Search

17th November | Current Affairs | MB Books


1. 17 नवंबर: राष्ट्रीय मिर्गी दिवस

हर साल, 17 नवंबर को राष्ट्रीय मिर्गी दिवस मनाया जाता है। मिर्गी के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए यह दिवस मनाया जाता है

मिर्गी क्या है?

मिर्गी एक मस्तिष्क विकार है। इसके कारण बार-बार दौरे पड़ते हैं। मस्तिष्क की कोशिकाओं या न्यूरॉन्स में अचानक और अत्यधिक निर्वहन होने के कारण यह दौरे पड़ते हैं। इस बीमारी का निदान तब किया जा सकता है जब व्यक्ति को कम से कम एक बार दौरा पड़ चुका हो। ज्यादातर मिर्गी उन रोगियों में होती है जो 65 वर्ष से अधिक। बच्चे भी इससे काफी प्रभावित होते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया में लगभग 50 मिलियन लोग मिर्गी से पीड़ित हैं। उनमें से 80% विकासशील देशों से हैं। इस बीमारी का इलाज है। हालांकि, विकासशील देशों में अधिकांश मिर्गीके रोगियों को उचित उपचार नहीं मिलता है।

भारत में, 10 मिलियन से अधिक मिर्गी से पीड़ित हैं।

मिर्गी परडब्लूएचओ की रिपोर्ट

यह रिपोर्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन, इंटरनेशनल ब्यूरो ऑफ़ एपिलेप्सी और इंटरनेशनल लीग अगेंस्ट एपिलेप्सी द्वारा जारी की गई थी। इस रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्ष इस प्रकार हैं:

निम्न-आय और मध्यम-आय वाले देशों में, मिर्गी वाले लोगों की शुरुआती मृत्यु उच्च आय वाले देशों की तुलना में अधिक होती है।

कम आय वाले देशों में मिर्गी के लगभग 75% रोगियों की अकाल मृत्यु का खतरा होता है।यह मुख्य रूप से एंटी-सीजर दवाओं की कमी के कारण है।

मिर्गी का उपचार अंतराल बहुत अधिक है।मिर्गी से पीड़ित लगभग 70% लोग दवाओं के लिए उचित उपयोग से ‘दौरे’ से निजात पा सकते हैं। दवा की लागत बहुत कम है। मुद्दा यह है कि या तो बीमारी की पहचान नहीं है या दवाइयां उपलब्ध नहीं हैं।

मिर्गी के शिकार आधे वयस्कों में चिंता और अवसाद होता है।ये स्वास्थ्य स्थितियां मिर्गी को और ख़राब बनाती हैं। मिर्गी से प्रभावित बच्चे सीखने में कठिनाई का अनुभव करते हैं।


2. डॉ. हर्षवर्धन ने 8 वीं ब्रिक्स STI मंत्रिस्तरीय बैठक में लिया हिस्सा

ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका यानि ब्रिक्स समूह के विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार मंत्रिस्तरीय की 8 वीं बैठक वर्चुअल माध्यम से सदस्य देशों के बीच विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के सहयोग पर आयोजित की गई।

इस बैठक की अध्यक्षता रूस ने की (रूस 12 वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का अध्यक्ष है)।

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का प्रतिनिधित्व किया

बैठक ब्रिक्स STI घोषणा-पत्र 2020 को अपनाने के साथ संपन्न हुई। बैठक के दौरान, डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि "कोविड-19 महामारी का दौर इम्तिहान का रहा है, जो यह दर्शाता है कि, ऐसी वैश्विक चुनौतियों से पार पाने के लिए बहुपक्षीय सहयोग काफी महत्वपूर्ण है"

उन्होंने दोहराया कि "भारत 2020-21 के ब्रिक्स एसटीआई कैलेंडर के कार्यान्वयन में सक्रिय रूप से अपना योगदान देगा और विज्ञान, प्रौद्योगिकी तथा नवाचार पर ब्रिक्स समझौता ज्ञापन के तहत निरंतर वैज्ञानिक गतिविधियों का समर्थन करता रहेगा"।


3. चुनाव आयोग ने सोनू सूद को बनाया पंजाब का स्टेट आइकॉन

भारतीय चुनाव आयोग ने फिल्म अभिनेता सोनू सूद को पंजाब राज्य का स्टेट आइकॉन चुना है।

