Search

18th & 19th April | Current Affairs | MB Books


1. विश्व लीवर दिवस (World Liver Day) : 19 अप्रैल

विश्व लीवर दिवस (WLD) मानव शरीर में यकृत (लीवर) के बारे में जागरूकता और इसके महत्व के बारे में जानकारी बढाने के लिए हर साल 19 अप्रैल को मनाया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, भारत में लीवर की बीमारियां मृत्यु का 10वां सबसे आम कारण है।

यकृत (Liver) : यकृत मानव शरीर में अद्वितीय अंग है और पुनर्जनन की विशेष क्षमता है। यह दूसरा सबसे बड़ा अंग है और हमारे शरीर के पाचन तंत्र का प्रमुख अंग है। मानव जो कुछ भी उपभोग करता है वह यकृत से होकर गुजरता है। यह संक्रमण से लड़ता है, विषाक्त पदार्थों को निकालता है, कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है, रक्त शर्करा को नियंत्रित करता है, प्रोटीन बनाता है और पाचन में मदद करने के लिए पित्त का रिसाव करता है। यह देखा गया है कि 75% यकृत को सुरक्षित रूप से हटाया जा सकता है क्योंकि इसमें पुनर्जनन की क्षमता है। इसलिए, यकृत की देखभाल करने के लिए, किसी को स्वस्थ जीवन शैली अपनाने और प्रोटीन, अनाज, डेयरी उत्पाद, फल, सब्जियां और वसा का संतुलित आहार लेने की आवश्यकता होती है।


2. चीन-अमेरिका जलवायु परिवर्तन सहयोग

दुनिया के दो सबसे बड़े प्रदूषक चीन और अमेरिका जलवायु परिवर्तन के मुद्दों से निपटने के लिए मिलकर काम करने पर सहमत हुए हैं। उन्होंने हाल ही में एक संयुक्त बयान जारी किया कि वे पेरिस समझौते को बनाए रखने के लिए मिलकर काम करेंगे। यह घोषणा Earth Day Leaders Summit से पहले की है।

Earth Day Leaders Summit : अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाईडेन ने पीएम मोदी और राष्ट्रपति शी जिंगपिंग सहित 40 विश्व नेताओं को World Leaders Summit on Climate के लिए आमंत्रित किया है। यह शिखर सम्मेलन विश्व पृथ्वी दिवस यानी 22 अप्रैल को आयोजित किया जायेगा।

चीन के राष्ट्रीय रूप से निर्धारित लक्ष्य : चीन ने 2020 तक और 2030 तक प्राप्त करने के लिए NDC के लक्ष्य निर्धारित किए थे। वे इस प्रकार थे:

  • 2005 की तुलना में 2030 तक 60% और 65% के बीच गैर-जीवाश्म ईंधन की हिस्सेदारी को कम करना।

  • 2005 के स्तर की तुलना में 2020 तक वन में 5 बिलियन क्यूबिक मीटर और 2023 तक 6 बिलियन क्यूबिक मीटर की वृद्धि करना।

  • पवन और सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता को 2030 तक 1,200 GW बढ़ाया जायेगा।

  • दिसंबर 2020 में, चीनी राष्ट्रपति शी जिंगपिंग ने नए 2030 जलवायु लक्ष्य की घोषणा की। वे इस प्रकार थे:

  • 2030 तक सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 1,200 GW किया जायेगा।

  • 2060 तक कार्बन न्यूट्रलिटी का लक्ष्य रखा गया है।

अमेरिका के राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान :

  • 2005 की तुलना में 2025 तक ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को 26% से 28% तक कम करना।

  • अमेरिका 2020 में पेरिस समझौते से पीछे हट गया था।


3. रॉबर्टो बेनिगनी को मिला लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

निर्देशक रॉबर्टो बेनिगनी (Roberto Benigni) 78 वें वेनिस अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में लाइफटाइम अचीवमेंट के लिए गोल्डन लायन प्राप्त करेंगे, जो 1 से 11 सितंबर तक चलता है। आयोजकों ने दो बार के ऑस्कर विजेता अभिनेता-निर्देशक के बारे में खबर की पुष्टि की।

