Search

19th - 20th July | Current Affairs | MB Books


1. भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण देश के 63 हवाई अड्डों के लिए खरीदेगा 198 बॉडी स्कैनर

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआइ) ने 63 भारतीय हवाई अड्डों के लिए 198 बॉडी स्कैनर खरीदने का फैसला किया है जो मौजूदा डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर और हैंड-हेल्ड स्कैनर की जगह लेंगे। अब धातु की वस्तुओं का पता लगाने के लिए पैट-डाउन खोजों की जरूरत नहीं पड़ेगी।

प्राधिकरण हवाई मार्ग से हो रही तस्करी को रोकने और सुरक्षा को पुख्ता करने की दिशा में ये कदम उठा रहा है। तस्करी करने वाले हवाई अड्डों से तस्करी के लिए नए-नए तरीके अपना रहे हैं तो सुरक्षा एजेंसियां भी इसको रोकने के लिए इस तरह के कदम उठा रही हैं।

एएआइ अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 महामारी आने से पहले बॉडी स्कैनर की खरीद की प्रक्रिया इस साल की शुरुआत में शुरू हुई थी। अधिकारियों ने कहा कि इन स्कैनरों को जल्द से जल्द हासिल करना महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि महामारी के कारण सुरक्षा कर्मियों द्वारा यात्रियों की फरिस्किंग सर्च मार्च से ही कम कर दी गई है।

इस वजह से ये तय किया गया है कि जैसे ही उड़ानों को सरकार की ओर से हरी झंडी दी जाए उससे पहले सुरक्षा के लिए ये बॉडी स्कैनर हवाई अड्डों पर लग जाएं। इससे सुरक्षा पुख्ता होगी और कोविड से भी बचाव हो सकेगा। जांच करने वालों को यात्रियों के आसपास नहीं फटकना पड़ेगा।

अधिकारियों ने बताया कि इन 198 स्कैनर में से 19 चेन्नई एयरपोर्ट के लिए, 17 कोलकाता एयरपोर्ट के लिए और 12 पुणे एयरपोर्ट के लिए होंगे। सात बॉडी स्कैनर श्रीनगर हवाई अड्डे पर, छह विशाखापत्तनम हवाई अड्डे पर और पांच तिरुपति, बागडोगरा, भुवनेश्वर, गोवा और इंफाल में हवाई अड्डों पर तैनात किए जाएंगे। अधिकारियों ने बताया कि अमृतसर, वाराणसी, कालीकट, कोयम्बटूर, त्रिची, गया, औरंगाबाद और भोपाल के हवाई अड्डों पर चार बॉडी स्कैनर लगाए जाएंगे।

63 हवाई अड्डों के लिए 198 बॉडी स्कैनर खरीदने का टेंडर जारी किया गया है और तीन कंपनियों ने अपनी बोली लगाई है। अधिकारियों ने कहा कि एक बार हवाई अड्डे पर बॉडी स्कैनर लगाने के बाद यात्रियों के लिए पैट-डाउन सर्च की आवश्यकता नहीं होगी।


2. अमेरिकी नागरिक अधिकारों के चैंपियन जॉन लुइस के निधन

अमेरिका में नागरिक अधिकारों के लिए आंदोलन करने वाले लुइस जॉन (John Lewis) के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक जताया है। उन्होंने कहा, "हम नागरिक अधिकारों, अहिंसा और गांधीवादी मूल्यों के चैंपियन अमेरिकी सांसद जॉन लुइस के निधन का शोक मनाते हैं। उनकी विरासत हमें हमेशा प्रेरित करेगी।"

अमेरिका में नागरिक अधिकारों के लिए आंदोलन करने वाले जॉन लुइस का शनिवार को निधन हो गया था, वो 80 साल के थे। 2019 के अंत में लुइस को अग्नाशय के कैंसर का पता चला था।

प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने शुक्रवार देर रात लुइस के निधन की पुष्टि की और उन्हें अमेरिकी इतिहास के सबसे बड़े नायकों में से एक बताया। नैंसी पेलोसी ने कहा, "आज, अमेरिका अमेरिकी इतिहास के सबसे महान नायकों में से एक के निधन पर शोक व्यक्त करता है।" बता दें कि लुइस के निधन से कुछ घंटे पहले ही एक अन्य नागरिक अधिकार नेता सीटी विवियन का भी निधन हुआ था।

पेलोसी ने कहा कि सांसद लुइस जैसा सहकर्मी होना हमारे लिए सम्मान की बात है। हम उनके निधन से बहुत दु:खी हैं। सीनेटर मिच मैकोनल ने भी लुइस के निधन पर शोक जताया। लुइस ने दिसंबर 2019 में कैंसर से पीड़ित होने की घोषणा की थी। लुइस नागरिक अधिकारों के लिए आंदोलन करने वाले 'बिग सिक्स' नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं में से एक थे। आंदोलन करने वाले समूह का नेतृत्व मार्टिन लूथर किंग जूनियर (Martin Luther King Jr) ने किया था।


3. महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और यूपी ने बढ़ाई चिंता, कुल मामले 10.50 लाख के पार

कोरोना वायरस के खिलाफ देश की लड़ाई पांच राज्यों के चलते पटरी से उतरती नजर आ रही है। इन राज्यों में बढ़ते मामलों ने रणनीतिकारों की चिंता बढ़ा दी है। बिगड़ते हालात ने तो कई राज्यों को आंशिक लॉकडाउन लगाने जैसे सख्त कदम उठाने को मजबूर कर दिया है। शनिवार को देशभर में सामने आए रिकॉर्ड 37 हजार से अधिक नए मामलों में से 62 फीसद केस इन्हीं पांच राज्यों में मिले। ये राज्य हैं महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश। एक दिन के दौरान करीब 77.5 फीसद मौतें भी इन्हीं राज्यों में दर्ज की गई हैं।

22,418 लोग हुए स्वस्थ

राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों से पीटीआइ और अन्य स्त्रोतों से रात 10 बजे तक मिली सूचनाओं के मुताबिक, 37,552 नए मामले सामने आए, जो एक दिन में नए मामलों की सबसे बड़ी संख्या है। इसके साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 10,73,813 हो गई है। इस दौरान 22,418 लोग स्वस्थ हुए हैं और अब तक ठीक हुए मरीजों की संख्या भी 6,72,898 हो गई है। सक्रिय मामले 3,74,139 रह गए हैं। इस महामारी ने 26,776 लोगों की जान भी ले ली है।

इसलिए आंकड़ों में है अंतर

शनिवार को 542 लोगों की जान गई, जिसमें सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 144, कर्नाटक में 93, तमिलनाडु में 88, आंध्र प्रदेश में 52, दिल्ली में 26, उत्तर प्रदेश में 24, गुजरात में 19, हरियाणा में 17, पंजाब में सात, ओडिशा व पुडुचेरी में तीन-तीन और केरल में दो मौतें शामिल हैं। अधिकारियों के मुताबिक मंत्रालय और अन्य स्त्रोतों से मिले आंकड़ों में अंतर का कारण राज्यों से केंद्र को सूचनाएं मिलने में देरी है। इसके अलावा कई एजेंसियां सीधे राज्यों से आंकड़े लेकर भी जारी करती हैं।

सुबह आठ बजे तक 34,884 नए मामले

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से सुबह आठ बजे जारी आंकड़ों के मुताबिक बीते चौबीस घंटे के दौरान 34,884 नए मामले सामने आए हैं और 671 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही संक्रमितों की संख्या 10,38,716 और मृतकों का आंकड़ा 26,273 पर पहुंच गया है। मंत्रालय के मुताबिक 6,53,750 अब तक पूरी तरह से ठीक हुए हैं और सक्रिय मामले 3,58,692 रह गए हैं।

महाराष्ट्र में आंकड़ा तीन लाख के पार

महाराष्ट्र में संक्रमितों का आंकड़ा तीन लाख को पार कर गया है। शनिवार को 8,384 नए मामले सामने आए और मरीजों की संख्या 3,00,937 हो गई। अब तक 11,596 लोगों की जान भी जा चुकी है। हालांकि, 5,306 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी भी मिली और स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या 1,65,663 हो गई। सक्रिय मरीज 1,26,926 रह गए हैं। मुंबई में भी संक्रमितों की संख्या एक लाख को पार कर गई है। महानगर में मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर 70 फीसद हो गई है।

गुजरात में 960 नए केस

गुजरात में भी रिकॉर्ड 960 नए केस मिले हैं और कुल संक्रमित 47,476 हो गए हैं। इनमें से 34 हजार से अधिक मरीज स्वस्थ भी हो चुके हैं और फिलहाल 11 हजार से कुछ ही अधिक सक्रिय मरीज रह गए हैं। इनमें से 75 गंभीर मरीज हैं। अब तक 2,127 लोगों की जान भी जा चुकी है। पुडुचेरी में 58 मरीजों के साथ संक्रमितों की संख्या आठ सौ हो गई है।

