Search

19th June | Current Affairs | MB Books


1. 19 जून : विश्व सिकल सेल जागरूकता दिवस

विश्व सिकल सेल दिवस हर साल 19 जून को मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 22 दिसंबर, 2008 को सिकल सेल रोग को एक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या के रूप में मान्यता देने के लिए एक प्रस्ताव अपनाया।

मुख्य बिंदु : यह एक अनुवांशिक रोग है, इसमें लाल रक्त कोशिकाएं गोलाकार के बजाय दरांती (sickle) के आकार की होती हैं। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को बार-बार ब्लड ट्रांसफ्यूज़न की ज़रुरत पड़ती है। इस रोग के लक्षण इस प्रकार हैं :

  • सांस लेने में तकलीफ

  • कमजोर प्रतिरक्षण क्षमता

  • बार-बार संक्रमण होना

  • शरीर का कम विकास

  • देखने में कठिनाई

  • हाथ व पैर में सूजन

सिकल सेल रोग (Sickle Cell Disease – SCD) क्या है? : SCD सबसे प्रचलित विरासत में मिला (inherited) रक्त विकार या आनुवंशिक लाल रक्त कोशिका विकार है। सिकल सेल विकार वाले लोगों के पास पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाएं नहीं होती हैं जो पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाती हैं। यह भारत में कई आदिवासी आबादी समूहों के बीच व्यापक है। कई लागत प्रभावी हस्तक्षेपों ने भारत में SCD से रुग्णता और मृत्यु दर को कम किया है। हालांकि, जनजातीय क्षेत्रों में SCD की देखभाल तक पहुंच सीमित है। SCD मुख्य रूप से झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पश्चिमी ओडिशा, पूर्वी गुजरात और उत्तरी तमिलनाडु और केरल की नीलगिरी पहाड़ियों में प्रचलित है।


2. भारत-भूटान : पर्यावरण के क्षेत्रों में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

भारत और भूटान ने पर्यावरण के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच सहयोग विकसित करने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।

मुख्य बिंदु :

  • पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर द्वारा एमओयू पर वर्चुअली हस्ताक्षर किए गए।

  • यह जलवायु परिवर्तन, कचरा प्रबंधन आदि के क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग के नए रास्ते खोलेगा।

  • यह समझौता ज्ञापन भारतीय और भूटानी साझेदारी को बढ़ाने और वायु प्रदूषण की रोकथाम, रासायनिक प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन, जलवायु परिवर्तन आदि जैसे क्षेत्रों में सर्वोत्तम प्रथाओं का समर्थन और आदान-प्रदान करने के लिए एक मंच के रूप में कार्य करेगा।

  • यह पारस्परिक हित के क्षेत्रों में संयुक्त परियोजनाओं की संभावना भी प्रदान करता है।

  • यह तकनीकी, वैज्ञानिक और प्रबंधन क्षमताओं को मजबूत करने और पर्यावरण के क्षेत्र में सहयोग के क्षेत्रों का विस्तार करने का प्रयास करता है ताकि पारस्परिक रूप से लाभप्रद साझेदारी को बढ़ावा दिया जा सके।

समझौता ज्ञापन का प्रभाव : यह समझौता ज्ञापन सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के माध्यम से दोनों देशों के बीच अनुभवों, सर्वोत्तम प्रथाओं और तकनीकी ज्ञान के आदान-प्रदान की सुविधा प्रदान करेगा और सतत विकास में योगदान देगा। हालांकि, इसके माध्यम से कोई महत्वपूर्ण रोजगार सृजन की परिकल्पना नहीं की गई है।


