Search

12th June | Current Affairs | MB Books


1. 12 जून : विश्व बाल श्रम निषेध दिवस

हर साल, विश्व बाल श्रम निषेध दिवस (World Day against Child Labour) 12 जून को मनाया जाता है। इसे अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन द्वारा लॉन्च किया गया था। विश्व बाल श्रम निषेध दिवस 2002 में शुरू किया गया था।

थीम : Act now: End child labour!

मुख्य बिंदु : काम में लगे 5 से 17 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चे सामान्य बचपन, उचित स्वास्थ्य देखभाल, पर्याप्त शिक्षा, खाली समय और बुनियादी स्वतंत्रता से वंचित हो जाते हैं। बाल श्रम के खिलाफ विश्व दिवस को चिह्नित करने का मूल उद्देश्य यही है। इस दिन का उद्देश्य दुनिया भर के लोगों के ध्यान में बाल श्रम की समस्या को लाना भी है। बाल श्रम अक्सर वेश्यावृत्ति और मादक पदार्थों की तस्करी से जुड़ा होता है।

पृष्ठभूमि : श्रम कार्यों में शामिल 10 में से 9 बच्चे एशिया, अफ्रीका और प्रशांत क्षेत्र में हैं। निम्न आय वाले देशों में बाल श्रम का प्रतिशत सबसे अधिक है। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के अनुसार, अफ्रीका में दुनिया में सबसे अधिक बाल श्रमिक हैं। यह दुनिया में बाल श्रम का पांचवां हिस्सा है।

COVID-19 संकट : COVID-19 संकट के दौरान बाल श्रम का मुद्दा बढ़ रहा है। इसका मुख्य कारण यह है कि बच्चे स्कूल से बाहर हैं और उनके हानिकारक कार्यों में संलग्न होने की अधिक संभावना है। चाइल्ड हेल्पलाइन इंटरनेशनल का कहना है कि वैश्विक आबादी का एक तिहाई हिस्सा COVID-19 संकट के कारण प्रभावित हुआ है और 1.5 बिलियन बच्चे इससे प्रभावित हुए हैं।


2. अल्बानिया, ब्राजील, गैबॉन, घाना और संयुक्त अरब अमीरात को UNSC के लिए चुना गया

अल्बानिया, ब्राजील, गैबॉन, घाना और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को 2022-23 के कार्यकाल के लिए गैर-स्थायी सदस्य के रूप में शक्तिशाली संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UN Security Council – UNSC) के लिए निर्विरोध चुना गया है।

मुख्य बिंदु :

  • संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) ने UNSC के लिए पांच अस्थायी सदस्यों का चुनाव करने के लिए चुनाव कराए हैं। वे 1 जनवरी, 2022 से दो साल के कार्यकाल के लिए परिषद में कार्यकाल शुरू करेंगे।

  • पांच देशों ने निर्विरोध चुनाव जीता क्योंकि वे अपने-अपने क्षेत्रीय समूहों के एकमात्र उम्मीदवार थे।

UNSC में सीटों का क्षेत्रीय वितरण : 2021 के चुनाव के क्षेत्रीय वितरण के अनुसार, अफ्रीकी और एशियाई देशों से तीन सीटें उपलब्ध थीं। गैबॉन, घाना और संयुक्त अरब अमीरात ने ये तीन सीटें हासिल की हैं। इसके अलावा लैटिन अमेरिकी और कैरेबियाई समूह की एक सीट उपलब्ध थी जिसके लिए ब्राजील को चुना गया था। जबकि, अल्बानिया ने पूर्वी यूरोपीय समूह की सीट जीती।

कौन से देश सेवानिवृत्त हो रहे हैं? : एस्टोनिया, नाइजर, सेंट विंसेंट एंड ग्रेनेडाइंस, ट्यूनीशिया और वियतनाम 2021 में UNSC पर अपने दो साल के कार्यकाल को पूरा करेंगे। इस प्रकार, इस सीट को भरने के लिए, नए गैर-स्थायी सदस्य चुने गए। वे पांच स्थायी सदस्यों चीन, फ्रांस, रूस, यूनाइटेड किंगडम और अमेरिका तथा पांच गैर-स्थायी सदस्यों भारत, आयरलैंड, केन्या, मैक्सिको और नॉर्वे के साथ UNSC में कार्य करेंगे। भारत अगस्त में सुरक्षा परिषद की घूर्णन अध्यक्षता भी ग्रहण करेगा।

अस्थाई सदस्यों का चुनाव : UNSC के अस्थायी सदस्यों के लिए चुनाव गुप्त मतदान द्वारा होता है। गैर-स्थायी सदस्य के रूप में चुने जाने के लिए उम्मीदवारों को UNGA में दो-तिहाई बहुमत की आवश्यकता होती है। पांच देशों को दो साल के कार्यकाल के लिए गैर-स्थायी सदस्यों के रूप में 15 सदस्यीय परिषद (UNSC) के लिए चुना जाता है।


3. कोविड-19 के अनाथों के लिए असम के सीएम सरमा ने शिशु सेवा योजना शुरू की

असम के मुख्यमंत्री, डॉ. हिमंत बिस्वा सरमा ने मुख्यमंत्री शिशु सेवा योजना शुरू की और उन लाभार्थियों को वित्तीय सहायता के चेक सौंपे हैं जिन्होंने COVID-19 के कारण अपने माता-पिता दोनों को खो दिया है।

इस योजना के तहत रु. 7,81,200 प्रत्येक लाभार्थी के नाम सावधि जमा के रूप में बैंक में रखे जाएँगे

3500 रुपये की मासिक वित्तीय सहायता जो सावधि जमा से वसूल की जाएगी, लाभार्थियों को 24 वर्ष की आयु तक दी जाएगी।

24 वर्ष की आयु पूरी होने पर, प्रत्येक लाभार्थी के लिए सावधि जमा के रूप में रखी गई मूल राशि उनके बैंक खातों में जमा की जाएगी।

राज्य सरकार प्रत्येक बच्चे को 3500 रुपये प्रतिमाह देगी जिसमें केंद्र सरकार के 2000 रुपये भी शामिल हैं।

10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों और वे लड़कियाँ जिनके अभिभावक नहीं हैं, राज्य सरकार ऐसे बच्चों को किसी बाल देखभाल संस्थान में रखवाएगी और शैक्षिक व्यय सहित उनके रखरखाव के लिए पर्याप्त धन उपलब्ध कराएगी।

अनाथ लड़कियों को उनकी संवेदनशील देखभाल और उचित सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उपयुक्त और प्रतिष्ठित संस्थानों में आवास दिया जाएगा। ऐसी ही एक संस्था का नाम है कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय आवासीय विद्यालय जो कि अनाथ लड़कियों की देखभाल और शिक्षा के लिए काम कर रही है।


4. रेबेका ग्रिनस्पैन (Rebecca Grynspan) UNCTAD की पहली महिला अध्यक्ष बनीं

संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) ने व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) के अध्यक्ष पद के लिए रेबेका ग्रिनस्पैन (Rebecca Grynspan) के नामांकन को मंजूरी दे दी है। वह कोस्टा रिका की अर्थशास्त्री हैं।

मुख्य बिंदु :

  • वह जिनेवा स्थित संगठन, UNCTAD का नेतृत्व करने वाली पहली महिला और मध्य अमेरिकी होंगी

  • महासचिवएंटोनियो गुटेरेस द्वारा उन्हें UNCTAD के महासचिव के रूप में नामित किया गया था ।

पृष्ठभूमि : रेबेका ग्रिनस्पैन (Rebecca Grynspan) 2014 से इबेरो-अमेरिकन जनरल सेक्रेटेरिएट (Ibero-American General Secretariat) की महासचिव रही हैं। यह सचिवालय इबेरो-अमेरिकन शिखर सम्मेलन (Ibero-American Summits) की तैयारियों का समर्थन करता है। उन्होंने 2010 से 2014 तक संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) की उप-प्रशासक के रूप में भी काम किया है। उन्होंने लैटिन अमेरिका और कैरिबियन के लिए UNDP के क्षेत्रीय निदेशक के रूप में भी काम किया है।