दिल्ली-केरल में कम हुए मामले

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और दक्षिण भारत के राज्य केरल में नए मामलों में कुछ कमी आई है। दिल्ली में तो पिछले आठ दिनों से एक से दो हजार के बीच नए मामले सामने आ रहे हैं, केरल में पिछले दो दिनों की तुलना में कुछ कम केस मिले हैं। 1,475 नए मामलों के साथ राष्ट्रीय राजधानी में अब तक संक्रमित पाए गए कुल मरीजों की संख्या 1,21,582 हो गई है। अब तक 3,597 लोगों की मौैत भी हुई है। केरल में 593 नए मामले मिले हैं और संक्रमितों का आंकड़ा 11,659 पर पहुंच गया है। इनमें करीब आधे से कुछ ज्यादा सक्रिय मामले हैं। अब तक 39 लोगों की मौत भी हुई है।

कर्नाटक और तमिलनाडु में बेकाबू संक्रमण

कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में कोरोना के प्रसार पर रोक लगती नजर नहीं आ रही है। कर्नाटक में रिकॉर्ड 4,537 नए मामले सामने आए हैं और मरीजों की संख्या 59,652 हो गई है। राज्य में अब तक 1,240 मरीजों की जान भी जा चुकी है। तमिलनाडु में भी 4,807 नए केस सामने आए और अब तक कोरोना पॉजिटिव पाए गए लोगों की संख्या 1,65,714 हो गई। इस दौरान तीन हजार से ज्यादा मरीजों को अस्पताल से छुट्टी भी मिली। एक लाख 13 हजार से ज्यादा लोग अभी तक ठीक हो चुके हैं, जबकि 2,403 लोगों की अब तक जान भी जा चुकी है।

आंध्र प्रदेश में 3,963 नए केस

आंध्र प्रदेश में भी 3,963 नए केस मिले हैं, जिसमें सबसे ज्यादा पूर्वी गोदावरी जिले में 994 केस शामिल हैं। राज्य में अब तक एक दिन में मिले नए मामलों की यह सबसे बड़ी संख्या है। इसके साथ ही मरीजों का आंकड़ा 44,609 पर पहुंच गया है, जिसमें 22,260 सक्रिय मरीज हैं। अब तक 586 लोगों की अब तक जान भी जा चुकी है।

उत्तर प्रदेश में बिगड़ रहे हालात

कोरोना संक्रमण से उत्तर प्रदेश में भी स्थिति संभलती नजर नहीं आ रही है। राज्य में 1,673 नए केस मिले हैं और अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की संख्या 47,036 हो गई है। पिछले कुछ दिनों से लगातार डेढ़ हजार से ज्यादा नए मामले मिल रहे हैं। राज्य में अब तक 11,08 लोगों की जान भी जा चुकी है। इसी तरह ओडिशा में 591 नए केस मिले हैं और मरीजों की संख्या 16,701 हो गई है। हरियाणा में 750 नए केस मिले हैं और संक्रमितों की संख्या 25,547 हो गई है। छत्तीसगढ़ में 243 नए केस के साथ कुल मामले 5,246 और पंजाब में 350 नए मामलों के साथ कुल संक्रमित 9,792 हो गए हैं।

पूर्वोत्तर के राज्यों में भी बढ़ रहे केस

पूर्वोत्तर के राज्यों में भी तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। शनिवार को अरुणाचल प्रदेश में 66 नए केस मिले और आंकड़ा 609 पर पहुंच गया। इसके अलावा नगालैंड में 22, त्रिपुरा में 118 और मिजोरम में 10 नए मामले मिले और इन राज्यों में अब तक सामने आए कुल मामलों की संख्या क्रमश: 978, 2,380 और 282 हो गई। मणिपुर में 91 नए केस सामने आए हैं और मरीजों की संख्या 1,891 हो गई है।


4. पाकिस्‍तान दक्षिण एशियाई देशों के सबसे तेज बढ़ती जनसंख्‍या वाले दो शीर्ष देशों में शामिल

मौजूदा समय में पाकिस्तान की कुल आबादी लगभग 22 करोड़ 9 लाख है। अमेरिका के निजी गैर लाभकारी संगठन की एक नई रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण एशियाई क्षेत्र में 3.6 बच्चों की वार्षिक प्रजनन दर के साथ पाकिस्‍तान शीर्ष दो सबसे तेजी से बढ़ती जनसंख्‍या वाली देशों में शामिल है।

पाकिस्‍तान और अफगानिस्‍तान की तेजी से बढ़ रही है जनसंख्‍या

अमेरिकी जनसंख्या रिफरेंस ब्यूरो द्वारा हाल ही में जारी किए गए 2020 विश्व जनसंख्या डेटा पत्रक के अनुसार, दक्षिण एशियाई देशों के बीच इस चार्ट (तेजी से बढ़ती जनसंख्‍या वाले देश) में गृहयुद्ध में घिरे अफ़गानिस्तान प्रति युगल 4.5 बच्चों के साथ सबसे ऊपर है। हालिया रिपोर्ट के अनुसार, एक अरब 40 करोड़ जनसंख्‍या के साथ भारत दुनिया की दूसरी सबसे आबादी वाला देश है, लेकिन इसकी प्रजनन दर 2.2 है। पाकिस्‍तान की प्रजनन दर 3.6 के साथ 19.4 वर्षों में दो गुनी हो जाती है।