फिल्म निर्माता ने होलोकॉस्ट कॉमेडी-ड्रामा फिल्म लाइफ इज़ ब्यूटीफुल (1997) में अभिनय और निर्देशन किया था, जिसके लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (गैर-अंग्रेज़ी भाषी पुरुष प्रदर्शन के लिए पहला) और सर्वश्रेष्ठ अंतर्राष्ट्रीय फ़ीचर फ़िल्म के लिए अकादमी पुरस्कार मिले।

उन्हें आखिरी बार माटेओ गैरोन के लाइव-एक्शन पिनोचियो में देखा गया था, जिसके लिए उन्होंने डेविड डि डोनाटेलो पुरस्कार जीता था।


4. शरणार्थियों पर लगाईं गयी सीमा को समाप्त करेगा अमेरिका

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाईडेन ने मई 2021 तक शरणार्थियों पर लगाई गयी सीमा को हटाने की योजना बनाई है। पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शरणार्थियों पर सीमा निश्चित की थी। ट्रम्प ने पहले शरणार्थियों पर सीमा को 15,000 पर सेट किया था। यह अमेरिका के इतिहास में सबसे कम था।

मुख्य बिंदु : राष्ट्रपति जो बाईडेन ने हाल ही में शरणार्थियों की सीमा को 15,000 तक रखने के आदेश पर हस्ताक्षर किए। यह वही संख्या है जो ट्रम्प द्वारा प्रस्तावित है। यह अमेरिका में विवाद पैदा कर रहा है क्योंकि ट्रम्प प्रशासन की तुलना में बाईडेन ने शरणार्थियों की सीमा को चार गुना बढ़ाने का प्रस्ताव दिया था। बाईडेन को आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है कि वह अपने वादों को स्थगित कर रहे हैं।

बाईडेन के प्रस्ताव : बाईडेन ने पहले अमेरिकी कांग्रेस को प्रस्ताव दिया था कि वह शरणार्थियों की सीमा को बढ़ाकर 62,500 कर देंगे। उनके प्रस्ताव के तहत, अफ्रीका से शरणार्थियों के लिए 7,000, यूरोप और मध्य एशिया से 1,500, पूर्वी एशिया से 1,000, लैटिन अमेरिका से 3,000, दक्षिण एशिया से 1,500, लैटिन अमेरिका और कैरेबियन से 3,000 स्थान आरक्षित किए गए।

शरणार्थी संकट :

  • संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (United Nations Refugee Agency) के अनुसार, दुनिया में 5 मिलियन लोग जबरन विस्थापित हैं।इसमें 26 मिलियन शरणार्थी, 4.2 मिलियन शरण चाहने वाले, 3.6 मिलियन विदेश में विस्थापित वेनेजुएला के नागरिक, 45.7 मिलियन आंतरिक रूप से विस्थापित लोग शामिल हैं।

  • शरणार्थियों के शीर्ष स्रोत देशों में सीरिया, वेनेजुएला, अफगानिस्तान, दक्षिण सूडान और म्यांमार हैं।

  • लगभग 1% शरणार्थी संघर्ष या उत्पीड़न के कारण अपने घरों से भाग गए हैं।

5. माइक्रोसॉफ्ट ने $19.7 बिलियन के लिए एआई स्पीच टेक कंपनी नॉन्स खरीदी

माइक्रोसॉफ्ट ने लिंक्डइन के बाद अपना दूसरा सबसे बड़ा अधिग्रहण किया है। टेक दिग्गज ने एआई स्पीच टेक फर्म नॉन्स (Nuance) को 19.7 बिलियन डॉलर में खरीदा है। ​इस कदम से माइक्रोसॉफ्ट को आवाज पहचानने में मदद मिलेगी और यह स्वास्थ्य देखभाल बाजार में तेजी लाएगा।

नॉन्स अपने ड्रैगन सॉफ्टवेयर के लिए जाना जाता है, जो गहरी सीख का उपयोग करके भाषण को स्थानांतरित करने में मदद करता है। 2016 में, माइक्रोसॉफ्ट ने लिंक्डइन को $ 26 बिलियन में खरीदा था।

यह अधिग्रहण स्वास्थ्य और अन्य उद्योगों में नए क्लाउड और एआई क्षमताओं को वितरित करने के लिए समाधान और विशेषज्ञता को संयोजित करेगा, और माइक्रोसॉफ्ट की उद्योग-विशिष्ट क्लाउड रणनीति में नवीनतम चरण का प्रतिनिधित्व करेगा।

नॉन्स डिलीवरी के स्वास्थ्य सेवा बिंदु पर एआई परत प्रदान करता है और उद्यम एआई की वास्तविक दुनिया के अनुप्रयोग में अग्रणी है।

नॉन्स के उत्पादों में माइक्रोसॉफ्ट एज़ुर पर निर्मित सेवा के रूप में सॉफ्टवेर (SaaS) कई नैदानिक ​​भाषण मान्यता शामिल हैं। फर्म के समाधान कोर हेल्थकेयर सिस्टम के साथ काम करते हैं, और वर्तमान में अमेरिका के 77% अस्पतालों में उपयोग किए जाते हैं।


6. तुर्की ने क्रिप्टो मुद्रा भुगतान पर प्रतिबंध लगाया

सेंट्रल बैंक ऑफ तुर्की ने खरीद के लिए क्रिप्टो मुद्राओं के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, इसका बाद बिटकॉइन मुद्रा में 4% की गिरावट आई। बैंक ने इस प्रतिबंध के लिए संभावित अपूरणीय क्षति और लेनदेन के जोखिमों का हवाला दिया है।

इससे पहले मोरक्को ने भी इसी तरह का कदम उठाया था, और उम्मीद है कि भारत में भी ऐसा कदम उठाया जा सकता है।

मुख्य बिंदु : मार्च 2021 में, तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन (Erdogan) ने शीर्ष केंद्रीय बैंकर नासी अब्बल को बर्खास्त कर दिया था। इसने कई व्यापारियों को एक वैकल्पिक विधि के रूप में क्रिप्टो मुद्रा की ओर मुड़ने के लिए मजबूर किया। इससे तुर्की में क्रिप्टो मुद्रा बाजार की वृद्धि हुई। बिटकॉइन में 111% वृद्धि हुई और दूसरी सबसे बड़ी क्रिप्टो मुद्रा इथेरियम में 225% की वृद्धि हुई

हालांकि, प्रतिबंध के बाद बिटकॉइन में 4.6% की गिरावट आई थी। प्रतिबंध के बाद बिटकॉइन 60,333 डॉलर पर था।

नियम : क्रिप्टो मुद्रा के हालिया तुर्की के नियम मुख्य रूप से वस्तुओं और सेवाओं के लिए क्रिप्टो मुद्राओं का उपयोग करके भुगतान को लक्षित करते हैं। यह कंपनियों को इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर को संभालने से रोकता है जिसमें क्रिप्टो करेंसी प्लेटफॉर्म शामिल हैं।

पिछले वर्ष की तुलना में फरवरी, 2021 में क्रिप्टो मुद्राओं के खिलाफ उपभोक्ता शिकायतों में 8,616% की वृद्धि हुई।

तुर्की ने क्रिप्टो मुद्राओं को क्यों प्रतिबंधित किया? : तुर्की के अनुसार, तुर्की सरकार को क्रिप्टो मुद्रा बाजार में बाजार की अस्थिरता और अवैध गतिविधियों की निगरानी और नियंत्रण करना मुश्किल हो रहा था। इसके अलावा, वॉलेट में चोरी होने की सम्भावना काफी अधिक है।


7. Covid-19 में लोगों की मदद हेतु IFFCO लगा रहा ऑक्सीजन प्लांट

इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव (IFFCO) ने कोरोना संकट के बीच देश में ऑक्सीजन (Oxygen) की दिक्कत को देखते हुए एक अच्छी पहल की है। इफको (IFFCO) गुजरात के कलोल स्थित अपने कारखाने में 200 क्यूबिक मीटर प्रति घंटे की उत्पादन क्षमता वाला एक ऑक्सीजन प्लांट लगा रहा है।

इफको (IFFCO) यह ऑक्सीजन अस्पतालों को म़ुफ्त में देगा। इस कारखाने से तैयार होने वाले एक ऑक्सीजन सिलेंडर में 46.7 लीटर ऑक्सीजन होगी। मांग होने पर इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोआपरेटिव (IFFCO) के इस कारखाने से हर दिन 700 बड़े डी टाइप और 300 मीडियम बी टाइप सिलेंडर में मेडिकल ग्रेड के ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाएगी।

अस्पतालों को मुफ्त में होगी सप्लाई : यह ऑक्सीजन अस्पतालों को मुफ्त में मुहैया किया जाएगा। यही नहीं, IFFCO महामारी में देश की मदद के लिए ऐसे तीन और प्लांट स्थापित करेगा।

आपूर्ति कैसे होगी? : अस्पतालों को इसके लिए अपना खाली सिलेंडर भेजना होगा। यदि कोई अस्पताल अपना सिलेंडर नहीं भेजता है तो उसे सिलेंडर के लिए एक सिक्योरिटी राशि जमा करनी होगी। सिलेंडर की कुछ अस्पताल जमाखोरी न कर लें उसके लिए यह व्यवस्था बनाई गई है। IFFCO के एमडी एवं सीईओ डॉ. यू.एस. अवस्थी ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।

ऑक्सीजन सिलेंडर की भारी किल्लत : गौरतलब है कि कोविड-19 के मरीजों के लिए बेहद उपयोगी ऑक्सीजन सिलेंडर की देश में भारी दिक्कत देखी जा रही है। इसे दूर करने के लिए सरकारी और गैर सरकारी दोनों स्तर से प्रयास जारी हैं। कुछ दिनों पहले रिलायंस इंडस्ट्रीज ने भी गुजरात के अपने प्लांट से 100 टन ऑक्सीजन महाराष्ट्र सरकार को भेजी थी।

बीपीसीएल ने क्या कहा? : सरकारी कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने भी कहा कि वह अपने कोच्चि स्थित रिफाइनरी से केरल के लिए चिकित्सकीय ऑक्सीजन की सप्लाई करेगा, ताकि कोविड-19 के गंभीर मरीजों का समुचित इलाज हो सके।

प्रतिदिन 1.5 टन ऑक्सीजन : बीपीसीएल का कहना है कि वह प्रतिदिन 1.5 टन ऑक्सीजन कोच्चि के सरकारी अस्पतालों को देगी। इंडस्ट्री के अनुमानों के अनुसार देश में फिलहाल लगभग 7,200 मीट्रिक टन (MT) ऑक्सीजन का डेली उत्पादन होता है।


8. अपनी पहली भुगतान कार्यक्षमता के लिए RBL बैंक ने की मास्टरकार्ड से साझेदारी

RBL बैंक और मास्टरकार्ड ने मोबाइल आधारित उपभोक्ता-अनुकूल भुगतान समाधान 'पे बाय बैंक ऐप (Pay by Bank App)’ लॉन्च करने के लिए अपनी साझेदारी की घोषणा की है, जो भारत में अपनी तरह की पहली भुगतान कार्यक्षमता है।

RBL बैंक खाताधारक, अब अपने मोबाइल बैंकिंग एप्लिकेशन के माध्यम से इन-स्टोर और ऑनलाइन दोनों से दुनिया भर में संपर्क रहित लेनदेन का आनंद ले सकते हैं। यह कार्यक्षमता दुनिया भर में व्यापारियों को स्वीकार करने वाले सभी मास्टरकार्ड पर उपलब्ध होगी, जो संपर्क रहित और ऑनलाइन भुगतान स्वीकार करते हैं।

बढ़ी हुई सुरक्षा प्रदान करने के लिए, 'पे बाय बैंक ऐप’ यह सुनिश्चित करता है कि बैंक ग्राहक की भुगतान साख कभी भी व्यापारी के सामने न आये, जिससे लेन-देन पूरी तरह से सुरक्षित हो।