3. एंतोनियो गुतारेस लगातार दूसरी बार संयुक्त राष्ट्र महासचिव चुने गए

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने शुक्रवार को एंतोनियो गुतारेस को फिर से महासचिव नियुक्त किया है। उनका दूसरा कार्यकाल एक जनवरी 2022 से शुरू होगा। इससे पहले शक्तिशाली सुरक्षा परिषद ने 193 सदस्‍यीय संस्था के लिए गुतारेस के पुन: निर्वाचन की सर्वसम्मति से सिफारिश की थी। संरा महासभा के 75वें सत्र के अध्यक्ष वोल्कन बोजकिर ने घोषणा की कि गुतारेस को फिर से संयुक्त राष्ट्र का महासचिव नियुक्त किया जाता है, उनका दूसरा कार्यकाल एक जनवरी 2022 से आरंभ होगा और 31 दिसंबर 2026 को समाप्त होगा। बोजकिर ने 72 वर्षीय गुतारेस को संरा महासभा के हॉल में मंच पर शपथ दिलवाई। इससे पहले, आठ जून को 15 सदस्‍यीय परिषद की बैठक में महासचिव के पद के लिए सर्वसम्मति से गुतारेस के नाम की सिफारिश वाले प्रस्ताव को अपनाया गया था। संयुक्त राष्ट्र में एस्टोनिया के राजदूत और जून महीने के लिए परिषद के अध्यक्ष स्वेन जुर्गेनसन ने बैठक के बाद कहा, हम सभी ने वास्तव में महासचिव को सक्रिय देखा है। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि वह शानदार महासचिव रहे हैं। वह दुनिया में संघर्ष वाले क्षेत्रों पर राय रखते हैं और वह सभी से बात कर सकते हैं। उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि महासचिव से यही अपेक्षा होती है और वह पहले ही पांच साल के कार्यकाल में काबिल साबित हुए हैं। भारत ने संयुक्त राष्ट्र प्रमुख के रूप में गुतारेस के पुन: निर्वाचन के लिए समर्थन जताया है और उनके नाम की अनुशंसा वाले प्रस्ताव को अपनाए जाने का स्वागत किया। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि, राजदूत टीएस तिरुमूर्ति ने ट्वीट किया, भारत संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस को दूसरे कार्यकाल के लिए चुने जाने की सिफारिश वाले संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के पारित होने का स्वागत करता है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने पिछले महीने संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में गुतारेस से मुलाकात की थी और दुनिया के शीर्ष राजनयिक के रूप में उनके दूसरे कार्यकाल के लिहाज से नई दिल्ली की ओर से समर्थन व्यक्त किया था।

जयशंकर ने बैठक के बाद एक ट्वीट में कहा था, भारत संयुक्त राष्ट्र में सुरक्षा परिषद के नेतृत्व को महत्व देता है, विशेष रूप से ऐसे समय में जब समय चुनौतीपूर्ण हो। दूसरे कार्यकाल के लिए उनकी उम्मीदवारी का समर्थन जताया। बाद में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई मिशन द्वारा जारी वक्तव्य में भी जयशंकर के इस कथन को दोहराया गया।

संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत महासचिव की नियुक्ति महासभा द्वारा सुरक्षा परिषद की सिफारिश पर की जाती है। प्रत्‍येक महासचिव के पास दूसरे कार्यकाल का विकल्प होता है, यदि वे सदस्य राष्ट्रों से पर्याप्त समर्थन जुटा लें। संयुक्त राष्ट्र के नौवें महासचिव गुतारेस ने एक जनवरी, 2017 को शपथ ली थी और उनका पहला कार्यकाल इस साल 31 दिसंबर को समाप्त होगा। पुर्तगाल के पूर्व प्रधानमंत्री गुतारेस जून, 2005 से दिसंबर, 2015 तक एक दशक के लिए संयुक्त राष्ट्र के शरणार्थी उच्चायुक्त रहे थे।

संयुक्त राष्ट्र के 75 वर्ष के इतिहास में कोई महिला महासचिव नहीं रही हैं और गुतारेस का पुन: निर्वाचन स्पष्ट करता है कि इस वैश्विक संस्था का नेतृत्व किसी महिला को 2026 के बाद ही मिल सकता है।


4. वैश्विक शांति सूचकांक (Global Peace Index) 2021 जारी किया गया

Institute for Economics and Peace (IEP) सिडनी द्वारा Global Peace Index (GPI) के 15वें संस्करण को हाल ही में जारी किया गया।

मुख्य बिंदु :

  • GPI वैश्विक शांति का विश्व का प्रमुख माप है।

  • यह सूचकांक 163 स्वतंत्र देशों और क्षेत्रों को उनकी शांति के स्तर के अनुसार रैंक करता है।

  • यह रिपोर्ट शांति की प्रवृत्तियों, इसके आर्थिक मूल्य पर एक व्यापक डेटा-संचालित विश्लेषण प्रदान करती है और शांतिपूर्ण समाजों को विकसित करने की सिफारिश करती है।

रैंकिंग :

  • 2008 के बाद से आइसलैंड दुनिया भर में सबसे शांतिपूर्ण देश है।

  • आइसलैंड डेनमार्क, न्यूजीलैंड, पुर्तगाल और स्लोवेनिया जैसे अन्य देश सबसे शांतिपूर्ण हैं।

  • अफगानिस्तान लगातार चौथे वर्ष फिर से सबसे कम शांतिपूर्ण देश है।

  • इसके बाद यमन, सीरिया, दक्षिण सूडान और इराक का स्थान है।

भारत और उसके पड़ोसी :

  • भारत पिछले साल की रैंकिंग से दो पायदान ऊपर चढ़ गया है।यह 135वां सबसे शांतिपूर्ण देश बन गया है, जबकि दक्षिण एशिया क्षेत्र में 5वां शांतिपूर्ण देश है।

  • इस क्षेत्र में भूटान और नेपाल पहले और दूसरे सबसे शांतिपूर्ण हैं।

  • बांग्लादेश दुनिया भर के 163 देशों में से 91वें स्थान पर था जबकि दक्षिण एशिया में तीसरे स्थान पर था।

  • श्रीलंका 19वें स्थान की गिरावट के साथ 95वां शांतिपूर्ण देश बन गया, जबकि दक्षिण एशिया क्षेत्र में इसका चौथा स्थान है।

  • पाकिस्तान ने विश्व स्तर पर 150वीं रैंक हासिल की।

5. भारतीय डाक एक ‘Special Cancellation’ जारी करेगा

भारतीय डाक 21 जून, 2021 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) के अवसर पर दिन के सार को कैप्चर करने के लिए एक ‘Special Cancellation’ जारी करने जा रहा है। यह 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में एक अनूठी पहल है।

मुख्य बिंदु :

  • योग और अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस वर्षों से डाक टिकट संग्रह के लिए लोकप्रिय विषय हैं।

  • डाक विभाग ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर 2015 में दो स्मारक डाक टिकटों का एक सेट और एक लघु पत्रक लॉन्च किया था।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में सूर्य नमस्कार पर स्मारक डाक टिकटों का एक सेट जारी किया था।

  • संयुक्त राष्ट्र डाक प्रशासन (UNPA) ने 2016 में न्यूयॉर्क में इस दिवस को मनाने के लिए 10 योग आसन दिखाते हुए टिकटों का एक सेट जारी किया था।

डाकघरों द्वारा गतिविधियाँ : दिल्ली के सभी डाकघर बुक किये जाने वाले डाक पर “Be with Yoga, Be at Home” संदेश चिपका रहे हैं। डाकघरों के आगंतुकों के बीच योग को बढ़ावा देने के लिए दिल्ली के 60 डाकघरों में भी वीडियो चलाया जा रहा है।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस : यह दिन 2015 से 21 जून को प्रतिवर्ष मनाया जाता है। इसे 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में स्थापित किया गया था।

भारतीय डाक (India Post) : इंडिया पोस्ट, जिसे पहले डाक विभाग के नाम से जाना जाता था, भारत की सरकार द्वारा संचालित डाक प्रणाली है। यह संचार मंत्रालय के अधिकार क्षेत्र में काम करता है। वारेन हेस्टिंग्स ने 1788 में ‘कंपनी मेल’ नाम से ब्रिटिश भारत में डाक सेवा शुरू की थी। लॉर्ड डलहौजी ने इसे 1854 में “क्राउन” के तहत एक सेवा में संशोधित किया।


