Search

19th December | Current Affairs | MB Books


1. भारत-ऑस्ट्रिया सड़क अधोसंरचना के लिए सहयोग करेंगे

हाल ही में रोड इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में प्रौद्योगिकी सहयोग पर भारत और ऑस्ट्रिया ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये। इस समझौते के द्वारा सड़क परिवहन, सड़क / राजमार्ग बुनियादी ढांचे के विकास, प्रबंधन और प्रशासन, सड़क सुरक्षा और बेहतर परिवहन प्रणालियों के क्षेत्र में एक ढांचा तैयार किया जायेगा।

ऑस्ट्रिया ही क्यों?

ऑस्ट्रिया के पास राजमार्गों और सड़कों के लिए नवीनतम तकनीकें हैं जैसे कि इंटेलीजेंट ट्रांसपोर्ट सिस्टम, इलेक्ट्रॉनिक टोल सिस्टम, यातायात प्रबंधन प्रणाली, भूस्खलन सुरक्षा उपाय और सुरंग निगरानी प्रणाली इत्यादि। इसलिए ऑस्ट्रिया के साथ समझौते करने से भारत को ऑस्ट्रिया की तकनीकी विशेषज्ञता का लाभ मिलेगा।

भारत-ऑस्ट्रिया सम्बन्ध

भारत और ऑस्ट्रिया के बीच सम्बन्ध काफी मैत्रीपूर्ण हैं। दोनों देशों के बीच संबंध 1949 में स्थापित हुए थे।

भारत के लिए ऑस्ट्रिया महत्वपूर्ण क्यों है?

यूरोप के साथ अपने संबंधों को मज़बूत करने के लिए ऑस्ट्रिया भारत के लिए एक महत्वपूर्ण कड़ी है। ऑस्ट्रिया मध्य और पूर्वी यूरोपीय देशों के लिए प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है। भारत-ऑस्ट्रियाई संयुक्त आर्थिक आयोग की स्थापना 1983 में की गयी थी। इसके बाद, भारत और ऑस्ट्रिया ने मिलकर कई कार्य किये और को जॉइंट वेंचर स्थापित किये गये।

भारत-ऑस्ट्रिया द्विपक्षीय व्यापार

वर्ष 2018 में भारत और ऑस्ट्रिया के बीच द्विपक्षीय व्यापार 1.869 बिलियन यूरो था। यह पिछले वर्ष की तुलना में 18.35% अधिक है। भारत ऑस्ट्रिया को कपड़े, जूते, वस्त्र, वाहन, विद्युत मशीनरी, रेलवे भागों और यांत्रिक उपकरण का निर्यात करता हैं। जबकि भारत ऑस्ट्रिया से मशीनरी, रेलवे उपकरण, यांत्रिक उपकरण, लोहा और इस्पात का आयात करता है।

भारत-ऑस्ट्रिया अंतरिक्ष संबंध

भारत के PSLV-C20 द्वारा ने ऑस्ट्रिया के पहले दो उपग्रहों UniBRITE और TUGSAT-1 / BRITE को लांच किया था। इन उपग्रहों को 2013 में लॉन्च किया गया था।

ऑस्ट्रिया में भारतीय प्रवासी

ऑस्ट्रिया में 31,000 से अधिक भारतीय रहते हैं। उनमें से अधिकांश केरल और पंजाब से हैं।


2. भारत ने वाडा को डोप फ्री खेलों के लिए 1 मिलियन डालर की राशि देने का किया ऐलान

भारत ने विश्व स्तर पर क्लीन स्पोर्ट यानि डोप मुक्त खेलों का माहौल तैयार करने के लिए वर्ल्ड एंटी-डोपिंग एजेंसी (WADA) को इसके वैज्ञानिक अनुसंधान बजट के लिए 1 मिलियन अमरीकी डालर की राशि देने की घोषणा की है।

भारत द्वारा किया गया योगदान चीन, सऊदी अरब और मिस्र सहित अन्य विश्व देशों द्वारा किए गए योगदानों में सबसे अधिक है।

यह योगदान भारत द्वारा वाडा के मुख्य बजट में किए गए वार्षिक योगदान से अधिक है।

WADA द्वारा इस राशि का इस्तेमाल नए एंटी-डोपिंग टेस्टिंग और पहचान प्रक्रियाओं को विकसित करने और WADA के स्वतंत्र जांच और खुफिया विभाग को और मजबूत करने के लिए किया जाएगा।

सभी सदस्य राष्ट्रों के कुल योगदान का अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक समिति (IOC) द्वारा एक बराबर राशि से मिलान करके 10 मिलियन अमरीकी डालर का कोष बनाया जाएगा।


3. 19 दिसम्बर : गोवा मुक्ति दिवस

19 दिसम्बर को गोवा मुक्ति दिवस के रूप में मनाया जाता है। गोवा को पुर्तगाली शासन से 19 दिसम्बर, 1961 को मुक्त किया गया था।

पृष्ठभूमि

पुर्तगाली भारत में 1510 में आये, उन्होंने पश्चिमी तट के कई क्षेत्रों में अपना आधिपत्य स्थापित किया। 19वीं शताब्दी के अंत तक पुर्तगालियों ने गोवा, दमन, दिउ, दादरा, नगर हवेली और अन्जेदिवा द्वीप पर कब्ज़ा कर लिया था। भारत की स्वतंत्रता के बाद तत्कालीन सरकार ने गोवा को भारत में शामिल करने के लिए पुर्तगालियों से बातचीत का मार्ग चुना। परन्तु यह माध्यम सफल नहीं हो सका। अंत में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु ने भारतीय सशस्त्र सेनाओं को बलपूर्वक गोवा को भारत में शामिल करने के आदेश दिया। 18-19 दिसम्बर, 1961 को भारतीय सेना ने सैन्य ऑपरेशन चलाया और गोवा को सफलतापूर्वक भारत में शामिल करवाया।

गोवा की मुक्ति के बाद 1963 में भारत की संसद ने गोवा को भारत में आधिकारिक रूप से शामिल करने के लिए 12वां संवैधानिक संशोधन पारित किया। इसके द्वारा गोवा, दमन व दिउ तथा दादरा व नगर हवेली को केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया गया। 1987 में गोवा को दमन व दिउ से अलग करके एक पूर्ण राज्य का दर्जा दिया गया।


4. उइगर लोगों को पहचानने करने के लिए अलीबाबा ने लांच किया सॉफ्टवेयर

हाल ही में चीन की अलीबाबा कंपनी ने एक फेशियल रिकॉग्निशन सॉफ्टवेयर लॉन्च किया है, यह सॉफ्टवेयर किसी उइगर व्यक्ति के चेहरे को पहचान सकता है।

मुख्य बिंदु

गौरतलब है कि अमेरिका स्थित सर्विलांस इंडस्ट्री रिसर्च फर्म IPVM ने अलीबाबा की क्लाउड शील्ड सर्विसेज में इस डिटेक्शन तकनीक का पता लगाया है। यह तकनीक उइगर व्यक्ति द्वारा फिल्माए और अपलोड किए गए वीडियो की पहचान करने में सक्षम है। इस तकनीक के मदद से अधिकारी इस प्रकार की सामग्री को हटा सकते हैं या इस पर कारवाई कर सकते है। इस शोध फर्म ने पाया कि, अलीबाबा की चीनी वेबसाइट ने ग्राहकों को यह ही दिखाया है कि वे जातीय अल्पसंख्यकों की पहचान करने के लिए इस तकनीकी का उपयोग किस प्रकार कर सकते हैं। इसके लिए गाइड ही बनाई गयी है। इसे विशेष रूप से उइगरों की खोज करने के लिए बनाया गया है।

