Search

14 June 2020 Hindi Current Affairs


14 जून: विश्व रक्त दाता दिवस

14 जून को विश्व भर में ‘विश्व रक्त दाता दिवस’ जीवन दाई उपहार के रूप में दिये जाने वाले रक्त के लिए स्वैच्छिक, अवैतनिक रक्त दाताओं का धन्यवाद करने के लिए मनाया जाता है। यह रोगियों के लिए जरूरत के समय रक्त दान की आवश्यकता के लिए जागरूकता बढ़ाने के प्रयास भी करता है।

मुख्य बिन्दु

यह दिवस अवैतनिक रक्त दान प्रणाली से जुड़े सम्मान, सहानुभूति और दयालुता के मौलिक मानव मूल्यों पर भी प्रकाश डालता है। रक्त और रक्त उत्पादों का दान हर साल लाखों लोगों को बचाने में मदद करता है। रक्तदान जीवन की खतरनाक परिस्थितियों से पीड़ित मरीजों को लंबे समय तक और जीवन की उच्च गुणवत्ता के साथ जीने में मदद करता है। यह जटिल और शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं का भी समर्थन करता है। विश्व रक्तदान दिवस 2004 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा रक्त दाताओं को धन्यवाद देने और रक्त दान के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए स्थापित किया गया था।


डॉ. रतन लाल : भारतीय मूल के अमेरिकी वैज्ञानिक ने विश्व खाद्य पुरस्कार जीता

11 जून को भारतीय-अमेरिकी मृदा वैज्ञानिक डॉ. रतन लाल ने खाद्य उत्पादन को बढ़ाने के लिए मृदा केंद्रित दृष्टिकोण को विकसित करने के लिए विश्व खाद्य पुरस्कार जीता।

मुख्य बिंदु

मिट्टी के स्वास्थ्य को बहाल करने की डॉ लाल की रणनीति को तीन संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलनों द्वारा अपनाया गया है।

डॉ. लाल की तकनीक

डॉ. लाल ने ओवर-क्रॉपिंग, मल्चिंग और एग्रो फॉरेस्ट्री जैसी तकनीकों का रूपांतरण और अन्वेषण किया है। इन तकनीकों ने कृषि पारिस्थितिकी प्रणालियों की दीर्घकालिक स्थिरता में सुधार किया और बाढ़, सूखे और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम किया। डॉ. लाल ने अपने शोध कार्यों के माध्यम से यह साबित कर दिया था कि वायुमंडलीय कार्बन को मिट्टी में मिलाया जा सकता है। उन्होंने कई संरक्षण प्रथाओं का भी आविष्कार किया है जो आज किसानों द्वारा प्रभावी ढंग से उपयोग की जा रही हैं।

विश्व खाद्य पुरस्कार

डॉ. लाल को 250,000 डॉलर की पुरस्कार राशि मिलेगी। उन्हें अपने पूरे करियर में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया जा रहा है जो 5 दशकों से अधिक समय तक फैला हुआ है। लगभग 4 महाद्वीप अपनी नवीन मृदा बचत तकनीकों को बढ़ावा दे रहे हैं।

विश्व खाद्य पुरस्कार कृषि के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के बराबर माना जाता है।


चैलेंजर डीप

अंतरिक्ष यात्री और समुद्र विज्ञानी कैथी सुलिवन हाल ही में समुद्र के सबसे गहरे बिंदु चैलेंजर डीप में पहुंची। इसके साथ वह पृथ्वी की सबसे गहरे बिंदु तक पहुँचने वाली पहली महिला बन गई हैं।

मुख्य बिंदु

1984 में कैथी ने अपने अंतरिक्ष वॉक की शुरुआत की और अंतरिक्ष में चलने वाली पहली महिला बनीं। अब चैलेंजर डीप तक पहुँच कर उन्होंने नया रिकॉर्ड बनाया गया है, वे अंतरिक्ष में भी गयी हैं और पृथ्वी के सबसे गहरे बिंदु पर भी पहुँची हैं। वह महासागर में सबसे गहरे बिंदु तक पहुंचने वाली पहली महिला भी हैं।

चैलेंजर डीप

चैलेंजर डीप पृथ्वी के समुद्र तल का सबसे गहरा बिंदु है। यह 10,902 मीटर की गहराई पर है। इसका नाम ब्रिटिश रॉयल नेवी सर्वे शिप एचएमएस चैलेंजर के नाम पर रखा गया है जिसने पहली बार इसकी गहराई दर्ज की।

लेफ्टिनेंट डॉन वाल्श और स्विस वैज्ञानिक जैक्स पिककार्ड 1960 में चैलेंजर डीप में पहली बार गोता लगाया था। 2012 में, टाइटैनिक फिल्म के निर्देशक जेम्स कैमरन इस स्थान पर सोलो पनडुब्बी के द्वारा गये थे।

चैलेंजर डीप पश्चिमी प्रशांत महासागर में मारियाना ट्रेंच के दक्षिणी छोर में स्थित है। यह माइक्रोनेशिया के समुद्री क्षेत्र में है।


IIT खड़गपुर ने AI बेस्ड सोशल-डिस्टेंसिंग मॉनिटरिंग सिस्टम विकसित किया

IIT खड़गपुर के शोधकर्ताओं ने सार्वजनिक स्थानों पर सामाजिक दूरियों की निगरानी के लिए एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित साइबर-फिजिकल प्रणाली विकसित की है।

मुख्य बिंदु

शोधकर्ताओं द्वारा विकसित डिवाइस सामाजिक दूरी मानदंडों का उल्लंघन होने पर अलर्ट करेगी। यह डिवाइस फील्ड व्यू को कैप्चर करता है और स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा निर्धारित मानदंडों के अनुसार दूरी की गणना करता है।

संस्थान के शोधकर्ताओं ने सस्ती और आसानी से सुलभ हार्डवेयर सामग्री का उपयोग करके डिवाइस को डिज़ाइन किया है।

सोशल डिस्टेंसिंग

सामाजिक गड़बड़ी एक संक्रमण की गैर-दवा रोकथाम है। WHO के अनुसार, जब कोई व्यक्ति COVID-19 से संक्रमित है, तो उससे दूर रहने के लिए न्यूनतम भौतिक दूरी 1 मीटर है। भारत में भी इसी मानदंड का पालन किया जाता है।

कुछ देश 2 मीटर की सामाजिक दूरी और कुछ अन्य 1.5 मीटर का अनुसरण करते हैं।


5 views0 comments