एक देश को अपनी जनसंख्या को कम करने के लिए अपनी प्रजनन दर को प्रति वर्ष 2 प्रतिशत तक लाने की आवश्यकता है। पाकिस्‍तान के अखबार डॉन न्यूज ने अध्ययन का हवाला देते हुए कहा कि देश की प्रतिस्थापन प्रजनन दर 2.1 है। एक दंपति को औसतन बच्चों की संख्या के लिए खुद को बदलना होगा। अध्ययन के अनुसार दक्षिण एशिया दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ते क्षेत्रों में से एक है। इस क्षेत्र के भीतर अफगानिस्तान और पाकिस्तान को सबसे तेजी से बढ़ती आबादी के रूप में चिह्नित किया गया है।

दक्षिण पूर्वी एशिया के अन्‍य देशों का भी किया गया जिक्र

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि अफगानिस्तान में पाकिस्तान की तुलना में तेज प्रजनन दर है, जो प्रति दंपति 4.5 है, लेकिन उच्च मृत्यु दर और कम जीवन प्रत्याशा के कारण देश की कुल आबादी अभी भी 3 करोड़ 89 लाख है। एक और दक्षिण एशियाई देश बांग्लादेश की कुल आबादी, 2020 में अनुमानित रूप से 2.3 की वार्षिक प्रजनन दर के साथ 16 करोड़ 98 लाख है। यह क्षेत्र में तीसरा सबसे तेजी से बढ़ता हुआ देश है। इसके बाद चौथे स्थान पर मालदीव, पांचवें स्‍थान पर भारत है। इसके बाद प्रजनन दर के रूप में नेपाल और श्रीलंका और भूटान अंतिम स्थान साझा करते हैं।

एशिया में तेजी से बढ़ रही जनसंख्‍या

अध्ययन में एशिया को दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला क्षेत्र बताया गया है और इसकी कुल आबादी में 15 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है। 2020 में 460 करोड़ से 2050 में 530 करोड़ तक पहुंच जाएगी। हालांकि, भविष्य की जनसंख्या के पैटर्न में बदलाव पूर्वी एशिया में 3 प्रतिशत की गिरावट से पश्चिमी एशिया में 38 प्रतिशत की वृद्धि के साथ बदलता रहता है। एशिया की कुल प्रजनन दर 2.0 पर प्रतिस्थापन स्तर से नीचे है। दिलचस्प बात यह है कि रिपोर्ट में चीन की आबादी का अनुमान लगाया गया है, जो वर्तमान में दुनिया में सबसे अधिक है, 2050 तक कम हो जाएगी। अध्ययन में कहा गया है कि कुल 142 करोड़ 40 लाख लोगों के साथ चीन अभी भी दुनिया में सबसे बड़ी आबादी वाला देश है, लेकिन इसकी प्रजनन दर घटकर 1.5 रह गई है।

अमेरिका में धीमी गति से बढ़ रही है जनसंख्‍या

अमेरिका में 32.99 करोड़ आबादी है। यहां की आबादी 2020 से 2050 के बीच बढ़ने का अनुमान है, लेकिन हाल के दशकों की तुलना में बहुत धीमी गति से जनसंख्‍या बढ़ रही है। अमेरिका में 1.7 की वार्षिक प्रजनन दर है, जो इसे अप्रवासियों को अपने कार्य बल को मजबूत करने की अनुमति देता है। आंकड़ों का अनुमान है कि मौजूदा वैश्विक आबादी 7 अरब 80 करोड़ है। रिपोर्ट में कहा गया है कि घटती प्रजनन दर की वजह से वैश्विक आबादी में 65 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोग हिस्‍सा लेते हैं और उनका हिस्‍सा 9 फीसद है। रिपोर्ट के अनुसार मध्य अफ्रीका सबसे युवा क्षेत्र है, जहां 46 फीसदी आबादी 15 साल से कम उम्र की है, जबकि दक्षिणी यूरोप दुनिया का सबसे पुराना क्षेत्र है, जहां 65 या उससे अधिक उम्र के 23 फीसदी लोग रहते हैं। 2020 से 25 फीसद से अधिक की वृद्धि के साथ 2050 तक दुनिया की आबादी को 9.9 अरब तक पहुंचने का अनुमान है।

अफ्रीका और यूरोप के देशों का हाल

91 देशों और क्षेत्रों में दुनिया की आबादी का लगभग 45 प्रतिशत रहता है। यहां कुल प्रजनन दर प्रतिस्थापन स्तर से नीचे हैं। बच्चों की औसत संख्या, जिस पर जनसंख्या प्रवास के अभाव में एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक बिल्कुल बदल जाती है। इस रिपोर्ट में कहा गया कि 21 देशों और क्षेत्रों में जिसमें कोविड 19 महामारी के दौरान कई विनाशकारी नुकसान हुए हैं, यहां लोगों की आयु 65 वर्ष है और वृद्धों की आबादी कम से कम 20 प्रतिशत है। यह प्रवृत्ति यूरोप और पूर्वी एशिया में सबसे अधिक स्पष्ट है।

इसके विपरीत उप सहारा अफ्रीका और एशिया में कुछ देशों में तेजी से जनसंख्या वृद्धि और उच्च प्रजनन दर का अनुभव जारी है। 25 देशों की जनसंख्या 2020 और 2050 के बीच कम से कम दोगुनी होने की उम्मीद है। रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक कुल प्रजनन दर 2.3 प्रति महिला है, जबकि प्रतिस्थापन स्तर 2.1 प्रति महिला है। कोरोना वायरस के संकट का जिक्र करते हुए रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि शहरी क्षेत्रों में जनसंख्या घनत्व, घरेलू आकार और जनसंख्या उम्र बढ़ने से महामारी के तेजी से बढ़ने में योगदान होता है।


5. UAE ने जापान से लॉन्च किया मिशन मंगल, ऐसा करने वाला पहला अरब देश

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने आज (सोमवार) सुबह मिशन मंगल (Mars Mission) लॉन्च किया। UAE ने जापान (Japan) से इस मिशन को लॉन्च किया है। मंगल ग्रह पर यान भेजने वाला UAE पहला अरब देश है। इस मंगलयान को 'अल-अमल' अथवा 'होप' नाम दिया गया है। इसे जापान के H-2A रॉकेट के जरिए लॉन्च किया गया। इससे पहले इसे बुधवार को दक्षिणी जापान के तनेगाशिमा अंतरिक्ष केंद्र से रवाना किया जाना था, लेकिन खराब मौसम के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था। खराब मौसम की वजह से एक बार पहले भी इसकी लॉन्चिंग टल चुकी थी।

मिली जानकारी के अनुसार, आज इसकी लॉन्चिंग पूरी तरह से सफल रही। लॉन्च के करीब एक घंटे बाद लोगों को यान की स्थिति को लाइव दिखाया गया। दुबई में स्थित दुनिया की सबसे बड़ी इमारत बुर्ज खलीफा से भी इस लॉन्च का काउंटडाउन किया गया। UAE के मोहम्मद बिन राशिद स्पेस सेंटर के डायरेक्टर युसूफ हमद अलशाईबानी ने जापान में मिशन के लॉन्च होने के बाद कहा कि यह महत्वपूर्ण मिशन UAE के लिए मील का पत्थर साबित होगा।

उन्होंने कहा, 'इस मिशन ने पहले ही लाखों युवाओं को सपने देखने और कड़ी मेहनत से उन्हें पूरा करने के लिए प्रेरित किया है।' बता दें कि 'होप' फरवरी 2021 तक मंगल पर पहुंचेगा, जब UAE अपनी 50वीं वर्षगांठ मनाएगा। इस मंगलयान में ऊपरी वायुमंडल और जलवायु परिवर्तन का अध्ययन करने के लिए तीन उपकरण लगाए गए हैं। UAE के अधिकारियों ने कहा कि वह पहली बार अलग-अलग मौसमों के दौरान मंगल ग्रह के वायुमंडल का पूरा दृश्य मुहैया कराएगा।

बताया जा रहा है कि यह मिशन लाल ग्रह का डेटा कलेक्ट कर अगले साल सितंबर में पृथ्वी पर लौटेगा। UAE के पास पहले से ही पृथ्वी की कक्षा में नौ कार्यशील उपग्रह हैं। आने वाले वर्षों में उनकी 8 उपग्रह और लॉन्च करने की योजना है।


6. ब्लैकरॉक मैलवेयर क्रेडिट कार्ड की जानकारी और पासवर्ड चुराता है

हाल ही में एक नया एंड्रॉइड मैलवेयर खोजा गया है जो क्रेडिट कार्ड विवरण, 337 एप्लिकेशन से पासवर्ड जैसे डेटा चोरी करता है। इसमें कुछ लोकप्रिय ऐप जैसे अमेज़न, जीमेल, उबर, नेटफ्लिक्स और बहुत कुछ शामिल है।