चीन में उइगरों की स्थिति

चीन ने शिनजियांग प्रांत में उइगर और अन्य तुर्क मुसलमानों को नियंत्रित करने के लिए अपने प्रयासों को तेज कर दिया है। इसके लिए चीन ने कई प्रकार के कार्यक्रम शुरू किये हैं, इसमें महिलाओं की नसबंदी, शिविरों में बड़े पैमाने पर इंटर्नशिप, ज़बरन श्रम कार्यक्रम, व्यापक तकनीकी और मानव निगरानी इत्यादि शामिल हैं। हालांकि, चीन इन सभी आरोपों को खारिज करता है। चीन का तर्क है कि ये शिविर व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र हैं जो धार्मिक अतिवाद का मुकाबला करने के लिए आवश्यक हैं।


5. ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने किया 'परिश्रम' पोर्टल का शुभारंभ

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से श्रम और कर्मचारी राज्य बीमा विभाग की 22 ऑनलाइन सेवाओं के साथ 'परिश्रम' पोर्टल का उद्घाटन किया।

ये पोर्टल और ऑनलाइन सेवाएं "Ease of Doing Business" यानि कारोबार को आसान बनाने में सहायक होंगी और राज्य के औद्योगिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी।

पोर्टल आने वाले दिनों में 52 प्रकार की सेवाएं प्रदान करेगा।

यह तकनीक 5-T पहल की नींव है और इससे परिवर्तन लाने में मदद मिलेगी, साथ ही उम्मीद जताई गई है कि इससे विभिन्न श्रम कानूनों के बारे में जानकारी उपलब्ध होगी और पोर्टल के माध्यम से उद्योगों, वाणिज्यिक संगठनों, छोटे उद्यमियों और आम लोगों को लाभ मिलेगा।


6. स्किल इंडिया ने उर्जा सेक्टर में कौशल विकास के लिए पहला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस स्थापित किया

हाल ही में स्किल इंडिया ने हरियाणा के गुरुग्राम में उर्जा पावर में कौशल विकास के लिए पहला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस स्थापित किया। इस सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस की स्थापना राष्ट्रीय सौर ऊर्जा संस्थान के परिसर में की गयी है।

मुख्य बिंदु

इस केंद्र का उद्घाटन कौशल विकास राज्य मंत्री राज कुमार सिंह ने किया, इस मौके पर उन्होंने कहा कि भारत आर्थिक विकास में तेजी लाने, ऊर्जा सुरक्षा में सुधार लाने और जलवायु परिवर्तन का प्रभाव कम करते हुए अक्षय ऊर्जा की ओर तेजी से कदम बढ़ा रहा है। आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को हासिल करने में नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र के विकास को बढ़ावा देना आवश्यक है।

यह सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस बिजली, ऑटोमेशन और सौर ऊर्जा क्षेत्र में अत्यधिक कुशल प्रशिक्षकों और मूल्यांकनकर्ताओं का एक पूल बनाएगा, जिससे उम्मीदवारों को रोजगार पाने में आसानी होगी।

स्किल इंडिया

स्किल इंडिया को राष्ट्रीय कौशल विकास मिशन भी कहा जाता है, इस अभियान को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने लांच किया था। इसे 15 जुलाई, 2015 को लांच किया गया था। इस अभियान का उद्देश्य देश में 2022 तक लगभग 40 करोड़ लोगों को विभिन्न प्रकार का प्रशिक्षण प्रदान करना है ताकि वे रोज़गार प्राप्त कर सकें या खुद का काम शुरू कर सकें।

इस अभियान के प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, रूरल स्किल इंडिया, कौशल विकास और उद्यमिता के लिए राष्ट्रीय नीति, 2015 जैसी कई पहलें व योजनायें शुरू की गयी थीं।


7. रॉबर्ट लेवांडोव्स्की और लुसी ब्रॉन्ज ने जीता वर्ष 2020 के बेस्ट फीफा प्लेयर का खिताब