व्यापार और विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन : UNCTAD को 1964 में स्थायी अंतर सरकारी निकाय के रूप में स्थापित किया गया था। यह संयुक्त राष्ट्र सचिवालय का एक हिस्सा है जो व्यापार, निवेश और विकास संबंधी मुद्दों से संबंधित है। यह विकासशील देशों में व्यापार, निवेश और विकास के अवसरों को अधिकतम करने का प्रयास करता है और उन्हें समान आधार पर विश्व अर्थव्यवस्था में एकीकृत करने में सहायता करता है। यह संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा स्थापित किया गया था और यह संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly) और संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (United Nations Economic & Social Council – ECOSOC) को रिपोर्ट करता है।


5. थेल्स ने आशीष सराफ को भारत का नया उपाध्यक्ष और डायरेक्टर चुना

फ्रांसीसी रक्षा और एयरोस्पेस समूह, थेल्स ने 1 जून, 2021 से आशीष सराफ को भारत के उपाध्यक्ष और डारेक्टर के रूप में नियुक्त करने की घोषणा की।

वह Emmanuel de Roquefeuil की जगह लेंगे, जो थेल्स में मध्य पूर्वी क्षेत्र के उपाध्यक्ष और प्रमुख के रूप में भूमिका निभा रहे थे।

वह कंपनी के भारत व्यवसाय का नेतृत्व करेंगे और देश में इसके सभी बाजारों में रणनीतिक विकास के लिए जिम्मेदार होंगे और इसी के साथ वे स्थानीय टीमों, सहयोग और नवाचार को मजबूत करने में अपना योगदान देंगे।

थेल्स में शामिल होने से पूर्व, सराफ भारत और दक्षिण एशिया के क्षेत्र के लिए एयरबस हेलीकॉप्टरों के अध्यक्ष और प्रमुख थे जहाँ उन्होंने एयरबस के हेलीकॉप्टरों की बिक्री, सेवाओं, प्रशिक्षण, नवाचार, औद्योगिक भागीदारी और नागरिक, पैरापब्लिक और सरकारी संबंधों के कार्यों का नेतृत्व किया।

थेल्स समूह विद्युत प्रणालियों (electrical systems) का निर्माण करता है और एयरोस्पेस, रक्षा आदि के लिए सेवाएँ प्रदान करता है।


6. आयुष मंत्रालय ने ‘नमस्ते योग’ (Namaste Yoga) मोबाइल एप्प लॉन्च की

11 जून, 2021 को 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Day of Yoga – IDY) के लिए कर्टेन रेजर इवेंट के दौरान, “नमस्ते योग” (Namaste Yoga) नामक एक मोबाइल एप्लीकेशन लॉन्च की गयी। यह एप्प योग को समर्पित है।

मुख्य बिंदु :

  • इस कार्यक्रम का आयोजन आयुष मंत्रालय द्वारा मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान (Morarji Desai National Institute of Yoga – MDNIY) के सहयोग से किया गया था।

  • इस अवसर पर आयुष मंत्री श्री किरेन रिजिजू ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 पर दूरदर्शन पर लगभग 10 दिवसीय श्रृंखला और इस श्रृंखला के केंद्रीय संदेश “Be with Yoga Be at Home” पर प्रकाश डाला।

  • नमस्ते योग एप्प (Namaste Yoga App) को जनता के लिए एक सूचना मंच के रूप में डिज़ाइन किया गया है।इसे योग के बारे में जागरूकता बढ़ाने और इसे बड़े समुदाय के लिए सुलभ बनाने के उद्देश्य से शुरू किया गया था।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Day of Yoga) : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर साल 21 जून को मनाया जाता है। वर्ष 2021 में, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम- ” Yoga at home and Yoga with Family” के तहत मनाया जाएगा।

पृष्ठभूमि : भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 69वें सत्र के उद्घाटन के दौरान अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के विचार के लिए प्रस्ताव रखा था। संयुक्त राष्ट्र ने दिसंबर, 2014 में प्रस्ताव पारित किया और 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित कर दिया। पहला योग दिवस 2015 में राजपथ, नई दिल्ली में मनाया गया था। इसने 35,985 लोगों के साथ दुनिया का सबसे बड़ा योग सत्र होने का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया।


7. आर.एस. सोढ़ी को मिला एशिया पैसिफिक उत्पादकता चैंपियन पुरस्कार

गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन संघ (अमूल) के प्रबंध निदेशक, आर.एस. सोढ़ी को बढ़ी हुई उत्पादकता और कुशल दूध आपूर्ति श्रृंखला के लिए एशियाई उत्पादकता संगठन (APO), टोक्यो, जापान से एशिया पैसिफिक उत्पादकता चैंपियन के रूप में क्षेत्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 20 वर्षों के बाद यह पुरस्कार जीतने वाले वे पहले भारतीय बने।

यह पुरस्कार उन व्यक्तियों को दिया जाता है जिन्होंने एशिया-प्रशांत क्षेत्र में उत्पादकता को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है और जो कि APO की विशिष्ट सदस्य अर्थव्यवस्था में शामिल हैं। APO क्षेत्रीय पुरस्कार हर पांच साल में प्रदान किए जाते हैं और प्रत्येक देश सभी नामांकन में से केवल एक उम्मीदवार को नामित कर सकता है।

हर पांच साल में केवल पांच क्षेत्रीय नामांकित व्यक्ति ही पुरस्कार प्राप्त करते हैं। सोढ़ी ने 36 लाख डेयरी किसानों की ओर से पुरस्कार प्राप्त किया।


8. UNDP ने भारत के Aspirational Districts Programme पर रिपोर्ट जारी की, कार्यक्रम की प्रशंसा की

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) ने एक स्वतंत्र रिपोर्ट जारी की है और आकांक्षी जिला कार्यक्रम (Aspirational Districts Programme – ADP) को ‘स्थानीय क्षेत्र के विकास का एक सफल मॉडल’ बताया है।

रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्ष :

  • इस रिपोर्ट के अनुसार, ADP को उन अन्य देशों में उपयोग किया जाना चाहिए जहां विकास के संबंध में क्षेत्रीय असमानताएं बनी हुई हैं।

  • इस रिपोर्ट में प्रकाश डाला गया है, ADP ने ठोस प्रयास किए हैं जिसके कारण दूरस्थ स्थानों में उपेक्षित जिले और वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित जिले पिछले तीन वर्षों में अधिक वृद्धि और विकास के साथ विकास के सकारात्मक मार्ग पर अग्रसर हैं।

  • स्वास्थ्य और पोषण, शिक्षा और कृषि और जल संसाधनों में बड़े पैमाने पर सुधार दर्ज किया गया है।

स्वास्थ्य और पोषण और वित्तीय समावेशन पर UNDP : इस रिपोर्ट के अनुसार, 9.6% से अधिक होम डिलीवरी में कुशल जन्म परिचारक (skilled birth attendant) शामिल होते हैं। गंभीर रक्ताल्पता (severe anaemia) वाली लगभग 5.8% अधिक गर्भवती महिलाओं और दस्त से पीड़ित 4.8% बच्चों का इलाज किया जाता है। पहली तिमाही में, 4.5% गर्भवती महिलाएं प्रसवपूर्व देखभाल (antenatal care) के लिए पंजीकरण कराती हैं। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (Pradhan Mantri Jeevan Jyoti Bima Yojana) के तहत प्रति 1 लाख की आबादी पर करीब 1580 खाते खोले गए। UNDP ने बीजापुर और दंतेवाड़ा में ‘मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान’ को ADP में सर्वोत्तम प्रथाओं में से एक के रूप में पाया। इस अभियान ने दो जिलों में मलेरिया की घटनाओं में क्रमश: 71 प्रतिशत और 54 प्रतिशत की कमी की है।

आकांक्षी जिला कार्यक्रम : ADP को जनवरी 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लॉन्च किया गया था। यह अपने नागरिकों के जीवन स्तर को बढ़ाने और ‘सबका साथ सबका विकास’ के उनके दृष्टिकोण के तहत सभी के लिए समावेशी विकास सुनिश्चित करने के सरकार के प्रयास का एक हिस्सा है।


9. ग्लोबल लिवेबिलिटी इंडेक्स 2021 मेंं ऑकलैंड को शीर्ष स्थान मिला

Economist Intelligence Unit (EIU) द्वारा प्रकाशित ग्लोबल लिवेबिलिटी (जीवित रहने की योग्यता) इंडेक्स 2021 में न्यूजीलैण्ड और ऑस्ट्रेलिया के शहर आगे रहे।

न्यूजीलैंड के शहर ऑकलैंड को कोविड-19 के विस्तार को नियंत्रित करने के लिए सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया गया। जापान के ओसाका शहर ने दूसरा और ऑस्ट्रेलिया के एडिलेड शहर ने तीसरे स्थान प्राप्त किये।

सीरिया की राजधानी दमिश्क की स्थिति सबसे खराब रही।


10. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार (India’s Forex Reserve) पहली बार 600 अरब डॉलर के पार पहुंचा

4 जून, 2021 को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 6.842 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 605.008 अरब डॉलर के सर्वोच्च स्तर पर पहुँच गया है। गौरतलब है कि यह पहली बार है जब भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 600 अरब डॉलर एक पार पहुंचा है। विश्व में सर्वाधिक विदेशी मुद्रा भंडार वाले देशों की सूची में भारत पांचवे स्थान पर है, इस सूची में चीन पहले स्थान पर है।

विदेशी मुद्रा भंडार : इसे फोरेक्स रिज़र्व या आरक्षित निधियों का भंडार भी कहा जाता है भुगतान संतुलन में विदेशी मुद्रा भंडारों को आरक्षित परिसंपत्तियाँ’ कहा जाता है तथा ये पूंजी खाते में होते हैं। ये किसी देश की अंतर्राष्ट्रीय निवेश स्थिति का एक महत्त्वपूर्ण भाग हैं। इसमें केवल विदेशी रुपये, विदेशी बैंकों की जमाओं, विदेशी ट्रेज़री बिल और अल्पकालिक अथवा दीर्घकालिक सरकारी परिसंपत्तियों को शामिल किया जाना चाहिये परन्तु इसमें विशेष आहरण अधिकारों , सोने के भंडारों और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की भंडार अवस्थितियों को शामिल किया जाता है। इसे आधिकारिक अंतर्राष्ट्रीय भंडार अथवा अंतर्राष्ट्रीय भंडार की संज्ञा देना अधिक उचित है।

4 जून, 2021 को विदेशी मुद्रा भंडार

विदेशी मुद्रा संपत्ति (एफसीए): $560.890 बिलियन गोल्ड रिजर्व: $37.604 बिलियन आईएमएफ के साथ एसडीआर: $1.513 बिलियन आईएमएफ के साथ रिजर्व की स्थिति: $5 बिलियन


11. डेबी हेविट बनी फुटबॉल एसोसिएशन की पहली महिला अध्यक्ष

कॉर्पोरेट कार्यकारी और पूर्व आरएसी प्रमुख डेबी हेविट को फुटबॉल एसोसिएशन, इंग्लैंड की पहली महिला अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया और इसी के साथ अपने उत्तराधिकारी ग्रेग क्लार्क पर अनुचित टिप्पणियों पर उनके बाहर निकलने की अटकलें भी समाप्त हो गईं।

फुटबॉल एसोसिएशन का गठन 1986 में हुआ था।

इसने 2018 में 'Pursuit of Progress' पहल की शुरुआत की थी। एफए इंग्लैंड में स्थित फुटबॉल की गवर्निंग बॉडी है।


12. बेनेडेटो विग्ना को फेरारी का नया सीईओ बनाया गया

फेरारी ने बेनेडेटो विग्ना (Benedetto Vigna) को अपनी कंपनी का नया सीईओ नियुक्त किया।

उनसे पहले इस पद पर जॉन एल्कैन थे। विग्ना इससे पहले STMicroelectronics एनालॉग, MEMS और सेंसर ग्रुप के अध्यक्ष के रूप में कार्य कर रहे थे और कंपनी की कार्यकारी समिति के सदस्य थे।

फेरारी एसपीए इटली के मारानेलो में स्थित इतालवी लक्ज़री स्पोर्ट्स कार की निर्माता है।


13. ICMR चौथा राष्ट्रीय सीरो सर्वेक्षण (National Sero Survey) शुरू करेगा

नीति आयोग के सदस्य डॉ. वी.के. पॉल (Dr. V.K. Paul) के अनुसार, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research-ICMR) चौथा राष्ट्रीय कोविड-19 सीरो सर्वे शुरू करेगा ।

मुख्य बिंदु :

  • उन्होंने राज्यों से कोविड -19 महामारी के प्रसार का आकलन करने के लिए अपनी स्वयं की सीरो निगरानी शुरू करने का भी आग्रह किया है।

  • यह ICMR द्वारा किया जाने वाला चौथा सीरो सर्वे होगा।

  • यह पूरे भारत के 70 जिलों में आयोजित किया जाएगा।

  • 6 साल से अधिक उम्र के बच्चों का सर्वेक्षण किया जाएगा।

सीरो सर्वे (Sero Survey) क्या है? : समुदाय के बीच कोरोनावायरस एंटीबॉडी के प्रसार को निर्धारित करने के लिए सीरो सर्वेक्षण का उपयोग किया जाता है। इस सर्वेक्षण में, IgG (इम्युनोग्लोबुलिन जी) एंटीबॉडी की उपस्थिति के लिए रक्त के नमूनों का परीक्षण किया जाता है। इस एंटीबॉडी से यह पता चलता है कि पिछले कुछ समय में व्यक्ति कोरोनावायरस से संक्रमित हुआ है। IgG कोविड -19 संक्रमण के दो सप्ताह के भीतर दिखाई देते हैं। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि शरीर में कितने समय तक एंटीबॉडी का पता लगाया जाता है।

सीरो-परीक्षण क्यों किया जाता है? : सीरो-सर्वेक्षण नियमित परीक्षण से भिन्न चुनिंदा जिलों में उच्च और निम्न-जोखिम वाले समूहों का अधिक केंद्रित जनसंख्या-आधारित सर्वेक्षण है। सीरो सर्वेक्षण सरकार और उसकी एजेंसियों को कोविड-19 के रुझानों की निगरानी में मदद करता है और सामुदायिक प्रसारण (community transmission) की जांच करने में मदद करता है।


14. राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता बंगाली फिल्म निर्देशक बुद्धदेब दास गुप्ता का निधन

प्रसिद्ध राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता बंगाली फिल्म निर्देशक बुद्धदेब दास गुप्ता का निधन हो गया। उन्होंने बंगाली सिनेमा में अपने योगदान के लिए कई राष्ट्रीय पुरस्कार जी थे जिनमें से कुछ पुरस्कार निम्नलिखित हैं-

सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार- बाग बहादुर (1989), चरचर (1994), लाल दरजा (1997), मोंडो मेयर उपाख्यान (2002) और कालपुरुष (2005)

सर्वश्रेष्ठ निर्देशन के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार- उत्तरा (2000) और स्वप्नेर दिन (2005)

बंगाली में सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार- दूरत्व (1978), फेरा (1987) और तहदार कथा (1993)

सर्वश्रेष्ठ कला/सांस्कृतिक फिल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार- ए पेंटर ऑफ एलक्वेंट साइलेंस: गणेश पाइन (1998)

सर्वश्रेष्ठ पटकथा के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार- फेरा (1987)


15. प्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. अशोक पनगढ़िया (Dr. Ashok Panagariya) का निधन

हाल ही में सुप्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट और पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित डॉ. अशोक पनगढ़िया (Dr. Ashok Panagariya) का कोविड-19 जटिलताओं के कारण निधन हो गया। डॉ. पनगढ़िया 71 वर्ष के थे।

मुख्य बिंदु : डॉ. अशोक पनगढ़िया पिछले कुछ समय से अस्वस्थ चल रहे थे, वे पिछले कई दिनों से एक निजी अस्पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे। पिछले दो दिनों में उनकी हालत बिगड़ी और आज उनका निधन हो गया। उनके निधन पर राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने शोक व्यक्त किया है।

डॉ. अशोक पनगढ़िया ने जयपुर की Rajasthan University of Health Sciences के कुलपति और राजस्थान सरकार के योजना बोर्ड के सदस्य सहित कई शीर्ष पदों पर कार्य किया।

डॉ. अशोक पनगढ़िया (Dr. Ashok Panagariya) : डॉ. अशोक पनगढ़िया भारत के एक प्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट, मेडिकल शोधकर्ता और शिक्षाविद थे। उनका जन्म वर्ष 1950 में जयपुर, राजस्थान में हुआ था। उन्होंने वर्ष 1972 में MBBS के पढ़ाई पूरी की। उसके बाद उन्होंने न्यूरोलॉजी विषय में भी अध्ययन किया। वे सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज में न्यूरोलॉजी विभाग के प्रमुख रहे, बाद में वे इस संस्थान के प्रिंसिपल भी रहे।

डॉ. अशोक पनगढ़िया भारतीय रक्षा बलों के मानद न्यूरोलॉजिस्ट थे। वे ‘दिशा’ नामक NGO के चेयरमैन भी थे।

वह चिकित्सा श्रेणी में भारत के सर्वोच्च पुरस्कार डॉ. बी.सी. रॉय पुरस्कार (Dr. B C Roy Award) के प्राप्तकर्ता थे। डॉ. अशोक पनगढ़िया को 2014 में भारत सरकार द्वारा चौथे सर्वोच्च भारतीय नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। राजस्थान सरकार ने 1992 में उन्हें मेरिट पुरस्कार से सम्मानित किया था। इसके अलावा मेडिकल क्षेत्र में योगदान के लिए उन्हें यूनेस्को अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था। जबकि टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने उन्हें लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया था।


16. फ्लिपकार्ट करेगा ‘Medicines from the Sky’ प्रोजेक्ट का नेतृत्व

ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट (Flipkart) ने “मेडिसिन्स फ्रॉम द स्काई” (Medicines from the Sky) प्रोजेक्ट का नेतृत्व करने के लिए तेलंगाना सरकार के साथ साझेदारी की है।

Medicines from the Sky :

  • इस कंसोर्टियम को परियोजना के तहत दूरस्थ क्षेत्रों (remote areas) में चिकित्सा आपूर्ति की ड्रोन डिलीवरी के विकास और कार्यान्वयन का काम सौंपा गया है।

  • इस कंसोर्टियम के तहत, वॉलमार्ट के स्वामित्व वाली फ्लिपकार्ट ड्रोन तैनात करेगी और टीकों व चिकित्सा आपूर्ति की डिलीवरी को सक्षम करेगी।

  • इस सामान की ड्रोन डिलीवरी के लिए जियो मैपिंग, लोकेशन ट्रेसिंग और शिपमेंट की रूटिंग जैसी तकनीकों का उपयोग किया जाएगा।

  • भारत भर में लाखों ग्राहकों की सेवा करने के लिए फ्लिपकार्ट द्वारा वर्षों से इन तकनीकों का विकास किया जा रहा है।

  • इन तकनीकों का उपयोग तेलंगाना के दूरदराज के इलाकों में ‘Beyond Visual Line of Sight’ (BVLOS) डिलीवरी करने के लिए किया जाएगा, जहां सड़क का बुनियादी ढांचा तेजी से टीके डिलीवर करने के लिए अनुकूल नहीं है।

  • इस परियोजना की परिकल्पना World Economic Forum और Healthnet Global Limited लिमिटेड द्वारा की गई है।

कोविड-19 संकट में तकनीकी विकास : COVID-19 संकट ने महामारी को नियंत्रित करने के लिए दवाओं और सेवाओं के तेजी से वितरण के लिए स्केलेबल और मजबूत प्रौद्योगिकियों के तेजी से विकास पर जोर दिया है। ‘मेडिसिन्स फ्रॉम द स्काई प्रोजेक्ट’ इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

दृश्य रेखा से परे (Beyond Visual Line of Sight) क्या है? : वे दूरियां जहां ड्रोन और यूएवी (Unmanned Aerial Vehicles) अपनी सामान्य दृश्य सीमा के बाहर संचालित होते हैं, उन्हें दृश्य रेखा से परे (Beyond Visual Line of Sight) के रूप में जाना जाता है। यह ड्रोन के परीक्षण का दूसरा चरण है। परीक्षण के पहले चरण में दृश्य क्षेत्र में ही ड्रोन का संचालन किया जाता है।









  • Source of Internet

7 views0 comments

Recent Posts

See All