6. MP हाईकोर्ट में 6 जजों की नियुक्ति, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुवाहाटी हाईकोर्ट और मध्यप्रदेश उच्‍च न्‍यायालय में नए जजों की नियुक्तियां की हैं। मध्यप्रदेश हाईकोर्ट के लिए 6 जजों की नियुक्ति के आदेश का गजट नोटिफिकेशन केंद्रीय लॉ एवं जस्टिस मंत्रालय ने जारी किया है। वहीं दूसरी ओर रॉबिन फुकन को गुवाहाटी उच्‍च न्‍यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया है। शुक्रवार शाम को जारी किए गए आदेश के अनुसार, अनिल वर्मा, अरुण कुमार शर्मा, सत्येंद्र कुमार सिंह, सुनीता यादव, दीपक अग्रवाल व राजेंद्र कुमार (वर्मा) को महामहिम राष्ट्रपति की ओर से मध्य प्रदेश उच्‍च न्‍यायालय में जजों के रूप में नियुक्ति आदेश जारी किया गया है। जबकि रॉबिन फुकन को गुवाहाटी उच्‍च न्‍यायालय के अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया है। वे 2 साल की अवधि के लिए पद संभालेंगे। न्याय विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, 1 जून को मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय 24 न्यायाधीशों के साथ काम कर रहा था और वहां 29 न्यायाधीशों के पद रिक्त थे।


7. IMD ने विश्व प्रतिस्पर्धात्मकता सूचकांक (World Competitiveness Index) जारी किया

विश्व प्रतिस्पर्धात्मकता सूचकांक (World Competitiveness Index) Institute for Management Development (IMD) द्वारा संकलित किया गया है जो दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं पर COVID-19 के प्रभाव की जांच करता है।

मुख्य बिंदु :

  • इस सूचकांक में 64 देशों में भारत 43वें स्थान पर था।

  • स्विट्जरलैंड इस सूची में सबसे ऊपर है और उसके बाद स्वीडन, डेनमार्क, नीदरलैंड और सिंगापुर का स्थान है।

  • ताइवान को 8वेंस्थान पर रखा गया था , जो 33 वर्षों में पहली बार शीर्ष -10 में पहुंचा।

  • यूएई 9वें और अमेरिका 10वें स्थान पर हैं।

  • शीर्ष प्रदर्शन करने वाली एशियाई अर्थव्यवस्थाओं में सिंगापुर (5वें), हांगकांग (7वें), ताइवान (8वें) और चीन (16वें) शामिल हैं।

IMD World Competitiveness Ranking : यह सूचकांक 64 अर्थव्यवस्थाओं को रैंक करता है और यह आकलन करता है कि कोई भी देश अपने लोगों की समृद्धि को किस हद तक बढ़ावा देता है। इस सूचकांक ने 33 साल पहले डेटा और अधिकारियों के सर्वेक्षण प्रतिक्रियाओं के माध्यम से देशों की भलाई को मापकर देशों की रैंकिंग शुरू की थी। इसे IMD World Competitiveness Center द्वारा जारी किया जाता है।

ब्रिक्स राष्ट्र : ब्रिक्स में चीन (16वें) के बाद भारत (43वें) दूसरे स्थान पर है। भारत के बाद रूस (45वें), ब्राजील (57वें) और दक्षिण अफ्रीका (62वें) स्थान पर है।

भारत की रैंक में सुधार कैसे हुआ? : कोविड-19 महामारी के बीच अपेक्षाकृत स्थिर सार्वजनिक वित्त के कारण भारत ने सरकारी दक्षता कारक (government efficiency factor) में सुधार दर्ज किया है। इस रिपोर्ट के अनुसार नवाचार में निवेश, कल्याणकारी लाभ और नेतृत्व, डिजिटलीकरण जैसे गुणों ने देशों को उच्च रैंक प्राप्त करने में मदद की है।


8. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार (India’s Forex Reserve) 608.081 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा

11 जून, 2021 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 3.074 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 608.081 अरब डॉलर के सर्वोच्च स्तर (all-time high) पर पहुँच गया है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत चौथे स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है।

विदेशी मुद्रा भंडार : इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

11 जून, 2021 को विदेशी मुद्रा भंडार :

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $563.457 बिलियन गोल्ड रिजर्व: $38.101 बिलियन आईएमएफ के साथ एसडीआर: $1.512 बिलियन आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $5.011 बिलियन


9. QCI ने Indian Certification of Medical Devices Plus Scheme लांच की

Quality Council of India (QCI) और Association of Indian Manufacturers of Medical Devices (AiMeD) ने “Indian Certification of Medical Devices Plus (ICMED) Scheme” लॉन्च किया है।

ICMED 13485 योजना :

  • ICMED योजना ने ICMED योजना में और सुविधाएँ जोड़ीं, जिसे 2016 में चिकित्सा उपकरणों के प्रमाणन के लिए लॉन्च किया गया था।

  • यह योजना चिकित्सा उपकरणों की गुणवत्ता, सुरक्षा और प्रभावकारिता का सत्यापन करेगी।

  • इस योजना को परिभाषित उत्पाद मानकों और विशिष्टताओं के संबंध में उत्पादों के परीक्षण और उत्पाद संबंधी गुणवत्ता सत्यापन प्रक्रियाओं को एकीकृत करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

  • यह दुनिया भर में पहली ऐसी योजना है जिसमें गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली (quality management systems) और उत्पाद प्रमाणन मानकों (product certification standards) को नियामक आवश्यकताओं के साथ एकीकृत किया गया है।

  • यह भारत में चिकित्सा उपकरणों के क्षेत्र के लिए गुणवत्ता आश्वासन योजना होगी।

योजना का महत्व : यह योजना नकली उत्पादों और नकली प्रमाणीकरण से संबंधित चुनौतियों से निपटने के लिए खरीद एजेंसियों की सहायता करेगी। यह घटिया चिकित्सा उत्पादों या संदिग्ध मूल के उपकरणों के प्रचलन और उपयोग को भी समाप्त कर देगा।

भारतीय गुणवत्ता परिषद : QCI की स्थापना 1997 में नीदरलैंड में मौजूद मॉडल के आधार पर सार्वजनिक निजी भागीदारी मॉडल के रूप में की गई थी। QCI को एक स्वतंत्र स्वायत्त निकाय के रूप में संगठित किया गया था जो आर्थिक और सामाजिक गतिविधियों के सभी क्षेत्रों में गुणवत्ता मानकों को सुनिश्चित करने के लिए काम करता था। यह उत्पाद, सेवाओं और व्यक्तियों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में मान्यता सेवाएं प्रदान करने के लिए 1997 में सोसायटी पंजीकरण अधिनियम के तहत स्थापित किया गया था।


10. बोत्सवाना में मिला दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा

देबस्वाना डायमंड कंपनी ने 01 जून, 2021 को दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना की जवानेंग खदान में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा पाया है। बोत्सवाना अफ्रीका में हीरों का सबसे बड़ा उत्पादक देश है।

1,098 कैरेट वजन के इस पत्थर का पता लगाने के दो हफ्ते बाद, इसे राष्ट्रपति मोकग्वेत्सी मासीसी को भेंट किया गया।

प्रारंभिक विश्लेषण के अनुसार, इस हीरे/ पत्थर का वजन दुनिया के दूसरे सबसे बड़े 1,109 कैरेट लेसेडी ला रोना हीरे से थोड़ा कम है जो वर्ष, 2015 में बोत्सवाना में ही पाया गया था और दुनिया का सबसे बड़ा 3,106 कैरेट का कलिनन हीरा वर्ष, 1905 में दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था।