Best FIFA Player 2020: बेयर्न म्यूनिख के स्ट्राइकर, रॉबर्ट लेवांडोव्स्की (Robert Lewandowski) ने पिछले साल के विजेता लियोनेल मेस्सी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो को हराकर बेस्ट फीफा मेन्स प्लेयर 2020 का खिताब जीता है।

32 वर्षीय लेवांडोव्स्की, यूरोप में सबसे ज्यादा गोल करने वाले और बायर्न के साथ चैंपियंस लीग के विजेता हैं।

मैनचेस्टर सिटी फुल-बैक, लुसी ब्रॉन्ज (Lucy Bronze) ने बेस्ट विमेंस प्लेयर का पुरस्कार जीता, और जिसके साथ वह पुरस्कार जीतने वाली पहली महिला इंग्लिश खिलाड़ी बन गईं।

लेओन्डोव्स्की और ब्रॉन्ज दोनों के लिए यह पहला मौका था जब उन्होंने 2018 में लुका मोड्रिक के बाद दूसरे खिलाड़ी के साथ पोल में 13 साल के मेस्सी-रोनाल्डो के रिकॉर्ड को तोड़कर पुरस्कार जीता।


8. रतन टाटा ने जीता ग्लोबल विजनरी ऑफ सस्टेनेबल बिज़नेस एंड पीस अवार्ड

टाटा ग्रुप के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा ने ग्लोबल विजनरी ऑफ सस्टेनेबल बिजनेस एंड पीस अवार्ड जीता है। उन्हें यह पुरस्कार दुबई में फेडरेशन ऑफ इंडो-इजरायल चैंबर ऑफ कॉमर्स इंटरनेशनल चैप्टर के लॉन्च के दौरान दिया जायेगा।

मुख्य बिंदु

इस वर्चुअल पुरस्कार समारोह में भारत, इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात के वरिष्ठ अधिकारी भाग लेंगे। गौरतलब है कि टाटा ने भारत-इजराइल सम्बंधों को मज़बूत करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। टाटा समूह ने इजराइल के तेल अवीव विश्वविद्यालय के टेक्नोलॉजी इनोवेशन मोमेंटम फण्ड में कई मिलियन डॉलर का निवेश किया है। वर्ष 2013 में टाटा समूह ने रक्षा व एयरोस्पेस उत्पादों के निर्माण के लिए इजराइल एयरोस्पेस इंडस्ट्री के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये थे।

रतन टाटा

रतन टाटा देश के सबसे सफल और सम्मानित उद्योगपति हैं। उनका जन्म 28 दिसम्बर, 1937 को हुआ था। उन्होंने कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई की है। रतन टाटा ने अपने कार्यकाल में टाटा समूह को एक नए मुकाम पर पहुँचाया। उनके कार्यकाल में टाटा मोटर्स ने यूनाइटेड किंगडम की प्रसिद्ध कार कंपनी जैगुआर लैंड लोवर का अधिग्रहण किया था। रतन टाटा को देश के प्रतिष्ठित पुरस्कारों पद्म विभूषण और पद्म भूषण से सम्मानित किया गया है। रतन टाटा को उनकी परोपकारी गतिविधियों के लिए भी जाना जाता है। वे शिक्षा, स्वास्थ्य और ग्रामीण विकास के क्षेत्र में बेहतरी के लिए अपना योगदान दे रहे हैं।


9. भारत में योगासन को प्रतिस्पर्धी खेल के रूप में मान्यता दी गई

हाल ही में खेल मंत्रालय ने योगासन को एक औपचारिक खेल के रूप में मान्यता दी है। यह योग और इसके लाभों के बारे में जागरूकता फैलाने और लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए किया गया है।