ग्राहकों को मास्टरकार्ड उपभोक्ता संरक्षण लाभ मिलता रहेगा, जो वर्तमान में उन्हें अपने डेबिट कार्ड पर मिलता है।


9. ECLGS योजना में स्वास्थ्य क्षेत्र को शामिल किया गया

वित्त मंत्रालय ने हाल ही में आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना (Emergency Credit Line Guarantee Scheme) के दायरे को बढ़ाकर 3 लाख करोड़ रुपये कर दिया है। इसका उद्देश्य देश में तनावग्रस्त कंपनियों को राहत देना है। इसमें मुख्य रूप से पर्यटन, आतिथ्य, यात्रा और खेल क्षेत्र में व्यावसायिक उद्यम शामिल हैं।

नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कंपनी ECLGS स्कीम की गारंटी प्रदाता है।

मुख्य बिंदु : इस योजना का विस्तार स्वास्थ्य देखभाल और अन्य तनावग्रस्त क्षेत्र की कंपनियों के लिए किया गया है, जिनके पास 60 दिन (SMA-1 accounts) तक ऋण बकाया है। तीनों ECLGS की वैधता यानि ECLGS 1.0, ECLGS 2.0 और ECLGS 3.0 को जून, 2021 तक बढ़ाया गया है।

SMA खाते क्या हैं? : SMA खाते का अर्थ Special Mention Accounts हैं। इन खातों में उत्तेजित तनाव के लक्षण दिखाई देते हैं। SMA खाते जिनके भुगतान आंशिक रूप से या 1-30 दिनों के लिए पूर्ण अतिदेय (overdue ) होते हैं, SMA-0 खाते कहलाते हैं। जिन SMA खातों में 31-60 दिनों के लिए अतिदेय भुगतान होता है, उन्हें SMA-1 खाता कहा जाता है।

SMA खाते जिनके पास 61-90 दिनों के लिए भुगतान अतिदेय हैं, SMA-2 खाते हैं।

ECLGS : इस योजना को आत्मनिर्भर भारत अभियान (Atma Nirbhar Bharat Abhiyan) के एक भाग के रूप में शुरू किया गया था। इस योजना का मुख्य उद्देश्य COVID-19 प्रेरित लॉक डाउन के कारण होने वाले संकट को कम करना है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य MSMEs पर निर्भर लोगों की आजीविका को आसान बनाना है।

ECLGS 1.0 : यह MSMEs, MUDRA उधारकर्ताओं और व्यावसायिक उद्यमों को संपार्श्विक मुक्त और अतिरिक्त क्रेडिट प्रदान करता है। यह MUDRA उधारकर्ताओं को उनके क्रेडिट बकाया के 20% की सीमा तक अतिरिक्त ऋण प्रदान करता है। इसके अलावा, यह 25 करोड़ रुपये के बकाया के साथ एमएसएमई को अतिरिक्त क्रेडिट प्रदान करता है। हालांकि, केवल 100 करोड़ रुपये से अधिक टर्नओवर वाले एमएसएमई पात्र हैं।

ECLGS 2.0 : कामथ समिति (Kamath Committee) ने 26 तनावग्रस्त क्षेत्रों की पहचान की थी। ECLGS योजना को इन क्षेत्रों में ECLGS 2.0 के रूप में विस्तारित किया गया था। इसने मुख्य रूप से 50 करोड़ रुपये और 500 करोड़ रुपये के बीच बकाया ऋण के साथ स्वास्थ्य देखभाल क्षेत्र में इकाइयों पर ध्यान केंद्रित किया।

ECLGS 3.0 : यह हाल ही में शुरू की गई योजना है। इसने कुल बकाया ऋण के 40% क्रेडिट को बढ़ाया है।


10. 2021 में रिलीज़ होगी सुरेश रैना की आत्मकथा 'Believe'

'बिलीव- व्हाट लाइफ एंड क्रिकेट टॉट मी (Believe - What Life and Cricket Taught Me)' नामक सुरेश रैना (Suresh Raina) की बहुप्रतीक्षित आत्मकथा, मई 2021 में रिलीज़ के लिए तैयार है। यह पुस्तक रैना और खेल लेखक भरत सुंदरसन (Bharat Sundaresan) द्वारा सह-लेखित है, यह जीवनी प्रतिष्ठित प्रकाशन हाउस पेंगुइन इंडिया द्वारा प्रकाशित की जाएगी।

इस पुस्तक में, सुरेश रैना भारतीय क्रिकेट टीम में उनकी तेजी से बढ़त और रिकॉर्ड तोड़ बल्लेबाज बनने के रास्ते में आईं चुनौतियों के बारे में बताएँगे। ​पुस्तक से यूपी में एक उभरते हुए क्रिकेटर के रूप में रैना के शुरुआती दिनों की कहानी के बारे में भी जानने को मिलेगा।


11. इटली ने भारत में पहला फूड पार्क लांच किया

इटली ने हाल ही में भारत में पहला “मेगा फूड पार्क” लांच किया जिसमें खाद्य प्रसंस्करण सुविधाएं शामिल हैं। यह देश में शुरू की गई पहली इतालवी-भारतीय खाद्य पार्क परियोजना है।

परियोजना के बारे में :

  • इस परियोजना का नाम “मेगा फूड पार्क” (Mega Food Park) है।

  • इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य कृषि और उद्योग के बीच इंटरेक्शन विकसित करना है।

  • साथ ही, यह परियोजना क्षेत्र में कुशल प्रौद्योगिकियों के अनुसंधान और विकास पर ध्यान केंद्रित करेगी।

  • इसे एक विशेष प्रयोजन वाहन (Special Purpose Vehicle) द्वारा लागू किया जायेगा।

  • यह कृषि उत्पादन और बाजारों को जोड़ेगा।यह प्रोसेसर, किसानों और खुदरा विक्रेताओं को एक साथ लाकर, मूल्य वृद्धि को अधिकतम करने, किसानों की आय बढ़ाने, अपव्यय को कम करने और रोजगार के अवसर पैदा करने में मदद करेगा।

भारत में मेगा फूड पार्क योजना (Mega Food Park Scheme in India) :

  • मेगा फूड पार्क खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित योजना है।इस योजना का मुख्य उद्देश्य खेतों से प्रसंस्करण और उपभोक्ता बाजारों तक सीधे संपर्क स्थापित करना है।

  • इस योजना का उद्देश्य वैश्विक खाद्य व्यापार में भारत की हिस्सेदारी को कम से कम 3% बढ़ाना है।

  • इस योजना के तहत, भारत सरकार प्रत्येक फूड पार्क को 50 करोड़ रुपये प्रदान करती है।

  • इस योजना का लक्ष्य लगभग 30 से 35 खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों को लागू करना है।

  • इसने प्रत्येक फूड पार्क से 400 से 500 करोड़ रुपये का टर्नओवर और कम से कम 30,000 का रोजगार सृजन करने का लक्ष्य रखा है।

  • अब तक छह चरणों में 42 मेगा फूड पार्क स्वीकृत किए गए हैं।

  • प्रत्येक मेगा फूड पार्क का लक्ष्य कम से कम 25,000 किसानों को जोड़ना है।

12. CBI के पूर्व प्रमुख रंजीत सिन्हा का निधन

केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा (Ranjit Sinha) का निधन हो गया है। वह बिहार कैडर के 1974 बैच के आईपीएस अधिकारी थे, जिन्होंने 3 दिसंबर 2012 से 2 दिसंबर 2014 तक सीबीआई निदेशक के रूप में कार्य किया।

CBI निदेशक के रूप में नियुक्त होने से पहले, सिन्हा ने भारत-तिब्बत सीमा पुलिस बल (ITBP) के महानिदेशक, रेलवे सुरक्षा बल तथा पटना और दिल्ली में CBI के कई अन्य वरिष्ठ पदों पर काम किया था।


13. पूर्व केंद्रीय मंत्री बच्ची सिंह रावत का निधन

पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता बच्ची सिंह रावत का रविवार को यहां एम्स में निधन हो गया। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश के चिकित्सा अधीक्षक बीएस बस्तिया ने रावत के निधन की पुष्टि की। रावत को सांस लेने में शिकायत के बाद शनिवार को एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया था। वह 71 साल के थे।

उन्हें हल्द्वानी से एयर एंबुलेंस के जरिए एम्स ऋषिकेश लाया गया था जहां उन्हें तुरंत आपातकालीन वार्ड में ले जाकर उपचार शुरू किया गया था। शुरुआती जांच में उनके फेफड़ों में संक्रमण का पता चला था। बच्ची सिंह रावत अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ क्षेत्र से 4 बार सांसद रहे थे और लगातार तीन बार उन्होंने कांग्रेस के दिग्गज नेता तथा पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को चुनाव में पटखनी दी थी। वरिष्ठ भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी के करीबी माने जाने वाले रावत अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में विज्ञान और प्रोद्यौगिकी राज्य मंत्री रहे थे।


14. प्रसिद्ध रेडियोलॉजिस्ट डॉ. ककरला सुब्बा राव का निधन

प्रसिद्ध रेडियोलॉजिस्ट, डॉ ककरला सुब्बा राव (Dr Kakarla Subba Rao), जिन्होंने निज़ाम के इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज (NIMS), हैदराबाद के पहले निदेशक के रूप में कार्य किया था, उनका निधन हो गया है। ​

चिकित्सा के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारत सरकार द्वारा राव को 2000 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।

वह संयुक्त राज्य अमेरिका में तेलुगु भाषी लोगों के लिए एक छाता संगठन, तेलुगु एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका (TANA) के संस्थापक अध्यक्ष थे।


15. हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार नरेंद्र कोहली का निधन

देश के जाने-माने लेखक- साहित्यकार डॉ नरेंद्र कोहली का निधन हो गया। उन्होंने शनिवार शाम 6 बजकर 40 मिनट पर अंतिम सांस ली। कोरोना से संक्रमित होने के कारण उन्‍हें दिल्ली के सेंट स्टीफंस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने पौराणिक कहानी के आधेर पर अभ्युदय, युद्ध, वासुदेव, अहल्या, जैसे प्रसिद्ध किताबें लिखी थी। नरेंद्र कोहली को पद्म भूषण पुरस्कार मिला था। डॉ. नरेंद्र कोहली हिंदी जगत में सबसे अधिक रॉयल्टी पाने वाले लेखक थे। उनके निधन पर साहित्यप्रेमियों में शोक की लहर है। नरेंद्र कोहली ने महाभारत और रामायण जैसे महाकाव्यों की कहानियों और उनके किरदारों को नए कलेवर में हिंदी साहित्य जगत के लिए पेश किया है।

सम्‍मान : नरेंद्र कोहली को पद्मश्री सम्मान, व्यास सम्मान, शलाका सम्मान, पंडित दीनदयाल उपाध्याय सम्मान, अट्टहास सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है।

नरेन्द्र कोहली ने साहित्य की सभी प्रमुख विधाओं (उपन्यास, व्यंग्य, नाटक, कहानी) एवं गौण विधाओं (संस्मरण, निबन्ध, पत्र आदि) और आलोचनात्मक साहित्य में अपनी लेखनी चलाई। हिन्दी साहित्य में ‘महाकाव्यात्मक उपन्यास’ की विधा को प्रारम्भ करने का श्रेय नरेन्द्र कोहली को ही जाता है। पौराणिक एवं ऐतिहासिक चरित्रों की गुत्थियों को सुलझाते हुए उनके माध्यम से आधुनिक समाज की समस्याओं एवं उनके समाधान को समाज के समक्ष प्रस्तुत करना नरेन्द्र कोहली की अन्यतम विशेषता थी। नरेन्द्र कोहली सांस्कृतिक राष्ट्रवादी साहित्यकार थे, जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से भारतीय जीवन-शैली एवं दर्शन का सम्यक् परिचय करवाया।





  • Source of Internet