इस 73 मिमी लंबे, 52 मिमी चौड़े और 27 मिमी मोटे पत्थर का नाम अभी नहीं रखा गया है। पत्थर की खोज पर खनिज मंत्री लेफोको मोगी ने यह कहा कि, "वर्ष, 2020 में COVID-19 महामारी के कारण हीरे की बिक्री पर पड़े बुरे प्रभाव के बाद, यह बेहतर समय पर नहीं आ सकता था।"

वर्ष, 2020 में, देबस्वाना कंपनी ने कोविड-19 महामारी के कारण उत्पादन में 29 प्रतिशत की गिरावट के साथ 16.6 मिलियन कैरेट और बिक्री में 30 प्रतिशत की गिरावट के साथ 2.1 बिलियन डॉलर की गिरावट देखी थी।

देबस्वाना डायमंड कंपनी वैश्विक हीरा कंपनी डी बीयर्स और सरकार के बीच एक संयुक्त उद्यम है। देबस्वाना द्वारा हीरे की बिक्री से होने वाली आय का 80 प्रतिशत रॉयल्टी, लाभांश और करों के माध्यम से सरकार को दिया जाता है।

इस पत्थर के अंतिम मूल्य का अनुमान अभी जारी नहीं किया गया है। दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा 1,109 कैरेट का लेसेडी ला रोना हीरा 53 मिलियन डॉलर में बिका था।

प्रमुख बिंदु :

• देबस्वाना डायमंड कंपनी को 01 जून, 2021 को दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना की जवानेंग खदान में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा प्राप्त हुआ है। • इस पत्थर का वजन 1,098 कैरेट है और इसका माप 73mm लंबा, 52mm चौड़ा और 27mm मोटा है लेकिन, अभी तक इसका नाम नहीं रखा गया है। • दुनिया का यह तीसरा सबसे बड़ा पत्थर, दुनिया दूसरे सबसे बड़े 1,109 कैरेट लेसेडी ला रोना हीरे से थोड़ा छोटा है जो वर्ष, 2015 में बोत्सवाना में ही पाया गया था और दुनिया का सबसे बड़ा 3,106 कैरेट का कलिनन हीरा वर्ष, 1905 में दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था। • बोत्सवाना अफ्रीका में हीरों का सबसे बड़ा उत्पादक देश है।


11. अंतर्देशीय पोत विधेयक (Inland Vessels Bill) को कैबिनेट ने मंजूरी दी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने अंतर्देशीय पोत विधेयक, 2021 को मंजूरी दे दी है, जो अंतर्देशीय पोत अधिनियम, 1917 की जगह लेगा।

विधेयक के प्रमुख प्रावधान :

  • अब तक, कुल 4,000 किमी अंतर्देशीय जलमार्ग को ऑपरेशनलाइज किया जा चुका है।

  • यह विधेयक अंतर्देशीय जहाजों की सुरक्षा और पंजीकरण को विनियमित करेगा।

  • यह बिल प्रत्येक राज्य द्वारा बनाए गए अलग-अलग नियमों के बजाय पूरे भारत के लिए एक एकीकृत कानून का प्रावधान करता है।

  • यह विधेयक पंजीकरण का प्रमाणपत्र देता है जो सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में मान्य होगा।राज्यों से अलग अनुमति की आवश्यकता नहीं होगी।

  • यह विधेयक इलेक्ट्रॉनिक पोर्टल पर पोत, पोत पंजीकरण और चालक दल के विवरण रिकॉर्ड करने के लिए एक केंद्रीय डेटा बेस का प्रावधान करता है।

  • केंद्रीय डेटाबेस के लिए सभी यांत्रिक रूप से चालित जहाजों को अनिवार्य रूप से पंजीकृत करने की आवश्यकता होगी।

  • गैर-यांत्रिक रूप से चलने वाले जहाजों को भी जिला, तालुक या पंचायत या ग्राम स्तर पर नामांकित करने की आवश्यकता होगी।

भारत में अंतर्देशीय जल परिवहन : भारत में लगभग 14,500 किलोमीटर नौगम्य जलमार्ग (navigable waterways) हैं जिनमें नदियाँ, नहरें, बैकवाटर और खाड़ियाँ शामिल हैं। यह परिवहन का एक ईंधन कुशल और पर्यावरण के अनुकूल साधन है। राष्ट्रीय जलमार्ग अधिनियम 2016 के तहत 111 जलमार्गों को राष्ट्रीय जलमार्ग (National Waterways) घोषित किया गया है।


12. भारत के महान एथलीट मिल्खा सिंह का निधन

भारतीय खेल इतिहास के सबसे बेतरीन एथलीट्स में से एक मिल्खा सिंह का 91 वर्ष की आयु में निधन हो गया है। वे काफी समय से कोविड-19 से पीड़ित थे। गौरतलब है कि उनकी पत्नी निर्मल कौर का निधन भी कुछ दिन पहले ही कोविड-19 के कारण हुआ था।

मिल्खा सिंह : मिल्खा सिंह को ‘द फ्लाइंग सिख’ भी कहा जाता है। उनका जनम 20 नवम्बर, 1929 को पंजाब के गोविन्दपुरा में हुआ था। देश के विभाजन के समय हुई हिंसा में मिल्खा सिंह के 8 भाई-बहन मारे गये थे। बाद में वे 1951 में भारतीय सेना में भर्ती हो गये। सेना में काम करते समय उनका परिचय एथलेटिक्स से हुआ।

मिल्खा सिंह ने 1956 में मेलबोर्न ओलिंपिक में 200 मीटर और 400 मीटर के दौड़ में भारत के प्रतिनिधित्व किया, परन्तु उस स्पर्धा में अनुभव की कमी के कारण कुछ विशेष नही कर पाए।

1958 में उन्होंने नेशनल गेम्स में 200 मीटर और 400 मीटर में रिकॉर्ड बनाये। बाद में एशियाई खेलों में उन्होंने इसी इवेंट में स्वर्ण पदक जीते। 1958 में उन्होंने कॉमनवेल्थ गेम्स में 400 मीटर की दौड़ में स्वर्ण पदक जीता। उन्होंने 1962 में जकार्ता में एशियाई खेलों में 400 मीटर और 4×400 मीटर रिले में भी स्वर्ण पदक जीते।

उन्होंने 1958 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। उनके जीवन पर ‘भाग मिल्खा भाग’ नामक फिल्म भी बनी है। मिल्खा सिंह के पुत्र जीव मिल्खा सिंह एक स्टार गोल्फर हैं।


13. DPIIT सचिव डॉ. गुरुप्रसाद का निधन

उद्योगों के प्रमोशन और इंटरनल ट्रैड विभाग के सचिव डॉ. गुरुप्रसाद महापात्रा का निधन हो गया है। डॉ. गुरुप्रसाद महापात्रा एयरपोर्ट अथॉरिटी के अध्यक्ष भी रहे और उन्होंने एयरपोर्ट अथॉरिटी को आगे बढ़ाने के लिए भी एक नई दिशा दी थी। दो साल पहले 1 अगस्त 2019 को वह उद्योगों के प्रमोशन और इंटरनल ट्रेड डिपार्टमेंट के सचिव बने थे। उनके निधन की जानकारी स्वयं वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय मंत्री पीयूष गोयल ने दी। जानकारी के लिए बता दें कि डॉ. गुरुप्रसाद महापात्रा साल 1986 बैच के गुजरात कैडर के आईएएस ऑफिसर थे। वह लोकप्रिय साहित्यकार स्वर्गिय महापात्रा नीलमणी साहू के सबसे छोटे बेटे थे। गुरुप्रसाद महापात्रा ने वाणिज्य मंत्रालय में जॉइंट सेक्रेटरी की भूमिका भी निभाई थी और इस दौरान उन्होंने स्पेशल इकॉनमी जोन के प्रमोशन के लिए भी काम किया था।












  • Source of Internet

4 views0 comments

Recent Posts

See All