मुख्य बिंदु

एक प्रतिस्पर्धी खेल के रूप में अपनी पहचान के बाद, योगासन को कई स्पर्धाओं में शामिल किया जा सकता है। योग गुरु बाबा रामदेव के नेतृत्व में एक अंतर्राष्ट्रीय योगासन खेल महासंघ का गठन किया गया था। इसके अलावा, राष्ट्रीय योगासन खेल महासंघ की स्थापना की गई जो एक प्रतिस्पर्धी खेल के रूप में योग का संरक्षण और विकास करेगा। खेल मंत्रालय ने नवंबर 2020 में इस संघ को राष्ट्रीय खेल महासंघ के रूप में मान्यता दी थी।

योगासन को खेलो इंडिया गेम्स प्रोग्राम के साथ शामिल किया जायेगा।

खेलो इंडिया में योगासन

खेलो इंडिया प्रतियोगिता में योगासन खेल को सात श्रेणियों में शामिल किया जायेगा। इसमें रिदमिक योगासन, पारंपरिक योगासन, व्यक्तिगत चैम्पियनशिप, टीम चैम्पियनशिप, कलात्मक योगासन शामिल हैं।

इसके अलावा राष्ट्रीय व्यक्तिगत योगासन खेल प्रतियोगिता का प्रस्ताव भी रखा गया है। यह प्रतियोगिता जिला, राज्य, राष्ट्रीय और विश्व स्तर पर आयोजित की जाएगी।

योजना

योगासन को एक खेल के रूप में पेश करने के बाद, खेल मंत्रालय द्वारा निम्नलिखित कदम उठाये जायेंगे :

योगासन खेल की प्रतियोगिताओं, कार्यक्रमों के वार्षिक कैलेंडर को लांच किया जायेगा।

योगासन चैम्पियनशिप के लिए स्वचालित स्कोरिंग प्रणाली का विकास।

रेफरी, कोच, निर्देशक और प्रतियोगिताओं के निर्णायकों के लिए कोर्स।

योगासन खिलाड़ियों के लिए कोचिंग कैंप।

योगासन की एक लीग भी शुरू की जाएगी।यह योगासन एथलीटों के लिए एक कैरियर सुनिश्चित करेगा।

योगासन को खेलो इंडिया, राष्ट्रीय खेलों और अंतर्राष्ट्रीय खेल आयोजनों में खेल अनुशासन के रूप में पेश किया जाएगा।


10. भारत गैस इन्फ्रास्ट्रक्चर के निर्माण के लिए 60 अरब डॉलर का निवेश करेगा

हाल ही में भारत ने गैस के बुनियादी ढांचे के विकास में निवेश करने की अपनी योजना का खुलासा किया है। भारत ने अगले चार वर्षों में गैस के बुनियादी ढांचे में 60 अरब डॉलर के निवेश की योजना बनाई है।

मुख्य बिंदु

इस निवेश कार्यक्रम की घोषणा पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने एक कार्यक्रम में की। इस दौरान उन्होंने कहा की सरकार ने गैस के बुनियादी ढांचे को विकसित करने की योजना बनाई है और सरकार प्राकृतिक गैस की हिस्सेदारी बढ़ाने की कोशिश कर रही है।

2024 तक गैस इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने में 60 अरब डॉलर निवेश किया जायेंगे। इस बुनियादी ढांचे में पाइपलाइन, एलएनजी टर्मिनल और शहरी गैस वितरण (सीजीडी) नेटवर्क शामिल हैं।

पृष्ठभूमि

हाल ही में केंद्र सरकार ने भारत का पहला स्वचालित राष्ट्रीय स्तर का गैस ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म भी लॉन्च किया है। इस प्लेटफॉर्म को ट्रेडिंग की सुविधा और बाजार की मजबूती के लिए लॉन्च किया गया था।

तेल व गैस उद्योग

भारत में तेल और गैस उद्योग की स्थापना वर्ष 1889 में हुई थी। वर्ष 1889 में, भारत में पहली बार तेल का भंडार असम के डिगबोई में खोजा गया था। असम और गुजरात में गैस क्षेत्रों की खोज के बाद 1960 के दशक में भारत के प्राकृतिक गैस उद्योग ने काम करना शुरू किया।


11. एनएचएआई के चेयरमैन सुखबीर सिंह संधू को मिला छह महीने का एक्सटेंशन

सरकार ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) के अध्यक्ष सुखबीर सिंह संधू का कार्यकाल छह महीने के लिए बढ़ा दिया है।

मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के केंद्रीय प्रतिनियुक्ति, एनएचएआई के अध्यक्ष के रूप में संधू कार्यकाल के विस्तार को मंजूरी दे दी है, जो 21 जनवरी, 2021 से छह महीने की अवधि के लिए, यानी 21 जुलाई, 2021 तक का होगा।

संधू उत्तराखंड कैडर के 1988 बैच के आईएएस अधिकारी हैं।


12. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 778 मिलियन डॉलर की गिरावट के साथ 578.568 अरब डॉलर पर पहुंचा

11 दिसम्बर, 2020 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 778 मिलियन डॉलर की गिरावट के साथ 578.568 अरब डॉलर तक पहुँच गया है, यह भारत के विदेशी मुद्रा भंडार का उच्चतम स्तर है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत 5वें स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है। पिछले कुछ समय से भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में काफी वृद्धि हुई है।

विदेशी मुद्रा भंडार

इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

11 दिसम्बर, 2020 को विदेशी मुद्रा भंडार

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए) : $536.344 बिलियन गोल्ड रिजर्व : $ 36.012 बिलियन आईएमएफ के साथ एसडीआर : $ 1.503 बिलियन आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति : $ 4.709 बिलियन


13. इसरो ने NETRA के लिए कण्ट्रोल सेंटर स्थापित किया

हाल ही में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने देश में स्पेस सिचुएशनल अवेयरनेस (SSA) गतिविधियों के लिए एक समर्पित नियंत्रण केंद्र स्थापित किया। इसे NETRA कहा जाता है। NETRA का Network for space object Tracking and Analysis है। इस परियोजना का उद्देश्य भारत की अंतरिक्ष परिसंपत्तियों की निगरानी करना, उन्हें ट्रैक करना और उनकी सुरक्षा करना है।

गौरतलब है कि ऐसे बहुत कम देश हैं जिनके पास स्वयं के अंतरिक्ष स्पेस सिचुएशनल अवेयरनेस केंद्र हैं। इसरो का SSA कंट्रोल सेंटर बेंगलुरु में ISTRAC कैंपस में स्थापित किया गया है।

NETRA क्या है?

NETRA मूल रूप से उपग्रह की कक्षाओं में प्राकृतिक और मानव निर्मित दोनों वस्तुओं को ट्रैक करेगा। ऐसी वस्तुओं पर नज़र रखने को स्पेस सिचुएशनल अवेयरनेस (SSA) कहा जाता है। यह टकराव की चेतावनी देने के लिए वस्तुओं को ट्रैक करने का विज्ञान है। यह बहुत ज़रूरी है क्योंकि अंतरिक्ष में बड़ी संख्या में निजी और सरकारी उपग्रहों हैं। और वे पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले अन्य उपग्रहों के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं।

NETRA में एक ऑप्टिकल टेलीस्कोप, एक रडार और एक नियंत्रण केंद्र हैं। यह भारत के भीतर सभी SSA गतिविधियों के केंद्र के रूप में कार्य करेगा।

पृष्ठभूमि

जनवरी 2020 तक, पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले दो हजार से अधिक सक्रिय उपग्रह हैं। इसके अलावा, अंतरिक्ष मलबे के 23,000 से अधिक टुकड़े भी अन्तरिक्ष में मौजूद हैं। इस प्रकार की वस्तुएं अन्तरिक्ष में अन्य उपग्रहों के लिए खतरा पैदा कर सकती हैं, इन वस्तुएं से टक्कर के कारण उपग्रह क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।



  • Source of Internet