उल्लेखनीय है कि हाल ही सोनू ने बिहार में संपन्न विधानसभा चुनाव के लिए लोगों से अपील की थी कि वे अपने मतदाता का धर्म निभाएं और आगे आएं।

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ने कोरोना काल में लोगों की काफी मदद की है। प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाना हो या फिर विदेश में फंसे छात्रों का सहारा बनना। लॉकडाउन के दौरान लोगों के लिए मसीहा बन चुके सोनू सूद अब भी कई लोगों की मदद कर रहे हैं।


4. सादत रहमान ने जीता इंटरनेशनल चिल्ड्रन पीस प्राइज 2020

बांग्लादेश के सादत रहमान को प्रतिष्ठित इंटरनेशनल चिल्ड्रन पीस प्राइज यानि अंतर्राष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार 2020 से सम्मानित किया गया है।

उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित साइबरबुलिसिंग को रोकने के लिए उनके द्वारा स्थापित सामाजिक संगठन और मोबाइल ऐप ‘Cyber Teens’ को विकसित करने में उनकी भागीदारी के लिए किया गया है।

17 वर्षीय सादत को यह पुरस्कार नीदरलैंड्स में आयोजित एक समारोह के दौरान नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई द्वारा प्रदान किया गया।

उन्हें 42 देशों से मिले 142 आवेदकों में से चुना गया।

नीदरलैंड्स के एम्स्टर्डम स्थित बच्चों के अधिकार के लिए काम करने वाले संगठन KidsRights द्वारा वर्ष 2005 से प्रतिवर्ष अंतर्राष्ट्रीय बाल शांति पुरस्कार दिया जाता है।

यह प्रतिष्ठित पुरस्कार सालाना उस बच्चे को दिया जाता है, जिसने बच्चों के अधिकारों को बढ़ावा देने और कमजोर बच्चों की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए विशेष प्रयास किया हो।


5. पश्चिम बंगाल में शुरू की गई बच्चों के लिए दुनिया की पहली ट्राम लाइब्रेरी

पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बाल दिवस के अवसर पर दुनिया का अपनी तरह पहला बच्चों के लिए ट्राम पुस्तकालय शुरू किया गया ।

ट्राम एक प्रकार रेल वाहन है जो सार्वजनिक सड़कों पर ट्रामवे पटरियों पर चलता है।

ट्राम श्यामबाजार-एस्पलेनैड और एस्पलेनैड-गरियाहाट रूट पर चलेगी, जो सुबह से शाम तक हर दिन उत्तर और दक्षिण कोलकाता में जाएगी।

इसे पश्चिम बंगाल परिवहन निगम (West Bengal Transport Corporation) और एपीजे आनंद चिल्ड्रन्स लाइब्रेरी द्वारा संयुक्त रूप से तैयार किया गया है, जिसमें लगभग 1,000 किताबें होंगी।


6. CREW1 मिशन : चार अंतरिक्षयात्रियों को अन्तरिक्ष में लांच किया गया

16 नवम्बर स्पेसएक्स के क्रू ड्रैगन अंतरिक्ष यान को मिशन क्रू-1 के तहत लांच किया गया। यह अंतरिक्ष यान चार लोगों के दल को 6 महीने के लंबे मिशन के लिए अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) तक ले जाएगा।

इस मिशन से ठीक पहले, नासा ने स्पेसएक्स के क्रू ड्रैगन कैप्सूल और फाल्कन 9 रॉकेट को प्रमाणित करके अपना पहला अंतरिक्ष यान प्रमाणन भी प्रदान किया है। इस प्रमाणीकरण के बाद, स्पेसएक्स अब अंतरिक्ष स्टेशन के लिए नियमित उड़ानें संचालित करने में सक्षम होगा।

पृष्ठभूमि

नासा ने सितंबर 2014 में अमेरिका से आईएसएस में चालक दल को स्थानांतरित करने के लिए परिवहन प्रणालियों को विकसित करने के लिए बोइंग और स्पेसएक्स का चयन किया था। नासा वेबसाइट के अनुसार, ये अंतरिक्ष यान नासा मिशन पर 4 अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।

