Search

19 June 2020 Hindi Current Affairs


19 जून : विश्व सिकल सेल दिवस

प्रतिवर्ष 19 जून को विश्व सिकल सेल दिवस मनाया जाता है, इसका उद्देश्य सिकल सेल रोग के बारे में जागरूकता फैलाना तथा इसके उपचार के तरीकों के बारे में लोगों को बताना है।

विश्व सिकल सेल दिवस

इस दिवस को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 2008 में मान्यता दी गयी थी, Sickle Cell Disease International Organization (SCDIO), कांगो गणराज्य, सेनेगल, अफ्रीकी संघ, यूनेस्को तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन इत्यादि ने इसका समर्थन किया। पहली बार 19 जून, 2009 को विश्व सिकल सेल दिवस मनाया गया था।

सिकल सेल रोग क्या है?

यह एक आम वंशानुगत समस्या है, यह हीमोग्लोबिन में पायी जाने वाली एक असामान्यता है। सामान्य अवस्था में लाल रक्त कणिकाएं गोलाकार होती है और उनका जीवनकाल 120 दिन तक होता है। परन्तु सिकल सेल रोग में लाल रक्त कणिकाओं का आकार हंसिये (एक किस्म का औज़ार) की तरह होता है, यह सख्त हो जाती है, इनका जीवनकाल मात्र 10-20 तक ही होता है।

संयुक्त राष्ट्र के अनुमान के अनुसार प्रतिवर्ष 5 लाख बच्चे सिकल सेल रोग के साथ पैदा होता है, उनमे से आधे बच्चे पांच वर्ष की आयु तक पहुँचने से पहले ही मर जाते हैं।


भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का गैर-स्थाई सदस्य चुना गया

भारत को हाल ही में आयरलैंड, मैक्सिको और नॉर्वे के साथ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में 2021-22 के लिए चुना गया है। भारत का कार्यकाल जनवरी 2021 से शुरू होगा। प्रत्येक वर्ष महासभा पांच गैर-स्थायी सदस्यों का चुनाव करती है, 10 कुल सीटों में से दो साल के लिए। हाल के चुनाव में, भारत ने 192 वैध वोटों में से 184 वोट हासिल किये। इससे पहले, भारत को सात कार्यकाल के लिए परिषद के गैर-स्थायी सदस्य के रूप में चुना गया था।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC)

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सबसे शक्तिशाली और संयुक्त राष्ट्र के छह प्रमुख अंगों में से एक है। संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा का संरक्षण इसकी प्राथमिक ज़िम्मेदारी है। इसमें वीटो की शक्ति वाले पांच स्थायी देशों सहित 15 सदस्य होते हैं। पांच स्थायी सदस्य चीन, फ्रांस, रूस, यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका हैं। 10 गैर-स्थायी सदस्य दो साल के लिए चुने जाते हैं। इसकी शक्तियों में शांति नियंत्रण संचालन की स्थापना, अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों की स्थापना, और यूएनएससी संकल्पों के माध्यम से सैन्य कार्रवाई के प्राधिकरण शामिल हैं। यह एक संयुक्त राष्ट्र निकाय है जिसके पास सदस्य राज्यों के बाध्यकारी प्रस्ताव जारी करने का अधिकार है।

यूएनएससी शांति के खिलाफ खतरे को निर्धारित करने और आक्रामकता का जवाब देने के लिए उत्तरदायी है। यह राज्यों के बीच संघर्ष या विवाद को सुलझाने के शांतिपूर्ण साधन खोजने के प्रयास भी करता है। यह संयुक्त राष्ट्र महासचिव की संयुक्त राष्ट्र महासभा नियुक्ति और संयुक्त राष्ट्र में नए सदस्यों के प्रवेश की भी सिफारिश करता है।


गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत 25 योजनाओं को एक साथ लाया जाएगा

इस योजना का लक्ष्य देश भर के ग्रामीण हिस्सों में ग्रामीण नागरिकों को आजीविका सहायता प्रदान करके, खासकर प्रवासी श्रमिकों के लिए आजीविका समर्थन प्रदान करने के कारण देश के ग्रामीण हिस्सों में होने वाले आर्थिक प्रभाव को कम करना होगा।

केंद्र सरकार ने गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत लगभग 25 योजनाओं को एक साथ लाकर देश भर के 116 जिलों में योजना के तहत लक्ष्य प्राप्त करने की योजना बनाई है।

यह योजना कैसे काम करेगी?

6 राज्यों (ओडिशा, मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड, राजस्थान, और उत्तर प्रदेश) के 116 जिलों से, कुल 6.7 मिलियन प्रवासी श्रमिकों (जो देश में कुल रिटर्निंग प्रवासी श्रमिकों का लगभग दो-तिहाई है) की मैपिंग की गई है।

इस योजना के तहत, सरकार की 25 योजनाओं में गृह निर्माण, घरों में नल कनेक्शन के माध्यम से पीने का पानी, सड़क निर्माण इत्यादि की योजनाएँ शामिल हैं। वापसी करने वाले प्रवासी कामगारों को इस योजना के तहत उनके कौशल के आधार पर काम दिया जाएगा।

योजना के लिए बजट

गरीब कल्याण रोज़गार अभियान मई, 2020 के महीने में केंद्र सरकार द्वारा घोषित 20 ट्रिलियन के राहत पैकेज का एक हिस्सा है।

बजट में वित्त मंत्री ने  देश के ग्रामीण क्षेत्रों में नए रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए 61,500 करोड़ रुपए की की घोषणा की थी। 18 जून, 2020 वित्त मंत्री ने घोषणा की है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में 50,000 करोड़ रुपए का संचार किया जाएगा।


आईआईटी गुवाहाटी ने विकसित की कम लागत वाली कोविड-19 डायग्नोस्टिक किट

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) गुवाहाटी ने गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (GMCH) और RR एनिमल हेल्थकेयर लिमिटेड के सहयोग से कोविड-19 के निदान के लिए स्थानीय बाजार में उपलब्ध सामग्री का उपयोग करके एक किट विकसित की है। 3 विभिन्न प्रकार के निदान कम लागत वाले किट विकसित किए गए हैं, वे रिबोन्यूक्लिक एसिड (आरएनए) आइसोलेशन किट, वायरल ट्रांसपोर्ट मीडिया (वीटीएम) किट, रियल-टाइम पॉलीमरेज़ चेन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर) टेस्ट किट हैं। किट के निर्माण के लिए उपयोग की जाने वाली सामग्री विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की सिफारिशों के अनुसार है।

वर्तमान में किट के दो बैचों को जीएमसीएच और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, असम को सौंप दिया गया है।

वीटीएम किट

ये किट परीक्षण के लिए प्रयोगशाला में सुरक्षित रूप से नमूना एकत्र करने के लिए उपयोग किए जाते हैं। यदि कोई भी वायरस नमूने में मौजूद है तो वीटीएम किट को नमूना सुरक्षित रखना पड़ता है, जब तक कि इसकी परीक्षण प्रक्रिया एक प्रयोगशाला में पूरी नहीं हो जाती, इसलिए सटीक परिणामों के लिए वीटीएम किट की गुणवत्ता महत्वपूर्ण है।

IIT गुवाहाटी में विकसित VTM किट को 72 घंटे तक प्रशीतित तापमान पर वायरस की व्यवहार्यता को संरक्षित करने में सक्षम है।

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने वीटीएम किट को इस्तेमाल करने के लिए सुरक्षित माना है।


रिलायंस बनी 150 बिलियन डॉलर के मूल्य वाली  पहली भारतीय कंपनी

मुंबई स्थित भारतीय बहुराष्ट्रीय कंपनी  रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) 19 जून, 2020 को 150 अरब डॉलर के मूल्य को छूने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गयी है। रिलायंस यह उपलब्धि हासिल करने आली पहली बार भारतीय कंपनी बन गयी है।

मुख्य बिंदु

कंपनी मार्च 2021 के अपने लक्ष्य से आगे शुद्ध ऋण-मुक्त हो गई है, इस घोषणा के बाद रिलायंस के शेयर में काफी तेज़ी देखी गयी।  31 मार्च, 2020 को रिलायंस का ऋण 161,035 करोड़ रुपए था। लॉकडाउन के बावजूद, 58 दिनों की अवधि में, रिलायंस इंडस्ट्रीज 168,818 करोड़ रुपये से अधिक जुटाने में कामयाब रही।

कंपनी के मौजूदा शेयरधारकों को 53,124.20 करोड़ रुपये के शेयर की पेशकश की गई थी।

शेष 115,693.95 करोड़ रुपये आरआईएल की सहायक कंपनी जिओ प्लेटफॉर्म में हिस्सेदारी बिक्री के 11 सौदों के माध्यम से जुटाए गए।

जिओप्लेटफार्मों में लगभग 24.70% हिस्सेदारी अब निम्नलिखित कंपनियों के स्वामित्व में है:

अमेरिका की कंपनी फेसबुक ने 43,574 करोड़ रुपये में 9.99% हिस्सेदारी खरीदी, यह सौदा भारत में किसी भी क्षेत्र में सबसे बड़ा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) है। अन्य कंपनियां अबू धाबी आधारित निवेश कंपनियां हैं- मुबाडाला और अबू धाबी निवेश प्राधिकरण। अमेरिका की कंपनियां- जनरल अटलांटिक, सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, केकेआर एंड कंपनी, टीपीजी कैपिटल और कैटरटन पार्टनर्स।

0 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved