Search

16th January | Current Affairs | MB Books


1. अमेरिका की फर्स्ट लेडी की डि‍जिटल डायरेक्‍टर होंगी भारतवंशी गरिमा वर्मा

फर्स्ट लेडी जिल बाइडन ने इंडियन-अमेरिकन गरिमा वर्मा को अपना डिजिटल डायरेक्टर और माइकल लॉरोसा प्रेस सेक्रेटरी नामित किया है। मीडिया रणनीतिकार और भारतीय-अमेरिकी गरिमा वर्मा फर्स्ट लेडी जिल बाइडन के कार्यालय के लिए नामित हुई हैं। अमेरिका की होने वाली प्रथम महिला जिल बाइडन के लिए एक भारतवंशी को नामित किया गया है। मीडिया रणनीतिकार और भारतीय-अमेरिकी गरिमा वर्मा को डिजिटल निदेशक के तौर पर नामित किया गया है। गौरतलब है कि अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की पत्नी जिल बाइडन अगले सप्ताह प्रथम महिला बन जाएंगी। बाइडन की ट्रांजिशन टीम ने बताया कि फर्स्ट लेडी जिल बाइडन ने इंडियन-अमेरिकन गरिमा वर्मा को अपना डिजिटल डायरेक्टर और माइकल लॉरोसा प्रेस सेक्रेटरी नामित किया है। बाइडन ने द फर्स्ट लेडी के कार्यालय में अतिरिक्त सदस्यों की घोषणा की। इसमें रोरी ब्रोसियस को ज्वाइनिंग फोर्सेस पहल का नया कार्यकारी निदेशक चुना। बाइडन की ट्रांजिशन टीम ने गुरुवार को बताया कि गरिमा वर्मा भारत में पैदा हुई हैं। उन्होंने बाइडन-हैरिस के चुनाव अभियान में ओहियो और कैलिफ़ोर्निया की सेंट्रल वैली में हुए बड़े कैंपेन में दर्शकों को संभालने और चुनाव सामग्री रणनीतिकार के रूप में काम किया है। यहां एक बयान में कहा गया कि चुनाव अभियान में शामिल होने से पहले गरिमा वर्मा कंटेंट टीम के साथ एक स्वयंसेवक थे। जिन्होंने पूरे देश में बिडेन-हैरिस के स्वयंसेवकों को वितरण के लिए ग्राफिक्स डिजाइन किए। वह पहले एंटरटेनमेंट स्पेस में काम करती थी, पैरामाउंट पिक्चर्स और टेलीविज़न शो द वॉल्ट डिज़नी कंपनी के एबीसी नेटवर्क और मीडिया एजेंसी होराइज़न मीडिया में मार्केटिंग फ़िल्मों में काम करती थी। एक बयान में कहा गया कि गरिमा वर्मा ने कई छोटे व्यवसाय और गैर-लाभकारी ग्राहकों के लिए विपणन, डिजाइन और डिजिटल में एक स्वतंत्र सलाहकार के रूप में भी काम किया है।

2. जो बाईडेन ने 1.9 ट्रिलियन डालर की योजना की घोषणा की

अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति चुनाव जो बाईडेन ने हाल ही में 1.9 अमरीकी डालर की एक योजना की घोषणा की है। यह एक कोविड-19 प्रोत्साहन पैकेज है।

मुख्य विशेषताएं : अमेरिका में बाईडेन के राष्ट्रपति कार्यकाल के पहले 100 दिनों के भीतर स्कूलों को सुरक्षित रूप से खोलने में मदद करने के लिए 130 बिलियन डालर प्रदान किये जायेंगे।

योग्य व्यक्तियों को 1,400 डॉलर के प्रोत्साहन भुगतान किया जायेगा।

इस पैकेज में कोविड-19 वायरस की प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने के लिए 415 बिलियन डालर और कोविड-19 वैक्सीन का रोल आउट भी शामिल है।

इस पैकेज में एक ट्रिलियन डालर की सीधी राहत भी शामिल है।

यह पैकेज विशेष रूप से छोटे व्यवसायों और समुदायों की सहायता के लिए 440 बिलियन अमरीकी डालर प्रदान करेगा जो कि कोविड-19 महामारी की चपेट में हैं।

इस पैकेज के तहत प्रति सप्ताह 400 डॉलर का बेरोजगारी बीमा प्रदान किया जायेगा।पहले यह राशि प्रति सप्ताह 300 डॉलर थी।

अमेरिका में कोविड-19 वैक्सीन : 11 जनवरी, 2021 तक 9 मिलियन से अधिक अमेरिकियों को कोविड-19 टीकाकरण की डोज़ प्रदान की गई है। हाल ही में यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने फाइजर COVID-19 वैक्सीन का पहला आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण जारी किया था।

ऑपरेशन वार्प स्पीड : यह एक सार्वजनिक-निजी साझेदारी है, जिसे कोविड-19 वैक्सीन के विकास, निर्माण और वितरण को सुविधाजनक बनाने के लिए अमेरिका में शुरू किया गया था। यह ऑपरेशन अमेरिका की सरकार द्वारा शुरू किया गया था। इसकी घोषणा मई 2020 में की गई थी।

यह ऑपरेशन टीकों के उत्पादन और तेजी से वितरण को बढ़ावा दे रहा है। यह विभिन्न प्रकार के वैक्सीन प्रौद्योगिकी को बढ़ावा दे रहा है। इस ऑपरेशन को शुरू में केयर्स एक्ट से 10 बिलियन डालर के साथ वित्त पोषित किया गया था।

अमेरिका का ‘केयर्स एक्ट’ : केयर्स एक्ट का अर्थ Coronavirus Aid, Relief and Economic Security Act है। यह अमेरिका में कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न आर्थिक स्थितियों का मुकाबला करने के लिए मार्च 2020 में अमेरिकी कांग्रेस द्वारा पारित 2.2 ट्रिलियन डालर का आर्थिक प्रोत्साहन बिल था।


3. अमेरिकी आर्थिक ब्लैकलिस्ट में चीनी तेल दिग्गज कंपनी, मिलिट्री एंड-यूज़र सूची में स्काईरीज़ोन हुई शामिल

संयुक्त राज्य अमेरिका ने 14 जनवरी, 2021 को चीनी तेल दिग्गज - चीनी नेशनल ओवरसीज ऑयल कॉर्पोरेशन (CNOOC) को दक्षिण चीन सागर में अपने पड़ोसियों को डराने में चीन की मदद करने के लिए अपनी आर्थिक ब्लैकलिस्ट में शामिल कर लिया है।

अमेरिका ने सैन्य विमान इंजन जैसी सैन्य वस्तुओं को विकसित करने, उत्पादन करने या उन्हें मेंटेन रखने की क्षमता के कारण अपनी सैन्य एंड-यूजर (MEU) सूची में चीनी कंपनी स्काईरीज़ोन को भी शामिल किया है।

यह जानकारी अमेरिकी वाणिज्य सचिव विल्बर रॉस ने साझा की, जिन्होंने कहा कि, इन दोनों कंपनियों से अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है।

रॉस ने यह कहा कि "दक्षिण चीन सागर में चीन की लापरवाह और जुझारू कार्रवाइयां और सैन्यीकरण के प्रयासों के लिए संवेदनशील बौद्धिक संपदा और प्रौद्योगिकी हासिल करने के लिए उसका आक्रामक रवैया अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की सुरक्षा के लिए खतरा हैं।"

CNOOC को काली सूची में क्यों डाला गया है? : चीनी कंपनी CNOOC कथित तौर पर PLA के लिए एक धमकाने वाले एजेंट के तौर पर कार्य करती है और अपने पड़ोसियों को डराने में मदद करती है। अमेरिकी वाणिज्य सचिव ने यह कहा कि, चीनी सेना दुर्भावनापूर्ण उद्देश्यों के लिए सरकारी नागरिक-सैन्य संलयन/ फ्यूजन नीतियों से लाभान्वित हो रही है।

स्काईरीज़ोन को ब्लैकलिस्ट में क्यों जोड़ा गया है? : स्काईरीज़ोन, जो एक चीनी राज्य के स्वामित्व वाली कंपनी है, कथित तौर पर विदेशी सैन्य प्रौद्योगिकियों को प्राप्त करने और स्वदेशी बनाने के अपने रवैये के कारण अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा और अमेरिका की विदेश नीति के हितों के लिए एक बड़ा खतरा है।

सैन्य /मिलिट्री एंड-यूज़र सूची में इस कंपनी को जोड़ने की कार्रवाई का उद्देश्य स्काईरीज़ोन के निर्यात समुदाय को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी से महत्वपूर्ण संबंध रखने के कारण चेतावनी देना है।

सैन्य /मिलिट्री एंड-यूज़र सूची क्या है? : यूएस मिलिट्री एंड-यूजर सूची उन विदेशी समूहों की पहचान करती है जो आइटम/ सामग्री प्राप्त करने से प्रतिबंधित हैं जब तक कि वे निर्यातक लाइसेंस हासिल नहीं कर लें। ये पार्टियां या समूह अमेरिकी सरकार द्वारा सैन्य एंड-यूजर के तौर पर निर्धारित की जाती हैं और चीन, रूस या वेनेजुएला में किसी सैन्य एंड यूज़/ सैन्य एंड-यूजर के लिए उपयोग या (उनके लिए) परिवर्तन करने के अस्वीकार्य जोखिम का प्रतिनिधित्व करती हैं।


4. गोवा में शुरू हुआ 51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI)

51वां भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) 16 जनवरी, 2021 को गोवा में शुरू हुआ। इस फिल्म महोत्सव के उद्घाटन में सूचना व प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत भी मौजूद रहे।

इस फिल्म महोत्सव में बांग्लादेश ‘फोकस कंट्री’ होगा। ‘कंट्री इन फोकस’ एक विशेष खंड होता है जिसके द्वारा देश की सिनेमाई उत्कृष्टता और योगदान को सम्मानित किया जाता है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (IFFI) का आयोजन गोवा में 16 से 24 जनवरी के बीच किया जाएगा। कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए, IFFI अपना पहला हाइब्रिड फिल्म समारोह आयोजित करेगा।

मुख्य बिंदु : इस फिल्म महोत्सव में बांग्लादेश की चार फिल्मों का प्रदर्शन किया जायेगा, इसमें तनवीर मोकम्मल की ‘जिबोनधुली’, जाहिदुर रहीम अंजान की ‘मेघमल्लार’, रुबायत हुसैन की ‘अंडर कंस्ट्रक्शन’ और ‘सिंसियरली योर्स ढाका’ शामिल है।

इसके अलावा, उन कार्यक्रमों की लाइन-अप की घोषणा की गयी है, जो त्योहार के दौरान ओटीटी प्लेटफॉर्म पर दिखाई जाएँगी। इसमें ‘लाइव फ़्लेश’, ‘बैड एजुकेशन’, स्पैनिश फ़िल्म निर्माता पेड्रो अल्मोडोव्वर की ‘वोल्वर’ और स्वीडिश फ़िल्म निर्देशक रुबेन ओस्तलैंड की ‘स्क्वायर एंड फ़ोर्स मेजर शामिल हैं।

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल (IFFI) : इस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन केन्द्रीय सूचना व प्रसारण मंत्रालय, फिल्म महोत्सव निदेशालय तथा गोवासरकार द्वारा किया जा रहा है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल की स्थापना 1952 में हुई थी, तब से इस फिल्म फेस्टिवल का आयोजन प्रतिवर्ष गोवा में किया जाता है। इस फिल्म फेस्टिवल के द्वारा विश्व भर के सिनेमा को अपनी फिल्म कला का प्रदर्शन करने के लिए प्लेटफार्म प्राप्त होता है।


5. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लांच किया विश्व का सबसे बड़ा COVID-19 टीकाकरण अभियान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 जनवरी, 2021 को दुनिया का सबसे बड़ा COVID-19 टीकाकरण अभियान लांच किया। इस अभियान के पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को टीका लगाया जायेगा। जबकि दूसरे चरण में 30 करोड़ लोगों को टीका लगाया जायेगा।

मुख्य : इस अभियान के लिए लगभग सभी तैयारियां पूरी हो चुकी है। इस अभियान के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में कोविशील्ड और कोवाक्सिन नामक कोविड-19 वैक्सीन को पहुँचाया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकार द्वारा खरीदे गए कोविशिल्ड वैक्सीन के 1.1 करोड़ डोज़ में से 95 प्रतिशत को पिछले दो दिनों में पूरे भारत में लगभग 60 स्थानों को भेज दिया गया है।

हैदराबाद बेस्ड भारत बायोटेक के स्वदेशी रूप से विकसित कोवाक्सिन की 55 लाख डोज़ में से, 2.4 लाख खुराक की पहली खेप 12 राज्यों में भेज दी गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, टीके सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को उनके स्वास्थ्य वर्कर डेटाबेस के अनुपात में आवंटित किए गए हैं। कोविड-19 टीकाकरण की तैयारियों को पुख्ता करने के लिए हाल ही में देश भर के विभिन्न हिस्सों में ड्राई रन का आयोजन भी किया गया था।

कोविड-19 टीकाकरण के लिए प्राथमिकता : यह वैक्सीन सबसे पहले स्वास्थ्य सेवा श्रमिकों, 50 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों और फ्रंटलाइन श्रमिकों को दिया जायेगा।

अगला फोकस 50 साल से कम उम्र के लोगों और रोग से पीड़ित लोगों पर किया जायेगा।

शेष आबादी को टीका उपलब्धता के आधार पर टीका प्राप्त होगा।

डिजिटल प्लेटफॉर्म : COVID-19 वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क का उपयोग टीकाकरण के लिए असूचीबद्ध लाभार्थियों को ट्रैक करने के लिए किया जायेगा।

टीकाकरण स्थल पर केवल पूर्व पंजीकृत लाभार्थियों को ही टीका लगाया जायेगा ।

टीकाकरण सत्र : एक सत्र में केवल सौ लाभार्थियों को टीका लगाया जायेया।

राज्य और केंद्र शासित प्रदेश टीकाकरण के लिए विशिष्ट दिनों की पहचान कर सकते हैं।

टीकाकरण टीम : टीकाकरण टीम में 5 सदस्य शामिल होंगे। इसमें डॉक्टर, फार्मासिस्ट, स्टाफ नर्स या इंजेक्शन देने के लिए कानूनी रूप से अधिकृत कोई व्यक्ति होगा। टीकाकरण अधिकारी 1 वह व्यक्ति होगा जो लाभार्थी के पंजीकरण की स्थिति की जाँच करेगा। यह पुलिस, नागरिक सुरक्षा, एनएसएस, एनसीसी, होम गार्ड से एक व्यक्ति होगा। टीकाकरण अधिकारी 2 वह व्यक्ति होगा जो पहचान दस्तावेजों को प्रमाणित करेगा। टीकाकरण अधिकारी 3 और 4 सहायक कर्मचारी हैं जो भीड़ प्रबंधन के लिए जिम्मेदार हैं।


6. Uttar Pradesh में सूचना विभाग का Mobile App लॉन्च, घर बैठे जानिए प्रदेश के मंत्री-अफसरों की डिटेल और फोन नंबर

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने शनिवार को गोरखपुर में सूचना विभाग के मोबाइल ऐप (Mobile App) और डिजिटल डायरी (Digital Diary) को लॉन्च किया। उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि डिजिटल युग में हर चीज डिजिटल फार्म में आ गई है। ऐसे में यह ऐप और डायरी बनने से अब सूचना विभाग भी हर जानकारी से हमेशा अपडेट रह सकेगा।

डिजिटल डायरी से कागज की बचत होगी - योगी आदित्यनाथ : सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा कि इस डिजिटल डायरी से कागज की काफी बचत होगी। इस डिजिटल डायरी (Digital Diary) के लॉन्च होने से अब कोई भी व्यक्ति अपने स्मार्ट फोन के जरिए उत्तर प्रदेश शासन की कार्यपद्धति और विभिन्न विभागों के बारे में जानकारी हासिल कर सकता है। अब किसी भी कार्यक्रम अलग से डायरी ले जाने की आवश्यकता नहीं होगी। स्मार्ट फोन ही सारी सूचनाओं का आधार हो जाएगा।

महंत अवैद्यनाथ जी महाराज पर डाक कवर जारी हुआ : मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का बड़ा राज्य है। ऐसे में सभी लोगों तक अपनी पहुंच बनाने के लिए तकनीक का इस्तेमाल किया जाना बहुत जरूरी है। उन्होंने प्रदेश के लोगों को मकर संक्रांति की बधाई दी। इसके साथ ही गोरखपुर के खिचड़ी मेले पर स्पेशल डाक कवर जारी करने के लिए डाक विभाग को धन्यवाद दिया। महन्त अवैद्यनाथ जी महाराज की पुण्यस्मृति में जारी किए गए डाक टिकट को स्पेशल डाक कवर में लगाया गया है।

गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं मोबाइल ऐप : अपर मुख्य सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल ने कहा कि जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों के बारे में जानकारी की उत्सुकता हर नागरिक में रहती है। ऐसे में लोगों की इस उत्सुकता को पूरा करने का काम यह डिजिटल डायरी (Digital Diary) करेगी। उन्होंने कहा कि यह डिजिटल डायरी दरअसल एक मोबाइल ऐप है। कोई भी व्यक्ति गूगल प्ले स्टोर पर सूचना डायरी-2021 लिखकर इसे डाउनलोड कर सकता है। इसके बाद भारत सरकार, राज्य सरकार के मंत्रिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारीगण, समस्त मीडिया प्रतिनिधियों के फोन नम्बर सहित अन्य विवरण प्राप्त किए जा सकते हैं। इस ऐप में सर्च ऑप्शन भी प्रदान किया गया है, जिससे कोई भी नाम, पदनाम, दूरभाष आदि डालने पर सम्बन्धित व्यक्ति की समस्त जानकारी हासिल की जा सकती है।


  • Source of Internet

10 views0 comments

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved