Search

12th October | Current Affairs | MB Books


1. राजनाथ सिंह ने चीन और पाक से लगती सीमा पर बने 44 पुलों का किया उद्घाटन, लद्दाख में 7 पुल खुले

रक्षा मंत्री (Defence Minister) राजनाथ सिंह ने सोमवार को सीमावर्ती इलाकों में बनाए गए 44 पुलों (Bridge) का उद्घाटन किया। इनमें से ज्यादातर चीन (China Border) से लगे सीमावर्ती क्षेत्रों लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, उत्तराखंड में बने हैं। जबकि कुछ पुल पाकिस्तान सीमा से लगे पंजाब और जम्मू-कश्मीर में निर्मित किए गए हैं।

राजनाथ सिंह ने एक ऑनलाइन समारोह में इन पुलों के लिए आवागमन को हरी झंडी दिखाई लद्दाख में चीन से गतिरोध का परोक्ष जिक्र करते हुए राजनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश न केवल संकट का मजबूती से सामना कर रहा है, बल्कि इन सीमावर्ती क्षेत्रों में बड़े और ऐतिहासिक बदलाव लाने में भी जुटा है.अधिकारियों के मुताबिक, इनमें से ज्यादातर पुल सीमा पर बेहद रणनीतिक अहमियत वाले इलाकों में स्थित हैं इनमें से 7 लद्दाख में हैं, जहां भारत और चीन की सेना के बीच कई इलाकों में गतिरोध बना हुआ है

चीन और पाक से सात हजार किलोमीटर लंबी सीमाएं पाकिस्तान (Pakistan Border) और चीन (China) से लगी सीमा पर स्थिति की ओर इशारा करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा, "सभी उत्तरी और पूर्वी सीमा पर हालात से वाकिफ हैं पहले पाकिस्तान और अब चीन, मानो कि एक मुहिम के तहत सीमा विवाद को जन्म दिया जा रहा है इन देशों के भारत से लगती करीब सात हजार किलोमीटर लंबी सीमाएं हैं इन इलाकों में तनाव बना हुआ है" ये पुल जनता और सेना दोनों के लिए फायदेमंद होंगे सीमा पर सड़क, पुलों का यह बुनियादी ढांचे सशस्त्र बलों को सीमावर्ती इलाकों में आवागमन में सहूलियत देगा उन्होंने कोरोना के इस दौर में बिना रुके काम करने के लिए बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन (BRO) की तारीफ भी की

सैनिकों और जनता के लिए आवाजाही आसान अधिकारियों ने कहा कि इससे दुर्गम पहाड़ियों वाले सीमावर्ती क्षेत्रों में सैनिकों और हथियारों की आवाजाही आसान हो सके, कम वक्त में रसद पहुंचाई सकेगी रक्षा मंत्री ने सांकेतिक तौर पर अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में नेसिफु टनल की आधारशिला भी रखी सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की ओर से ये पुल ऐसे वक्त तैयार किए गए हैं, जब लद्दाख के पैंगोंग सो झील समेत फिंगर इलाके में चीन और भारत के बीच सीमा विवाद गहरा गया है

2. ऑक्शन थ्योरी को बेहतर करने के लिए पॉल मिलग्रोम और रॉबर्ट विल्सन को अर्थशास्त्र का नोबेल

Nobel Prize in Economics : अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार की घोषणा हो गई है। इस साल यह पुरस्कार ऑक्शन थ्योरी को बेहतर करने और नए नीलामी प्रारूपों का अविष्कार करने के लिए पॉल मिलग्रोम तथा रॉबर्ट विल्सन मिला है। नोबेल समिति ने कहा, "अमेरिकी अर्थशास्त्रियों पॉल मिलग्रोम और रॉबर्ट विल्सन ने सोमवार को वाणिज्यिक नीलामी में अपने काम के लिए नोबेल अर्थशास्त्र पुरस्कार जीता।" निर्णायक मंडल ने कहा, "नीलामी सिद्धांत और नए नीलामी प्रारूपों के आविष्कारों में सुधार के लिए दोनों को सम्मानित किया गया।"

बता दें कि तकनीकी रूप से इसे ‘स्वीरिजेज रिक्सबैंक प्राइज इन इकोनॉमिक साइंसेज इन मेमोरी ऑफ अल्फ्रेड नोबेल' के तौर पर जाना जाता है बता दें कि इस प्रतिष्ठित पुरस्कार की स्थापना साल 1969 में की गई थी और तब से अब तक यह 51 बार प्रदान किया जा चुका है और इसे नोबेल पुरस्कारों में से एक माना जाता है

अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार की घोषणा के साथ ही नोबेल पुरस्कार सप्ताह का समापन हो गयापिछले साल यह पुरस्कार मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के दो रिसर्चर्स और हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक रिसर्चर को दिया गया था उन्हें यह सम्मान वैश्विक गरीबी दूर करने की दिशा की गई रिसर्च के लिए दिया गया था

साल 2019 में यह पुरस्कार भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी और उनकी पत्नी एस्थर डुफ्लो और हार्वर्ड के प्रोफेसर माइकल क्रेमर को दिया गया थाइस प्रतिष्ठित पुरस्कार के तहत करीब 11 लाख अमेरिकी डॉलर की रकम प्रदान की जाती है

3. प्रवासी पक्षियों के संरक्षण के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना

विश्व प्रवासी पक्षी दिवस की पूर्व संध्या पर 10 अक्टूबर 2020 को केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने घोषणा की कि भारत ने प्रवासी पक्षियों के संरक्षण के लिए राष्ट्रीय कार्य योजना शुरू की है। उन्होंने देश को अवगत कराया कि मंत्रालय ने मध्य एशियाई फ्लाईवे के साथ संरक्षण योजना शुरू की है।

मुख्य बिंदु

दुनिया में 9 फ्लाईवे हैं। मध्य एशियाई फ्लाईवे उनमें से एक है। इसमें 30 से अधिक देशों के प्रवास मार्गों को शामिल किया गया है। इसमें रूस, मालदीव, पश्चिम और दक्षिण एशिया, ब्रिटिश हिंद महासागर क्षेत्र के ब्रीडिंग ग्राउंड शामिल हैं। यह फ्लाईवे भारत के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह इस मार्ग पर आने वाले पक्षियों के 90 प्रतिशत से अधिक स्थलों पर महत्वपूर्ण ठहराव प्रदान करता है।

योजना के बारे में

इस योजना को 2018 और 2023 के बीच लागू करने के लिए लॉन्च किया गया था। इस योजना का समग्र लक्ष्य प्रवासी पक्षियों की आबादी में कमी का समाधान और उनके आवास को सुरक्षित करना है।इस योजना का अल्पकालिक लक्ष्य 2027 तक जनसंख्या में गिरावट को रोकना है।

इस योजना को पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा लागू किया जायेगा।मंत्रालय द्वारा हर दो साल में योजना के कार्यान्वयन की स्टेटस रिपोर्ट प्रकाशित की जाती है।

इस योजना का उद्देश्य सतत विकास लक्ष्यों के एजेंडे के भीतर प्रवासी पक्षियों और उनके आवासों का संरक्षण करना है।

योजना के प्रमुख घटक

अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, योजना को निम्नलिखित छह परस्पर संबंधित घटकों में संरचित किया गया है:

  • प्रजाति संरक्षण

  • पर्यावास संरक्षण और स्थायी प्रबंधन

  • संचार और आउटरीच

  • विकास क्षमता

  • अनुसंधान और ज्ञान आधारित विकास

  • अंतरराष्ट्रीय सहयोग

योजना का उद्देश्य

  • महत्वपूर्ण आवासों पर दबाव को कम करना

  • प्रवासी पक्षियों की गिरावट को रोकना

  • निवास के प्रति खतरों से बचाव

  • डेटाबेस में सुधार

4. जीएसटी काउंसिल की 43वीं बैठक: वित्त मंत्री सीतारमण ने LTC कैश वाउचर स्कीम की घोषणा की

केंद्र सरकार ने दिवाली-दशहरे से पहले सरकारी कर्मचारियों को तोहफा दिया है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि महामारी से अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 12 अक्टूबर 2020 को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सरकारी कर्मचारियों के लिए फेस्टिवल एडवांस की घोषणा की है।

अर्थव्यवस्था में मांग बढ़ाने के लिए दो प्रस्ताव पेश किए हैं। पहला 'एलटीसी कैश वाउचर स्कीम' और दूसरा 'स्पेशल फेस्टिवल एडवांस स्कीम' है। स्पेशल फेस्टिवल एडवांस स्कीम के तहत सरकारी कर्मचारियों को 10,000 रुपये फेस्टिवल एडवांस देगी। साथ ही कर्मचारियों को एलटीसी में टिकट किराये का भुगतान नकद में किया जाएगा।

जानिये प्रेस कॉन्फ्रेंस की प्रमुख बातें

• वित्त मंत्री ने कहा कि एलटीसी नकद वाउचर योजना और विशेष त्योहार अग्रिम योजना शुरू की जाएगी। मांग को प्रोत्साहन के लिए एलटीए खर्च के लिए अग्रिम में राशि दी जाएगी।

• एलटीसी के लिए नकद पर सरकार का खर्च 5,675 करोड़ रुपये बैठेगा। सार्वजनिक उपक्रमों और बैंकों को 1,900 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

• केंद्र सरकार के सभी कर्मचारियों के लिए 10,000 रुपये के फेस्टिवल एडवांस की सरकार ने घोषणा की है। केंद्र सरकार इस योजना के तहत सभी रैंक और श्रेणी के कर्मचारियों को 10,000 रुपये का प्रीपेड रुपे कार्ड देगी। इसका इस्तेमाल 31 मार्च 2021 तक किसी भी त्योहार के लिए किया जा सकेगा।

• प्रेस कॉन्फ्रेंस में वित्त मंत्री ने एलटीसी कैश वाउचर की घोषणा की। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि एलटीसी कैश वाउचर के तहत सरकारी कर्मचारी यात्रा के लिए रिअम्बर्समेंट की बजाय कैश क्लेम कर सकते हैं।

• वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि कोविड-19 महामारी से इकोनॉमी पर विपरीत असर देखने को मिला है। आत्मनिर्भर पैकेज और उसके बाद के पैकेज में गरीब और कमजोर तबकों की जरूरतों का ख्याल रखा गया।

• केंद्र सरकार ने राज्यों को 50 साल के लिए ब्याज मुक्त कर्ज की पेशकश भी की है, जिससे वह 12000 करोड़ रुपए तक का पूंजीगत व्यय कर सकेंगे।

5. दिल्ली कैबिनेट ने राजधानी में ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी को मंजूरी दी

दिल्ली सरकार की कैबिनेट ने हाल ही में राजधानी में ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी को मंजूरी दे दी है। इसके तहत अब किसी भी प्रोजेक्ट में आने वाले पेड़ों में से 80 प्रतिशत को ट्रांसप्लांट करना अनिवार्य होगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 09 अक्टूबर 2020 को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि दिल्ली कैबिनेट ने ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी पास की है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्रोजेक्ट में आने वाले पेड़ों में से 80 प्रतिशत को ट्रांसप्लांट करने के साथ ही जितने पेड़ काटे जाएंगे, उससे दस गुना पौधे लगाने होंगे। उन्होंने कहा कि कम से कम 80 प्रतिशत पेड़ कही भी किसी भी प्रोजेक्ट में ट्रांसप्लांट करना होंगे। उन्होंने कहा कि अभी तक पॉलिसी यह थी कि एक पेड़ काटने के बदले में 10 पौधे लगाए जाएंगे।

पैनल का गठन

दिल्ली सरकार ट्रांसप्लांटेशन करने वाली एजेंसियों का पैनल बनाएगी और संबंधित विभाग इनमें से किसी भी एजेंसी से काम करा सकेंगे। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि ट्रांसप्लांट किए गए पेड़ों में से 80 प्रतिशत से कम जीवित रहने पर संबंधित एजेंसी को होने वाले भुगतान में कटौती की जाएगी। उन्होंने बताया कि दिल्ली सरकार डेडीकेटेड ट्री ट्रांसप्लांटेशन सेल और स्थानीय कमेटी बना रही है।

कमेटी ट्रांसप्लांट हुए पेड़ों की जांच करेगी

कमेटी ट्रांसप्लांट हुए पेड़ों की जांच व निगरानी करेगी और सही ट्रांसप्लांटेशन होने पर प्रमाण पत्र देगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में बहुत घने, पुराने और बड़े-बड़े पेड़ हैं, ये प्रकृति का आशीर्वाद हैं. उन्होंने कहा कि कई बार विकास कार्य के लिए पेड़ काटने की मजबूरी बन जाती है।

ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी में दिल्ली देश का पहला प्रदेश

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली देश का पहला प्रदेश है, जहां पर ट्री ट्रांसप्लांटेशन पॉलिसी पास की गई है। ट्रांसप्लांटेशन में पेड़ को नीचे से वैज्ञानिक तरीके से उखाड़ा जाता है और ट्रक में ले जाकर दूसरी जगह लगाया जाता है।

कनॉट प्लेस में लगेगा स्मॉग टावर

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बताया कि कैबिनेट ने प्रदूषण के खिलाफ जंग में एक और बड़ा निर्णय लिया है। कनॉट प्लेस में एक स्मॉग टावर लगाया जाएगा। मुख्यमंत्री के अनुसार, चीन के बाद यह दुनिया का दूसरा स्मॉग टावर होगा।

6. इम्यून रिस्पांस को बढ़ावा देने के लिए अल्हाइड्रॉक्सीकीम- II का उपयोग करेगा COVAXIN

पहला COVID-19 वैक्सीन, COVAXIN वर्तमान में देश में दूसरे चरण के परीक्षण में है। यह टीका प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए अल्हाइड्रॉक्सिकिम-2 का उपयोग करेगा।

मुख्य बिंदु

COVAXIN ने चरण III परीक्षण शुरू करने के लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की मंजूरी मांगी है। वैक्सीन को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद और भारत-बायोटेक द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया था।

अब तक की प्रगति

COVID-19 संक्रमणों की उच्च मात्रा के संपर्क में आने से अब तक वैक्सीन मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न कर रहा है। 18 और 55 वर्ष की आयु के बीच के स्वयंसेवकों पर 12 अस्पतालों में वैक्सीन का परीक्षण किया गया था। यह परीक्षण हैदराबाद, दिल्ली, कांचीपुरम, रोहतक, पटना, गोवा और भुवनेश्वर में किया गया था।

भविष्य की योजनाएं क्या हैं?

COVAXIN प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ावा देने के लिए अल्हाइड्रॉक्सिकिम-2 का उपयोग करेगा। यह वैक्सीन एंटीजन के लिए एंटीबॉडी प्रतिक्रियाओं को प्रेरित करने की कार्रवाई को बढ़ाने के लिए किया जा रहा है।

अल्हाइड्रॉक्सिकिम क्या है?

यह एक प्रकार का सहायक है। सहायक एक इम्यूनोलॉजिकल एजेंट है जिसे वैक्सीन की प्रतिक्रिया में सुधार करने के लिए जोड़ा जाता है। इसे जोड़ने से मानव शरीर में एंटीबॉडी उत्पादन बढ़ेगा और इस तरह आवश्यक एंटीजेन की खुराक में कमी आएगी। साथ ही, यह एंटीजन स्पैरिंग में मदद करता है।

एंटीजन स्पैरिंग क्या है?

एंटीजन एक विदेशी पदार्थ है जो एंटीबॉडी बनाने के लिए मानव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रेरित करता है। उदाहरण के लिए, COVID-19 का प्रोटीन एक प्रतिजन है।

COVAXIN कैसे काम करता है?

COVAXIN नामक कोविड-19 वैक्सीन को पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी द्वारा पृथक वायरस के एक स्ट्रेन से लिया गया था। सबसे पहले निष्क्रिय टीके का विकास किया गया है। निष्क्रिय टीके में मृत वायरस होते हैं। जब इसे मानव शरीर में इंजेक्ट किया जाता है तो यह शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाता है। बल्कि यह प्रतिरक्षा प्रणाली को वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने के लिए प्रेरित करता है। इस प्रकार मानव शरीर संक्रमित हुए बिना इम्यून बन जाता है।

भारत में तीन टीके

तीन टीके जो वर्तमान में भारत में परीक्षण के अधीन हैं। वे COVAXIN, ज़ाइडस कैडिला का ZyCoV-D और ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी का वैक्सीन हैं।

7. DRDO ने निर्भय क्रूज मिसाइल का परीक्षण किया, परीक्षण के दौरान आई खामी

12 अक्टूबर 2020 को, रक्षा अनुसंधान विकास संगठन ने निर्भय क्रूज मिसाइल का परीक्षण किया, हालाँकि 8 मिनट के बाद इसमें खामी आई, जिसके कारण परीक्षण को रोकना पड़ा। ‘निर्भय’ पिछले 35 दिनों में भारत द्वारा दागी जाने वाली दसवीं मिसाइल थी। भारत हर चार दिनों में औसतन एक मिसाइल का परीक्षण कर रहा है। यह लद्दाख क्षेत्र में चीन द्वारा सैनिकों और सहायक तत्वों को जुटाने के विरुद्ध प्रतिक्रिया है।

इस मिसाइल में माणिक इंजन इस्तेमाल किया गया है। यह टर्बो फैन इंजन है।

मुख्य बिंदु

इस मिसाइल को ओडिशा लॉन्चिंग साइट से बंगाल की खाड़ी में लॉन्च किया गया था। यह एक सबसोनिक मिसाइल है जो 0.7 मैक की गति से उड़ती है।

मिसाइल के बारे में

इस मिसाइल में टर्बो फैन इंजन लगा हुआ है। एक निश्चित ऊंचाई तक पहुंचने के बाद, मिसाइल का टरबोफान इंजन आगे के प्रणोदन पर ले जाता है। मिसाइल में रिंग लेजर गायरोस्कोप आधारित मार्गदर्शन और एमईएमएस आधारित जड़त्वीय नेविगेशन प्रणाली है। एमईएमएस का अर्थ माइक्रो इलेक्ट्रो मैकेनिकल सिस्टम है।

इस मिसाइल में लोइटरिंग और सी-स्किमिंग क्षमताएं हैं। सी स्किमिंग एक ऐसी तकनीक है जिसका इस्तेमाल एंटी-शिप मिसाइलों द्वारा किया जाता है ताकि वे इन्फ्रारेड रेडिएशन/रडार से बच सकें। लोइटरिंग म्यूनिशन एक सुसाइड ड्रोन है, इसके तहत, हथियार कुछ समय के लिए लक्ष्य क्षेत्र के आसपास घूमता है। यह लक्ष्य को सटीक रूप से रेखांकित करता है और फिर हमला करता है।

अन्य इंजन

डीआरडीओ द्वारा विकसित अन्य स्वदेशी इंजन शाक्ति इंजन, कावेरी इंजन, वेन्केल इंजन हैं। शक्ति इंजन का उपयोग लाइट कॉम्बैट हेलीकाप्टर में किया जाता है। कावेरी इंजन तेजस विमान में उपयोग किए जायेंगे। वेन्केल इंजन का उपयोग मानवरहित हवाई वाहन और हल्के विमान को शक्ति प्रदान करने में किया जाता है।

जिन मिसाइलों का हाल ही में परीक्षण किया गया

भारत ने पिछले 35 दिनों में निम्नलिखित मिसाइल परीक्षण किए

  • रुद्रम एंटी-रेडिएशन मिसाइल

  • शौर्य मिसाइल का नया संस्करण

  • लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल

  • स्वदेशी बूस्टर के साथ ब्रह्मोस मिसाइल

  • पृथ्वी II मिसाइल

  • RUSTOM II की परीक्षण उड़ान

  • TORPEDO स्मार्ट

  • ABHYAS की उड़ान परीक्षा

  • हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर व्हीकल की परिक्षण उड़ान

8. भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 66,732 नए COVID-19 केस, कोरोनावायरस से 816 की मौत

Coronavirus in India: भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 71 लाख के पार पहुंच गए हैं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सोमवार सुबह आठ बजे तक के आंकड़ों के अनुसार, देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 66,732 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 71,20,538 हो गए हैं इसी अवधि में इसी अवधि में 816 और लोगों की मौत हो जाने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,09,150 हो गई है। आंकड़ों के अनुसार, इस समय देश में 8,61,853 लोगों का इलाज चल रहा है। वहीं अब तक 61,49,535 लोग इस वायरस को मात देने में कामयाब रहे हैं, पिछले 24 घंटों में 71,559 कोरोना संक्रमित ठीक हुए हैं।

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 110 दिन में एक लाख के पार पहुंचे थे, जबकि इसके बाद 59 दिन में मामले 10 लाख से अधिक हो गएकोविड-19 के कारण मृत्युदर 1.53 प्रतिशत है रिकवरी रेट 86.36 फीसदी है, पॉजिटिविटी रेट 6.7 प्रतिशत है तो वहीं कुल 12.1 प्रतिशत मामले एक्टिव हैं

कोविड-19 के कारण मृत्युदर 1.53 प्रतिशत है रिकवरी रेट 86.36 फीसदी है, पॉजिटिविटी रेट 6.7 प्रतिशत है तो वहीं कुल 12.1 प्रतिशत मामले एक्टिव हैं कोरोना संक्रमित मामलों में भारत विश्व में दूसरे पायदान पर है अमेरिका सर्वाधिक 77 लाख से ज्यादा मामलों (77,61,673) मामलों के साथ शीर्ष पर है, वहीं भारत में संक्रमितों की संख्या 71 लाख के चिंताजनक आंकड़े को पार कर चुकी है तीसरे नंबर पर ब्राजील है जहां यह संख्या 50 लाख को पार (50,94,979) कर चुकी है, वहीं 12,91,687 मामलों के साथ रूस चौथे और कोलंबिया 9,11,316 पांचवें नंबर पर काबिज है

6 views

MB Books Pvt. Ltd.

+91-9708316298

Timing:- 11:30 AM to 5:30 PM

Sunday Closed

mbbooks.in@gmail.com

Boring Road, Patna-01

Shop

Socials

Be The First To Know

  • YouTube
  • Facebook
  • Instagram
  • Twitter

Sign up for our newsletter

© 2010-2020 MB Books all rights reserved