मुख्य बिंदु

मैलवेयर की खोज एक मोबाइल सिक्योरिटी फर्म Threatfabric ने की थी। मैलवेयर को थर्ड पार्टी वेबसाइट्स पर दिए जाने वाले नकली गूगल अपडेट पैकेज के रूप में वितरित किया जा रहा है।

मैलवेयर घुसपैठ करने में सक्षम है जैसे कि एसएमएस फ्लड, विशिष्ट एप्लिकेशन शुरू करना, कस्टम पुश सूचनाएं दिखाना, मोबाइल एंटीवायरस ऐप्स को प्रभावित करना इत्यादि।

मैलवेयर के बारे में

यह मैलवेयर एक अन्य मैलवेयर Xerxes के लीक हुए सोर्स कोड पर आधारित है। Xerxes अन्य मैलवेयर के उपभेदों पर आधारित है।

मैलवेयर की कार्य प्रणाली

उपयोगकर्ता द्वारा ऐप में प्रवेश करने से पहले मालवेयर क्रेडिट कार्ड डिटेल और लॉगिन क्रेडेंशियल मांगता है। यह फोन की एक्सेसिबिलिटी फीचर के लिए अनुमति मांगता है।


7. 20 जुलाई : अंतर्राष्ट्रीय शतरंज दिवस

अंतर्राष्ट्रीय शतरंज दिवस प्रतिवर्ष 20 जुलाई को मनाया जाता है, 20 जुलाई 1924 को अंतर्राष्ट्रीय शतरंज संघ (FIDE) की स्थापना की गयी थी। 20 जुलाई को अंतर्राष्ट्रीय शतरंज दिवस के रूप में मनाने का सुझाव यूनेस्को द्वारा दिया गया था। 1966 से प्रतिवर्ष 20 जुलाई को अंतर्राष्ट्रीय शतरंज दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह दिवस अंतर्राष्ट्रीय शतरंज संघ के 185 सदस्यों द्वारा विश्व भर में मनाया जाता है, इस दिन कई स्थानों पर शतरंज की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं।

वर्ष 2013 में 178 देशों में अंतर्राष्ट्रीय शतरंज दिवस मनाया गया था, विश्व भर में 60 करोड़ से अधिक नियमित शतरंज खिलाडी हैं। एक सर्वेक्षण के अनुसार विश्व के 70% व्यस्क लोगों ने जीवन के किसी न किसी स्तर पर शतरंज खेला है।

अंतर्राष्ट्रीय शतरंज संघ (FIDE – Federation Internationale des Echecs)

अंतर्राष्ट्रीय शतरंज संघ की स्थापना 20 जुलाई, 1924 को हुई थी, इसका मुख्यालय ग्रीस के एथेंस में स्थित है। वर्तमान में 185 देश इसके सदस्य हैं। यह अंतर्राष्ट्रीय शतरंज प्रतियोगिताएं के लिए गवर्निंग बॉडी के रूप में कार्य करता है।


8. Twitter पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फॉलो करने वालों की संख्या हुई छह करोड़

ट्विटर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फॉलो करने वालों की संख्या बढ़कर छह करोड़ हो गई है। पीएम मोदी, सोशल मीडिया के जरिए जनता से सीधा संपर्क साधने के लिए जाने जाते हैं। लोगों से महत्वपूर्ण जानकारी साझा करने के लिए प्रधानमंत्री ट्विटर का बखूबी इस्तेमाल करते हैं. उनके कई संबोधन उनके व्यक्तिगत ट्विटर खाते पर सीधे प्रसारित किए जाते हैं। मोदी जनवरी 2009 में ट्विटर पर आए थे और वह 2,354 लोगों को फॉलो करते हैं।

सितंबर 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पांच करोड़ फॉलोवर थे। प्रधानमंत्री कार्यालय के ट्विटर खाते को 3.7 करोड़ लोग फॉलो करते हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी को ट्विटर पर डेढ़ करोड़ लोग फॉलो करते हैं। राहुल गांधी ने 2015 में ट्विटर पर खाता खोला था। इंस्टाग्राम पर मोदी के साढ़े चार करोड़ फॉलोवर हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ट्विटर पर 8.3 करोड़ लोग फॉलो करते हैं।


9. भारतीय मसालों के निर्यात में 23% की वृद्धि दर्ज की गयी

वाणिज्य मंत्रालय ने निर्यात पर डेटा जारी किया। आंकड़ों के मुताबिक, मसालों का निर्यात बढ़ा है।

मुख्य बिंदु

जून 2020 में, 2019 में इसी महीने की तुलना में भारतीय मसालों के निर्यात में 23% की वृद्धि हुई है। जून 2020 में मसालों के निर्यात ने जून 2019 में 292 मिलियन अमरीकी डालर की तुलना में 359 मिलियन अमरीकी डालर की कमाई की है।