मई 2020 में, नासा ने ISS के लिए स्पेसएक्स डेमो-2 परीक्षण उड़ान को लांच किया था।यह 2011 में अंतरिक्ष शटल युग के समापन के बाद अमेरिका से लॉन्च करने वाली पहली क्रू फ्लाइट बन गई।

क्रू-1 मिशन

क्रू-1 मिशन नासा के वाणिज्यिक क्रू कार्यक्रम का एक हिस्सा है।

इस मिशन का उद्देश्य लागत के संदर्भ में अंतरिक्ष तक पहुंच को आसान बनाना है, ताकि कार्गो और चालक दल को आसानी से आईएसएस तक ​​पहुंचाया जा सके और अधिक से अधिक वैज्ञानिक अनुसंधान को सक्षम बनाया जा सके।

क्रू-1 मिशन कैनेडी स्पेस सेंटर में लॉन्च कॉम्प्लेक्स 39 ए से नासा के अंतरिक्ष यात्रियों शैनन वॉकर, माइकल हॉपकिंस, विक्टर ग्लोवर और सोइची नोगुची को लॉन्च करेगा।

क्रू-1 एक्सपीडिशन 64 के सदस्यों में शामिल हो जाएगा।

क्रू-1 ISS के लिए एक फाल्कन 9 रॉकेट पर स्पेसएक्स क्रू ड्रैगन अंतरिक्ष यान की पहली परिचालन उड़ान होगी।यह 2020-2021 में निर्धारित 3 अनुसूचित उड़ानों में से पहली है।

ISS में क्रू –1 सदस्य क्या करेंगे?

क्रू-1 टीम एक्सपीडिशन 64 सदस्यों में शामिल हो जाएगी और माइक्रोग्रैविटी अध्ययन का संचालन करेगी, नए विज्ञान हार्डवेयर और प्रयोग करेगी जो वे अपने साथ ले जाएंगे। इसमें भोजन, प्रतिक्रिया क्षमता जैसी विभिन्न चीज़ों के बारे में भी शोध किया जायेगा।


7. लुईस हैमिल्टन ने जीती F1 तुर्की ग्रैंड प्रिक्स 2020

लुईस हैमिल्टन (मर्सिडीज-ग्रेट ब्रिटेन) ने तुर्की के इस्तांबुल पार्क में आयोजित तुर्की ग्रैंड प्रिक्स 2020 में जीत हासिल की है।

इस रेस में सर्जियो पेरेज (रेसिंग प्वाइंट-BWT- मैक्सिको) ने दूसरा स्थान हासिल किया जबकि फेरारी के सेबेस्टियन वेटल तीसरे स्थान पर रहे।

यह हैमिल्टन की इस सत्र की 10 वीं जीत और उनके करियर की 94 वीं F1 जीत थी।

अपने करियर की सातवीं फॉर्मूला वन चैम्पियनशिप खिताब के साथ, उन्होंने माइकल शूमाकर के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है।


8. नीतीश कुमार बने बिहार के मुख्यमंत्री

16 नवंबर, 2020 को जनता दल के अध्यक्ष नीतीश कुमार को लगातार चौथे कार्यकाल के लिए बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। मुख्यमंत्री की नियुक्ति राज्यपाल द्वारा की जाती है।

मुख्यमंत्री को नियुक्त किया जाता है या चुना जाता है?

भारत में मुख्यमंत्रियों और प्रधानमंत्रियों की नियुक्ति क्रमशः राज्यपाल और राष्ट्रपति द्वारा की जाती है। दूसरी ओर, विधानसभा के सदस्य और संसद सदस्य लोगों द्वारा चुने जाते हैं। अनुच्छेद 164 के अनुसार, मुख्यमंत्री की नियुक्ति राज्यपाल द्वारा की जाती है।

मुख्यमंत्री की शक्तियाँ क्या हैं?

राज्यपाल के सन्दर्भ मुख्यमंत्री की शक्तियाँ निम्नलिखित हैं :

  • राज्य लोक सेवा आयोग, अटॉर्नी जनरल, आदि की नियुक्ति पर मुख्यमत्री राज्यपाल को सलाह देता है।

  • जब भी राज्यपाल जानकारी मांगता है तो मुख्यमंत्री को प्रशासन के संबंध में विवरण प्रदान करना होता है।

  • मुख्यमंत्री को मंत्रिपरिषद के फैसलों के बारे में राज्यपाल से संवाद करना होता है।

  • राज्य विधानमंडल के संबंध में मुख्यमंत्री की शक्तियाँ निम्नलिखित हैं :

  • विधानसभा को भंग करने की सिफारिश मुख्यमंत्री द्वारा की जाती है।

  • वह राज्यपाल को विधान सभा के सत्रों को बुलाने, स्थगित करने के लिए सलाह देता है।

मंत्रिपरिषद के संबंध में मुख्यमंत्री की शक्ति :

  • वह मंत्रियों के बीच विभागों का आवंटन और फेरबदल करता है

  • वह राज्यपाल को मंत्रियों की नियुक्ति पर सलाह देता है।

  • जब मतभेद की स्थिति पैदा होती है, तो मुख्यमंत्री मंत्री को इस्तीफा देने के लिए कह सकते हैं।

  • जब मुख्यमंत्री इस्तीफा देते हैं, तो मंत्रियों के मंत्रिमंडल को अनिवार्य रूप से इस्तीफा देना पड़ता है।

  • वह सभी मंत्रियों की गतिविधियों का निर्देशन और नियंत्रण करता है।

मुख्यमंत्री के रूप में किसे नियुक्त किया जाता है?

राज्य विधानसभा चुनावों के बाद, एक गठबंधन समूह जो सदन में बहुमत हासिल करता है, अपने नेता का चुनाव करता है। इससे राज्यपाल को अवगत कराया जाता है और वह उन्हें मुख्यमंत्री नियुक्त करते हैं। जब किसी भी पार्टी ने चुनाव में बहुमत हासिल नहीं किया है, तो राज्यपाल राज्य में सबसे बड़ी पार्टी के नेता को सरकार बनाने के लिए कहते हैं।


9. प्रख्यात पत्रकार और लेखक रवि बेलगेरे का निधन

प्रख्यात पत्रकार और लेखक रवि बेलगेरे (Ravi Belagere) का निधन। वह कर्नाटक से थे। वह अपराध की दुनिया में लेखन के लिए प्रसिद्ध थे और उसका लेख ‘Paapigala Lokadalli’ बहुत लोकप्रिय था।

बेलागेरे को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया, जिसमें कर्नाटक साहित्य अकादमी पुरस्कार, कन्नड़ राज्योत्सव पुरस्कार, कर्नाटक मीडिया अकादमी पुरस्कार और कई अन्य शामिल हैं।

शिक्षाविद् बेलागेरे के शव को उनके स्कूल प्रथाना स्कूल ले जाया गया, जहां उनके शव को क्रियाक्रम के लिए ले जाने से पहले जनता के लिए दर्शन के लिए रखा गया।

उन्होंने गैंगस्टरों के वास्तविक जीवन की कहानी पर पुस्तक लिखी, जिसका शीर्षक Bheema Theerada Hanthakaru था, जो 2001 में प्रकाशित हुआ था और एक बेस्टसेलर बुक थी।


10. DIPAM ने परिसंपत्तियों के मुद्रीकरण से जुड़ी सलाहकारी सेवाओं हेतु विश्व बैंक के साथ समझौता किया

निवेश और लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) ने 16 नवंबर 2020 को विश्व बैंक के साथ समझौता किया। समझौते के तहत विश्व बैंक, डीआईपीएएम को परिसंपत्तियों के मुद्रीकरण के लिए सलाहकारी सेवाएं देगा। डीआईपीएएम मुख्य रूप से भारत सरकार के विनिवेश कार्यक्रम को संभालती है।

विनिवेश विभाग डीआईपीएएम को रणनीतिक विनिवेश कार्यक्रम के तहत सेंट्रल पब्लिक सेक्टर एंटरप्राइजेज (सीपीएसई) की नॉन-कोर परिसंपत्तियों का मोनेटाइजेशन करने की जिम्मेदारी दी गई है। सरकार ने चालू वित्त वर्ष में विनिवेश से 2.10 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है। सरकार का इरादा केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (सीपीएसई) में हिस्सेदारी बिक्री से 1.20 लाख करोड़ रुपये तथा वित्तीय संस्थानों में हिस्सेदारी बिक्री से 90,000 करोड़ रुपये जुटाने का है।

डीआईपीएएम: विश्व बैंक की सलाहकार परियोजना

• डीआईपीएएम और विश्व बैंक के बीच हुए समझौते के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय बैंक अपनी सलाहकार परियोजना के तहत परिसंपत्ति मुद्रीकरण के लिए अपनी सलाहकार सेवाएं प्रदान करेगा।

• डीआईपीएएम, विनिवेश प्रक्रिया के तहत भारत सरकार के सार्वजनिक उपक्रमों के नॉन कोर एसेट (गैर जरूरी परिसंपत्तियों) और शत्रु संपत्तियों की (100 करोड़ रुपये या उससे ज्यादा की मूल्य वाली) बिक्री की जिम्मेदारी संभालता है।

• विश्व बैंक की सलाहकार परियोजना भारत में सार्वजनिक परिसंपत्ति मुद्रीकरण का विश्लेषण करेगी और सर्वोत्तम अंतरराष्ट्रीय प्रथाओं के खिलाफ अपने संस्थागत मॉडल को बेंचमार्क करेगी।

• इस परियोजना का उद्देश्य परिचालन दिशानिर्देशों के विकास और इसके कार्यान्वयन के लिए क्षमता निर्माण का समर्थन करना है।

• सलाहकार परियोजना भारत में गैर-मुख्य परिसंपत्ति मुद्रीकरण प्रक्रिया को तेज करने में मदद करेगी।

• वित्त मंत्रालय द्वारा विश्व बैंक के सलाहकारी प्रोजेक्ट की स्वीकृत दी गई है जिसका उद्देश्य भारत में मौजूद सार्वजनिक परिसंपत्तियों का मूल्यांकन करना है।

• साथ ही उनके लिए अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर दिशा-निर्देश तैयार करना है। जो कि संस्थाओं और विभिन्न बिजनेस मॉडल के लिए मानक के रूप में काम करेंगे जिससे कि संस्थाओं की कार्यक्षमता में बढ़ोतरी हो सके।

• इस प्रोजेक्ट के जरिए केंद्र सरकार के सार्वजनिक उपक्रमों की गैर-जरूरी परिसंपत्तियों के विनिवेश प्रक्रियाओं को शुरू कर उसमें तेजी लाना है जिससे कि परिसंपत्तियों का बेहतर मूल्यांकन हो सके। साथ ही विनिवेश के तहत मिली पूंजी का नए निवेश और विकास के लिए इस्तेमाल किया जा सके।

निवेश और लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) क्या है?

निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग का उद्देश्य विनिवेश के माध्यम से अपनी समृद्धि में साझा करने के लिए केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों के लोगों के स्वामित्व को बढ़ावा देना है। इसका उद्देश्य आर्थिक विकास में तेजी लाने और उच्च व्यय के लिए सरकार के संसाधनों को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए सीपीएसई में सार्वजनिक निवेश के कुशल प्रबंधन को सक्षम करना है।

पृष्ठभूमि

विनिवेश विभाग को पहली बार दिसंबर 1999 में एक अलग विभाग के रूप में स्थापित किया गया था और इसे बाद में सितंबर 2001 में विनिवेश मंत्रालय के रूप में नाम दिया गया था। 14 अप्रैल 2016 को विनिवेश विभाग का नाम बदलकर ‘निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग’ कर दिया गया था।


11. उत्तर प्रदेश की कीठम झील को रामसर साइटों में किया गया शामिल

उत्तर प्रदेश के आगरा की कीठम झील, जिसे सुर सरोवर के नाम से भी जाना जाता है, को रामसर स्थलों की सूची में जोड़ा गया है।

सूर सरोवर झील को 106 से अधिक प्रवासी पक्षियों का घर माना जाता हैं।

इस झील को पानी आगरा नहर से मिलता है। यह नहर दिल्ली में यमुना नदी पर बने ओखला बैराज से निकलती है।

रामसर सूची में इन स्थलों का शामिल करने का उद्देश्य आर्द्रभूमि के एक अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क को विकसित करना और बनाए रखना है जो वैश्विक जैविक विविधता के संरक्षण और उनके पारिस्थितिक तंत्र के घटकों, प्रक्रियाओं और लाभों के रखरखाव के माध्यम से मानव जीवन को बनाए रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।




7 views0 comments

Recent Posts

See All