्योगिकियों और डेटा समाधानों ने कर्मचारियों की उत्पादकता में वृद्धि की है। इसके अलावा, 75% उत्तरदाताओं ने बताया कि डिजिटल समाधान रोगियों और अन्य सेवा उपयोगकर्ताओं के लिए बेहतर परिणाम देने में प्रभावी हैं।

फोन और वीडियो परामर्श : इस सर्वेक्षण में कहा गया है कि फोन और वीडियो परामर्श ने सभी प्रौद्योगिकी समाधानों में सबसे बड़ी वृद्धि देखी है। फोन परामर्श 81% एचएचएस संगठनों 81% द्वारा पेश किए जा रहे हैं जो कोविड-19 महामारी से पहले 39% थे। दूसरी ओर, वीडियो परामर्श में 22% से वृद्धि देखी गई। भारत में, फोन परामर्श 48% से बढ़कर 86% हो गया, जबकि वीडियो परामर्श 33% से बढ़कर 83% हो गया। सर्वेक्षण में यह भी पाया गया है कि भारत में 92% सार्वजनिक क्षेत्र के संगठनों ने स्वयं सहायता के लिए डिजिटल उपकरणों को प्राथमिकता दी, जबकि 89% ने फोन परामर्श और वीडियो परामर्श के बजाय ऑनलाइन स्व-मूल्यांकन उपकरण को प्राथमिकता दी।


12. धनलक्ष्मी ने दुती चंद को हराकर फेडरेशन कप गोल्ड जीता

पटियाला में फेडरेशन कप सीनियर नेशनल एथलेटिक्स चैंपियनशिप में महिलाओं की 100 मीटर की दौड़ फ़ाइनल जीतने के लिए धावक एस धनलक्ष्मी (S Dhanalakshmi) ने राष्ट्रीय रिकॉर्ड धारक दुती चंद (Dutee Chand) को हराया।

तमिलनाडु की 22 वर्षीय धनलक्ष्मी ने 11.39 सेकंड के समय में दौड़ पूरी कर चैंपियनशिप की सबसे तेज महिला बन गईं। ओडिशा मूल की दुती 11.58 सेकंड के समय के साथ दूसरे स्थान पर रही।

तमिलनाडु की एक अन्य धावक अर्चना सुसींद्रन (Archana Suseendran) 11.76 सेकंड में तीसरे स्थान पर रहीं। ​झूठी शुरुआत के बाद हेमा दास (Hima Das) को अयोग्य घोषित कर दिया गया था। पुरुषों की 100 मीटर फ़ाइनल श्रेणी में, पंजाब के गुरिंदरवीर सिंह (Gurindervir Singh) ने 10.32 सेकंड में स्वर्ण जीता, जबकि तमिलनाडु के एलाकियादसन कन्नड़ (10.43) और महाराष्ट्र के सतीश कृष्णकुमार (10.56) दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे।


13. साहित्‍यकार बटुक चतुर्वेदी का निधन

जाने माने साहित्यकार एवं मध्यप्रदेश लेखक संघ के संरक्षक बटुक चतुर्वेदी का निधन हो गया। उनके निधन से साहित्य जगत में शोक की लहर दौड़ गई। विदिशा से ताल्लुक रखने वाले चतुर्वेदी का अंतिम संस्कार भोपाल में होगा। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र ने भी ट्वीट के जरिए दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री चौहान ने अपने ट्वीट संदेश में कहा है कि मध्यप्रदेश लेखक संघ के संरक्षक, वरिष्ठ साहित्यकार बटुक चतुर्वेदी के निधन का दुखद समाचार मिला। साहित्य जगत के लिए यह अपूरणीय क्षति है। बटुक चतुर्वेदी का बचपन विदिशा में बीता। स्कूली शिक्षा उन्होंने विदिशा में ही पूरी की। इसके बाद वे भोपाल चले गए। चतुर्वेदी विदिशा के प्राचीन गणेश मंदिर चिंतामणि गणेश के पुजारी परिवार से हैं। बटुक चतुर्वेदी के भतीजे विजय चतुर्वेदी और अश्विनी चतुर्वेदी विदिशा में ही रहते हैं।


14. पूर्व केंद्रीय मंत्री दिलीप गांधी का निधन

कोरोनोवायरस के कारण पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता, दिलीप गांधी (Dilip Gandhi) का निधन हो गया है। उन्होंने 29 जनवरी 2003 से 15 मार्च 2004 तक केंद्रीय राज्य मंत्री, जहाजरानी मंत्रालय के रूप में कार्य किया था।

​उन्होंने 1999 से महाराष्ट्र के अहमदनगर दक्षिण निर्वाचन क्षेत्र से तीन बार लोकसभा चुनाव जीते। पहली बार 1999 में 13 वीं लोकसभा, उसके बाद 2009 में 15 वीं लोकसभा और फिर 2014 में 16 वीं लोकसभा।


15. अरिंदम बागची होंगे विदेश मंत्रालय के नए प्रवक्ता

वरिष्ठ राजनयिक अरिंदम बागची विदेश मंत्रालय के नए प्रवक्ता होंगे। सूत्रों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। बागची अनुराग श्रीवास्तव का स्थान लेंगे। वर्ष 1995 बैच के भारतीय विदेश सेवा अधिकारी बागची वर्तमान में विदेश मंत्रालय मुख्यालय में संयुक्त सचिव (उत्तर) के पद पर कार्यरत हैं। सूत्रों ने बताया कि बागची के स्थान पर श्रीवास्तव संयुक्त सचिव (उत्तर) का कार्यभार संभालेंगे। बागची नवंबर 2018 से जून 2020 तक क्रोएशिया में भारत के राजदूत थे।






  • Source of Internet

5 views0 comments

Recent Posts

See All