जून 2020 में देश का कुल निर्यात 21.91 बिलियन अमरीकी डॉलर था, जबकि जून 2019 में यह 25.01 बिलियन अमरीकी डॉलर था। कुल निर्यात में 12.41% की गिरावट आई है।

मसाले

निर्यात किए जा रहे मसालों में मिर्च, अदरक, इलायची, धनिया, हल्दी, अजवाइन, मेथी, जायफल, पुदीना इत्यादि शामिल हैं। भारतीय मसालों के प्रमुख आयातक यूएई, फ्रांस, अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, ईरान, चीन, बांग्लादेश और फ्रांस हैं।

वृद्धि का कारण

पूरे विश्व में लोग प्राकृतिक तरीकों से COVID-19 स्थिति के कारण अपनी प्रतिरक्षा बढ़ा रहे हैं। आयुष मंत्रालय के प्रयासों से भारत में मसालों के बारे में पारंपरिक ज्ञान में वृद्धि हुई है। मंत्रालय ने पूरी दुनिया में ज्ञान का प्रसार किया है। मसालों के निर्यात में वृद्धि का यह मुख्य कारण है।


10. पीपीई किट का परीक्षण करने के लिए CIPET को मान्यता मिली

केंद्रीय रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत कार्यरत केन्द्रीय पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी संस्थान को राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड (एनएबीएल) और अंशांकन प्रयोगशालाओं द्वारा व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट का परीक्षण करने और प्रमाणित करने के लिए मान्यता प्रदान की।

मुख्य बिंदु

पीपीई किट में अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप दस्ताने, फेस शील्ड, काले चश्मे, ट्रिपल लेयर फेस मास्क शामिल हैं। यह भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए एक कदम है।

NABL ने एक ऑनलाइन ऑडिट के माध्यम से मान्यता प्रदान की।

पृष्ठभूमि

मई 2020 में, NABL ने PPE के प्रोटोटाइप नमूनों का परीक्षण करने के लिए 8 प्रयोगशालाओं को मान्यता दी थी। वे सभी सरकारी स्वामित्व वाले कारखाने और रक्षा मंत्रालय के आयुध कारखाने थे।

राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड

NABL (नेशनल एक्रीडिटेशन बोर्ड फॉर टेस्टिंग एंड कैलिब्रेशन लेबोरेटरीज) क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया के तहत संचालित होता है। इसकी स्थापना DPIIT (उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग), वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत की गई थी।

एनएबीएल विज्ञान और इंजीनियरिंग, फोटोमेट्री, गैर-विनाशकारी, रेडियोलॉजिकल, ऑप्टिकल और रेडियोलॉजिकल विषयों, हिस्टोपैथोलॉजी, माइक्रोबायोलॉजी, साइटोपैथोलॉजी, परमाणु चिकित्सा, आनुवंशिकी, आदि के प्रमुख क्षेत्रों को मान्यता प्रदान करता है।


11. COPS: COVID-19 सुरक्षा प्रणाली का अनावरण CSIR-CMERI द्वारा किया गया

19 जुलाई, 2020 को CSIR-CMERI ने कार्यस्थलों के लिए COVID-19 सुरक्षा प्रणाली (COPS) का अनावरण किया।

मुख्य बिंदु

COPS में संपर्क रहित सौर आधारित बुद्धिमान मास्क स्वचालित डिस्पेंसिंग यूनिट सह थर्मल स्कैनर (IntelliMAST), 360-डिग्री कार फ्लशर और टचलेस नल शामिल हैं। ये उप इकाइयां अब प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के लिए उपलब्ध हैं। COPS उपरोक्त सूचीबद्ध तकनीकों का समूह है।

Solar based Intelligent Mask Automated Dispensing Unit cum Thermal Scanner (IntelliMAST)

सौर आधारित IntelliMAST एक इंटेलीजेंट निगरानी कियोस्क है। यह शरीर के तापमान की पहचान करता है और यह भी जांचता है कि कोई व्यक्ति फेस मास्क पहन रहा है या नहीं। पहचान करने के बाद, यह व्यवस्थापक को भी सूचित करता है। इन-बिल्ट थर्मल स्कैनर माथे की स्कैनिंग के माध्यम से शरीर के तापमान में वृद्धि का पता लगाता है। यह 40-50 वाट की बिजली आपूर्ति के तहत काम करता है

स्पर्श मुक्त नल (TouF)

स्पर्श मुक्त नल प्रणाली 30 सेकंड के समय अंतराल में एक ही नल से तरल साबुन और पानी का वितरण करती है। यह भारत सरकार के दिशानिर्देशों के अनुसार स्पर्श मुक्त तंत्र का उपयोग करता है। यह 10 वाट बिजली की आपूर्ति के तहत काम करता है।

360 डिग्री कार फ्लशर

CSIR-CMERI ने सोडियम हाइपोक्लोराइट घोल का उपयोग करके 360-डिग्री कार फ्लशर विकसित किया। सिस्टम में कई विशिष्ट नोजल डिजाइन हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सैनिटाइजर का फैला हुआ पानी कार बॉडी के नीचे और ऊपर समान रूप से फैला हुआ है।


12. जम्मू-कश्मीर पंचायत सदस्यों के लिए 25 लाख रुपये का बीमा कवर स्वीकृत किया गया

जम्मू और कश्मीर प्रशासन ने शहरी स्थानीय निकायों और पंचायती राज संस्थाओं के सभी निर्वाचित सदस्यों को 25 लाख रुपये के जीवन बीमा कवर की घोषणा की।

मुख्य बिंदु

बीमा का प्रावधान चुने गए सदस्यों को सुरक्षा की भावना प्रदान करके जमीनी स्तर पर लोकतंत्र को मजबूत करना है। यह आवश्यक है क्योंकि निर्वाचित सदस्य लगातार आतंकवादियों के निशाने पर रहें हैं।

पृष्ठभूमि

प्रशासनिक परिषद ने उपराज्यपाल जी.सी. मुर्मू की अध्यक्षता में बैठक की। परिषद ने सरपंचों, नगर निकायों के निर्वाचित सदस्यों, खंड विकास परिषद सदस्यों के लिए जीवन बीमा को मंजूरी दी है।

बीमा चुने गए प्रतिनिधियों के परिवार के सदस्यों के लिए गारंटी के रूप में कार्य करेगा जो आतंकी घटनाओं में मर जाते हैं। ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि किसी अप्रिय घटना के कारण परिवारों को संकट और गरीबी का सामना न करना पड़े।

उपराज्यपाल

भारत में, एक राज्यपाल एक राज्य का प्रभारी होता है और एक लेफ्टिनेंट गवर्नर एक केंद्र शासित प्रदेश का प्रभारी होता है। हालांकि केवल लद्दाख, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, जम्मू और कश्मीर, दिल्ली और पुदुचेरी के केंद्र शासित प्रदेशों में लेफ्टिनेंट गवर्नर हैं। जबकि, अन्य केंद्र शासित प्रदेशों में प्रशासक नियुक्त हैं जो आमतौर पर आईएएस अधिकारी होते हैं।


13. असम में बाढ़: काजीरंगा नेशनल पार्क में 108 जानवरों की मौत

19 जुलाई, 2020 को असम सरकार ने घोषणा की कि राज्य में हाल ही में आई बाढ़ में काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के 108 जानवरों की मौत हो गई।

मुख्य बिंदु

काजीरंगा पार्क अधिकारियों के अनुसार, लगभग 9 गैंडे मारे गये हैं। बाढ़ में 82 हॉग डियर, दो स्वाम्प डियर और चार जंगली भैंस और सात जंगली सूअर भी मारे गए।

राहत के उपाय

असम सरकार बाढ़ पीड़ितों के परिजनों को 4 लाख रुपये प्रदान कर रही है। साथ ही, पीएम मोदी ने प्रधान मंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से बाढ़ में जान गंवाने वाले व्यक्तियों के परिजनों को 2 लाख रुपये की सहायता दी।

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

इस पार्क की स्थापना 1905 में आरक्षित वन क्षेत्र के रूप में की गई थी। 1950 में इसका नाम बदलकर काजीरंगा वन्यजीव अभयारण्य कर दिया गया। 1974 में, भारत सरकार ने इस क्षेत्र को राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया। 1985 में, यूनेस्को ने इस पार्क को यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल घोषित किया। 2006 में, भारत सरकार ने पार्क को टाइगर रिज़र्व घोषित किया।

काजीरंगा का एक-सींग वाला गैंडा

एक सींग वाला गैंडा तीन एशियाई गैंडों में सबसे बड़ा है। अन्य दो सुमात्रन गैंडे और जावान गैंडे हैं।

एशियाई गैंडों की सुरक्षा के लिए भारत ने चार देशों के साथ सहयोग किया है। वे नेपाल, भूटान, मलेशिया और इंडोनेशिया हैं। गैंडों के संरक्षण के लिए देशों ने “एशियाई गैंडों पर नई दिल्ली घोषणा 2019” पर हस्ताक्षर किए।

2015 में, गैंडों के अवैध शिकार को नियंत्रित करने के लिए एक विशेष राइनो संरक्षण बल स्थापित किया गया था।

15 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved